#भारत की राजनीति

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:07
समझने का प्रयास करें सरकार का मतलब यह नहीं है कि आप सरकार को ही बेच आपकी इच्छा हो तो सरकार को भेजे आप पूछो तो मार्केट में भेजें जहां आपको भाग ज्यादा मिल रहा हूं वहां पीछे यह तो सब किसान के लिए फायदेमंद है अब यह दीगर बात है कि किसान इस बात को समझ नहीं पा रहा है क्योंकि किसान है जो तो समझ गए लेकिन किसान के बीच में पॉलीटिकल पार्टीज के जो बैठे हुए हैं वह लोग इसको समझने का प्रयास ही नहीं करना चाहते वे समझना नहीं चाहती क्योंकि मैं तो स्कूल जाना चाहते हैं क्योंकि उनका मेन उद्देश्य इस को बढ़ाना है सुलझाना नहीं है यदि सुलझाने का उद्देश्य होता यदि वह किसान होते तो निश्चित रूप से इस जाती क्योंकि आज के किसानों से बात करके देखो किशन इस बात का समर्थन किसान इस बात का समर्थन करते हैं जहां उनकी जो बिल है वो जनहितकारी हैं किसान हितकारी हैं लेकिन दुर्भाग्य इस बात का है कि पॉलीटिकल पार्टीज वाले इसको समझने नहीं देना चाहते हैं
Samajhane ka prayaas karen sarakaar ka matalab yah nahin hai ki aap sarakaar ko hee bech aapakee ichchha ho to sarakaar ko bheje aap poochho to maarket mein bhejen jahaan aapako bhaag jyaada mil raha hoon vahaan peechhe yah to sab kisaan ke lie phaayademand hai ab yah deegar baat hai ki kisaan is baat ko samajh nahin pa raha hai kyonki kisaan hai jo to samajh gae lekin kisaan ke beech mein poleetikal paarteej ke jo baithe hue hain vah log isako samajhane ka prayaas hee nahin karana chaahate ve samajhana nahin chaahatee kyonki main to skool jaana chaahate hain kyonki unaka men uddeshy is ko badhaana hai sulajhaana nahin hai yadi sulajhaane ka uddeshy hota yadi vah kisaan hote to nishchit roop se is jaatee kyonki aaj ke kisaanon se baat karake dekho kishan is baat ka samarthan kisaan is baat ka samarthan karate hain jahaan unakee jo bil hai vo janahitakaaree hain kisaan hitakaaree hain lekin durbhaagy is baat ka hai ki poleetikal paarteej vaale isako samajhane nahin dena chaahate hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान आंदोलन, किसान आंदोलन होने का कारण, किसान आंदोलन में सरकार का फैसला
URL copied to clipboard