#जीवन शैली

bolkar speaker

क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है?

Kya Kisi Ko Maaf Kar Dene Matra Se Uske Prati Nafrat Khatam Ho Jaati Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:50
सवाल है कि क्या किसी को माफ कर देने से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है तो देखिए जब हम किसी से माफी मांगते हैं तो डिपेंड करता हूं क्या सोचकर मांग रहे हैं क्या उनको सच में ऐसा हुआ है या नहीं या फिर हम झूठ में सभा में दबाव डाले हैं या फिर सब हमें समझाएं हैं हम कुछ नहीं समझे हम बस ऐसे ही सब बोल रहे तो हम माफी मांग ले रहे हैं तो ऐसे समय पर आपकी दिल से आपके जो भी दिमाग से कोई भी उनके प्रति नफरत नहीं मतलब जाएगी आप जैसा सोच रहे हैं आपको वही ही लगेगा जब इंसान को खुद एहसास होता है कि नहीं हम गलत हैं हमें माफी मांगना चाहिए वो इंसान सही था या फिर मेरे साथ नहीं कर रहा था या फिर मुझे सही समझा रहा था मेरी भलाई के लिए था या फिर हम ज्यादा मतलब अग्रेसिव या फिर गुस्सा हो गए थे सिचुएशन को ज्यादा पैसे ले गए थे गुस्से में तू ऐसे समय पर आपको एहसास हूं और आप माफी मांग रहे हैं तो अफसोस आपकी दिल से जो भी नफरत जो भी आपको ट्रेन के बारे में नेगेटिव उचित हट जाता है क्योंकि अपने अंदर से अपने आपको मतलब बोला है ना कि मुझे माफी मांगना है आपको यह एहसास हुआ है तो आपको सही ढंग से हिसाब से हट गया जो भी चीज आपने उनके सारे बिन आपके दिमाग में यह चल रहा है कि कैसे इंसान से माफी मांगी और सच्ची ठीक हो तो आपके दिल से आपके दिमाग से उनके प्रति नफरत हट जाता है लेकिन जब आपको कोई मनाता आपको फोन करता जबरदस्ती की जो उस इंसान से माफी मांगो या क्या बोलेगा या फिर वह इंसान क्या बोलेगा या फिर कुछ खराब हो सकता है तो जाओ माफी मांगा जाता है तो देने में आप जा रहे हैं उस इंसान से माफी मांगना आपका दिल मतलबी नहीं कह रहा तो अब आपके दिमाग से कभी भी उस इंसान के प्रति मतलब कुछ अच्छा या फिर नफरत जैसी चीज नहीं हटे गा आप जैसा सोचते हैं जो चीज हुआ है दिमाग में हमेशा के लिए रहेगा
Savaal hai ki kya kisee ko maaph kar dene se usake prati napharat khatm ho jaatee hai to dekhie jab ham kisee se maaphee maangate hain to dipend karata hoon kya sochakar maang rahe hain kya unako sach mein aisa hua hai ya nahin ya phir ham jhooth mein sabha mein dabaav daale hain ya phir sab hamen samajhaen hain ham kuchh nahin samajhe ham bas aise hee sab bol rahe to ham maaphee maang le rahe hain to aise samay par aapakee dil se aapake jo bhee dimaag se koee bhee unake prati napharat nahin matalab jaegee aap jaisa soch rahe hain aapako vahee hee lagega jab insaan ko khud ehasaas hota hai ki nahin ham galat hain hamen maaphee maangana chaahie vo insaan sahee tha ya phir mere saath nahin kar raha tha ya phir mujhe sahee samajha raha tha meree bhalaee ke lie tha ya phir ham jyaada matalab agresiv ya phir gussa ho gae the sichueshan ko jyaada paise le gae the gusse mein too aise samay par aapako ehasaas hoon aur aap maaphee maang rahe hain to aphasos aapakee dil se jo bhee napharat jo bhee aapako tren ke baare mein negetiv uchit hat jaata hai kyonki apane andar se apane aapako matalab bola hai na ki mujhe maaphee maangana hai aapako yah ehasaas hua hai to aapako sahee dhang se hisaab se hat gaya jo bhee cheej aapane unake saare bin aapake dimaag mein yah chal raha hai ki kaise insaan se maaphee maangee aur sachchee theek ho to aapake dil se aapake dimaag se unake prati napharat hat jaata hai lekin jab aapako koee manaata aapako phon karata jabaradastee kee jo us insaan se maaphee maango ya kya bolega ya phir vah insaan kya bolega ya phir kuchh kharaab ho sakata hai to jao maaphee maanga jaata hai to dene mein aap ja rahe hain us insaan se maaphee maangana aapaka dil matalabee nahin kah raha to ab aapake dimaag se kabhee bhee us insaan ke prati matalab kuchh achchha ya phir napharat jaisee cheej nahin hate ga aap jaisa sochate hain jo cheej hua hai dimaag mein hamesha ke lie rahega

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है?Kya Kisi Ko Maaf Kar Dene Matra Se Uske Prati Nafrat Khatam Ho Jaati Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:38
कि को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है दीदी दोस्तों ऐसा तो बिल्कुल भी नहीं है कि यदि आप किसी को माफ कर दे और इस से नफरत खत्म हो जाती है जब भी आप किसी को माफ करते तो यह तो है कि आपके अंदर कुछ ना कुछ मानवता जिंदा है और वह मानवता यदि आपके अंदर है मैं माफ करने के लिए जिस व्यक्ति के पास मानवता होती है तो वह नफरत भी खत्म कर सकता मेरे हिसाब से जो व्यक्ति माफ कर देता है उसके माफ करने मात्र से भी नफरत खत्म हो जाती होगी परंतु नफरत जो है दोस्तों वह गलत है माफ करने वाला व्यक्ति के पास मन होता है उसके पास तो नफरत का तो कोई नाम ही नहीं होगा
Ki ko maaph kar dene maatr se usake prati napharat khatm ho jaatee hai deedee doston aisa to bilkul bhee nahin hai ki yadi aap kisee ko maaph kar de aur is se napharat khatm ho jaatee hai jab bhee aap kisee ko maaph karate to yah to hai ki aapake andar kuchh na kuchh maanavata jinda hai aur vah maanavata yadi aapake andar hai main maaph karane ke lie jis vyakti ke paas maanavata hotee hai to vah napharat bhee khatm kar sakata mere hisaab se jo vyakti maaph kar deta hai usake maaph karane maatr se bhee napharat khatm ho jaatee hogee parantu napharat jo hai doston vah galat hai maaph karane vaala vyakti ke paas man hota hai usake paas to napharat ka to koee naam hee nahin hoga

bolkar speaker
क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है?Kya Kisi Ko Maaf Kar Dene Matra Se Uske Prati Nafrat Khatam Ho Jaati Hai
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
0:41
नमस्ते आप का सवाल है किसी को माफ कर देने में आप सेक्स के प्रति नफरत खत्म हो जाती है तो देखिए मेरे ख्याल से बिल्कुल अगर आपने दिल से माफ कर दिया तथा उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है लेकिन अगर आप फॉर्मेलिटी की लिस्ट बोल रहे हैं कि हां मैंने माफ कर दिया तो नहीं रुकती है तो आप थोड़ा टाइम लीजिए जब आपको लगे कि सामने वाला आदमी सही में गिल्टी फील कर रहा है वह माफी मांगना चाहता है तब आप माफ करें कोई जरूरी नहीं है कि किसी ने आपसे एक बार और आप माफ कर दो आपको लगे सामने वाले आदमी में चेंज कीजिए माफ MP3 भेजो
Namaste aap ka savaal hai kisee ko maaph kar dene mein aap seks ke prati napharat khatm ho jaatee hai to dekhie mere khyaal se bilkul agar aapane dil se maaph kar diya tatha usake prati napharat khatm ho jaatee hai lekin agar aap phormelitee kee list bol rahe hain ki haan mainne maaph kar diya to nahin rukatee hai to aap thoda taim leejie jab aapako lage ki saamane vaala aadamee sahee mein giltee pheel kar raha hai vah maaphee maangana chaahata hai tab aap maaph karen koee jarooree nahin hai ki kisee ne aapase ek baar aur aap maaph kar do aapako lage saamane vaale aadamee mein chenj keejie maaph mp3 bhejo

bolkar speaker
क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है?Kya Kisi Ko Maaf Kar Dene Matra Se Uske Prati Nafrat Khatam Ho Jaati Hai
ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
1:00
सवाल पूछा गया है क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है तो देखिए किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत आपकी कभी खत्म नहीं होगी जब तक आपके मन में यह विचार है कि वह व्यक्ति में यह चीज गलत की है तब माफ कर भी देंगे तो कहना कि आपके मन में वह चीज रहेगी और कभी ना कभी आप उस चीज को जिताएंगे पर बेहतर यह है कि आप चीजों को गलत मतलब दूसरे नजरिए से देखें कि आप उस चीज के पीछे उस गलती के पीछे का कारण समझने की कोशिश कीजिए क्योंकि कोई भी व्यक्ति बेवजह कोई गलती नहीं करता है तो आप उसको माफ करने के बजाय एक्सेप्ट कीजिए कि सामने वाला व्यक्ति गलत नहीं है आपके मन से नफरत की भावना मिट जाएगी उम्मीद करती हूं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai kya kisee ko maaph kar dene maatr se usake prati napharat khatm ho jaatee hai to dekhie kisee ko maaph kar dene maatr se usake prati napharat aapakee kabhee khatm nahin hogee jab tak aapake man mein yah vichaar hai ki vah vyakti mein yah cheej galat kee hai tab maaph kar bhee denge to kahana ki aapake man mein vah cheej rahegee aur kabhee na kabhee aap us cheej ko jitaenge par behatar yah hai ki aap cheejon ko galat matalab doosare najarie se dekhen ki aap us cheej ke peechhe us galatee ke peechhe ka kaaran samajhane kee koshish keejie kyonki koee bhee vyakti bevajah koee galatee nahin karata hai to aap usako maaph karane ke bajaay eksept keejie ki saamane vaala vyakti galat nahin hai aapake man se napharat kee bhaavana mit jaegee ummeed karatee hoon aapako mera javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

bolkar speaker
क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है?Kya Kisi Ko Maaf Kar Dene Matra Se Uske Prati Nafrat Khatam Ho Jaati Hai
BK. SHYAAM. KARWA Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए BK. जी का जवाब
Unknown
1:02
नमस्कार आपने पसंद किया है कि क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है कि हम किसी को माफ करते हैं लेकिन नफरत इतनी आसन शिक्षक नहीं होती नफरत नहीं हो सकती जब तक हम उनसे बोल दो उसी प्रकार विचार करने लगे जिस प्रकार के लिए नफरत को तो किस्मत के जा सकता हूं जब जिस पर हम नफरत करते हैं उस पर हमारे दोस्त है उसी प्रकार विकास हो जाए जिस प्रकार में पहली बार करता है क्योंकि विश्वास से ही नफरत करता इसलिए यदि किसी को आप कैसे करते हैं तो सबसे पहले उस पर विश्वास करना बहुत ही आवश्यक है क्योंकि जब तक आप माफ नहीं करेंगे नफरत कभी कम नहीं हो सकती हो और कभी नहीं हो सकती इसलिए नंबर को संपूर्ण उसे खत्म करने के लिए विश्वास होना बहुत ही आवश्यक है विश्वास से ही नफरत को खत्म किया जा सकता है
Namaskaar aapane pasand kiya hai ki kya kisee ko maaph kar dene maatr se usake prati napharat khatm ho jaatee hai ki ham kisee ko maaph karate hain lekin napharat itanee aasan shikshak nahin hotee napharat nahin ho sakatee jab tak ham unase bol do usee prakaar vichaar karane lage jis prakaar ke lie napharat ko to kismat ke ja sakata hoon jab jis par ham napharat karate hain us par hamaare dost hai usee prakaar vikaas ho jae jis prakaar mein pahalee baar karata hai kyonki vishvaas se hee napharat karata isalie yadi kisee ko aap kaise karate hain to sabase pahale us par vishvaas karana bahut hee aavashyak hai kyonki jab tak aap maaph nahin karenge napharat kabhee kam nahin ho sakatee ho aur kabhee nahin ho sakatee isalie nambar ko sampoorn use khatm karane ke lie vishvaas hona bahut hee aavashyak hai vishvaas se hee napharat ko khatm kiya ja sakata hai

bolkar speaker
क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है?Kya Kisi Ko Maaf Kar Dene Matra Se Uske Prati Nafrat Khatam Ho Jaati Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:27
सवाल है कि क्या किसी को माफ कर देने माचिस के प्रति नफरत खत्म हो जाती है तो जी नहीं नफरत खत्म हो जाती है ऐसा तो नहीं कहा जा सकता है लेकिन हम किसी को माफ कर देने से सुकून जरूर मिलता है तुम आगे शांति मिलती है ऐसा करने से आपके अंदर बदला लेने की भावना होती है वह धीरे-धीरे करके कम होती है आप अपने कार्य पर अपने ट्विटर पर अपने प्रोडक्ट व पर ज्यादा फोकस कर पाते हैं और उन कार्यों को अच्छी तरीके से कर पाते हैं आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद
Savaal hai ki kya kisee ko maaph kar dene maachis ke prati napharat khatm ho jaatee hai to jee nahin napharat khatm ho jaatee hai aisa to nahin kaha ja sakata hai lekin ham kisee ko maaph kar dene se sukoon jaroor milata hai tum aage shaanti milatee hai aisa karane se aapake andar badala lene kee bhaavana hotee hai vah dheere-dheere karake kam hotee hai aap apane kaary par apane tvitar par apane prodakt va par jyaada phokas kar paate hain aur un kaaryon ko achchhee tareeke se kar paate hain aapaka din shubh rahe dhanyavaad

bolkar speaker
क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है?Kya Kisi Ko Maaf Kar Dene Matra Se Uske Prati Nafrat Khatam Ho Jaati Hai
Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
1:01
हेलो फ्रेंड्स नमस्कार जैसा कि आप का प्रेस नहीं क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है किसी को अगर हम माफ कर देते हैं तो इसका मतलब पर ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि हमारी उस शख्स के प्रति जो नफरत की भावना है वह दूर हो जाती है हां यह जरूर हो जाता फ्रेंड की जो हमारे अंदर जो है कड़वाहट भरी रहती है अगर हम अपने मन को अपने दिल को तसल्ली दे देते हैं कि चलिए ठीक है जो हुआ सो हुआ जाने में हुआ जाने में हुआ एक बार इसे माफ कर देते हैं अपने दिल को अपनी अंतरात्मा को समझाते हैं कि ऐसा नहीं होगा तो हमारे अंदर जो एक पूछ होता है वह कुछ हद तक जो है वह थम जाता है निष्क्रिय हो जाता है जिससे हमारे अंदर जो बाल आता है जो पीड़ा होती है वह कुछ टाइम के लिए खत्म हो जाती है धीरे-धीरे खत्म ही हो जाती है आशा है कि आप सभी को यह जवाब पसंद आया होगा
Helo phrends namaskaar jaisa ki aap ka pres nahin kya kisee ko maaph kar dene maatr se usake prati napharat khatm ho jaatee hai kisee ko agar ham maaph kar dete hain to isaka matalab par aisa bilkul bhee nahin hai ki hamaaree us shakhs ke prati jo napharat kee bhaavana hai vah door ho jaatee hai haan yah jaroor ho jaata phrend kee jo hamaare andar jo hai kadavaahat bharee rahatee hai agar ham apane man ko apane dil ko tasallee de dete hain ki chalie theek hai jo hua so hua jaane mein hua jaane mein hua ek baar ise maaph kar dete hain apane dil ko apanee antaraatma ko samajhaate hain ki aisa nahin hoga to hamaare andar jo ek poochh hota hai vah kuchh had tak jo hai vah tham jaata hai nishkriy ho jaata hai jisase hamaare andar jo baal aata hai jo peeda hotee hai vah kuchh taim ke lie khatm ho jaatee hai dheere-dheere khatm hee ho jaatee hai aasha hai ki aap sabhee ko yah javaab pasand aaya hoga

bolkar speaker
क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है?Kya Kisi Ko Maaf Kar Dene Matra Se Uske Prati Nafrat Khatam Ho Jaati Hai
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:13
हेलो पेंट शॉप का सवाल है कि क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है अच्छा सा वाले आपका देखिए कई बार क्या होता है कि सामने वाले व्यक्ति से कुछ गलतियां हो जाती है या दो व्यक्तियों में आपस में कुछ मनमुटाव हो जाता है तो क्या होता है कि आपस में कई बार समझौता भी हो जाता है दोनों एक दूसरे की गलती मान लेते हैं और अपने माफ भी कर देते हैं लेकिन आपने यह पूछा कि माफ कर देने से क्या नफरत खत्म हो जाएगी यह तो माफी के ऊपर डिपेंड करता है कि जिस व्यक्ति ने माफी दिया वह किस स्वभाव का है या उसने माफी उसे दी है तो किस रूप में दिया माफी उसका माफ करने का मकसद सिर्फ उससे कोई काम निकलवाना है या उससे दोबारा से संबंध बनाने का है या फिर वो सोच रहा है कि चलो इस बार माफ कर देता हूं अगर आगे हो सकता दोबारा कोई गलती करेगा तो फिर माफ नहीं करूंगा या कोई ना कोई नफरत उसके मन में कहीं ना कहीं कहीं किसी कोने में रह जाती है वह बात कहीं ना कहीं आगे चलकर के उभरती हुई है तो यह तो व्यक्ति के स्वभाव पर निर्भर करता है कि उसने माफी किस रूप में दी है इसका कोई भी अंदाजा हम लोग नहीं लगा सकते उम्मीद करता हूं आप जवाब अच्छा लगेगा धन्यवाद
Helo pent shop ka savaal hai ki kya kisee ko maaph kar dene maatr se usake prati napharat khatm ho jaatee hai achchha sa vaale aapaka dekhie kaee baar kya hota hai ki saamane vaale vyakti se kuchh galatiyaan ho jaatee hai ya do vyaktiyon mein aapas mein kuchh manamutaav ho jaata hai to kya hota hai ki aapas mein kaee baar samajhauta bhee ho jaata hai donon ek doosare kee galatee maan lete hain aur apane maaph bhee kar dete hain lekin aapane yah poochha ki maaph kar dene se kya napharat khatm ho jaegee yah to maaphee ke oopar dipend karata hai ki jis vyakti ne maaphee diya vah kis svabhaav ka hai ya usane maaphee use dee hai to kis roop mein diya maaphee usaka maaph karane ka makasad sirph usase koee kaam nikalavaana hai ya usase dobaara se sambandh banaane ka hai ya phir vo soch raha hai ki chalo is baar maaph kar deta hoon agar aage ho sakata dobaara koee galatee karega to phir maaph nahin karoonga ya koee na koee napharat usake man mein kaheen na kaheen kaheen kisee kone mein rah jaatee hai vah baat kaheen na kaheen aage chalakar ke ubharatee huee hai to yah to vyakti ke svabhaav par nirbhar karata hai ki usane maaphee kis roop mein dee hai isaka koee bhee andaaja ham log nahin laga sakate ummeed karata hoon aap javaab achchha lagega dhanyavaad

bolkar speaker
क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है?Kya Kisi Ko Maaf Kar Dene Matra Se Uske Prati Nafrat Khatam Ho Jaati Hai
Bhupesh Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Bhupesh जी का जवाब
Entrepreneur , Blogger, Influencer
0:48
नमस्कार दोस्तों हेस्टैक भेज रहे अब मैं आपका स्वागत है मैं आपका अपना मित्र भूपेश कुमार मैं आशा करता हूं आप सभी से खुशी लोगे और अपना और अपने परिवार का ख्याल रखेंगे जैसे कि आपको बस में क्या किसी को माफ कर देने मात्र से ही उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है दोस्तों यह डिपेंड आप पर करता है कि आप उससे नफरत करते क्यों है अगर आपके मन में उसे माफ करना भी है और उससे बदला लेना भी है तो आप कभी भी अपनी नफरत को खत्म नहीं कर पाएंगे लेकिन अगर आपके मन में पूर्ण रूप से यह बात है कि आपको से माफी करना है तभी आप उसे माफ कर पाएगी और तभी आपकी नफरत खत्म हो पाएगी लेकिन अगर आपके मन में जरा सी भी मंशा है कि आपको उसे माफ ही करना और बाद में आगे चलकर उसे धोखा भी देना है तो आप कभी भी अपनी नफरत को खत्म नहीं कर पाएंगे
Namaskaar doston hestaik bhej rahe ab main aapaka svaagat hai main aapaka apana mitr bhoopesh kumaar main aasha karata hoon aap sabhee se khushee loge aur apana aur apane parivaar ka khyaal rakhenge jaise ki aapako bas mein kya kisee ko maaph kar dene maatr se hee usake prati napharat khatm ho jaatee hai doston yah dipend aap par karata hai ki aap usase napharat karate kyon hai agar aapake man mein use maaph karana bhee hai aur usase badala lena bhee hai to aap kabhee bhee apanee napharat ko khatm nahin kar paenge lekin agar aapake man mein poorn roop se yah baat hai ki aapako se maaphee karana hai tabhee aap use maaph kar paegee aur tabhee aapakee napharat khatm ho paegee lekin agar aapake man mein jara see bhee mansha hai ki aapako use maaph hee karana aur baad mein aage chalakar use dhokha bhee dena hai to aap kabhee bhee apanee napharat ko khatm nahin kar paenge

bolkar speaker
क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है?Kya Kisi Ko Maaf Kar Dene Matra Se Uske Prati Nafrat Khatam Ho Jaati Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:38
देख लो माफ कर देने से नफरत तो जो अब जैसे किसी के प्रति कोई दुर्भावना के अंदर है और माफी नहीं थी तो उसके प्रति नफरत रहेगी लेकिन जब माफ कर देते हैं तो वह भाव आपके समाप्त हो जाते हैं लेकिन अगर जिस व्यक्ति को आपने माफ करो अपनी आदतों से बाज नहीं आता है तो उसे थोड़ा से दूरी बनाए रखना चाहिए उसका परीक्षण करना चाहिए प्लीज माफ करने के बाद भी अपने आप में सुधार किया कि नहीं ऐसा तो नहीं कि आपने माफ कर दिया वह वह अपनी आदतों में सुधार नगर के आपके पीठ पीठ पीछे छुरा कंपनी का काम कर रहा हो तो ऐसे व्यक्ति से सावधान रहना चाहिए नफरत नहीं खत्म होती है लेकर सतर्क रहना बहुत जरूरी है
Dekh lo maaph kar dene se napharat to jo ab jaise kisee ke prati koee durbhaavana ke andar hai aur maaphee nahin thee to usake prati napharat rahegee lekin jab maaph kar dete hain to vah bhaav aapake samaapt ho jaate hain lekin agar jis vyakti ko aapane maaph karo apanee aadaton se baaj nahin aata hai to use thoda se dooree banae rakhana chaahie usaka pareekshan karana chaahie pleej maaph karane ke baad bhee apane aap mein sudhaar kiya ki nahin aisa to nahin ki aapane maaph kar diya vah vah apanee aadaton mein sudhaar nagar ke aapake peeth peeth peechhe chhura kampanee ka kaam kar raha ho to aise vyakti se saavadhaan rahana chaahie napharat nahin khatm hotee hai lekar satark rahana bahut jarooree hai

bolkar speaker
क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है?Kya Kisi Ko Maaf Kar Dene Matra Se Uske Prati Nafrat Khatam Ho Jaati Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:36
हेलो दोस्तों स्वागत है आपका दोस्तों आपका प्रश्न किया किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है तो यह अपने मन के ऊपर निर्भर होता है दोस्तों की है आप उसे दिल से माफ करें है कि नहीं करें हैं और जब आप अपने दिल से उसे माफ कर देंगे तो नफरत भी खत्म हो जाएगी लेकिन आपने अगर ऊपरी मन से माफ किया है तो आपके दिल में नफरत रहेगी इसलिए अगर आपने किसी को माफ किया है तो आप उसे दिल से माफ करिए तो आपके दिल से नफरत भी खत्म हो जाएगी धन्यवाद
Helo doston svaagat hai aapaka doston aapaka prashn kiya kisee ko maaph kar dene maatr se usake prati napharat khatm ho jaatee hai to yah apane man ke oopar nirbhar hota hai doston kee hai aap use dil se maaph karen hai ki nahin karen hain aur jab aap apane dil se use maaph kar denge to napharat bhee khatm ho jaegee lekin aapane agar ooparee man se maaph kiya hai to aapake dil mein napharat rahegee isalie agar aapane kisee ko maaph kiya hai to aap use dil se maaph karie to aapake dil se napharat bhee khatm ho jaegee dhanyavaad

bolkar speaker
क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है?Kya Kisi Ko Maaf Kar Dene Matra Se Uske Prati Nafrat Khatam Ho Jaati Hai
Ekta Sahni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ekta जी का जवाब
Unknown
2:13
आपका प्रश्न है क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है तो मेरा जवाब है कि हां इनिशियल स्टेज पर तो खत्म हो ही जाती है जैसे किसी व्यक्ति ने कोई गलती की है और उसने आपसे दिल से माफी मांगी है तो आप पहले नहीं करेंगे दूसरी बार नहीं करेंगे लेकिन अगर वह व्यक्ति आपको कह रहा है कि उससे गलती हुई तो माफ कर देंगे सपोर्ट कीजिए तो टाइम पास वही गलती उसने रिपीट कर दी अब आपके लिए मुश्किल हो जाएगा अरे यही बात तो पहले हुई थी और फिर से वही सी मिस्टेक कर आए तो पैसा भी आएगा किसने तो माफी मांगी थी और मैंने माफ भी कर दिया था तो क्या होता है कि गर्म आप कब तक काम करती है जब तक आप उसे रिपीट नहीं करते हैं फिर आपसे माफी मांगने की कोई वैल्यू नहीं रह जाती है आप कब तक माफी मांग लेंगे अगर आप उसी गलती को रिपोर्ट करते जाएंगे तो माफ करना कब तक करेगा तो हम सब इंसान हैं ना हमारे अंदर की फीलिंग से अगर आपको बार बार माफ कर रहा है लेकिन फिर आप करते जा रहे फिर दिल को समझा जो नाटक है कुछ नहीं है कुछ रियालिटी नहीं तो अगर आप चाहते हैं कि कोई इंसान आपको दिल से माफ करते तो आप भी उन सब बातों को करने से बचें वह सब गलती है ना करें जिससे कि सामने वाले का दिल दुखे और आपको माफी मांगने पड़े रिपीटेशन नहीं करनी चाहिए आप एक बार गलती की उसे दोबारा मत हो रहा है इसलिए अगर दोहराएंगे तो आप उस व्यक्ति के मन में अपने प्रति नफरत पैदा करते हैं इसलिए माफ कर देने मात्र से नफरत मिठाई नहीं जा सकते हैं आपको आगे उसके लिए पूरा रोड पर चलना पड़ेगा अगर हम किसी को माफ कर देते हैं लेकिन सामने वाला फिर से वही गलती करता है बहुत मुश्किल हो जाता है बार बार बार बार माफ करना फिर तो ऐसा लगता है जैसे यह तो सिर्फ पूरे शब्द है इनके पीछे कोई अच्छी नहीं है तो ध्यान रखें
Aapaka prashn hai kya kisee ko maaph kar dene maatr se usake prati napharat khatm ho jaatee hai to mera javaab hai ki haan inishiyal stej par to khatm ho hee jaatee hai jaise kisee vyakti ne koee galatee kee hai aur usane aapase dil se maaphee maangee hai to aap pahale nahin karenge doosaree baar nahin karenge lekin agar vah vyakti aapako kah raha hai ki usase galatee huee to maaph kar denge saport keejie to taim paas vahee galatee usane ripeet kar dee ab aapake lie mushkil ho jaega are yahee baat to pahale huee thee aur phir se vahee see mistek kar aae to paisa bhee aaega kisane to maaphee maangee thee aur mainne maaph bhee kar diya tha to kya hota hai ki garm aap kab tak kaam karatee hai jab tak aap use ripeet nahin karate hain phir aapase maaphee maangane kee koee vailyoo nahin rah jaatee hai aap kab tak maaphee maang lenge agar aap usee galatee ko riport karate jaenge to maaph karana kab tak karega to ham sab insaan hain na hamaare andar kee pheeling se agar aapako baar baar maaph kar raha hai lekin phir aap karate ja rahe phir dil ko samajha jo naatak hai kuchh nahin hai kuchh riyaalitee nahin to agar aap chaahate hain ki koee insaan aapako dil se maaph karate to aap bhee un sab baaton ko karane se bachen vah sab galatee hai na karen jisase ki saamane vaale ka dil dukhe aur aapako maaphee maangane pade ripeeteshan nahin karanee chaahie aap ek baar galatee kee use dobaara mat ho raha hai isalie agar doharaenge to aap us vyakti ke man mein apane prati napharat paida karate hain isalie maaph kar dene maatr se napharat mithaee nahin ja sakate hain aapako aage usake lie poora rod par chalana padega agar ham kisee ko maaph kar dete hain lekin saamane vaala phir se vahee galatee karata hai bahut mushkil ho jaata hai baar baar baar baar maaph karana phir to aisa lagata hai jaise yah to sirph poore shabd hai inake peechhe koee achchhee nahin hai to dhyaan rakhen

bolkar speaker
क्या किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है?Kya Kisi Ko Maaf Kar Dene Matra Se Uske Prati Nafrat Khatam Ho Jaati Hai
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
4:50
बीटी मारी बड़ी भुजा तो यह कहते हैं क्षमा ही महान लोगों का ऑप्शन है लेकिन क्योंकि हम आधुनिक दौर में जी रहे हैं आज की देश देश काल की परिस्थितियां और देश काल की परियों से बहुत भिन्न है जिन परिस्थितियों में हमारे बुजुर्ग हमारी ऋषि मुनि हमारे महान विद्वानों ने यह कहा कि कमाई ही महान लोगों का आभूषण है अब यह उस दोस्त की स्थिति पर निर्भर करता है कि वह समा के काबिल है अथवा नफरत दिखा देना नफरत तो रहेगी यदि कोई ऐसा कार्य है यदि कोई ऐसा दोस्त प्रयास है जो तुम्हारे चरित्र पर दाग लगा रहा है जो तुम्हारे लिए मानसिक आघात पहुंचा रहा है मालूम किसी महिला की इज्जत पर हाथ डालने का प्रयास किया तो कैसे माफ किया जा सकता है वह माफ नहीं किया जा सकता महिलाओं से जीवन भर नफरत करेगी क्योंकि वह उसके चरित्र का दुख कारी था इसलिए हम पुकारे माफ किया जा सकता है किसी को आर्थिक चोट आपने पहुंचाई और उसमें उसकी गलती किसकी है तो उसको माफ किया जा सकता है कि कोई बात नहीं कहते ना इसी लो योर वेल्थ नथिंग लॉस्ट लॉस्ट योर हेल्प समथिंग इज लॉस्ट इट्स वेलोसिटी ऑफ करैक्टर अल्टीमेट लो यदि आप अपना चरित्र खो दिया है तो मिस आपने सब कुछ खो दिया है धन कमा खोया है वह पा लेंगे स्वास्थ्य खोया है उसको भी पाया जा सकता है लेकिन यदि जिसका चरित्र टूट चुका है पर चर्चा गिर चुका है वह कभी भी जीवन भर नहीं उठ सकता है एक भजन की दो लाइनों में बहुत अच्छी तरह कहा गया है उनको दो लाइनों को समझने का प्रयास करें रांची इस सूची में उनकी बस एक तमन्ना है कि तुम सामने मेरा दम निकल जाए वही प्रकार उन्होंने नजरों से गिराना ना चाहे जितनी सजा देना नजरों से जो गिरे चाहे मुश्किल ही संभल उपाय तू नजरों से कम पड़ता है जब उसका चरित्र हो चुका है जबकि ऐसे कार्य हैं जो घृणित हैं तो उसका तक आ ही जाते कुकर्म कई ऐसे व्यक्ति को हो सकता है कि आप शब्दों से जमा कर दें लेकिन मानसिक रूप से उसे कभी जमा नहीं कर पाएंगे इसलिए मेरे मित्र नफरत उसके प्रति बनी रहेगी संकाय समा हमेशा बनी रहेगी मैं सोच रहा हूं वह समझदार है वो कहते हैं ना मैं भी इस बात को मानता हूं कि इंसान से गलतियां होती है क्योंकि इंसान गलतियों का पुतला है लेकिन गलती करके बुला इस करता है पश्चाताप करें तो उसको क्षमा किया जा सकता है लेकिन जो गलतियों पर गलती करता चला जाए उस पर आ रहे उसी में इंसान नहीं मानता उसे हैवान मानते हैं उसे दान माना जाता है उसे रक्षक माना जाता है क्योंकि तीन प्रकार के प्राणी है जो गलती ना करें उसे भगवान कहते हैं जो गलती करके पछतावा करें उसे इंसान कहते हैं और जो गलती करके भी गलतियों पर कल आज रहे उसे भगवान कहते हैं या दान कहते हैं या राक्षस कहते हैं उस देश काल की परिस्थितियों पर ध्यान करके उसकी गलती उसकी मानसिकता को देख कर के ही समा सुमित होती है क्षमा भाव शोभित होता है यदि वह मन से स्वीकार कर रहा है और गलती क्यों रिलायंस कर रहा है पश्चाताप पश्चाताप कर रहा है तो उसे जमा किया जा सकता है
Beetee maaree badee bhuja to yah kahate hain kshama hee mahaan logon ka opshan hai lekin kyonki ham aadhunik daur mein jee rahe hain aaj kee desh desh kaal kee paristhitiyaan aur desh kaal kee pariyon se bahut bhinn hai jin paristhitiyon mein hamaare bujurg hamaaree rshi muni hamaare mahaan vidvaanon ne yah kaha ki kamaee hee mahaan logon ka aabhooshan hai ab yah us dost kee sthiti par nirbhar karata hai ki vah sama ke kaabil hai athava napharat dikha dena napharat to rahegee yadi koee aisa kaary hai yadi koee aisa dost prayaas hai jo tumhaare charitr par daag laga raha hai jo tumhaare lie maanasik aaghaat pahuncha raha hai maaloom kisee mahila kee ijjat par haath daalane ka prayaas kiya to kaise maaph kiya ja sakata hai vah maaph nahin kiya ja sakata mahilaon se jeevan bhar napharat karegee kyonki vah usake charitr ka dukh kaaree tha isalie ham pukaare maaph kiya ja sakata hai kisee ko aarthik chot aapane pahunchaee aur usamen usakee galatee kisakee hai to usako maaph kiya ja sakata hai ki koee baat nahin kahate na isee lo yor velth nathing lost lost yor help samathing ij lost its velositee oph karaiktar alteemet lo yadi aap apana charitr kho diya hai to mis aapane sab kuchh kho diya hai dhan kama khoya hai vah pa lenge svaasthy khoya hai usako bhee paaya ja sakata hai lekin yadi jisaka charitr toot chuka hai par charcha gir chuka hai vah kabhee bhee jeevan bhar nahin uth sakata hai ek bhajan kee do lainon mein bahut achchhee tarah kaha gaya hai unako do lainon ko samajhane ka prayaas karen raanchee is soochee mein unakee bas ek tamanna hai ki tum saamane mera dam nikal jae vahee prakaar unhonne najaron se giraana na chaahe jitanee saja dena najaron se jo gire chaahe mushkil hee sambhal upaay too najaron se kam padata hai jab usaka charitr ho chuka hai jabaki aise kaary hain jo ghrnit hain to usaka tak aa hee jaate kukarm kaee aise vyakti ko ho sakata hai ki aap shabdon se jama kar den lekin maanasik roop se use kabhee jama nahin kar paenge isalie mere mitr napharat usake prati banee rahegee sankaay sama hamesha banee rahegee main soch raha hoon vah samajhadaar hai vo kahate hain na main bhee is baat ko maanata hoon ki insaan se galatiyaan hotee hai kyonki insaan galatiyon ka putala hai lekin galatee karake bula is karata hai pashchaataap karen to usako kshama kiya ja sakata hai lekin jo galatiyon par galatee karata chala jae us par aa rahe usee mein insaan nahin maanata use haivaan maanate hain use daan maana jaata hai use rakshak maana jaata hai kyonki teen prakaar ke praanee hai jo galatee na karen use bhagavaan kahate hain jo galatee karake pachhataava karen use insaan kahate hain aur jo galatee karake bhee galatiyon par kal aaj rahe use bhagavaan kahate hain ya daan kahate hain ya raakshas kahate hain us desh kaal kee paristhitiyon par dhyaan karake usakee galatee usakee maanasikata ko dekh kar ke hee sama sumit hotee hai kshama bhaav shobhit hota hai yadi vah man se sveekaar kar raha hai aur galatee kyon rilaayans kar raha hai pashchaataap pashchaataap kar raha hai to use jama kiya ja sakata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसी को माफ कर देने मात्र से उसके प्रति नफरत खत्म हो जाती है, किसी को माफ कर देने नफरत खत्म हो जाती है
URL copied to clipboard