#undefined

VIKRAM  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए VIKRAM जी का जवाब
Coach with entrepreneur mindset...sharing my experiences.
2:53
नमस्कार दोस्तों और सवाल है किसान की विडंबना यह है कि जब उसके पास फसल होती है तो रेट उसका कम होता है और जब उसके पास खत्म हो जाती है तो रेट बढ़ जाता है यह मुश्किल है यह परेशानी किसान के साथ ही नहीं अपितु सभी के साथ है दुनिया में यह रूल है और यह इसको हम लोग अगर आम भाषा में समझे तो सप्लाई और डिमांड का रूल है जब आप समझिए कि किसी एक गांव है एकदम पर मैं देता हूं किसी एक गांव का एक गांव में 1 दिन में 100 किलो माल लीजिए के मटर की खपत है अब अचानक से क्या होता है उस गांव की छोटी से मंडी में 100 किलो के जगह 500 किलोमीटर आता है तो मटर अगर पहले ₹20 बिक रहा था सप्लाई वहां पर 5 गुना आ गया तो मटर हो सकता है ₹5 ₹4 बिना भी डिमांड और सप्लाई एक दूसरे पर निर्भर हैं जैसे-जैसे डिमांड घटेगी क्योंकि सप्लाई अगर कम हो जाएगी तो आप समझिए कि हम ऐसे समझ सके अगर वहां 100 की जगह 50 सप्लाई हो रेट 20 की जगह 40 सकता था बजे से सप्लाई बढ़ेगी तो ऑटोमेटेकली आपका रेट घट जाएगा तो यह इसके लिए हुआ अप्लिकेयर बल आपको मैं एक और उदाहरण देता हूं हवाई जहाज आप देखते होंगे कि जब आप लेने जाते हैं टिकट टिकट का दाम पर ले कम रहता है जैसे-जैसे आखिरी दिन आता है जिसे डिमांड बढ़ जाता है वही टिकट जो पहले 5000 का मिल रहा था हो सकता है आपको ₹15000 पूरी दुनिया इस ग्रुप में चलती है अब इसका सलूशन क्या सलूशन यह है अगर आप लॉन्ग टर्म सोचे वैसे आपको मैं उदाहरण देख कर बताऊंगा 75 साल होने आए हमारे देश की आजादी को भंडारण यह आपका सकते हैं स्टोरेज की क्षमता हमारे पास है वह बहुत ही खराब है यानी कि सभी लोगों ने फसल उगाने और बाकी सब में तो बहुत दिमाग लगाया स्टोरेज में गवर्नमेंट ने बिल्कुल ध्यान नहीं दिया आपने पता करने जाएंगे आपके 10 किलोमीटर 20 किलोमीटर किस शहर में कहीं भी आप देखेंगे एक प्रॉपर कोल्ड स्टोरेज बोलेंगे तो आपको ढूंढने में तकलीफ होगी ऑल इंडिया में जो हमारे पास एक्चुअल कैपेसिटी होनी चाहिए उसका दस परसेंट भी स्टोरेज सेंटर नहीं है जिसको हम लोग कोल्ड स्टोरेज सेंटर बोलते हैं तो आप इससे समझ सकते हैं कि हम स्टोर नहीं कर पाएंगे वह माल आप जानते हैं कि वह डीकंपोजेबल आया न खराब होने वाला प्रोडक्ट है फल सब्जी दूध जैसी चीज है और जो भी आप समझ सकते हैं तो वह क्या हुआ खराब हो जाएगा आप समझ कभी देखते होंगे कि चावल खराब हो गया बोरियों में रखा रखा पानी लग गया तो हमारे पास सलूशन यह है कि हम स्टोरेज करें स्टोरेज करें और स्टोरेज अगर नहीं करेंगे तो सभी किसान एक ही फल उग आएंगे एक ही सब जो कहेंगे वह बहुतायत में हो जाएगा बाद में को खराब हो जाएगा तो हमें ध्यान देना है स्टोरेज के ऊपर स्टोरेज की क्या पति बढ़ानी है तो एक लगाना है जिससे हम सही समय पर सही दाम ले पाए धन्यवाद
Namaskaar doston aur savaal hai kisaan kee vidambana yah hai ki jab usake paas phasal hotee hai to ret usaka kam hota hai aur jab usake paas khatm ho jaatee hai to ret badh jaata hai yah mushkil hai yah pareshaanee kisaan ke saath hee nahin apitu sabhee ke saath hai duniya mein yah rool hai aur yah isako ham log agar aam bhaasha mein samajhe to saplaee aur dimaand ka rool hai jab aap samajhie ki kisee ek gaanv hai ekadam par main deta hoon kisee ek gaanv ka ek gaanv mein 1 din mein 100 kilo maal leejie ke matar kee khapat hai ab achaanak se kya hota hai us gaanv kee chhotee se mandee mein 100 kilo ke jagah 500 kilomeetar aata hai to matar agar pahale ₹20 bik raha tha saplaee vahaan par 5 guna aa gaya to matar ho sakata hai ₹5 ₹4 bina bhee dimaand aur saplaee ek doosare par nirbhar hain jaise-jaise dimaand ghategee kyonki saplaee agar kam ho jaegee to aap samajhie ki ham aise samajh sake agar vahaan 100 kee jagah 50 saplaee ho ret 20 kee jagah 40 sakata tha baje se saplaee badhegee to otometekalee aapaka ret ghat jaega to yah isake lie hua aplikeyar bal aapako main ek aur udaaharan deta hoon havaee jahaaj aap dekhate honge ki jab aap lene jaate hain tikat tikat ka daam par le kam rahata hai jaise-jaise aakhiree din aata hai jise dimaand badh jaata hai vahee tikat jo pahale 5000 ka mil raha tha ho sakata hai aapako ₹15000 pooree duniya is grup mein chalatee hai ab isaka salooshan kya salooshan yah hai agar aap long tarm soche vaise aapako main udaaharan dekh kar bataoonga 75 saal hone aae hamaare desh kee aajaadee ko bhandaaran yah aapaka sakate hain storej kee kshamata hamaare paas hai vah bahut hee kharaab hai yaanee ki sabhee logon ne phasal ugaane aur baakee sab mein to bahut dimaag lagaaya storej mein gavarnament ne bilkul dhyaan nahin diya aapane pata karane jaenge aapake 10 kilomeetar 20 kilomeetar kis shahar mein kaheen bhee aap dekhenge ek propar kold storej bolenge to aapako dhoondhane mein takaleeph hogee ol indiya mein jo hamaare paas ekchual kaipesitee honee chaahie usaka das parasent bhee storej sentar nahin hai jisako ham log kold storej sentar bolate hain to aap isase samajh sakate hain ki ham stor nahin kar paenge vah maal aap jaanate hain ki vah deekampojebal aaya na kharaab hone vaala prodakt hai phal sabjee doodh jaisee cheej hai aur jo bhee aap samajh sakate hain to vah kya hua kharaab ho jaega aap samajh kabhee dekhate honge ki chaaval kharaab ho gaya boriyon mein rakha rakha paanee lag gaya to hamaare paas salooshan yah hai ki ham storej karen storej karen aur storej agar nahin karenge to sabhee kisaan ek hee phal ug aaenge ek hee sab jo kahenge vah bahutaayat mein ho jaega baad mein ko kharaab ho jaega to hamen dhyaan dena hai storej ke oopar storej kee kya pati badhaanee hai to ek lagaana hai jisase ham sahee samay par sahee daam le pae dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान विरोधी बिल किसान की विडंबना
URL copied to clipboard