#पढ़ाई लिखाई

pooja Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए pooja जी का जवाब
Student
1:08
नमस्कार ट्रस्ट है आपदा प्रबंधन का ज्ञान प्रत्येक विद्यार्थी को होना चाहिए क्योंकि बिल्कुल मुझे लगता है आपदा प्रबंधन का ज्ञान जो है वह प्रत्येक विद्यार्थी को होना चाहिए अब जवाब का सवाल है क्यों आजकल हम देख रहे हैं कोई ना कोई नाचने साथ इतने ज्यादा बार आ रहे हैं जो कि अभी हमने देखा उत्तराखंड में जो ग्लेशियर फटा उसके बाद अभी कुछ समय पहले जो है पंजाब दिल्ली जम्मू यहां पर अर्थक्वेक भी आया यानी भूकंप आया तो इस तरह की नेचुरल कैला मीटिंग है प्राकृतिक आपदाएं जो है वह आजकल बहुत ज्यादा घट रहे हैं तो मुझे ऐसा लगता है कि इनका प्रबंधन जो है उसका ज्ञान होना भी जरूरी है विद्यार्थियों को आपके बाकी सब्जेक्ट है राधे हैं बाकी बच्चे पढ़ाए जाते हैं उसी तरह से इनका ज्ञान भी देना कहीं ना कहीं जरूरी हो जाता है ताकि उधर शिविर में भगवान ना करे वैसा कुछ हो तो हम सब विद्यार्थी जो है मिलकर कुछ न कुछ सलूशन उसका निकाल पाए ताकि जान माल का खतरा जो है वह कुछ हद तक चल जाए शुक्रिया
Namaskaar trast hai aapada prabandhan ka gyaan pratyek vidyaarthee ko hona chaahie kyonki bilkul mujhe lagata hai aapada prabandhan ka gyaan jo hai vah pratyek vidyaarthee ko hona chaahie ab javaab ka savaal hai kyon aajakal ham dekh rahe hain koee na koee naachane saath itane jyaada baar aa rahe hain jo ki abhee hamane dekha uttaraakhand mein jo gleshiyar phata usake baad abhee kuchh samay pahale jo hai panjaab dillee jammoo yahaan par arthakvek bhee aaya yaanee bhookamp aaya to is tarah kee nechural kaila meeting hai praakrtik aapadaen jo hai vah aajakal bahut jyaada ghat rahe hain to mujhe aisa lagata hai ki inaka prabandhan jo hai usaka gyaan hona bhee jarooree hai vidyaarthiyon ko aapake baakee sabjekt hai raadhe hain baakee bachche padhae jaate hain usee tarah se inaka gyaan bhee dena kaheen na kaheen jarooree ho jaata hai taaki udhar shivir mein bhagavaan na kare vaisa kuchh ho to ham sab vidyaarthee jo hai milakar kuchh na kuchh salooshan usaka nikaal pae taaki jaan maal ka khatara jo hai vah kuchh had tak chal jae shukriya

और जवाब सुनें

डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:27
कपास में आपदा प्रबंधन का ज्ञान प्रत्येक विद्यार्थी को होना चाहिए क्यों आपदा प्रबंधन का ज्ञान प्रत्येक विद्यार्थी नहीं बल्कि देश के प्रत्येक व्यक्ति को होना चाहिए स्काउटिंग में डिस्कवरी स्काउटिंग कहते हैं जो 16 साल से ऊपर के बच्चों की ट्रेनिंग होती है उस से रात 3:00 बजे तक ट्रेनिंग दी है और एग्जाम लिया है तो उसमें आपदा प्रबंधन एक विशिष्ट कोर्स है इसके लिए कोई बात नहीं करनी पड़ती है लेकिन जीवन में कहीं चोट लग जाना कहीं आग लग जाना कहीं किसी का भी हो सो जाना समझ लेना या एक्सीडेंट में घायल हो जाना ही छोटी मोटी बातें हैं अभी आपने इसके लिए अगर आपको थोड़ा सा आपदा प्रबंधन का ज्ञान है तो आप अपने लिए और दूसरों के लिए दोनों के लिए सहयोग कर सकते हैं समझे आपने आपके अंदर जो है सदा सहायता संवेदनशीलता भी बनी रहती है और दूसरों के बीच इज्जत भी पड़ती है तो मेरे विचार से केवल विद्यार्थी नहीं बल्कि प्रत्येक व्यक्ति को इसका ज्ञान होना चाहिए और हमारे राजस्थान में तो अब जगह जगह जो है लड़कियों को आत्म सुरक्षा के ज्ञान कराए जा रहे हैं कि किस तरह से अपनी सुरक्षा करें इसी तरीके से आग लगने पर पानी में डूबते हुए पर किसी घायल व्यक्ति को देख कर के किस तरह से उसकी मदद की जाए इसका मालिक भी होना चाहिए
Kapaas mein aapada prabandhan ka gyaan pratyek vidyaarthee ko hona chaahie kyon aapada prabandhan ka gyaan pratyek vidyaarthee nahin balki desh ke pratyek vyakti ko hona chaahie skauting mein diskavaree skauting kahate hain jo 16 saal se oopar ke bachchon kee trening hotee hai us se raat 3:00 baje tak trening dee hai aur egjaam liya hai to usamen aapada prabandhan ek vishisht kors hai isake lie koee baat nahin karanee padatee hai lekin jeevan mein kaheen chot lag jaana kaheen aag lag jaana kaheen kisee ka bhee ho so jaana samajh lena ya ekseedent mein ghaayal ho jaana hee chhotee motee baaten hain abhee aapane isake lie agar aapako thoda sa aapada prabandhan ka gyaan hai to aap apane lie aur doosaron ke lie donon ke lie sahayog kar sakate hain samajhe aapane aapake andar jo hai sada sahaayata sanvedanasheelata bhee banee rahatee hai aur doosaron ke beech ijjat bhee padatee hai to mere vichaar se keval vidyaarthee nahin balki pratyek vyakti ko isaka gyaan hona chaahie aur hamaare raajasthaan mein to ab jagah jagah jo hai ladakiyon ko aatm suraksha ke gyaan karae ja rahe hain ki kis tarah se apanee suraksha karen isee tareeke se aag lagane par paanee mein doobate hue par kisee ghaayal vyakti ko dekh kar ke kis tarah se usakee madad kee jae isaka maalik bhee hona chaahie

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • आपदा प्रबंधन का ज्ञान क्यों होना चाहिए, आपदा प्रबंधन का ज्ञान भी बन सकता है रोजगार का माध्यम, विद्यार्थियों को सिखाए आपदा प्रबंधन का ज्ञान
  • आपदा प्रबंधन कैसे सीखें, आपदा प्रबंधन कौन सिखाता है
URL copied to clipboard