#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

पुरुष महिला को अबला समझते हैं पर महिलाएं अपने को सबला समझते हैं ऐसा क्यों?

Purush Mahila Ko Abla Samajhte Hain Par Mahilaye Apne Ko Sabla Samajhte Hain Aisa Kyun
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:19
महिला को ब्लैकमेल आलम को समझता कि महिलाओं ने बात की पहचान नहीं होती है कि मैं एक समलंब तो वो अपने आप को खुद को भुला ही समझती है जैसे कि एक विद्यार्थी जो है इस स्कूल में पढ़ने जाते हैं उनके अंदर से कुछ विद्यमान रहता है उनकी पहचान कराने वाला उन्हें बताने वाला समझाने वाला गुरु होता है और उनकी पहचान करवाता है उन्हें समझाता है तब यूज करने का मन पढ़ाई में लगता है और वह एक आगे चलकर भविष्य में कुछ बड़ा काम करते हो कुछ बन कर दिखा दे तो ठीक उसी प्रकार से एक इंसान चाहिए होता है जो कि उस महिला को समझाए कि आप की नहीं बोलना और आप कहती है कि आपको आप खुद के पैरों पर खड़ी हो सकती है और आप कुछ भी कर सकते हैं इस महिला को समझ में आता है कि मैं भी कुछ कर सकती हूं और मैं भी कुछ बन सकती हूं तबला तबला जाता है
Mahila ko blaikamel aalam ko samajhata ki mahilaon ne baat kee pahachaan nahin hotee hai ki main ek samalamb to vo apane aap ko khud ko bhula hee samajhatee hai jaise ki ek vidyaarthee jo hai is skool mein padhane jaate hain unake andar se kuchh vidyamaan rahata hai unakee pahachaan karaane vaala unhen bataane vaala samajhaane vaala guru hota hai aur unakee pahachaan karavaata hai unhen samajhaata hai tab yooj karane ka man padhaee mein lagata hai aur vah ek aage chalakar bhavishy mein kuchh bada kaam karate ho kuchh ban kar dikha de to theek usee prakaar se ek insaan chaahie hota hai jo ki us mahila ko samajhae ki aap kee nahin bolana aur aap kahatee hai ki aapako aap khud ke pairon par khadee ho sakatee hai aur aap kuchh bhee kar sakate hain is mahila ko samajh mein aata hai ki main bhee kuchh kar sakatee hoon aur main bhee kuchh ban sakatee hoon tabala tabala jaata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • अबला नारी सबला नारी
URL copied to clipboard