#जीवन शैली

bolkar speaker

क्या बहू को बहू की तरह रखना चाहिए या बेटी की तरह आपके क्या विचार है?

Kya Bahu Ko Bahu Ki Tarah Rakhna Chahiye Ya Beti Ki Tarah Aapke Kya Vichaar Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
2:37
है क्या बहू को बहू की तरह रखना चाहिए या बेटी की तरह आपके क्या विचार हैं तो बहु बहु बनके ही रहना चाहिए बेटी की तरह नहीं हो सकती हो क्योंकि उन्हें अपने मायके का ध्यान रखना है तब से भी उनके मां-बाप भाई-बहन होते हैं आज सफर की तो वह कदर ही नहीं करते हैं तो बेटी होती है बहू बहू होती है और हम अपने फोन पर विश्वास करते हैं कि हमने इस प्रकार से कथाएं और अध्ययन किया है कि मैंने भी अपनी बहू को बहुत पढ़ाया लिखाया है बहू को भी लेकर आया है गरीब घर की होती है तो हमने उल्टा पैसा देकर शादी की है जबकि मैं 10 20 लाख की भी बिना सकता था पर गुड नाइट मैंने बहू को शादी की है निर्मल एमएनके और बच्चे के लिए कपड़े नहीं खरीदे पांचों बहू है कि पढ़ाया लिखाया रियली ऐड कराया बस तू उसको कभी नहीं कार्य अच्छे लगते हैं वह अपने मां-बाप के लिए जोड़ रही है बाबू आती है जो लड़की को और बेकार की बात से अलग कर देती है वहां से अलग कर देती है जो मैंने एक से कर देखना है कितनी लड़कियां हैं वह अपने पति को अपने बस में करना चाहती हैं उनके मां-बाप की सीट से यही होती है इसलिए बहू को बहू की तरह ही समझना चाहिए और बेटी को बेटी तो बेटी है भालू पुराने घर में दुखी है तो क्या हम उसको मदद नहीं करेंगे तो लड़की है लड़की के में ध्यान रखना पड़ता है लड़की कहीं भी रहें और हमारे घर का ध्यान रखता है मां-बाप का ध्यान रहता है क्योंकि जहां तक कंफर्म है व्हाट इज माय बेटी ही मां-बाप का ध्यान रखती है पानी देती है लड़का तो अधूरा छोड़ कर भाग जाता है अपने बच्चों को पढ़ने के समय में खोया रहता है तो निस्वार्थ प्रेम करती है बेटी बेटी दोनों का संभालती है एक तो पिता का भी और दूसरा बंगाली बेटियां बेटियां हैं बहुओं कभी नहीं हो सकती तुम किधर
Hai kya bahoo ko bahoo kee tarah rakhana chaahie ya betee kee tarah aapake kya vichaar hain to bahu bahu banake hee rahana chaahie betee kee tarah nahin ho sakatee ho kyonki unhen apane maayake ka dhyaan rakhana hai tab se bhee unake maan-baap bhaee-bahan hote hain aaj saphar kee to vah kadar hee nahin karate hain to betee hotee hai bahoo bahoo hotee hai aur ham apane phon par vishvaas karate hain ki hamane is prakaar se kathaen aur adhyayan kiya hai ki mainne bhee apanee bahoo ko bahut padhaaya likhaaya hai bahoo ko bhee lekar aaya hai gareeb ghar kee hotee hai to hamane ulta paisa dekar shaadee kee hai jabaki main 10 20 laakh kee bhee bina sakata tha par gud nait mainne bahoo ko shaadee kee hai nirmal emenake aur bachche ke lie kapade nahin khareede paanchon bahoo hai ki padhaaya likhaaya riyalee aid karaaya bas too usako kabhee nahin kaary achchhe lagate hain vah apane maan-baap ke lie jod rahee hai baaboo aatee hai jo ladakee ko aur bekaar kee baat se alag kar detee hai vahaan se alag kar detee hai jo mainne ek se kar dekhana hai kitanee ladakiyaan hain vah apane pati ko apane bas mein karana chaahatee hain unake maan-baap kee seet se yahee hotee hai isalie bahoo ko bahoo kee tarah hee samajhana chaahie aur betee ko betee to betee hai bhaaloo puraane ghar mein dukhee hai to kya ham usako madad nahin karenge to ladakee hai ladakee ke mein dhyaan rakhana padata hai ladakee kaheen bhee rahen aur hamaare ghar ka dhyaan rakhata hai maan-baap ka dhyaan rahata hai kyonki jahaan tak kampharm hai vhaat ij maay betee hee maan-baap ka dhyaan rakhatee hai paanee detee hai ladaka to adhoora chhod kar bhaag jaata hai apane bachchon ko padhane ke samay mein khoya rahata hai to nisvaarth prem karatee hai betee betee donon ka sambhaalatee hai ek to pita ka bhee aur doosara bangaalee betiyaan betiyaan hain bahuon kabhee nahin ho sakatee tum kidhar

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या बहू को बहू की तरह रखना चाहिए या बेटी की तरह आपके क्या विचार है?Kya Bahu Ko Bahu Ki Tarah Rakhna Chahiye Ya Beti Ki Tarah Aapke Kya Vichaar Hai
neelam mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए neelam जी का जवाब
Medical care
4:04
गुड इवनिंग अब समय मिला मुझको बोल सकते दोस्तों एक मित्र ने सवाल किया है कि क्या बहू को बहू की तरह रखना चाहिए या बेटी की तरह आपके क्या विचार है तो दोस्तों बहू को बहू की तरह का बेटी की तरह किसी तरह से रखो बट उस को सम्मान दो उसको थोड़ा सा प्यार दो क्योंकि वह अपना मां-बाप सब कुछ छोड़ कर जब हम बेटियां ससुराल जाती है तो बस इतना उम्मीद करते हैं कि जितना हम करते हैं जो हम उस परिवार के लिए कर रहे हैं आज इतना प्रेम हम सबके लिए लेके जान हम वही प्रेम मोहब्बत हमें मिले हमें बेटी बनने का शौक नहीं होता है कि हम जाकर क्योंकि चाहे कुछ भी कर ले कोई अपनी मां के जैसा प्यार कोई नहीं दुनिया में कर सकता यह सच है यह सत्य है कि लोग कह सकते हैं कि मैं मामले की तरह मानती हूं पर बेटी की तरह से बीमार व्यक्ति दूसरे मेहंदी के उन पर इतना चाहिए कि एक बेटी जब ससुराल जाती है कुछ को वह सम्मान मिले जो वह सामान लेकर दूसरों के लिए जाती है ऐसा नहीं है कि कुछ कुछ लड़कियां ऐसी होती है जो जाती है तो वह ससुराल में वह सच को सांसो में नहीं समझती हैं या किसी का सम्मान नहीं करती है बट अगर यहां पर पूछा गया है बहू को बहू की तरह रखा जाए साथ या बेटी की तरह से दोस्तों बहू बहू की तरह रखो ना बेटी की तरह उसे सिर्फ इंसान की तरह रखो अपने घर में कि उसको व सम्मान दो वह प्यार दो जिसकी वह हकदार है तो इतने में ही है वह सारे परिवार की खुशियों को अपने हाथों से जो कि रखेगी और एक बेटी जब ससुराल जाती है तो वह ससुराल में अपने साथ अपने पति के लिए अपनी सासू मां सरस्वती के लिए या और जो भी ना कल के भाई-बहन होते हैं उनकी भी बहुत सारे सम्मान और प्यार लेकर जाता और उनसे मिलने लगता है तो उसका ही टूट जाता है और वह कुछ नहीं कर पाती है और न होती है नई परवरिश होते हम कहीं और से हमारी परवरिश होती है नई जगह पर नए नियम नहीं कानून नहीं कल्चर में जाकर हम अपने आप को मैनेज करना तो थोड़ा समय दो उसको कि आपकी ओपन जाएगी आपके परिवार में जैसे आप रहते हो जैसा आप खाते हो जैसे आप चाहते हो वैसे बन जाएगी शुरू शुरू में वहां पर जाकर एडजेस्टमेंट करना थोड़ा सा मुश्किल होता है और इतने में ही सारी चीजें हो जाती है तो बस बहू को एक प्यार और सम्मान दो जिसकी वो हकदार है बाकी बेटी बनने का शौक किसी भी मोड़ पर नहीं होता है बहू की मर्यादा होती है जो बेटी बेटी मायके में होती है तो सारी चीजें होती है जो करते फ्लाइट रूट था अगर हम लेट मॉर्निंग में लेट हो जाए तो भी कोई प्रॉब्लम नहीं है फिर नाइट सो रहे हैं तो भी कोई नहीं प्रॉब्लम है जब मर्जी हो क्या सो गए कुछ भी खा लिया कुछ भी बना लिया मां बाप को हम सारे नखरे उतारने में बेटियों को लेकिन ससुराल में एक नियम और के साथ जरूर और रेगुलेशन के साथ चलना होता है कि सुबह जल्दी उठना है या फिर सबके लिए हमको नाटक करना या घर में सबसे पहले उसके पूरे परिवार को देवर का चाहे वह कितना भी पढ़ा लिखा परिवारों लेकिन यह उम्मीद तो अपने बाबू से बात करता है कि मतलब हमारे नियम से पहले उसे घर में जो भी है पूजा पाठ या घर में रसोई में हम से पहले जाए हमारे उठने से पहले हमको तो सारी चीजें होती है तो उस सारी चीजें एक करने में चाहे कितना भी आप उसे बेटी का प्यार दोगे लेकिन मुझे तो बहुत सारी रात में तो वह सारी चीज है एक बहू का मर्यादा में रहना एक बहू को कैसे रहना है कैसे मैनेज करना है वह तो करना ही पड़ेगा चाहे आप कितना भी वीडियोस को समझ लोगे तो बताना चाहती हूं मेरे विचार से की बेटी को बेटी बनाकर रखने से कोई मतलब कोई उसमें बड़ा बात नहीं है क्या बहू को बेटी समझ रहे हो उसे बेटी बनाकर मत रखो उसे वह हक बस जाए तो उसकी वह हकदार है वह प्यार उसको दो जो प्यार की हकदार है और ऐसा अगर आप करोगे तो मैं आपके घर में घर बन जाएगा क्योंकि एक बहू के हाथ में पूरा परिवार नहीं होता है पूरे परिवार की हाथ में होता है कि एक पहुंच घर में कैसे रहेगी धन्यवाद दोस्तों अगर मेरी जवाब समझ में आए थे अच्छा लगे तो लाइक और कमेंट करिए धन्यवाद दोस्तों
Gud ivaning ab samay mila mujhako bol sakate doston ek mitr ne savaal kiya hai ki kya bahoo ko bahoo kee tarah rakhana chaahie ya betee kee tarah aapake kya vichaar hai to doston bahoo ko bahoo kee tarah ka betee kee tarah kisee tarah se rakho bat us ko sammaan do usako thoda sa pyaar do kyonki vah apana maan-baap sab kuchh chhod kar jab ham betiyaan sasuraal jaatee hai to bas itana ummeed karate hain ki jitana ham karate hain jo ham us parivaar ke lie kar rahe hain aaj itana prem ham sabake lie leke jaan ham vahee prem mohabbat hamen mile hamen betee banane ka shauk nahin hota hai ki ham jaakar kyonki chaahe kuchh bhee kar le koee apanee maan ke jaisa pyaar koee nahin duniya mein kar sakata yah sach hai yah saty hai ki log kah sakate hain ki main maamale kee tarah maanatee hoon par betee kee tarah se beemaar vyakti doosare mehandee ke un par itana chaahie ki ek betee jab sasuraal jaatee hai kuchh ko vah sammaan mile jo vah saamaan lekar doosaron ke lie jaatee hai aisa nahin hai ki kuchh kuchh ladakiyaan aisee hotee hai jo jaatee hai to vah sasuraal mein vah sach ko saanso mein nahin samajhatee hain ya kisee ka sammaan nahin karatee hai bat agar yahaan par poochha gaya hai bahoo ko bahoo kee tarah rakha jae saath ya betee kee tarah se doston bahoo bahoo kee tarah rakho na betee kee tarah use sirph insaan kee tarah rakho apane ghar mein ki usako va sammaan do vah pyaar do jisakee vah hakadaar hai to itane mein hee hai vah saare parivaar kee khushiyon ko apane haathon se jo ki rakhegee aur ek betee jab sasuraal jaatee hai to vah sasuraal mein apane saath apane pati ke lie apanee saasoo maan sarasvatee ke lie ya aur jo bhee na kal ke bhaee-bahan hote hain unakee bhee bahut saare sammaan aur pyaar lekar jaata aur unase milane lagata hai to usaka hee toot jaata hai aur vah kuchh nahin kar paatee hai aur na hotee hai naee paravarish hote ham kaheen aur se hamaaree paravarish hotee hai naee jagah par nae niyam nahin kaanoon nahin kalchar mein jaakar ham apane aap ko mainej karana to thoda samay do usako ki aapakee opan jaegee aapake parivaar mein jaise aap rahate ho jaisa aap khaate ho jaise aap chaahate ho vaise ban jaegee shuroo shuroo mein vahaan par jaakar edajestament karana thoda sa mushkil hota hai aur itane mein hee saaree cheejen ho jaatee hai to bas bahoo ko ek pyaar aur sammaan do jisakee vo hakadaar hai baakee betee banane ka shauk kisee bhee mod par nahin hota hai bahoo kee maryaada hotee hai jo betee betee maayake mein hotee hai to saaree cheejen hotee hai jo karate phlait root tha agar ham let morning mein let ho jae to bhee koee problam nahin hai phir nait so rahe hain to bhee koee nahin problam hai jab marjee ho kya so gae kuchh bhee kha liya kuchh bhee bana liya maan baap ko ham saare nakhare utaarane mein betiyon ko lekin sasuraal mein ek niyam aur ke saath jaroor aur reguleshan ke saath chalana hota hai ki subah jaldee uthana hai ya phir sabake lie hamako naatak karana ya ghar mein sabase pahale usake poore parivaar ko devar ka chaahe vah kitana bhee padha likha parivaaron lekin yah ummeed to apane baaboo se baat karata hai ki matalab hamaare niyam se pahale use ghar mein jo bhee hai pooja paath ya ghar mein rasoee mein ham se pahale jae hamaare uthane se pahale hamako to saaree cheejen hotee hai to us saaree cheejen ek karane mein chaahe kitana bhee aap use betee ka pyaar doge lekin mujhe to bahut saaree raat mein to vah saaree cheej hai ek bahoo ka maryaada mein rahana ek bahoo ko kaise rahana hai kaise mainej karana hai vah to karana hee padega chaahe aap kitana bhee veediyos ko samajh loge to bataana chaahatee hoon mere vichaar se kee betee ko betee banaakar rakhane se koee matalab koee usamen bada baat nahin hai kya bahoo ko betee samajh rahe ho use betee banaakar mat rakho use vah hak bas jae to usakee vah hakadaar hai vah pyaar usako do jo pyaar kee hakadaar hai aur aisa agar aap karoge to main aapake ghar mein ghar ban jaega kyonki ek bahoo ke haath mein poora parivaar nahin hota hai poore parivaar kee haath mein hota hai ki ek pahunch ghar mein kaise rahegee dhanyavaad doston agar meree javaab samajh mein aae the achchha lage to laik aur kament karie dhanyavaad doston

bolkar speaker
क्या बहू को बहू की तरह रखना चाहिए या बेटी की तरह आपके क्या विचार है?Kya Bahu Ko Bahu Ki Tarah Rakhna Chahiye Ya Beti Ki Tarah Aapke Kya Vichaar Hai
pari Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pari जी का जवाब
Unknown
0:55
क्वेश्चन किया था क्या बहू को बहू की तरह रखना चाहिए या बेटी की तरह आप का विचार क्या है तो फ्रेंड क्वेश्चन मुझे बहुत अच्छा लगा जिसने भी पूछा होगा यह क्वेश्चन उसके लिए थैंक यू कि इसमें यह क्वेश्चन पूछा इस क्वेश्चन में बहू बेटी की बात चल रही है तो फिर बहू को अपने मन से करें अगर आप बहू को बहू की तरह रखना चाहे तो वह आपके लिए हैं और बहू को बेटी की तरह रखना चाहिए तो वह परिवार के लिए बहुत शुभ फ्रेंड्स माना जाता है कि उसके बहू बेटी लक्ष्मी का रुप होती है बहू अगर आप बहू को बहू मानेंगे तो शायद आपको भी अच्छा ना लगे और आपके परिवार को भी अच्छा ना लगे लेकिन आप बहू को बेटी की तरह हालात यार चितरंगी तो बेटी को भी अच्छा रहेगा आपको भी और आपके परिवार को भी थैंक यू फ्रेंड्स
Kveshchan kiya tha kya bahoo ko bahoo kee tarah rakhana chaahie ya betee kee tarah aap ka vichaar kya hai to phrend kveshchan mujhe bahut achchha laga jisane bhee poochha hoga yah kveshchan usake lie thaink yoo ki isamen yah kveshchan poochha is kveshchan mein bahoo betee kee baat chal rahee hai to phir bahoo ko apane man se karen agar aap bahoo ko bahoo kee tarah rakhana chaahe to vah aapake lie hain aur bahoo ko betee kee tarah rakhana chaahie to vah parivaar ke lie bahut shubh phrends maana jaata hai ki usake bahoo betee lakshmee ka rup hotee hai bahoo agar aap bahoo ko bahoo maanenge to shaayad aapako bhee achchha na lage aur aapake parivaar ko bhee achchha na lage lekin aap bahoo ko betee kee tarah haalaat yaar chitarangee to betee ko bhee achchha rahega aapako bhee aur aapake parivaar ko bhee thaink yoo phrends

bolkar speaker
क्या बहू को बहू की तरह रखना चाहिए या बेटी की तरह आपके क्या विचार है?Kya Bahu Ko Bahu Ki Tarah Rakhna Chahiye Ya Beti Ki Tarah Aapke Kya Vichaar Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:54

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • Bahu Ko Kaise Beti Banaye, बहू को बेटी का दर्जा ,क्या बहु बेटी बन सकती है
  • बेटियों के बराबर बहुओं को सम्मान क्यों नहीं ,बहु बेटी ना बनी सास माँ ना बनी,क्या बहु बेटी बन सकती है
URL copied to clipboard