#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker

क्या शायरी में उर्दू लफ्जों का होना आवश्यक है?

Kya Shayari Mein Urdu Lafjon Ka Hona Aavashyak Hai
Vaishnavi Pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Vaishnavi जी का जवाब
Student / Artist
2:42
कपास में मुझसे जुदा दुश्मन कहते हैं खुदा दुश्मन कहते हैं हम गिरी है जिससे कल वीकली राशिफल तेरा दुश्मन कहते नजर हमदम गिरी है जिसके कल बिजली वह मेरा हास्य कवि और आप सुन रहे हैं मुझे भारत के नंबर एक सवाल जवाब करने वाले आप बोलकर पर आप ने सवाल किया था तो मैंने सोचा कि क्यों न सबसे पहले आपको शायरी सुना दो आदमी किया है आपको एक बेहद रोचक किस्से सुनाती हूं तो कितना दूर है कुछ ऐसे शुरू होता है केक महफिल लगी हुई थी बसीर बद्र साहब बैठे हुए बताएं क्या होती है शायरी दिल है शायरी जुबान है शायरी जज्बात है सारी जिंदगी उर्दू हिंदी का सवाल नहीं शायरी महल लिखने का तरीका है तो ऐसा नहीं होता की शायरी मिस्टर उर्दू शब्दों का इस्तेमाल होना चाहिए आप हिंदी में भी शायरी लिख सकते हैं हम आपको बता दूं कि जब बशीर बद्र साहब ने कहा था तो उस वक्त उनकी जो आधुनिक शायरियां थी उस संस्कृत भाषा में मौजूद थे हालांकि ऐसा होता है कि आप जब शायरी में किसी उर्दू लफ्ज़ का इस्तेमाल कर देते हैं तो जो शायरी है उसमें एक नूर आ जाता है वह अलग दिखने लगती है तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि अगर आपको हिंदी में शायरी खूबसूरत नहीं है बस बात जो है वह अच्छे होने चाहिए वह स्पष्ट होनी चाहिए रात कैसे भी लफ्जों का प्रयोग करें किसी भी भाषा को वह मायने नहीं रखता और अगर आपको उर्दू के लफ्ज़ों के बारे में जानना है या आपको और जानना है कि शायरी कैसे लिखते हैं शायरी क्या होती है तो मैं आपको सजेस्ट करुंगी कि आप है जिसका नाम है वह एकता आवश्यक गूगल प्ले स्टोर उसे जाकर डाउनलोड कर दीजिए वहां पर आपको कई सारे लोगों की शायरियां गले पढ़ने को मिल जाएंगे आपको उर्दू लफ्जों का अनुमान लग जाएगा जिससे गाने गुलजार बशीर बद्र साहब इन सब की आशा करती हूं कि आपको मैं जवाब पसंद आया होगा जवाब पसंद आया है तो मुझे लाइक करें कमेंट करें सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Kapaas mein mujhase juda dushman kahate hain khuda dushman kahate hain ham giree hai jisase kal veekalee raashiphal tera dushman kahate najar hamadam giree hai jisake kal bijalee vah mera haasy kavi aur aap sun rahe hain mujhe bhaarat ke nambar ek savaal javaab karane vaale aap bolakar par aap ne savaal kiya tha to mainne socha ki kyon na sabase pahale aapako shaayaree suna do aadamee kiya hai aapako ek behad rochak kisse sunaatee hoon to kitana door hai kuchh aise shuroo hota hai kek mahaphil lagee huee thee baseer badr saahab baithe hue bataen kya hotee hai shaayaree dil hai shaayaree jubaan hai shaayaree jajbaat hai saaree jindagee urdoo hindee ka savaal nahin shaayaree mahal likhane ka tareeka hai to aisa nahin hota kee shaayaree mistar urdoo shabdon ka istemaal hona chaahie aap hindee mein bhee shaayaree likh sakate hain ham aapako bata doon ki jab basheer badr saahab ne kaha tha to us vakt unakee jo aadhunik shaayariyaan thee us sanskrt bhaasha mein maujood the haalaanki aisa hota hai ki aap jab shaayaree mein kisee urdoo laphz ka istemaal kar dete hain to jo shaayaree hai usamen ek noor aa jaata hai vah alag dikhane lagatee hai to aisa bilkul bhee nahin hai ki agar aapako hindee mein shaayaree khoobasoorat nahin hai bas baat jo hai vah achchhe hone chaahie vah spasht honee chaahie raat kaise bhee laphjon ka prayog karen kisee bhee bhaasha ko vah maayane nahin rakhata aur agar aapako urdoo ke laphzon ke baare mein jaanana hai ya aapako aur jaanana hai ki shaayaree kaise likhate hain shaayaree kya hotee hai to main aapako sajest karungee ki aap hai jisaka naam hai vah ekata aavashyak googal ple stor use jaakar daunalod kar deejie vahaan par aapako kaee saare logon kee shaayariyaan gale padhane ko mil jaenge aapako urdoo laphjon ka anumaan lag jaega jisase gaane gulajaar basheer badr saahab in sab kee aasha karatee hoon ki aapako main javaab pasand aaya hoga javaab pasand aaya hai to mujhe laik karen kament karen sabsakraib karen dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या शायरी में उर्दू लफ्जों का होना आवश्यक है?Kya Shayari Mein Urdu Lafjon Ka Hona Aavashyak Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:44
कहां है क्या शायरी में उर्दू लफ्जों का होना आवश्यक है लेकिन शायरी जो है वह अरबी फारसी से है उर्दू की शैली में विकसित हुई हुआ विधा है जो प्रेम संदर्भों के लिए प्रस्तुत होती थी और इसमें दो दो पंक्तियों के छंद होते थे जिसे शेयर करते थे समझे आप ना तो थोड़ा सा यह जरूर है कि उर्दू लव से जो है कुल आयात मक्का में हिंदी लफ्जों से थोड़े अच्छे लगते हैं समझा अपना और के कारण इसका यह भी है कि न एलिपसे जो होते हैं वह परंपरागत लफ्जों की तुलना में प्रभावी अलग होते हैं सब जने अधिक होते हैं हालांकि अभी हिंदी में भी दुष्यंत कुमार जैसे लोग जबरदस्त गजल लिख करके गए हैं तो निश्चित रूप से अभी हिंदी के शब्दों में भी गजल लिखी जा सकती है तो कोई जरूरी नहीं है तो तू लफ्जों का प्रयोग हां थोड़ा सा की अम्मा तो उर्दू ही है गजल की ओर उर्दू शायरी की लेकिन हिंदी में भी इसको भरपूर वैल्यू मिली है और उर्दू कहीं न कहीं हिंदी से भी जुड़ी हुई हिंदी लफ्जों में भी अब अच्छी शायरी लिखी जा रही है सब्जी आपने और बहुत से तो सब देते हैं हिंदी में जो उर्दू से भी आए हैं अरबी फारसी 4 गुण मिल गया अंग्रेजी के लब्ज घुल मिल गए हैं कुछ ऐसे देसी हो देशज शब्द है जो घुल मिल गए हैं और हिंदी में उनका व्यापक प्रयोग हो रहा है तो यह कोई आवश्यक नहीं है गुड्डू के लफ्जों वही समय आपने हिंदी लफ्जों में भी अच्छी शायरी लिखी जा रही है थैंक यू
Kahaan hai kya shaayaree mein urdoo laphjon ka hona aavashyak hai lekin shaayaree jo hai vah arabee phaarasee se hai urdoo kee shailee mein vikasit huee hua vidha hai jo prem sandarbhon ke lie prastut hotee thee aur isamen do do panktiyon ke chhand hote the jise sheyar karate the samajhe aap na to thoda sa yah jaroor hai ki urdoo lav se jo hai kul aayaat makka mein hindee laphjon se thode achchhe lagate hain samajha apana aur ke kaaran isaka yah bhee hai ki na elipase jo hote hain vah paramparaagat laphjon kee tulana mein prabhaavee alag hote hain sab jane adhik hote hain haalaanki abhee hindee mein bhee dushyant kumaar jaise log jabaradast gajal likh karake gae hain to nishchit roop se abhee hindee ke shabdon mein bhee gajal likhee ja sakatee hai to koee jarooree nahin hai to too laphjon ka prayog haan thoda sa kee amma to urdoo hee hai gajal kee or urdoo shaayaree kee lekin hindee mein bhee isako bharapoor vailyoo milee hai aur urdoo kaheen na kaheen hindee se bhee judee huee hindee laphjon mein bhee ab achchhee shaayaree likhee ja rahee hai sabjee aapane aur bahut se to sab dete hain hindee mein jo urdoo se bhee aae hain arabee phaarasee 4 gun mil gaya angrejee ke labj ghul mil gae hain kuchh aise desee ho deshaj shabd hai jo ghul mil gae hain aur hindee mein unaka vyaapak prayog ho raha hai to yah koee aavashyak nahin hai guddoo ke laphjon vahee samay aapane hindee laphjon mein bhee achchhee shaayaree likhee ja rahee hai thaink yoo

bolkar speaker
क्या शायरी में उर्दू लफ्जों का होना आवश्यक है?Kya Shayari Mein Urdu Lafjon Ka Hona Aavashyak Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:44
कहां है क्या शायरी में उर्दू लफ्जों का होना आवश्यक है लेकिन शायरी जो है वह अरबी फारसी से है उर्दू की शैली में विकसित हुई हुआ विधा है जो प्रेम संदर्भों के लिए प्रस्तुत होती थी और इसमें दो दो पंक्तियों के छंद होते थे जिसे शेयर करते थे समझे आप ना तो थोड़ा सा यह जरूर है कि उर्दू लव से जो है कुल आयात मक्का में हिंदी लफ्जों से थोड़े अच्छे लगते हैं समझा अपना और के कारण इसका यह भी है कि न एलिपसे जो होते हैं वह परंपरागत लफ्जों की तुलना में प्रभावी अलग होते हैं सब जने अधिक होते हैं हालांकि अभी हिंदी में भी दुष्यंत कुमार जैसे लोग जबरदस्त गजल लिख करके गए हैं तो निश्चित रूप से अभी हिंदी के शब्दों में भी गजल लिखी जा सकती है तो कोई जरूरी नहीं है तो तू लफ्जों का प्रयोग हां थोड़ा सा की अम्मा तो उर्दू ही है गजल की ओर उर्दू शायरी की लेकिन हिंदी में भी इसको भरपूर वैल्यू मिली है और उर्दू कहीं न कहीं हिंदी से भी जुड़ी हुई हिंदी लफ्जों में भी अब अच्छी शायरी लिखी जा रही है सब्जी आपने और बहुत से तो सब देते हैं हिंदी में जो उर्दू से भी आए हैं अरबी फारसी 4 गुण मिल गया अंग्रेजी के लब्ज घुल मिल गए हैं कुछ ऐसे देसी हो देशज शब्द है जो घुल मिल गए हैं और हिंदी में उनका व्यापक प्रयोग हो रहा है तो यह कोई आवश्यक नहीं है गुड्डू के लफ्जों वही समय आपने हिंदी लफ्जों में भी अच्छी शायरी लिखी जा रही है थैंक यू
Kahaan hai kya shaayaree mein urdoo laphjon ka hona aavashyak hai lekin shaayaree jo hai vah arabee phaarasee se hai urdoo kee shailee mein vikasit huee hua vidha hai jo prem sandarbhon ke lie prastut hotee thee aur isamen do do panktiyon ke chhand hote the jise sheyar karate the samajhe aap na to thoda sa yah jaroor hai ki urdoo lav se jo hai kul aayaat makka mein hindee laphjon se thode achchhe lagate hain samajha apana aur ke kaaran isaka yah bhee hai ki na elipase jo hote hain vah paramparaagat laphjon kee tulana mein prabhaavee alag hote hain sab jane adhik hote hain haalaanki abhee hindee mein bhee dushyant kumaar jaise log jabaradast gajal likh karake gae hain to nishchit roop se abhee hindee ke shabdon mein bhee gajal likhee ja sakatee hai to koee jarooree nahin hai to too laphjon ka prayog haan thoda sa kee amma to urdoo hee hai gajal kee or urdoo shaayaree kee lekin hindee mein bhee isako bharapoor vailyoo milee hai aur urdoo kaheen na kaheen hindee se bhee judee huee hindee laphjon mein bhee ab achchhee shaayaree likhee ja rahee hai sabjee aapane aur bahut se to sab dete hain hindee mein jo urdoo se bhee aae hain arabee phaarasee 4 gun mil gaya angrejee ke labj ghul mil gae hain kuchh aise desee ho deshaj shabd hai jo ghul mil gae hain aur hindee mein unaka vyaapak prayog ho raha hai to yah koee aavashyak nahin hai guddoo ke laphjon vahee samay aapane hindee laphjon mein bhee achchhee shaayaree likhee ja rahee hai thaink yoo

bolkar speaker
क्या शायरी में उर्दू लफ्जों का होना आवश्यक है?Kya Shayari Mein Urdu Lafjon Ka Hona Aavashyak Hai
Rajmohan Modi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rajmohan जी का जवाब
व्यापार
0:32
उर्दू लफ्जों का होना कोई जरूरी नहीं है अब आप देखिए एक शायरी यह है कि नींद चुराने वाले पूछते हैं सोते क्यों हैं नींद चुराने वाले पूछते हैं सोते क्यों नहीं हैं इतनी ही फक्र है तो फिर आप हमारे होते क्यों नहीं यह शायरी में कहां कोई उर्दू लफ्ज़ है संपूर्ण हिंदी हैं अरे ऐसा कुछ भी नहीं है कि हर शहर में एक उर्दू लब्ज होना चाहिए आपने शायद इसे इंजॉय किया होगा मैंने बात

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • उर्दू शायरी ,उर्दू लफ़्ज़ों के हिंदी सरल अर्थ
URL copied to clipboard