#undefined

bolkar speaker

दूर दृष्टि दोष के लिए किस लेंस का प्रयोग किया जाता है?

Door Drishti Dosh Ke Liye Kis Lens Ka Prayog Kiya Jata Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
5:00
दूर दृष्टि दोष में के लिए किस लेंस का प्रयोग किया जाता है तो 200 देखिए वैसे तो इसके लिए जो हम मगर हमारी उम्र कम है तो कांटेक्ट लेंस का प्रयोग करते हैं कांटेक्ट लेंस सीधी आंख में लगाए जाते हैं दोनों आंखों में दूर दृष्टि दोष है तो लेकिन सबसे पहले हमें उसकी कैटेगरी देखनी होगी दूर दृष्टि दोष प्लस का है दूर दृष्टि दोष - का है या दूर दृष्टि दोष से जो है इस पेरीकल में माइनस है यहां स्फेरिकल में ओ सॉरी ट्रेंडी कल में माइनस है या प्लस में स्पैरी कल प्लस में सिलेंडर करें यह देखना जरूरी होता क्योंकि सिलेंडर कल नंबर के कांटेक्ट लेंस नहीं आते हैं तो फिर हमें चश्मा ही बनवाना पड़ता है अब सवाल यह कि जो लोग चश्मा बनवाए तो वह किस तरीके का बनवाए कैसा लेंस होना चाहिए तो दोस्तों अगर आप चश्मा बनवाना चाहते हैं अगर आप गाड़ी गाड़ी चलाते हैं तो आपको यहां तो ऑटो लेंस का बनवाना चाहिए जो धूप में जो है काला उठाया में सफेद हो जाता है जैसे हम प्रो है फोटोग्राफी डे क्लांस भी कहते हैं यहां तो आपको एंटी किया लेंस लगवाना चाहिए इसका जो कलर होता है वह हल्का सा ग्रीन या फिर जो हल्का सा ब्लू टाइप में होता है देखने में लेंस दिखता है एंटीक लिए लेंस क्या है एंटी ग्लेयर लेंस एक ऐसा लेंस होता है जब हम बाहर जाते हैं जो हमारे आंखों पर 14% सूर्य की किरणें पड़ती है या सामने से कोई गाड़ी आ रही है रात को गाड़ी ले जा रहा है उसकी जो हमारी आंखों पर जोकरे बढ़ती है उसको रिफ्लेक्ट करता है उनको जो है जो चांदा पड़ता है ना वह चांद हमारी आंखों पर नहीं आता है तो जो दूर दृष्टि दोष के लोग हैं उन्हें एंटीक लिए यहां ऑटो लेंस का चश्मा बनवाना चाहिए अगर आपका नंबर सेंड करें तो अगर आपका नंबर स्पीकर है तो आपका कांटेक्ट लेंस बन जाएगा एंटीक लिया और जो है फोटो क्रोमेटिक इन दोनों लेंस का फायदा यह होता है जब हम रास्ते पर चलते हैं तो हमारी आंखों पर पड़ने वाली सामने वाली गाड़ी की रोशनी से हमें सामने का कुछ दिखाई नहीं देता है एंटी के लिए लेंस से उसकी जो क्रीम रिफ्लेक्ट होती है इसीलिए इसका नाम एंटी क्लियर है ऑटो लेंस की कुछ इस तरीके का ही प्रयोग करता है हालांकि ऑटोलाइंस रात में नहीं काम करता है दिन में काम करता है क्योंकि धूप में काला होता है जिनको धूप से एलर्जी है और उनका दूर का नंबर है तो उन्हें और तो है बनाना चाहिए जिससे कि उन्हें जो आंखों पर दिन को चलते समय चांद आना पड़ेगी भी जब वह चश्मा जो है धूप में धूप के जैसे कांटेक्ट में आता है तो वह चश्मा जो है वैसा हो जाता है जो हल्का सा ग्रह जिस में बस स्टैंड गिरे हल्का सिगरेट ऐसा हो जाता है आदमी को अच्छा देखना है उनकी धूपबत्ती दी कि उसकी आंखों में जो है दूर दृष्टि दोष में कांटेक्ट लेंस का प्रयोग किया जाता है कांटेक्ट लेंस अगर आप अच्छे से अच्छे लगवाना चाहते हो तो फिर जाल से बढ़िया कोई इलाज नहीं है क्या हाल है कैसा लेंस है जो पूरी जो है इंडिया में मल्टीनेशनल कंपनी का नाम फेमस है कि जो है आपको लेंस को साफ करने की वह भी मिल जाती है क्या बोलते हैं से एक साथ लेंस को या चश्मे को साफ करने की दवाई भी होती है वह मिल जाती है अगर आप जो है कांटेक्ट लेंस सॉरी अगर आप चश्मा भी बनवाना चाहते हैं तो अगर आप लंच लगवाना चाहते हैं अगर आपका ज्यादा नंबर है चश्मे का तो आप कहां आजकल ऐसे मत लगाइए क्योंकि कांच के लेंस से चश्मा भारी हो जाता है और हमारे आंखें उसे खाने नहीं साइड के जो हमारे दिमाग की नसों की साइड की उसमें जो है हल्का सा वजन बढ़ता है तो आपको जो है जितना हो सके फाइबर का लेंस लगवाना चाहिए i10 हल्का होता है और आपको तो फिर भी अगर लगवाना चाहते हो और फिर भी आपको जो है बिल्कुल हल्का सा जो है लेना चाहिए हल्का वाला और दोस्तों आपका जितना भी नंबर है मान कर चलिए आपका ढाई नंबर है तो आपको 2.25 यानी कि सवा दो नंबर का चश्मा देना चाहिए क्योंकि अगर आप लड़ाई जितना आप नंबर लोगे तो आपका उत्तरा तेजी से नंबर बढ़ता चला जाएगा जैसा बड़ा ही लोग हैं तो फिर 6 महीने बाद करो 2:45 हो जाएगा तीन हो जाएगा तो आपको 2:30 या 2:15 लेना चाहिए से कि वह जो है आंखें जो एक कवर करती है कवरिंग करना चाहिए जिससे कि नंबर जो है धीरे-धीरे बने लेकिन अगर आपका नंबर इस पर ही कल है नॉर्मल वाले नंबर है तो आपके कांटेक्ट लेंस लगवा सकते हैं अब आप पूछोगे एस्पेरी कर लो सिलेंडर कल क्या होता है तो दोस्तों इस पेरीकल वह नंबर होता है जिसमें हम लेंस को घुमाने पर भी हमें सीन दिखाई देता है और लेंस को चाहे जैसे हम गोल घूम आएंगे तो सिर्फ और जो जो सिलेंडर कल नंबर होता है वह ऑपरेशन के बाद का होता हाल है कुछ लोगों को ऑपरेशन से पहले भी वह नंबर आता है वह डिग्री वाला नंबर होता है उसको जैसे लेंस को घुमाएंगे तो व्यक्ति को दिखेगा और फिर उस तरफ घूम आएंगे फिर नहीं देखेगा यह जो है सिलेंडर का नंबर 4 डिग्री के सबसे डिपेंड करता है जैसे आप नंबर 2:15 है कितने डिग्री पर है 180 डिग्री या 90 डिग्री कैसे डिसाइड होता है आंखों के बारे में और भी बातें आपको समझ आता मैं जाई माता दी जय हिंदुस्तान टाइम बहुत कम है
Door drshti dosh mein ke lie kis lens ka prayog kiya jaata hai to 200 dekhie vaise to isake lie jo ham magar hamaaree umr kam hai to kaantekt lens ka prayog karate hain kaantekt lens seedhee aankh mein lagae jaate hain donon aankhon mein door drshti dosh hai to lekin sabase pahale hamen usakee kaitegaree dekhanee hogee door drshti dosh plas ka hai door drshti dosh - ka hai ya door drshti dosh se jo hai is pereekal mein mainas hai yahaan spherikal mein o soree trendee kal mein mainas hai ya plas mein spairee kal plas mein silendar karen yah dekhana jarooree hota kyonki silendar kal nambar ke kaantekt lens nahin aate hain to phir hamen chashma hee banavaana padata hai ab savaal yah ki jo log chashma banavae to vah kis tareeke ka banavae kaisa lens hona chaahie to doston agar aap chashma banavaana chaahate hain agar aap gaadee gaadee chalaate hain to aapako yahaan to oto lens ka banavaana chaahie jo dhoop mein jo hai kaala uthaaya mein saphed ho jaata hai jaise ham pro hai photograaphee de klaans bhee kahate hain yahaan to aapako entee kiya lens lagavaana chaahie isaka jo kalar hota hai vah halka sa green ya phir jo halka sa bloo taip mein hota hai dekhane mein lens dikhata hai enteek lie lens kya hai entee gleyar lens ek aisa lens hota hai jab ham baahar jaate hain jo hamaare aankhon par 14% soory kee kiranen padatee hai ya saamane se koee gaadee aa rahee hai raat ko gaadee le ja raha hai usakee jo hamaaree aankhon par jokare badhatee hai usako riphlekt karata hai unako jo hai jo chaanda padata hai na vah chaand hamaaree aankhon par nahin aata hai to jo door drshti dosh ke log hain unhen enteek lie yahaan oto lens ka chashma banavaana chaahie agar aapaka nambar send karen to agar aapaka nambar speekar hai to aapaka kaantekt lens ban jaega enteek liya aur jo hai photo krometik in donon lens ka phaayada yah hota hai jab ham raaste par chalate hain to hamaaree aankhon par padane vaalee saamane vaalee gaadee kee roshanee se hamen saamane ka kuchh dikhaee nahin deta hai entee ke lie lens se usakee jo kreem riphlekt hotee hai iseelie isaka naam entee kliyar hai oto lens kee kuchh is tareeke ka hee prayog karata hai haalaanki otolains raat mein nahin kaam karata hai din mein kaam karata hai kyonki dhoop mein kaala hota hai jinako dhoop se elarjee hai aur unaka door ka nambar hai to unhen aur to hai banaana chaahie jisase ki unhen jo aankhon par din ko chalate samay chaand aana padegee bhee jab vah chashma jo hai dhoop mein dhoop ke jaise kaantekt mein aata hai to vah chashma jo hai vaisa ho jaata hai jo halka sa grah jis mein bas staind gire halka sigaret aisa ho jaata hai aadamee ko achchha dekhana hai unakee dhoopabattee dee ki usakee aankhon mein jo hai door drshti dosh mein kaantekt lens ka prayog kiya jaata hai kaantekt lens agar aap achchhe se achchhe lagavaana chaahate ho to phir jaal se badhiya koee ilaaj nahin hai kya haal hai kaisa lens hai jo pooree jo hai indiya mein malteeneshanal kampanee ka naam phemas hai ki jo hai aapako lens ko saaph karane kee vah bhee mil jaatee hai kya bolate hain se ek saath lens ko ya chashme ko saaph karane kee davaee bhee hotee hai vah mil jaatee hai agar aap jo hai kaantekt lens soree agar aap chashma bhee banavaana chaahate hain to agar aap lanch lagavaana chaahate hain agar aapaka jyaada nambar hai chashme ka to aap kahaan aajakal aise mat lagaie kyonki kaanch ke lens se chashma bhaaree ho jaata hai aur hamaare aankhen use khaane nahin said ke jo hamaare dimaag kee nason kee said kee usamen jo hai halka sa vajan badhata hai to aapako jo hai jitana ho sake phaibar ka lens lagavaana chaahie i10 halka hota hai aur aapako to phir bhee agar lagavaana chaahate ho aur phir bhee aapako jo hai bilkul halka sa jo hai lena chaahie halka vaala aur doston aapaka jitana bhee nambar hai maan kar chalie aapaka dhaee nambar hai to aapako 2.25 yaanee ki sava do nambar ka chashma dena chaahie kyonki agar aap ladaee jitana aap nambar loge to aapaka uttara tejee se nambar badhata chala jaega jaisa bada hee log hain to phir 6 maheene baad karo 2:45 ho jaega teen ho jaega to aapako 2:30 ya 2:15 lena chaahie se ki vah jo hai aankhen jo ek kavar karatee hai kavaring karana chaahie jisase ki nambar jo hai dheere-dheere bane lekin agar aapaka nambar is par hee kal hai normal vaale nambar hai to aapake kaantekt lens lagava sakate hain ab aap poochhoge esperee kar lo silendar kal kya hota hai to doston is pereekal vah nambar hota hai jisamen ham lens ko ghumaane par bhee hamen seen dikhaee deta hai aur lens ko chaahe jaise ham gol ghoom aaenge to sirph aur jo jo silendar kal nambar hota hai vah opareshan ke baad ka hota haal hai kuchh logon ko opareshan se pahale bhee vah nambar aata hai vah digree vaala nambar hota hai usako jaise lens ko ghumaenge to vyakti ko dikhega aur phir us taraph ghoom aaenge phir nahin dekhega yah jo hai silendar ka nambar 4 digree ke sabase dipend karata hai jaise aap nambar 2:15 hai kitane digree par hai 180 digree ya 90 digree kaise disaid hota hai aankhon ke baare mein aur bhee baaten aapako samajh aata main jaee maata dee jay hindustaan taim bahut kam hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • दूर दृष्टि का निवारण किस लेंस के द्वारा किया जाता है, दूर दृष्टि दोष का निवारण उत्तल लेंस के उपयोग किया जाता है, दूर दृष्टि दोष का निवारण उत्तल लेंस से क्यों किया जाता है
  • दूर दृष्टि का निवारण किस लेंस के द्वारा किया जाता है, दूर दृष्टि दोष का निवारण उत्तल लेंस के उपयोग किया जाता है, दूर दृष्टि दोष का निवारण उत्तल लेंस से क्यों किया जाता है
  • दूर दृष्टि का निवारण किस लेंस के द्वारा किया जाता है, दूर दृष्टि दोष का निवारण उत्तल लेंस के उपयोग किया जाता है, दूर दृष्टि दोष का निवारण उत्तल लेंस से क्यों किया जाता है
  • दूर दृष्टि दोष के लिए उत्तल लेंस का प्रयोग ,दूर दृष्टि दोष में कौन सा लेंस यूज़ किया जाता है,दूरदृष्टि लेंस
URL copied to clipboard