#जीवन शैली

bolkar speaker

गुस्सा आने पर लोगों को कीमती चीजें तोड़ने का क्यों मन करता है?

Gussa Aane Par Logon Ko Keemti Chijen Todne Ka Kyun Man Karta Hai
Manish Kumar  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Manish जी का जवाब
Defence
3:24
प्रश्न है गुस्सा आने पर लोगों को कीमती चीजें तोड़ने का क्यों मन करता है गुस्सा क्या है गुस्सा एक मानसिक और शारीरिक अवस्था में होगा परिवर्तन है जिसमें हमारे शरीर के अंदर एक विशाल ऊर्जा उत्पन्न होती है और वह ऊर्जा को हम बर्दाश्त नहीं कर पाते हैं और किसी न किसी रूप में बाहर निकाल देते हैं आप या डिपेंड करता है कि किस व्यक्ति का गुस्सा निकालने का प्रकार किया जैसे किसी को गुस्सा आता है तो वह अपने परिवार को गाली गलौज देकर अपना गुस्सा निकालता है कोई कीमती चीजें तोड़कर गुस्सा निकालता है तो कोई अपने शरीर को खुद जख्म देकर के गुस्सा निकलता है गुस्सा तो आना स्वभाविक है हां किसी को जो है गुस्सा कंट्रोल करने की क्षमता होती है और किसी को कंट्रोल करने की क्षमता नहीं होती ऐसा बिल्कुल नहीं है कि किसी भी व्यक्ति को गुस्सा ना गुस्सा आता है उसको जो जाहिर कर देता है वह दिख जाता है और जो अंदर ही अंदर दबा लेता है वह अब मैं अपनी बात बताता हूं जब मुझे गुस्सा आता है तो मैं तुरंत जो है शारीरिक एक्सरसाइज कर लेता इससे क्या होता है कि हमारा गुस्सा जो है एक्सरसाइज में निकल जाता है और उससे जो है हमें शारीरिक फायदा हो जाता है बे तू और मैं जब ऐसा कर सकता हूं तो मैं दूसरे को भी जो है कुछ उपाय बता सकता हूं क्योंकि मेरा डायलॉग है जो मैं करता हूं वही बोलता तो मैं आप सब को यह बोलूंगा कि यदि आपको गुस्सा आता है तो आप या तो ठंडा पानी पी ले या उसे अपने ही मन में दबा लें या आप एक्सरसाइज करके निकाल इन तरीकों से जो है आप खुद और अपने परिवार के नजर में अच्छे भी मैंने आज तक गुस्सा करने से कोई भी व्यक्ति सफल नहीं हुआ शिवाय उपस्थित आपके क्योंकि गुस्से के दौरान लिया गया फैसला गुस्से के दौरान किया गया जो भी काले है वह हमेशा नेगेटिव होते हैं अतः आप मेरी सलाह मानी और जैसे ही आप को गुस्सा आ गया तो ठंडा पानी पिए या अपनी उर्जा को जो है सकारात्मक रूप में ब्याह करें जो काम आपसे नॉर्मल स्थिति में नहीं हो रही है जैसे कोई सामान नहीं उठ रहा है कुछ सामान को खींचना है एक दूसरे जगह नहीं जा रहा है गुस्से के दौरान आप उस चीज को कट देखिए वह जो ऊर्जा के विशाल राशि आपके अंदर उत्पन्न हो वह सकारात्मक दिशा में आगे हो जाएगा धन्यवाद
Prashn hai gussa aane par logon ko keematee cheejen todane ka kyon man karata hai gussa kya hai gussa ek maanasik aur shaareerik avastha mein hoga parivartan hai jisamen hamaare shareer ke andar ek vishaal oorja utpann hotee hai aur vah oorja ko ham bardaasht nahin kar paate hain aur kisee na kisee roop mein baahar nikaal dete hain aap ya dipend karata hai ki kis vyakti ka gussa nikaalane ka prakaar kiya jaise kisee ko gussa aata hai to vah apane parivaar ko gaalee galauj dekar apana gussa nikaalata hai koee keematee cheejen todakar gussa nikaalata hai to koee apane shareer ko khud jakhm dekar ke gussa nikalata hai gussa to aana svabhaavik hai haan kisee ko jo hai gussa kantrol karane kee kshamata hotee hai aur kisee ko kantrol karane kee kshamata nahin hotee aisa bilkul nahin hai ki kisee bhee vyakti ko gussa na gussa aata hai usako jo jaahir kar deta hai vah dikh jaata hai aur jo andar hee andar daba leta hai vah ab main apanee baat bataata hoon jab mujhe gussa aata hai to main turant jo hai shaareerik eksarasaij kar leta isase kya hota hai ki hamaara gussa jo hai eksarasaij mein nikal jaata hai aur usase jo hai hamen shaareerik phaayada ho jaata hai be too aur main jab aisa kar sakata hoon to main doosare ko bhee jo hai kuchh upaay bata sakata hoon kyonki mera daayalog hai jo main karata hoon vahee bolata to main aap sab ko yah boloonga ki yadi aapako gussa aata hai to aap ya to thanda paanee pee le ya use apane hee man mein daba len ya aap eksarasaij karake nikaal in tareekon se jo hai aap khud aur apane parivaar ke najar mein achchhe bhee mainne aaj tak gussa karane se koee bhee vyakti saphal nahin hua shivaay upasthit aapake kyonki gusse ke dauraan liya gaya phaisala gusse ke dauraan kiya gaya jo bhee kaale hai vah hamesha negetiv hote hain atah aap meree salaah maanee aur jaise hee aap ko gussa aa gaya to thanda paanee pie ya apanee urja ko jo hai sakaaraatmak roop mein byaah karen jo kaam aapase normal sthiti mein nahin ho rahee hai jaise koee saamaan nahin uth raha hai kuchh saamaan ko kheenchana hai ek doosare jagah nahin ja raha hai gusse ke dauraan aap us cheej ko kat dekhie vah jo oorja ke vishaal raashi aapake andar utpann ho vah sakaaraatmak disha mein aage ho jaega dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
गुस्सा आने पर लोगों को कीमती चीजें तोड़ने का क्यों मन करता है?Gussa Aane Par Logon Ko Keemti Chijen Todne Ka Kyun Man Karta Hai
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
🧖‍♀️life coach,Spiritual Advisor And Motivational speaker🙏
2:24
देवयानी पर लोगों को कीमती चीजें तोड़ने का मन करता है तो देखिए दोस्तों अगर उन्हें सस्ती और किसी चीज में ना जब आ रहा है उस वक्त पर पता चला कि उन्हें पता है सर के लिए सस्ती चीज में एक ही चीज पर उसमें गुस्सा आए तो गुस्सा है क्या करें जब गुस्सा आता है ना तो नहा कर और ना महंगी चीज देखना ही कीमती चीजों को तोड़ देता है हमारी लाइफ में सबसे ज्यादा इंपॉर्टेंट है हम उसे तक हट कर दें अपने ग्रुप से जोड़ देता छोटे बच्चे की प्रतिक्रिया भूख लगी है तो कैसे बनाएंगे उनकी मां उनकी मामा समझ जाएंगे लेकिन हम जब बड़े हो जाते हैं इससे छोटे बच्चे की प्रतिक्रिया खूब बड़े होकर वह ज्यादा लाउड तरीके से हम फेस कटिंग आगे बताते हैं कि हमारे अंदर बहुत गुस्सा है लेकिन वही हम सबसे ज्यादा गलत करते हैं वहां हम मूर्ख बन रहे हैं अगर हम गुस्सा कर रहे हैं तो समझ लो कि हम बड़े और मिर्ची और इंसानी बड़े होना मिर्ची और बनना बड़ी बात लेकिन अगर हम अपने गुस्से को कंट्रोल नहीं कर पाए तो वहां हम सिर्फ मूर्ख नजर आएंगे जब गुस्सा आता ना तो हम कोई भी चीज को पटक देते तोड़ देते लेकिन एक इंसान के जाने का और ज्यादा तकलीफ इसलिए कहा जाता है कि अपने गुस्से को कंट्रोल करना सीखें मनुष्य के हाथ में है कि वह अपना गुस्सा कंट्रोल कर सकता तो फर्क नजर से नजर आता कीमती और सस्ती कितने लोग उसके सामने जो चीज आती है उसे थोड़ी होता है
Devayaanee par logon ko keematee cheejen todane ka man karata hai to dekhie doston agar unhen sastee aur kisee cheej mein na jab aa raha hai us vakt par pata chala ki unhen pata hai sar ke lie sastee cheej mein ek hee cheej par usamen gussa aae to gussa hai kya karen jab gussa aata hai na to naha kar aur na mahangee cheej dekhana hee keematee cheejon ko tod deta hai hamaaree laiph mein sabase jyaada importent hai ham use tak hat kar den apane grup se jod deta chhote bachche kee pratikriya bhookh lagee hai to kaise banaenge unakee maan unakee maama samajh jaenge lekin ham jab bade ho jaate hain isase chhote bachche kee pratikriya khoob bade hokar vah jyaada laud tareeke se ham phes kating aage bataate hain ki hamaare andar bahut gussa hai lekin vahee ham sabase jyaada galat karate hain vahaan ham moorkh ban rahe hain agar ham gussa kar rahe hain to samajh lo ki ham bade aur mirchee aur insaanee bade hona mirchee aur banana badee baat lekin agar ham apane gusse ko kantrol nahin kar pae to vahaan ham sirph moorkh najar aaenge jab gussa aata na to ham koee bhee cheej ko patak dete tod dete lekin ek insaan ke jaane ka aur jyaada takaleeph isalie kaha jaata hai ki apane gusse ko kantrol karana seekhen manushy ke haath mein hai ki vah apana gussa kantrol kar sakata to phark najar se najar aata keematee aur sastee kitane log usake saamane jo cheej aatee hai use thodee hota hai

bolkar speaker
गुस्सा आने पर लोगों को कीमती चीजें तोड़ने का क्यों मन करता है?Gussa Aane Par Logon Ko Keemti Chijen Todne Ka Kyun Man Karta Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:14
लड़कियों की चीजें तोड़ने का क्यों मन करता है इसलिए हम चाहिए करते रहते हैं
)]}' [['wrb.fr','MkEWBc','[[\'

bolkar speaker
गुस्सा आने पर लोगों को कीमती चीजें तोड़ने का क्यों मन करता है?Gussa Aane Par Logon Ko Keemti Chijen Todne Ka Kyun Man Karta Hai
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
1:14
उषा ने भी लोगों को गिनती चाहिए तोड़ने का क्यों मन करता है नहीं सा मन नहीं करता कि आपका सोचना गलत है इंसान जब अपना आपा खो देता है और क्रोधित हो जाता है तो उसकी बुद्धि बल विवेक यह सब सुनियो जाते हैं उसको समझ नहीं आता तो रोज के वशीभूत होकर ज्ञान से अंधा हो जाता है पूर्ण रूप से वह अज्ञानी कर लीजिए राक्षस प्रवृत्ति का के नीचे या मानवीय कृतियों को करने के लिए प्रेरित हो जाता है इसलिए वो कीमती वस्तु को तोड़ फोड़ देता है और उसका क्वेश्चन पेपर चंद्र को नुकसान का एहसास होता है तब उसे फिर भी प्रेषित नहीं होता जबकि कुछ लोग गतिविधियों से क्रियाकलापों से महसूस करते हैं और अपने अंदर बदलाव लाने की कोशिश करते
Usha ne bhee logon ko ginatee chaahie todane ka kyon man karata hai nahin sa man nahin karata ki aapaka sochana galat hai insaan jab apana aapa kho deta hai aur krodhit ho jaata hai to usakee buddhi bal vivek yah sab suniyo jaate hain usako samajh nahin aata to roj ke vasheebhoot hokar gyaan se andha ho jaata hai poorn roop se vah agyaanee kar leejie raakshas pravrtti ka ke neeche ya maanaveey krtiyon ko karane ke lie prerit ho jaata hai isalie vo keematee vastu ko tod phod deta hai aur usaka kveshchan pepar chandr ko nukasaan ka ehasaas hota hai tab use phir bhee preshit nahin hota jabaki kuchh log gatividhiyon se kriyaakalaapon se mahasoos karate hain aur apane andar badalaav laane kee koshish karate

bolkar speaker
गुस्सा आने पर लोगों को कीमती चीजें तोड़ने का क्यों मन करता है?Gussa Aane Par Logon Ko Keemti Chijen Todne Ka Kyun Man Karta Hai
सचिन पाठक Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए सचिन जी का जवाब
Unknown
1:54
नमस्कार मित्रों मैं सचिन पाठक पर उपस्थित हूं आपके समक्ष अपने प्रश्नों के उत्तर के साथ एक जैसा कि आपका प्रश्न है कि गुस्सा आने पर लोगों की लोगों को कीमती चीजें तोड़ने का क्यों बन सकता है लेकिन ऐसा नहीं है कि किसी को गुस्सा आता है तो हमेशा अपने कीमती चीजों को तोड़ने का ही मन नहीं है तो गुस्सा आती है तो वह चीजों को तोड़ना पटकना आचार्य जी से करने लगते हैं तो यह हमारी और आपकी सोच समझकर अंतर है कि अगर आपको गुस्सा आ रही है तो आप लोगों से दूर हट के सामान से दूर हट जाए तो उसे क्या होता है कि आप अपने को उसकी से से अलग करते तो आपका थोड़ा सा गुस्सा शांत हो जाता है ठीक है तू ऐसा नहीं है अलग-अलग लोगों का नहीं चाहते कि मैं अगर गुस्सा हो तो तुम्हें कभी भी अपने सामान को नहीं छोड़ता हूं मैं किसी के भी सामान को नहीं छोड़ता हूं ठीक है गुस्सा हमेशा नुकसान ही करवाता है तो हमें अपने गुस्से को काबू करना चाहिए और ऐसा नहीं है कि हर कोई का गुस्सा लगती है तो वह सामान ही तोड़ता तोड़ता है कि मुझे ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कई लोग हैं जो अब कीमती सामान को तोड़ देते हैं कुछ भी हाथ में आता है पटक देते हैं क्योंकि उनका उनके गुस्से पर काबू नहीं रहता है ठीक है या नहीं वह अपने गुस्से को काबू नहीं कर पाते हैं लेकिन गुस्से पर काबू करना मेरे को सीखना चाहिए यह बहुत ही जरूरी ट्रिक है कि भी आप अगर कभी भी बाहर जाएंगे कुछ भी करेंगे तो हमेशा चीज में आपके अकॉर्डिंग्ली नहीं होगी आपको कभी भी आपको गुस्सा आएगी तो आप उसको पीना पड़ेगा उस गुस्से को पीना पड़ेगा काबू करना पड़ेगा आपको अपने मन को काबू करना पड़ेगा गुस्से के मामले में अन्यथा आप चीजों को ऐसे तोड़ते होते रहेंगे धन्यवाद मित्रों आशा है कि आप को मेरे प्रश्न का उत्तर पसंद आया होगा अगर आपको मेरे उत्तर पसंद है तो कृपया करके मुझे बोलकर एप्लीकेशन पर फॉलो करें और मेरे उत्तर को अवश्य लाइक करें धन्यवाद
Namaskaar mitron main sachin paathak par upasthit hoon aapake samaksh apane prashnon ke uttar ke saath ek jaisa ki aapaka prashn hai ki gussa aane par logon kee logon ko keematee cheejen todane ka kyon ban sakata hai lekin aisa nahin hai ki kisee ko gussa aata hai to hamesha apane keematee cheejon ko todane ka hee man nahin hai to gussa aatee hai to vah cheejon ko todana patakana aachaary jee se karane lagate hain to yah hamaaree aur aapakee soch samajhakar antar hai ki agar aapako gussa aa rahee hai to aap logon se door hat ke saamaan se door hat jae to use kya hota hai ki aap apane ko usakee se se alag karate to aapaka thoda sa gussa shaant ho jaata hai theek hai too aisa nahin hai alag-alag logon ka nahin chaahate ki main agar gussa ho to tumhen kabhee bhee apane saamaan ko nahin chhodata hoon main kisee ke bhee saamaan ko nahin chhodata hoon theek hai gussa hamesha nukasaan hee karavaata hai to hamen apane gusse ko kaaboo karana chaahie aur aisa nahin hai ki har koee ka gussa lagatee hai to vah saamaan hee todata todata hai ki mujhe aisa bilkul bhee nahin hai kaee log hain jo ab keematee saamaan ko tod dete hain kuchh bhee haath mein aata hai patak dete hain kyonki unaka unake gusse par kaaboo nahin rahata hai theek hai ya nahin vah apane gusse ko kaaboo nahin kar paate hain lekin gusse par kaaboo karana mere ko seekhana chaahie yah bahut hee jarooree trik hai ki bhee aap agar kabhee bhee baahar jaenge kuchh bhee karenge to hamesha cheej mein aapake akordinglee nahin hogee aapako kabhee bhee aapako gussa aaegee to aap usako peena padega us gusse ko peena padega kaaboo karana padega aapako apane man ko kaaboo karana padega gusse ke maamale mein anyatha aap cheejon ko aise todate hote rahenge dhanyavaad mitron aasha hai ki aap ko mere prashn ka uttar pasand aaya hoga agar aapako mere uttar pasand hai to krpaya karake mujhe bolakar epleekeshan par pholo karen aur mere uttar ko avashy laik karen dhanyavaad

bolkar speaker
गुस्सा आने पर लोगों को कीमती चीजें तोड़ने का क्यों मन करता है?Gussa Aane Par Logon Ko Keemti Chijen Todne Ka Kyun Man Karta Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:22
स्वागत है आपका फ्रेंड गुस्सा होने पर लोगों को भी चीजें तुमने कहा क्यों मन करता है तो फ्रेंड्स हर आदमी ऐसा नहीं होता है कोई ज्यादा गुस्सा होते हैं तो कीमती चीजें भी तोड़ देते हैं ऐसा नहीं करना चाहिए कीमती चीजें तोड़ने पर स्वयं का होगा इसलिए अपने गुस्से पर काबू रखना चाहिए धन्यवाद

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • Log gussa aane per kimati chij kyon todte Hain, kya kimti cheezon Ko Tod kar gussa shant ho jata hai, gusse mein kimati chijen todkar kya milta hai
URL copied to clipboard