#भारत की राजनीति

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:13
सी फ्रेंड ने प्रश्न पूछा है कि किसान बिल में ऐसी कोई बात नहीं है जो किसान के विरोध में हो प्रधानमंत्री और कृषि मंत्री ने बता चुके हैं विवरण अगर आप बता चुके हैं इसका विरोध क्यों हो रहा है मतलब आप उसकी क्या अच्छाइयां क्या बताना चाहते हैं उस दिन में क्या खास पाते हैं तब आप यह बताइए कि जब किसान को एमएसपी नहीं देंगे एक फिक्स रेट नहीं देंगे तू क्या मतलब होगा उसके औलाद को उगाने का मतलब वह आना आज अगर आप आज के समय में कर ₹4 बिक रहा कल के समय में ₹2 भेजेंगे तो उनके तो खाने की चीजें भी नहीं मिलेगी जो उसने मेहनत किया है जो उसने अपना पूरा दिन रात करके एक करके उस अनाज को बजे को गाने में जो समय लगाया उसको तो कुछ नहीं मिला है अतः आप आपकी तरफ से ही कहा जा रहा है कि जो भी किसान भी लाया बहुत अच्छा है क्या चीज है ठोकने वाली बातें क्योंकि जब हम एमएसपी की मांग करें मैं सब जो भी किसान हैं किसानों को एक मिनिमम सपोर्ट प्राइस मिलनी चाहिए जिसे क्या होता है कि बड़ी-बड़ी कंपनियां आती है और क्या करते हैं कि वह पहले ही अपने अनाज की बातें कर लेते कि मुझे यह चीज चाहिए आप यही होगा लेकिन इस कानून के तहत क्या उपयोगी वह भी डिपेंड नहीं होंगी और एक से नहीं चार से कहेंगे लेकिन लेंगी एक ही से बताइए किस का नुकसान हुआ होगा तो किसान का ही नुकसान हुआ ना तो आपको समझ में नहीं आ रहा है शायद याद उसकी सरकार को नहीं समझ में आ रहा है मतलब अगर देखा जाए हकीकत रूप में तो एक बड़े लोग जो पूंजीपति लोग हैं उन्हें कोई फायदा कृषि कानून से होगा इसमें गरीबों को जो किसान है उन्हें नहीं फायदा होगा तो इस चीज को आप भी समझे और सरकार भी समझे कि कृषि कानून का जो विरोध हो रहा है उस और उसे हटाना चाहिए किसी को जबरदस्ती स्वतंत्र भारत में ठोकने वाली बातें अडॉप्टेशन वाली कानून नहीं होने चाहिए कि जबरदस्ती हम अपने आप में उठो पर
See phrend ne prashn poochha hai ki kisaan bil mein aisee koee baat nahin hai jo kisaan ke virodh mein ho pradhaanamantree aur krshi mantree ne bata chuke hain vivaran agar aap bata chuke hain isaka virodh kyon ho raha hai matalab aap usakee kya achchhaiyaan kya bataana chaahate hain us din mein kya khaas paate hain tab aap yah bataie ki jab kisaan ko emesapee nahin denge ek phiks ret nahin denge too kya matalab hoga usake aulaad ko ugaane ka matalab vah aana aaj agar aap aaj ke samay mein kar ₹4 bik raha kal ke samay mein ₹2 bhejenge to unake to khaane kee cheejen bhee nahin milegee jo usane mehanat kiya hai jo usane apana poora din raat karake ek karake us anaaj ko baje ko gaane mein jo samay lagaaya usako to kuchh nahin mila hai atah aap aapakee taraph se hee kaha ja raha hai ki jo bhee kisaan bhee laaya bahut achchha hai kya cheej hai thokane vaalee baaten kyonki jab ham emesapee kee maang karen main sab jo bhee kisaan hain kisaanon ko ek minimam saport prais milanee chaahie jise kya hota hai ki badee-badee kampaniyaan aatee hai aur kya karate hain ki vah pahale hee apane anaaj kee baaten kar lete ki mujhe yah cheej chaahie aap yahee hoga lekin is kaanoon ke tahat kya upayogee vah bhee dipend nahin hongee aur ek se nahin chaar se kahenge lekin lengee ek hee se bataie kis ka nukasaan hua hoga to kisaan ka hee nukasaan hua na to aapako samajh mein nahin aa raha hai shaayad yaad usakee sarakaar ko nahin samajh mein aa raha hai matalab agar dekha jae hakeekat roop mein to ek bade log jo poonjeepati log hain unhen koee phaayada krshi kaanoon se hoga isamen gareebon ko jo kisaan hai unhen nahin phaayada hoga to is cheej ko aap bhee samajhe aur sarakaar bhee samajhe ki krshi kaanoon ka jo virodh ho raha hai us aur use hataana chaahie kisee ko jabaradastee svatantr bhaarat mein thokane vaalee baaten adopteshan vaalee kaanoon nahin hone chaahie ki jabaradastee ham apane aap mein utho par

और जवाब सुनें

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
3:27
कि दोस्तों के साथ बिल में ऐसी कोई बात नहीं है जो किसानों के विरोध में हो यह बात प्रधानमंत्री और कृषि मंत्री समझा भी चुकी है इसलिए मुस्कान किसानों का नहीं उन बिचौलियों का क्या आप मेरी बात से सहमत हैं कि दोस्तों हम आपकी बात से सहमत तो है परंतु किसान जिन चार मांगों को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं उनमें से दो मांगे तो किसानों की मान ली गई और शेष 2 मांगों पर कल 4 तारीख को चर्चा होना तो जिनमें से एक है यानी की एमएसपी रेट को यानी कि तय कर दिया जाए तो देखिए दोस्तों के साथ होगी यह मांग भी बिल्कुल जायज है क्योंकि सरकार जो एमएसपी रेट दे दी है तो उस पर सरकारी कर्मचारी जो किसानों का अनाज एमएसपी रेट पर खरीदी भ्रष्टाचारी करते हैं किसान जब उनके पास अनाज लेकर जाता है तो मान के चलिए गेहूं लेकर गया कैसा तो सरकारी रेट है ₹25 तो वह कहते हैं बहाने बनाते हैं कि अभी गोदाम में जगह नहीं है बाहर जाना नहीं है क्या हमारा स्टाफ पूरा हो गया है तो इससे परेशान होकर किसान और मंडियों में अपनाना ही ले जाता है तो व्यापारी बोलते हैं भाई हम तो ₹15 में खरीद रहा है ₹16 में खरीद रहे हैं तो किसान को मजबूरी बस वहां पर पंद्रह ₹16 किलो में अपना अनाज बेचना पड़ता है तो आप भी सरकारी कर्मचारी जाते हैं उन मंडियों में और बोलते हैं आपने जय कितने में खरीदा यानी 15 या 16 में तो चलिए बीच में हमें दे दीजिए तो उन्होंने ₹20 किलो में वह खरीद लिया और उनको दामों में भरवा दिया जो खाली पड़े थे किसानों को धोखा देते और सरकार को एमएसपी रेट पर भेज देती तो सीधा-सीधा ₹5 का मुनाफा सरकारी कर्मचारी कमा लेते हैं किसान को कोई फायदा नहीं मिलता यदि सरकार एमएसपी रेट पर कानून बनाने की कोई भी व्यापारी किसान का अनाज एमएसपी रेट से कम में नहीं खरीदेगा तो सरकार को भी किसान की फसलों को खरीदने का यानी कि दवाब नहीं बनेगा सरकार के ऊपर क्या आप क्योंकि जब उस कब अनाज मंडी में बिक जाएगा तो इस पर भी सरकार को गौर करना चाहिए और बाकी जो तीसरा कानून है यह तो बिल्कुल खराब कानून किसी को फायदा नहीं है सेना किसानों को है ना जनता से इसको तो सीधा व्यापारियों कोई फायदा है आवश्यक वस्तु अधिनियम क्योंकि अब इस पर सरकार ने खुली छूट दे रखी है तो अब दलहनी फसलें हैं और जो यानी सब्जी आलू प्याज ऐसी सब्जी है जो खराब नहीं होती उसका व्यापारी स्टोरेज करें तो सीधी सी बात है किसान से ₹2000 और ₹10 किलो में सी सब्जियां खरीदेंगे और इस रोजगार के और जब उसकी मांग बढ़ जाएगी तब 8090 और ₹100 के तो किसान भी खरीदने जाएगा तो उसे भी वहां पर ₹100 में खरीदना पड़ेगा और आम जनता को तो मुस्कान है तो सरकार इसमें कह रही है कि प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी तो सरकार को स्पष्ट करना चाहिए कि दोस्तों इस में कहां पर प्रतिस्पर्धा बढ़ रही है इसमें किसानों को कौन सा लाभ है बाकी हम आपकी बातों से सहमत हैं और मैं आशा करता हूं कि कल यारी सहमति बन जाएगी धन्यवाद
Ki doston ke saath bil mein aisee koee baat nahin hai jo kisaanon ke virodh mein ho yah baat pradhaanamantree aur krshi mantree samajha bhee chukee hai isalie muskaan kisaanon ka nahin un bichauliyon ka kya aap meree baat se sahamat hain ki doston ham aapakee baat se sahamat to hai parantu kisaan jin chaar maangon ko lekar virodh pradarshan kar rahe hain unamen se do maange to kisaanon kee maan lee gaee aur shesh 2 maangon par kal 4 taareekh ko charcha hona to jinamen se ek hai yaanee kee emesapee ret ko yaanee ki tay kar diya jae to dekhie doston ke saath hogee yah maang bhee bilkul jaayaj hai kyonki sarakaar jo emesapee ret de dee hai to us par sarakaaree karmachaaree jo kisaanon ka anaaj emesapee ret par khareedee bhrashtaachaaree karate hain kisaan jab unake paas anaaj lekar jaata hai to maan ke chalie gehoon lekar gaya kaisa to sarakaaree ret hai ₹25 to vah kahate hain bahaane banaate hain ki abhee godaam mein jagah nahin hai baahar jaana nahin hai kya hamaara staaph poora ho gaya hai to isase pareshaan hokar kisaan aur mandiyon mein apanaana hee le jaata hai to vyaapaaree bolate hain bhaee ham to ₹15 mein khareed raha hai ₹16 mein khareed rahe hain to kisaan ko majabooree bas vahaan par pandrah ₹16 kilo mein apana anaaj bechana padata hai to aap bhee sarakaaree karmachaaree jaate hain un mandiyon mein aur bolate hain aapane jay kitane mein khareeda yaanee 15 ya 16 mein to chalie beech mein hamen de deejie to unhonne ₹20 kilo mein vah khareed liya aur unako daamon mein bharava diya jo khaalee pade the kisaanon ko dhokha dete aur sarakaar ko emesapee ret par bhej detee to seedha-seedha ₹5 ka munaapha sarakaaree karmachaaree kama lete hain kisaan ko koee phaayada nahin milata yadi sarakaar emesapee ret par kaanoon banaane kee koee bhee vyaapaaree kisaan ka anaaj emesapee ret se kam mein nahin khareedega to sarakaar ko bhee kisaan kee phasalon ko khareedane ka yaanee ki davaab nahin banega sarakaar ke oopar kya aap kyonki jab us kab anaaj mandee mein bik jaega to is par bhee sarakaar ko gaur karana chaahie aur baakee jo teesara kaanoon hai yah to bilkul kharaab kaanoon kisee ko phaayada nahin hai sena kisaanon ko hai na janata se isako to seedha vyaapaariyon koee phaayada hai aavashyak vastu adhiniyam kyonki ab is par sarakaar ne khulee chhoot de rakhee hai to ab dalahanee phasalen hain aur jo yaanee sabjee aaloo pyaaj aisee sabjee hai jo kharaab nahin hotee usaka vyaapaaree storej karen to seedhee see baat hai kisaan se ₹2000 aur ₹10 kilo mein see sabjiyaan khareedenge aur is rojagaar ke aur jab usakee maang badh jaegee tab 8090 aur ₹100 ke to kisaan bhee khareedane jaega to use bhee vahaan par ₹100 mein khareedana padega aur aam janata ko to muskaan hai to sarakaar isamen kah rahee hai ki pratispardha badhegee to sarakaar ko spasht karana chaahie ki doston is mein kahaan par pratispardha badh rahee hai isamen kisaanon ko kaun sa laabh hai baakee ham aapakee baaton se sahamat hain aur main aasha karata hoon ki kal yaaree sahamati ban jaegee dhanyavaad

Ashish Lavania Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Ashish जी का जवाब
Yoga Instructor
1:05
जी मैं आपकी बात से बिल्कुल अच्छी पर्सेंट सहमत हूं पर 20 परसेंट बिल में कुछ बातें बिल्कुल ऐसी है जिसका किसानों को विरोध करना चाहिए परंतु आप विश्वास नहीं मानेंगे उन बातों पर किसानों को कोई रमैया उन्होंने कि नहीं है और ना कोई मैटर उठा रहे हैं वह क्यों हो इसलिए क्योंकि दिल में ऑप्शन है स्टॉक का स्टॉक की कोई निर्धारित सीमा नहीं की गई है हो सकता है यह बात करके रखो यह मैटर परंतु अभी तक की मेट्रो उठा ही नहीं है अगर ऐसा होता है स्टॉक की कोई सीमा नहीं होती है तो नहीं कि आप भी जानते हम भी जानते किसान जब खाई थी करते हैं फिर उस खेती को भेजता है अगर उसे अच्छी रुपए मिलेंगे जो कि कांटेक्ट फार्मिंग हो या ना मानो बेचेगा वह यह तो रोकता तो है नहीं अपने पास कि नहीं मैं फसलों को रोक कर चलूंगा फिर आगे भेजूंगा वह तो नॉर्मल भेजता है आपके कटाई हुई और बेचा उसे जो पैसा मिला वह अपना उसका यूज़ करेगा परंतु चेंज कर जो कॉर्बेट फ्रॉम थे वह खरीदेंगे और वह स्काईस्टॉक कर सकते हैं तो अगर उन्हें स्टॉक करना शुरू करा तो वह तो रेट सबसे कितनी भी बड़ा घटा सकते हैं यह सबसे बड़ा मैटर है जिसके बारे में बात होनी चाहिए
Jee main aapakee baat se bilkul achchhee parsent sahamat hoon par 20 parasent bil mein kuchh baaten bilkul aisee hai jisaka kisaanon ko virodh karana chaahie parantu aap vishvaas nahin maanenge un baaton par kisaanon ko koee ramaiya unhonne ki nahin hai aur na koee maitar utha rahe hain vah kyon ho isalie kyonki dil mein opshan hai stok ka stok kee koee nirdhaarit seema nahin kee gaee hai ho sakata hai yah baat karake rakho yah maitar parantu abhee tak kee metro utha hee nahin hai agar aisa hota hai stok kee koee seema nahin hotee hai to nahin ki aap bhee jaanate ham bhee jaanate kisaan jab khaee thee karate hain phir us khetee ko bhejata hai agar use achchhee rupe milenge jo ki kaantekt phaarming ho ya na maano bechega vah yah to rokata to hai nahin apane paas ki nahin main phasalon ko rok kar chaloonga phir aage bhejoonga vah to normal bhejata hai aapake kataee huee aur becha use jo paisa mila vah apana usaka yooz karega parantu chenj kar jo korbet phrom the vah khareedenge aur vah skaeestok kar sakate hain to agar unhen stok karana shuroo kara to vah to ret sabase kitanee bhee bada ghata sakate hain yah sabase bada maitar hai jisake baare mein baat honee chaahie

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:35
कि हम आप की बात से सहमत नहीं हैं बिचौलियों की प्रथा को नहीं समाप्त किया जा सकता है किसान चाहते हैं या तो पहले इस कानून को रद्द कर दीजिए उस पर बहस हो क्योंकि रातो रात पास कर लिया गया है उसमें इसके गुण और दोषों पर कोई वर्णन नहीं किया गया विपक्ष के सामने रखा भी नहीं किया यह लॉकडाउन में संसद में इसको सब लोगों से 10 कट करा कर के आदेश जारी कर दिया गया तो लोकतंत्र के नियमों के खिलाफ है ऐसी उसमें क्या बात थी कि रातों-रात पारित करना पड़ गया और संसद के अधिवेशन का इंतजार नहीं किया गया नंबर एक नंबर दो जब किसान कह रहे हैं कि उसे हमारा फायदा नहीं है तो सरकार इतनी जिद पर क्यों गाड़ी है किस को समाप्त नहीं कर रहे हो को खत्म कर देना चाहिए जिस कानून से किसान में असंतोष व्याप्त है किसान परेशान है किसान आंदोलन के लिए बाध्य हो गया है हजारों के साथ उस पर अपने प्राणों की आहुति दे रहे हैं तो ऐसे कानून को लाने से क्या फायदा है जिससे हमारे देश के किसानों को परेशानी बड़े और जो हमारे अन्नदाता उनको भीख मांगने की स्थिति आ गया है सरकार को अपनी बात से जनता के लिए झुकना चाहिए आंदोलन कर्ताओं को समझाने के लिए तीनों ऑर्डिनेंस उनको निरस्त कर देना चाहिए था फिर 22 कराना चाहिए उनको एमएसपी की गारंटी देना चाहिए इन सब चीजों के लिए और उनको लिखे लिखा पढ़ी में देख की पूंजी पतियों के कहने से हम कोई खेती के आधार पर कोई काम नहीं करेगा हम अपने स्वच्छता से जैसे करते चले आ रहे उसी आधार पर करेंगे तब जाकर के किसान मान लेंगे वरना इसी तरह आंदोलन चलता रहेगा देश भुखमरी के कगार पर आ जाएगा
Ki ham aap kee baat se sahamat nahin hain bichauliyon kee pratha ko nahin samaapt kiya ja sakata hai kisaan chaahate hain ya to pahale is kaanoon ko radd kar deejie us par bahas ho kyonki raato raat paas kar liya gaya hai usamen isake gun aur doshon par koee varnan nahin kiya gaya vipaksh ke saamane rakha bhee nahin kiya yah lokadaun mein sansad mein isako sab logon se 10 kat kara kar ke aadesh jaaree kar diya gaya to lokatantr ke niyamon ke khilaaph hai aisee usamen kya baat thee ki raaton-raat paarit karana pad gaya aur sansad ke adhiveshan ka intajaar nahin kiya gaya nambar ek nambar do jab kisaan kah rahe hain ki use hamaara phaayada nahin hai to sarakaar itanee jid par kyon gaadee hai kis ko samaapt nahin kar rahe ho ko khatm kar dena chaahie jis kaanoon se kisaan mein asantosh vyaapt hai kisaan pareshaan hai kisaan aandolan ke lie baadhy ho gaya hai hajaaron ke saath us par apane praanon kee aahuti de rahe hain to aise kaanoon ko laane se kya phaayada hai jisase hamaare desh ke kisaanon ko pareshaanee bade aur jo hamaare annadaata unako bheekh maangane kee sthiti aa gaya hai sarakaar ko apanee baat se janata ke lie jhukana chaahie aandolan kartaon ko samajhaane ke lie teenon ordinens unako nirast kar dena chaahie tha phir 22 karaana chaahie unako emesapee kee gaarantee dena chaahie in sab cheejon ke lie aur unako likhe likha padhee mein dekh kee poonjee patiyon ke kahane se ham koee khetee ke aadhaar par koee kaam nahin karega ham apane svachchhata se jaise karate chale aa rahe usee aadhaar par karenge tab jaakar ke kisaan maan lenge varana isee tarah aandolan chalata rahega desh bhukhamaree ke kagaar par aa jaega

Rakesh Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Rakesh जी का जवाब
👨‍🏫 Teacher.
1:44
जो भी आपने पर्सनल में बात रखा है तो मुझे कुल मिलाकर तो यही लगता है कि सरकार को या नरेंद्र मोदी जो हमारे देश के प्रधानमंत्री हैं इनको किसानों की समस्याओं पर विचार करना चाहिए देश के कई राज्यों में चल रहे किसान आंदोलन की अनदेखी नहीं की जा सकती है सरकार को किसानों की आशंका व व समस्याओं पर गंभीरता से विचार करना चाहिए 26 जनवरी की घटना के बाद सरकार व किसान की दूरी बढ़ गई है आंदोलनों की लेकर कई तरह की बातें चल रही है जो गलत है किसान आंदोलन को बल से नहीं बातों से ही खत्म किया जा सकता है और यह सही बात है कि जब तक के अन्नदाता खुशहाल नहीं होगा तब तक देश की आर्थिक स्थिति बेहतर नहीं होगी कृषि कानून को लेकर जो भी संदेह किसानों के मन में है उससे बातचीत के माध्यम से दूर करना चाहिए और साथ ही किसानों को भी छोड़ लचीला होना पड़ेगा क्योंकि जब दोनों तरफ समझा होता होगा दोनों तरफ नरमी होगी तभी यह जो है मसला सुलझ सकता है यानी कुल मिलाकर जो है इस को सुलझाने का प्रयास दोनों पक्षों करना चाहिए आंदोलन का जो असर है है कि खाद पदार्थों की मौत रोज बढ़ रही है जैसे आप प्याज के दाम आप देख रहे हैं कि वैसे ही बनी हुई है और भी खाद्य पदार्थ जो है दिन पर दिन बढ़ रहे हैं तो कहीं ना कहीं से भारत की आर्थिक स्थिति या भारत के लोगों को इसकी भर पाया कहीं ना कहीं करना पड़ रहा है तो इस समय चीजों के हित में देखते हुए सरकार को इन समस्याओं को समाधान में लगना चाहिए
Jo bhee aapane parsanal mein baat rakha hai to mujhe kul milaakar to yahee lagata hai ki sarakaar ko ya narendr modee jo hamaare desh ke pradhaanamantree hain inako kisaanon kee samasyaon par vichaar karana chaahie desh ke kaee raajyon mein chal rahe kisaan aandolan kee anadekhee nahin kee ja sakatee hai sarakaar ko kisaanon kee aashanka va va samasyaon par gambheerata se vichaar karana chaahie 26 janavaree kee ghatana ke baad sarakaar va kisaan kee dooree badh gaee hai aandolanon kee lekar kaee tarah kee baaten chal rahee hai jo galat hai kisaan aandolan ko bal se nahin baaton se hee khatm kiya ja sakata hai aur yah sahee baat hai ki jab tak ke annadaata khushahaal nahin hoga tab tak desh kee aarthik sthiti behatar nahin hogee krshi kaanoon ko lekar jo bhee sandeh kisaanon ke man mein hai usase baatacheet ke maadhyam se door karana chaahie aur saath hee kisaanon ko bhee chhod lacheela hona padega kyonki jab donon taraph samajha hota hoga donon taraph naramee hogee tabhee yah jo hai masala sulajh sakata hai yaanee kul milaakar jo hai is ko sulajhaane ka prayaas donon pakshon karana chaahie aandolan ka jo asar hai hai ki khaad padaarthon kee maut roj badh rahee hai jaise aap pyaaj ke daam aap dekh rahe hain ki vaise hee banee huee hai aur bhee khaady padaarth jo hai din par din badh rahe hain to kaheen na kaheen se bhaarat kee aarthik sthiti ya bhaarat ke logon ko isakee bhar paaya kaheen na kaheen karana pad raha hai to is samay cheejon ke hit mein dekhate hue sarakaar ko in samasyaon ko samaadhaan mein lagana chaahie

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान बिल,किसान बिल का विरोध,किसान बिल क्या है
  • किसान बिल,किसान बिल का विरोध,किसान बिल क्या है
URL copied to clipboard