#भारत की राजनीति

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:22
अगर आप भारत के प्रधानमंत्री होते तो दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन को किस तरह संभालते हैं किसान आंदोलन बहुत भीषण रूप लेता जा रहा है सरकार समझौता करने को तैयार नहीं है और किसान भी मानने को तैयार नहीं है जब किसी बिल से यह किसी ऑर्डिनेंस से जनता को मतलब उसे भुक्तभोगी को जब व्यक्तिगत तौर पर नुकसान और उसका भविष्य अंधकार में हो जाता है तभी ऐसी परिस्थितियां आती सरकार किसानों के पक्ष में कोई बात नहीं करना चाहती उसका मंथन कीजिए मंथन करने से आपको पता चलेगा किसानों को उसमें क्या-क्या नुकसान है किसानों का भविष्य अंधकार में होगा जो परिस्थितियां उस में तय की गई हैं उसमें मंडी आगे चलकर के बंद हो सकती हैं और किसान पूंजी पतियों यह जमाखोरों के चंगुल में फंस कर के बहुत दूर हुई स्ट्रीट भी आ सकता है इसलिए किसान उसको मानने को तैयार नहीं आए ऐसी स्थिति में सरकार को चाहिए कि दोनों के बीच की बात को संभालते हुए उस पर एक वार्ता करवाए संसद में और तब तक के लिए ही इस को सस्पेंड कर देना चाहिए तीनों ब्लॉक और मैं भी यही करता अगर होता तो
Agar aap bhaarat ke pradhaanamantree hote to dillee mein chal rahe kisaan aandolan ko kis tarah sambhaalate hain kisaan aandolan bahut bheeshan roop leta ja raha hai sarakaar samajhauta karane ko taiyaar nahin hai aur kisaan bhee maanane ko taiyaar nahin hai jab kisee bil se yah kisee ordinens se janata ko matalab use bhuktabhogee ko jab vyaktigat taur par nukasaan aur usaka bhavishy andhakaar mein ho jaata hai tabhee aisee paristhitiyaan aatee sarakaar kisaanon ke paksh mein koee baat nahin karana chaahatee usaka manthan keejie manthan karane se aapako pata chalega kisaanon ko usamen kya-kya nukasaan hai kisaanon ka bhavishy andhakaar mein hoga jo paristhitiyaan us mein tay kee gaee hain usamen mandee aage chalakar ke band ho sakatee hain aur kisaan poonjee patiyon yah jamaakhoron ke changul mein phans kar ke bahut door huee street bhee aa sakata hai isalie kisaan usako maanane ko taiyaar nahin aae aisee sthiti mein sarakaar ko chaahie ki donon ke beech kee baat ko sambhaalate hue us par ek vaarta karavae sansad mein aur tab tak ke lie hee is ko saspend kar dena chaahie teenon blok aur main bhee yahee karata agar hota to

और जवाब सुनें

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:24
हेलो दोस्तों स्वागत है आपका दोस्तों आपका सवाल है अगर आप भारत के प्रधानमंत्री होते तो दिल्ली में चल रहा है किसान आंदोलन को किस तरह से संभालते दोस्तों जैसे मोदी जी किसान आंदोलन को संभाल रही है बात कर रही हैं किसानों से और निशान तो ना दे रहे हैं कि मैं आपकी मांगे पूरी करेंगे बस वैसे ही हम भी करते तो दोस्तों जवाब अच्छे लगे तो प्लीज लाइक करें धन्यवाद
Helo doston svaagat hai aapaka doston aapaka savaal hai agar aap bhaarat ke pradhaanamantree hote to dillee mein chal raha hai kisaan aandolan ko kis tarah se sambhaalate doston jaise modee jee kisaan aandolan ko sambhaal rahee hai baat kar rahee hain kisaanon se aur nishaan to na de rahe hain ki main aapakee maange pooree karenge bas vaise hee ham bhee karate to doston javaab achchhe lage to pleej laik karen dhanyavaad

vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
1:08
सेक्सी पिक्चर पेश किया कि स्लीपर बस बढ़िया है तू दिल्ली में चल रहा है किसी तरह कुर्सी बोले अच्छा है तो दिमाग लगाया करो कि मैं चला चला के प्रोग्राम की कुछ हटके उनकी फागुन में जो भी हमारे द्वारा पारित किया गया संशोधन करके उसकी सारी बातें मानते हैं तत्पश्चात आप जैसा चाहेंगे वैसा हुआ मुझे आपकी मां ने बोला कि आएंगे उसके बाद में मोबाइल द्वारा से फिर बाद में मैं आई
Seksee pikchar pesh kiya ki sleepar bas badhiya hai too dillee mein chal raha hai kisee tarah kursee bole achchha hai to dimaag lagaaya karo ki main chala chala ke prograam kee kuchh hatake unakee phaagun mein jo bhee hamaare dvaara paarit kiya gaya sanshodhan karake usakee saaree baaten maanate hain tatpashchaat aap jaisa chaahenge vaisa hua mujhe aapakee maan ne bola ki aaenge usake baad mein mobail dvaara se phir baad mein main aaee

umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
1:19
आपका सवाल है कि आप भारत के प्रधानमंत्री होते तो दिल्ली में चल रहा है किसान आंदोलन को किस तरह से संभालते मैं बता दूं कि अपने देश की रीढ़ की हड्डी किसान ने अपने देश की रीड की हड्डी किसान जैसे हमारे शरीर को चलाने के लिए रीढ़ की हड्डी का अहम भूमिका होता है वैसे ही किसान की भूमिका हमारे देश को चलाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण भूमिका है किसानों की किसान हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण है वह अन्नदाता है उसके बिना देश की कल्पना करना व्यर्थ है देश उसकी मेहनत से चलता है वह अनूप जाता है तो उसे हम लोगों का पेट भरता है और हमारा देश कृषि प्रधान देश है यहां के किसानों की खबर नहीं सुनी जा रही है तो यह बहुत बड़ी विडंबना है हमारे देश की यह किसानों को उनके हक के लिए मरा जा रहा है मैं होता तुम्हें किसानों के पक्ष में ही कोई भी कार्यकर्ता किसानों को वितरित करने का मतलब है कि देश को पीछे की तरफ धकेल ना भैंस के दिल को चोट पहुंचाना
Aapaka savaal hai ki aap bhaarat ke pradhaanamantree hote to dillee mein chal raha hai kisaan aandolan ko kis tarah se sambhaalate main bata doon ki apane desh kee reedh kee haddee kisaan ne apane desh kee reed kee haddee kisaan jaise hamaare shareer ko chalaane ke lie reedh kee haddee ka aham bhoomika hota hai vaise hee kisaan kee bhoomika hamaare desh ko chalaane ke lie sabase mahatvapoorn bhoomika hai kisaanon kee kisaan hamaare lie sabase mahatvapoorn hai vah annadaata hai usake bina desh kee kalpana karana vyarth hai desh usakee mehanat se chalata hai vah anoop jaata hai to use ham logon ka pet bharata hai aur hamaara desh krshi pradhaan desh hai yahaan ke kisaanon kee khabar nahin sunee ja rahee hai to yah bahut badee vidambana hai hamaare desh kee yah kisaanon ko unake hak ke lie mara ja raha hai main hota tumhen kisaanon ke paksh mein hee koee bhee kaaryakarta kisaanon ko vitarit karane ka matalab hai ki desh ko peechhe kee taraph dhakel na bhains ke dil ko chot pahunchaana

Ashish Lavania Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Ashish जी का जवाब
Yoga Instructor
1:08
अगर आप भारत के प्रधानमंत्री होते तो दिल्ली में चल रही है ना नंदनी को किस तरह संभाल तरीके से आंदोलन नहीं है मैं फिर क्या क्या कमेंट है वह चल रहा है कुछ बातें दिल में समझने वाली है जो कि देखिए अब दूर की जाए जिसका पानी वाला बिजली वाला उनका शोषण हुआ पर बात करेंगे तो इसमें सॉल्व होगा अगर आप यह बात लेकर बैठ जाए कि नहीं हमें करना ही नहीं है तो आगे की कोई प्रॉब्लम ही नहीं है कि वही सिंपल सी बात है आप भी इनकम टैक्स भरते होंगे या नहीं भरते अगर आप इंटर इनकम टैक्स को कभी भरने की कोशिश करेंगे तब आपको मालूम पड़ेगा कि इनकम टैक्स कितना कठिन होता है इनकम इनकम अगर हमें भी समझ में नहीं आता क्या है वह तो सही जानता है तो क्या हम भी इस पर प्रोटेस्ट कर सकते हैं हम समझने की कोशिश करेंगे अगर कोई समझाएगा यह कहेंगे कि नहीं से वापस ले लो तो अभी जो कमेंट संभाल रही संभाल रही है कुछ एक्सपेरिमेंट हो रहे हैं कि आगे जो मुद्दे आने वाले हैं जो बिल पास होने वाले उनको कैसे वापस लिया जा सकता है अगर यह आंदोलन सफल होता है तो हम और कैसे आंदोलन करके बाकी जो अभी यूनिवर्सल सिविल कोर्ट का यूनिवर्सल सिविल कोर्ट का जो आ रहा है इसके अलावा पोलूशन पापुलेशन कंट्रोल का है उसके लिए
Agar aap bhaarat ke pradhaanamantree hote to dillee mein chal rahee hai na nandanee ko kis tarah sambhaal tareeke se aandolan nahin hai main phir kya kya kament hai vah chal raha hai kuchh baaten dil mein samajhane vaalee hai jo ki dekhie ab door kee jae jisaka paanee vaala bijalee vaala unaka shoshan hua par baat karenge to isamen solv hoga agar aap yah baat lekar baith jae ki nahin hamen karana hee nahin hai to aage kee koee problam hee nahin hai ki vahee simpal see baat hai aap bhee inakam taiks bharate honge ya nahin bharate agar aap intar inakam taiks ko kabhee bharane kee koshish karenge tab aapako maaloom padega ki inakam taiks kitana kathin hota hai inakam inakam agar hamen bhee samajh mein nahin aata kya hai vah to sahee jaanata hai to kya ham bhee is par protest kar sakate hain ham samajhane kee koshish karenge agar koee samajhaega yah kahenge ki nahin se vaapas le lo to abhee jo kament sambhaal rahee sambhaal rahee hai kuchh eksaperiment ho rahe hain ki aage jo mudde aane vaale hain jo bil paas hone vaale unako kaise vaapas liya ja sakata hai agar yah aandolan saphal hota hai to ham aur kaise aandolan karake baakee jo abhee yoonivarsal sivil kort ka yoonivarsal sivil kort ka jo aa raha hai isake alaava polooshan paapuleshan kantrol ka hai usake lie

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
2:06
अगर आप भारत के प्रधानमंत्री होते तो दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन को कैसे संभालते हैं पहले तो मैं इस विषय में कोई राजनीति नहीं करता और अपनी पार्टी की जहां पर सरकारें हैं वहां पर उनका उपयोग करके भापुरा आंदोलन जो है वह दबाने की कोशिश ना करता पूरे देश के जनप्रतिनिधियों को ब्लॉक करूं किस बाबा जो बातें हैं चाहे वह किसी भी राज्य से हो किसी भी धर्म से हो किसी भी कास्ट से हो उनकी बातें समझ में ले लेता और पहले इस बिल पर जाऊं संसद में चर्चा करता हूं और अगर इस देश की विशेष किसानों की मैच्योरिटी अगर इस बिल के खिलाफ होती ऐसा मुझे अंदाजा होता या गुप्त चलो से ऐसे रिपोर्ट साथी तुम्हें दिल्ली में किस जगह चल रहे किसान आंदोलन में किसानों का पक्ष लेते हुए सनकी मांगे पूरी करता यह निश्चित रूप से करता धन्यवाद
Agar aap bhaarat ke pradhaanamantree hote to dillee mein chal rahe kisaan aandolan ko kaise sambhaalate hain pahale to main is vishay mein koee raajaneeti nahin karata aur apanee paartee kee jahaan par sarakaaren hain vahaan par unaka upayog karake bhaapura aandolan jo hai vah dabaane kee koshish na karata poore desh ke janapratinidhiyon ko blok karoon kis baaba jo baaten hain chaahe vah kisee bhee raajy se ho kisee bhee dharm se ho kisee bhee kaast se ho unakee baaten samajh mein le leta aur pahale is bil par jaoon sansad mein charcha karata hoon aur agar is desh kee vishesh kisaanon kee maichyoritee agar is bil ke khilaaph hotee aisa mujhe andaaja hota ya gupt chalo se aise riport saathee tumhen dillee mein kis jagah chal rahe kisaan aandolan mein kisaanon ka paksh lete hue sanakee maange pooree karata yah nishchit roop se karata dhanyavaad

ABHAI PRATAP SINGH Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ABHAI जी का जवाब
teacher
1:36
आपने पसंद किया है अगर आप भारत के प्रधानमंत्री होते तो दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन को किस तरह से संभालते हैं देखिए चाय मैं भारत का प्रधानमंत्री होता है या कोई और या मोदी जी हैं मेरे विचार से किसी भी आंदोलन को दबाने का प्रयास करना उचित नहीं है इसके लिए सबसे अच्छा उपाय यही है कि किसानों की चुनिंदा नेताओं के साथ भारत सरकार की चुने हुए प्रतिनिधि साथ में बैठे और एक का मनसन एजेंडा लाए एक आपसी सहमत से विचार-विमर्श करके बातचीत करके उसका हल निकालने यही एक उपाय और कोई भी नियम बिना समझे बिना अगले के लिए उचित नहीं कहा जा सकता है तो मेरे विचार से इसका सबसे अच्छा उपाय यही है कि आपस में बैठकर और विचार विमर्श कर किसी को फॉलो किया जाए धन्यवाद
Aapane pasand kiya hai agar aap bhaarat ke pradhaanamantree hote to dillee mein chal rahe kisaan aandolan ko kis tarah se sambhaalate hain dekhie chaay main bhaarat ka pradhaanamantree hota hai ya koee aur ya modee jee hain mere vichaar se kisee bhee aandolan ko dabaane ka prayaas karana uchit nahin hai isake lie sabase achchha upaay yahee hai ki kisaanon kee chuninda netaon ke saath bhaarat sarakaar kee chune hue pratinidhi saath mein baithe aur ek ka manasan ejenda lae ek aapasee sahamat se vichaar-vimarsh karake baatacheet karake usaka hal nikaalane yahee ek upaay aur koee bhee niyam bina samajhe bina agale ke lie uchit nahin kaha ja sakata hai to mere vichaar se isaka sabase achchha upaay yahee hai ki aapas mein baithakar aur vichaar vimarsh kar kisee ko pholo kiya jae dhanyavaad

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:30
नमस्कार मैं होटल लोकेशन आफ सुन टेंपल कर एप्लीकेशन पर मुझे अगर मैं भारत का प्रधानमंत्री होता तो मैं इस किसान आंदोलन में किसानों से पूछता है कि आप क्या चाहते हैं क्या परिवर्तन करना चाहते हैं उनकी समस्याओं को नोट कर लेता या उनके दो प्रमुख नेता है उनसे कहता कि आप बताइए किस किस प्रकार से समाधान होना चाहिए फिर उन पर विचार होता और फिर उसी हिसाब से उस कानून में बदलाव कर दिया जाता कि ना
Namaskaar main hotal lokeshan aaph sun tempal kar epleekeshan par mujhe agar main bhaarat ka pradhaanamantree hota to main is kisaan aandolan mein kisaanon se poochhata hai ki aap kya chaahate hain kya parivartan karana chaahate hain unakee samasyaon ko not kar leta ya unake do pramukh neta hai unase kahata ki aap bataie kis kis prakaar se samaadhaan hona chaahie phir un par vichaar hota aur phir usee hisaab se us kaanoon mein badalaav kar diya jaata ki na

anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
1:44
मत के अनुसार अगर मैं भारत का प्रधानमंत्री होता तो मैं जब फिर आंदोलन शुरू हुआ था उसी वक्त में उनका फैसला कर देता हूं लेकिन यह मेरे हाथ में नहीं आती लेकिन मैं एक बात कहना चाहता हूं जिससे किसान का माध्यम खाते हैं वह किसान कितना दुख परेशानी से उबर कर खेती बाड़ी करता है कितना ज्यादा में कितना तड़पता है कितना परेशान होता है यह आप हम लोगों को नहीं पता लेकिन किसान ही जानता है कि वह अपने परिवार का पालन पोषण कैसे करता अनाज उपज अनाथ को उपजाऊ कैसे बनाता है इसलिए जो भी फैसला करना जब प्रधानमंत्री बना दिया होता तो मैं फैसला सबसे पहले करता क्योंकि किसान किसान लाए तो खेत में और खेत नहीं तो 9 दिन हम आज नहीं तो जीवन नहीं इसलिए किसान के लिए खेती भी जरूरी है और किसान का होना भी जरूरी है और हमारे लोगों का होना भी जरूरी है लेकिन हमारा धोना जरूरी इसलिए उनका साथ देवें किसानों का फसाना के किसानों का साथ ना दे किसानों का साथ ना दे वह कोई इंसान नहीं है वह किसी काम का नहीं है किसानों की सहायता करनी चाहिए चाहे वह अच्छी प्रस्तुति में हो चाहे पूरी परिस्थिति में हो
Mat ke anusaar agar main bhaarat ka pradhaanamantree hota to main jab phir aandolan shuroo hua tha usee vakt mein unaka phaisala kar deta hoon lekin yah mere haath mein nahin aatee lekin main ek baat kahana chaahata hoon jisase kisaan ka maadhyam khaate hain vah kisaan kitana dukh pareshaanee se ubar kar khetee baadee karata hai kitana jyaada mein kitana tadapata hai kitana pareshaan hota hai yah aap ham logon ko nahin pata lekin kisaan hee jaanata hai ki vah apane parivaar ka paalan poshan kaise karata anaaj upaj anaath ko upajaoo kaise banaata hai isalie jo bhee phaisala karana jab pradhaanamantree bana diya hota to main phaisala sabase pahale karata kyonki kisaan kisaan lae to khet mein aur khet nahin to 9 din ham aaj nahin to jeevan nahin isalie kisaan ke lie khetee bhee jarooree hai aur kisaan ka hona bhee jarooree hai aur hamaare logon ka hona bhee jarooree hai lekin hamaara dhona jarooree isalie unaka saath deven kisaanon ka phasaana ke kisaanon ka saath na de kisaanon ka saath na de vah koee insaan nahin hai vah kisee kaam ka nahin hai kisaanon kee sahaayata karanee chaahie chaahe vah achchhee prastuti mein ho chaahe pooree paristhiti mein ho

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारत के प्रधानमंत्री किसान आंदोलन
URL copied to clipboard