#undefined

bolkar speaker

रोटी तो सभी खाते हैं लेकिन किसान के हक में कोई क्यों नहीं उठा रहा है?

Roti To Sabhi Khate Hain Lekin Kisan Ke Hak Mein Koi Kyun Nahin Utha Raha Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
1:04
हरे कृष्णा ड्यूटी तो सभी खाते हैं लेकिन किसान के हक में कोई क्यों नहीं उठा रहा है तो आपको बता देंगे देखे सबसे बड़ी चीज की इस जीवन में जो भी लड़ाई है इंसान को सेंड करनी पड़ती है आप की जगह पर आकर दूसरा लड़ाई नहीं लड़ता है आपको सर अपने जीवन की लड़ाई लड़नी पड़ती है दूसरी बात यहां पर कहीं ना कहीं लोगों के मन में एक आशंका यह भी है कि जितना भी किसान आंदोलन हो रहा है उसमें सिर्फ एक ही रीजन के किसान क्यों ज्यादा आहत हो रहे हैं बाकी रीजन के किसानों को इतनी ज्यादा प्रॉब्लम क्यों नहीं है जैसे कि कई जगह रिपोर्ट में भी आया कि यहां पर खाली स्थान समर्थित जो लोग हैं वह भी उसमें प्रोपेगेंडा चल रहा है जो पंजाब के किसानों ने वह सबसे ज्यादा उसे बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं इसके अलावा बाकी जगह गिरोह के साथ है उतना ज्यादा वहां पर इंपैक्ट उसका नहीं दिखाई दे रहा है तो इस वजह से ब्लॉक थोड़ी उससे दूरी बना कर रखे हुए हैं आपकी क्या राय इस बारे में कमेंट सेक्शन राजू व्यक्त करें मि शुभकामनाएं आपके साथ धन्यवाद
Hare krshna dyootee to sabhee khaate hain lekin kisaan ke hak mein koee kyon nahin utha raha hai to aapako bata denge dekhe sabase badee cheej kee is jeevan mein jo bhee ladaee hai insaan ko send karanee padatee hai aap kee jagah par aakar doosara ladaee nahin ladata hai aapako sar apane jeevan kee ladaee ladanee padatee hai doosaree baat yahaan par kaheen na kaheen logon ke man mein ek aashanka yah bhee hai ki jitana bhee kisaan aandolan ho raha hai usamen sirph ek hee reejan ke kisaan kyon jyaada aahat ho rahe hain baakee reejan ke kisaanon ko itanee jyaada problam kyon nahin hai jaise ki kaee jagah riport mein bhee aaya ki yahaan par khaalee sthaan samarthit jo log hain vah bhee usamen propegenda chal raha hai jo panjaab ke kisaanon ne vah sabase jyaada use badh chadhakar hissa le rahe hain isake alaava baakee jagah giroh ke saath hai utana jyaada vahaan par impaikt usaka nahin dikhaee de raha hai to is vajah se blok thodee usase dooree bana kar rakhe hue hain aapakee kya raay is baare mein kament sekshan raajoo vyakt karen mi shubhakaamanaen aapake saath dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
रोटी तो सभी खाते हैं लेकिन किसान के हक में कोई क्यों नहीं उठा रहा है?Roti To Sabhi Khate Hain Lekin Kisan Ke Hak Mein Koi Kyun Nahin Utha Raha Hai
MD NIZAM  ABBASI Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए MD जी का जवाब
NIPFS stroller
1:38
आएगा इसमें मेरी जान बसी वो कल एक्सपोर्ट मोटिवेशनल स्पीकर तो अब सवाल है कि रोटी तो सभी खाते हैं लेकिन किसानों के हक में कोई क्यों नहीं उठा रहा या उठ रहा सही है किसान के हित में उठ रहे हैं पर क्या करें भारत देश की मजबूरी ऐसी है कि यहां पर रोजगार ना होने के कारण थे सारे किसान आना नहीं हो पाएंगे इसका कारण है कि यूपी और बिहार और भी जिले में देखा जाए तो ज्यादा गरीबी है और इनकी संख्या भी ज्यादा भारत में 75% लोग ऐसे हैं जो बेरोजगार है और दूसरों से पैसा लेकर किसानी खेती किसानी करते हैं जिसकी वजह से वह रोज कट्ठा होते हैं शाम को पानी पीते हैं तो इसके लिए जो इकट्ठा हो पाते हैं वह होते हैं बाकी सब के अंदर जुनून है कि वह कुछ सपोर्ट करें तो भारत सरकार को भी सोचना चाहिए कि किसानों का यह बिल लाना ही नहीं चाहिए और हम भी कुछ नहीं कर सकते गाइस अगर जब तक युवा खड़ा नहीं होगा राजनीति में जब तक इस भारत का कुछ भी नहीं हो सकता राजा चुनरिया करके
Aaega isamen meree jaan basee vo kal eksaport motiveshanal speekar to ab savaal hai ki rotee to sabhee khaate hain lekin kisaanon ke hak mein koee kyon nahin utha raha ya uth raha sahee hai kisaan ke hit mein uth rahe hain par kya karen bhaarat desh kee majabooree aisee hai ki yahaan par rojagaar na hone ke kaaran the saare kisaan aana nahin ho paenge isaka kaaran hai ki yoopee aur bihaar aur bhee jile mein dekha jae to jyaada gareebee hai aur inakee sankhya bhee jyaada bhaarat mein 75% log aise hain jo berojagaar hai aur doosaron se paisa lekar kisaanee khetee kisaanee karate hain jisakee vajah se vah roj kattha hote hain shaam ko paanee peete hain to isake lie jo ikattha ho paate hain vah hote hain baakee sab ke andar junoon hai ki vah kuchh saport karen to bhaarat sarakaar ko bhee sochana chaahie ki kisaanon ka yah bil laana hee nahin chaahie aur ham bhee kuchh nahin kar sakate gais agar jab tak yuva khada nahin hoga raajaneeti mein jab tak is bhaarat ka kuchh bhee nahin ho sakata raaja chunariya karake

bolkar speaker
रोटी तो सभी खाते हैं लेकिन किसान के हक में कोई क्यों नहीं उठा रहा है?Roti To Sabhi Khate Hain Lekin Kisan Ke Hak Mein Koi Kyun Nahin Utha Raha Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:32
नमस्कार मेरे बोलकर परिवार के सभी मित्रों को आपके सवाल का उत्तर यह है कि हमारे देश कृषि प्रधान देश है जो हमारे देश के अन्नदाता जो सभी मानव जाति या जा मरो सभी का पेट भरते हैं जो आप भूखे प्यासे और सर्दी गर्मी में आना उसको पैदा करते हैं जो सभी का पेट बंदे हैं जो हमारी सरकार ने तीन काले कानून बनाए हैं जो हमारे किसानों पर थोपना चाहते हैं जिसका किसान विरोध कर रहे हैं तो उनके समर्थन में हमारे देश के जवान कलाकार खिलाड़ी विपक्षी पार्टी जो कांग्रेश अकाली दल आम आदमी पार्टी आरएलपी ने सभी किसानों के समर्थन में हैं लेकिन हमारी किसान आंदोलन को कमजोर करने के लिए हमारी सरकार भरपूर प्रयास कर रही है जो अपने कार्यकर्ताओं के मन की बात कर रहे हैं लेकिन हमारी मीडिया भी किसानों के साथ नहीं खड़ी है जो कुछ मीडिया किसानो की हक की लड़ाई को उठा रही है हमारे किसानों को आतंकवादी नक्सलवाद उमरा कई प्रकार से संबोधित कर रहे हैं लेकिन हमारे अन्नदाता भूखे पैसे और सर्दी में आंदोलन कर रहे हैं जो हमारे देश की आम जनता को किसानों का साथ देना चाहिए क्योंकि हमारे देश के अन्नदाता हैं जय जवान जय किसान जय भारत माता की
Namaskaar mere bolakar parivaar ke sabhee mitron ko aapake savaal ka uttar yah hai ki hamaare desh krshi pradhaan desh hai jo hamaare desh ke annadaata jo sabhee maanav jaati ya ja maro sabhee ka pet bharate hain jo aap bhookhe pyaase aur sardee garmee mein aana usako paida karate hain jo sabhee ka pet bande hain jo hamaaree sarakaar ne teen kaale kaanoon banae hain jo hamaare kisaanon par thopana chaahate hain jisaka kisaan virodh kar rahe hain to unake samarthan mein hamaare desh ke javaan kalaakaar khilaadee vipakshee paartee jo kaangresh akaalee dal aam aadamee paartee aarelapee ne sabhee kisaanon ke samarthan mein hain lekin hamaaree kisaan aandolan ko kamajor karane ke lie hamaaree sarakaar bharapoor prayaas kar rahee hai jo apane kaaryakartaon ke man kee baat kar rahe hain lekin hamaaree meediya bhee kisaanon ke saath nahin khadee hai jo kuchh meediya kisaano kee hak kee ladaee ko utha rahee hai hamaare kisaanon ko aatankavaadee naksalavaad umara kaee prakaar se sambodhit kar rahe hain lekin hamaare annadaata bhookhe paise aur sardee mein aandolan kar rahe hain jo hamaare desh kee aam janata ko kisaanon ka saath dena chaahie kyonki hamaare desh ke annadaata hain jay javaan jay kisaan jay bhaarat maata kee

bolkar speaker
रोटी तो सभी खाते हैं लेकिन किसान के हक में कोई क्यों नहीं उठा रहा है?Roti To Sabhi Khate Hain Lekin Kisan Ke Hak Mein Koi Kyun Nahin Utha Raha Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:24
की रोटी तो सभी खाते हैं लेकिन किसान के हक में कोई नहीं बातें उठा रहा है या कह रहा है तू देखी फ्रेंड ही बहुत हकीकत है पूरा देश बिना रोटी क्यों नहीं रखता बिना अनाज की नहीं लगता बिना खाना खाए बिना खाद्य पदार्थ के नहीं रखता फिर भी किसान के हक में इतना गलत हो रहा है बताओ कृषि कानून जो भी है वह तो अपने जैसा बातें हैं अडॉप्टेशन वाली बातें हैं तो यह चीज नहीं रहने की सरकार अगर हम जानते हैं कि स्वतंत्र भारत में हम रह रहे हैं तो सरकार को भी उसी भी है पर काम करना चाहिए जिससे कि हमें सुख मिले तब हमारे फायदे के लिए बात कर रही है तो हम अगर फायदा नहीं हम जानते हैं कि उसे हमारी नुकसान होगा तो वह चीजें क्यों लेंगे जैसे मैं आपसे एक प्रश्न कर रहा हूं कि जब आप जानते हैं जैसे घर में क्या होता है जब आपको ऐसा लगता है कि मुझे नुकसान होता है इस चीज से और आपके घरवाले पर है कि नहीं आपको ही करना ही करना है बल्ले से आपको कुछ भी हो जाओ छोटी हो जाओ चाय तो मर जाओ तो क्या आप करोगे नहीं करोगे क्योंकि आपको अपनी जिंदगी प्यारी है तो ठीक उसी प्रकार किसान की सबसे जो प्यारी चीज है उसकी फसल है वह फसल को बर्बाद नहीं कर सकती क्योंकि मेहनत कर रहे हैं वह पूरी जीवन उसमें अपना लगा देते कृषि में जो कृषि से ऊपर हुई चीजें ग्रुप से घाटे में अगर भेजें या उसको एक गलत तरीके से बिचौलियों के द्वारा बेचा जाए तो कहीं ना कहीं दिक्कत होगी और वही बात की जा वही बात की जाए कि हम कह रहे हैं मोदी जी की आप कहीं भी भेज सकते हम पहले नहीं भेजते थे पहले भी तो भेजते थे लेकिन हमें एक मिनिमम सपोर्ट प्राइस तो दे दो जिससे कि हम अपने अनाज को उठाएं और हम में हम से जो पूंजीपति लोग खरीद के ले जाए वह हमें मिनिमम प्राइस टुडे कर जाएं जिससे कि हम अपने परिवार के साथ साथ जो भी उस में खर्च हो रहा है जो भी लोगों को हम इंवॉल्व करें उन्हें तो उनका तो जीवन यापन कर सकें क्योंकि हर अनाज से नहीं होती कुछ चीजें होती है पैसे से हमें खरीदने पड़ते हमें मजदूर लाने पड़ते हमें मेहनत करने पड़ते हैं तो इसके लिए भी तो हमें पैसे चाहिए तो एकदम मिनिमम सपोर्ट प्राइस तो चाहिए चाहिए और किसान के हाथ में आने वाले समय में ही आंदोलन बहुत बड़ा हो जाएगा उग्र रूप लेगा
Kee rotee to sabhee khaate hain lekin kisaan ke hak mein koee nahin baaten utha raha hai ya kah raha hai too dekhee phrend hee bahut hakeekat hai poora desh bina rotee kyon nahin rakhata bina anaaj kee nahin lagata bina khaana khae bina khaady padaarth ke nahin rakhata phir bhee kisaan ke hak mein itana galat ho raha hai batao krshi kaanoon jo bhee hai vah to apane jaisa baaten hain adopteshan vaalee baaten hain to yah cheej nahin rahane kee sarakaar agar ham jaanate hain ki svatantr bhaarat mein ham rah rahe hain to sarakaar ko bhee usee bhee hai par kaam karana chaahie jisase ki hamen sukh mile tab hamaare phaayade ke lie baat kar rahee hai to ham agar phaayada nahin ham jaanate hain ki use hamaaree nukasaan hoga to vah cheejen kyon lenge jaise main aapase ek prashn kar raha hoon ki jab aap jaanate hain jaise ghar mein kya hota hai jab aapako aisa lagata hai ki mujhe nukasaan hota hai is cheej se aur aapake gharavaale par hai ki nahin aapako hee karana hee karana hai balle se aapako kuchh bhee ho jao chhotee ho jao chaay to mar jao to kya aap karoge nahin karoge kyonki aapako apanee jindagee pyaaree hai to theek usee prakaar kisaan kee sabase jo pyaaree cheej hai usakee phasal hai vah phasal ko barbaad nahin kar sakatee kyonki mehanat kar rahe hain vah pooree jeevan usamen apana laga dete krshi mein jo krshi se oopar huee cheejen grup se ghaate mein agar bhejen ya usako ek galat tareeke se bichauliyon ke dvaara becha jae to kaheen na kaheen dikkat hogee aur vahee baat kee ja vahee baat kee jae ki ham kah rahe hain modee jee kee aap kaheen bhee bhej sakate ham pahale nahin bhejate the pahale bhee to bhejate the lekin hamen ek minimam saport prais to de do jisase ki ham apane anaaj ko uthaen aur ham mein ham se jo poonjeepati log khareed ke le jae vah hamen minimam prais tude kar jaen jisase ki ham apane parivaar ke saath saath jo bhee us mein kharch ho raha hai jo bhee logon ko ham involv karen unhen to unaka to jeevan yaapan kar saken kyonki har anaaj se nahin hotee kuchh cheejen hotee hai paise se hamen khareedane padate hamen majadoor laane padate hamen mehanat karane padate hain to isake lie bhee to hamen paise chaahie to ekadam minimam saport prais to chaahie chaahie aur kisaan ke haath mein aane vaale samay mein hee aandolan bahut bada ho jaega ugr roop lega

bolkar speaker
रोटी तो सभी खाते हैं लेकिन किसान के हक में कोई क्यों नहीं उठा रहा है?Roti To Sabhi Khate Hain Lekin Kisan Ke Hak Mein Koi Kyun Nahin Utha Raha Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:56
बात आपकी सही रोटी सभी खाते हैं और समाज में पक्ष और विपक्ष दोनों तरह के लोग होते हैं यह होते हैं जो रोटी का हक अदा करना जानते हैं और एक होते हैं जो रोटी को कहा राम उनके दिमाग नहीं होता है कि हम रोटी अगर खाते हैं तो हम के साथ को पैसा भी तो देते हैं अरे पैसा तो तब तुम्हारा फलीभूत होगा जब खेत में दल्ला पैदा होगा अनाज पैदा हुआ जमाना जी ने पैदा हो तुम्हारा पैसा किस काम का होगा ऐसे जो दुष्कर्मी लोग हैं यह मतलब यह कि समझ लीजिए कि समाज के प्रति जो नेगेटिव सोच वाले लोग होते हैं उनको नहीं समझाया जा सकता है यही स्थिति सरकार की है सरकार पूंजीपतियों के दबाव में आकर किसानों के साथ जो आना चार कर रही है और इन बिलों को वापस नहीं कर रही उसके बहुत भीषण परिणाम होंगे और ऐसा नहीं है किसानों के साथ इस समय पूरे देश की जनता पूरे देश के संगठन लग गए जिसके लिए सरकार काफी उसमें चिंतित है और स्थित किसी भी करो बदल सकते हैं
Baat aapakee sahee rotee sabhee khaate hain aur samaaj mein paksh aur vipaksh donon tarah ke log hote hain yah hote hain jo rotee ka hak ada karana jaanate hain aur ek hote hain jo rotee ko kaha raam unake dimaag nahin hota hai ki ham rotee agar khaate hain to ham ke saath ko paisa bhee to dete hain are paisa to tab tumhaara phaleebhoot hoga jab khet mein dalla paida hoga anaaj paida hua jamaana jee ne paida ho tumhaara paisa kis kaam ka hoga aise jo dushkarmee log hain yah matalab yah ki samajh leejie ki samaaj ke prati jo negetiv soch vaale log hote hain unako nahin samajhaaya ja sakata hai yahee sthiti sarakaar kee hai sarakaar poonjeepatiyon ke dabaav mein aakar kisaanon ke saath jo aana chaar kar rahee hai aur in bilon ko vaapas nahin kar rahee usake bahut bheeshan parinaam honge aur aisa nahin hai kisaanon ke saath is samay poore desh kee janata poore desh ke sangathan lag gae jisake lie sarakaar kaaphee usamen chintit hai aur sthit kisee bhee karo badal sakate hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान के हक में कोई क्यों नहीं उठा रहा है किसान आंदोलन
URL copied to clipboard