#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker

अंग्रेजी बोलने वाले शख्स को भारत में ज्यादा तवज्जो दी जाती है?

Angreji Bolne Vale Shakhs Ko Bharat Mein Jyada Tavajjo Di Jati Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:22
नमस्कार अंग्रेजी बोलने वाले शख्स को भारत में तवज्जो इसलिए दी जाती है क्योंकि धारणा बना दी गई है जब आप स्थानीय भाषा बोलते हैं जैसे आप राजस्थान से राजस्थानी बनती है उसकी तुलना में अगर कोई हिंदी बोलने वाला वह तो लोग उस उस को तवज्जो देंगे कि यह पढ़ा लिखा है यह अधिक जानकारी आप पंजाब में है या गुजरात में है वहां की भाषा कोई बोल रहा है उसकी तुलना में हिंदी बोलने वाले को तवज्जो दी जाएगी अब जब हिंदी बोलने वाले अधिक है और अंग्रेजी बोलने वाला एक है तभी माना जाएगा कि ज्यादा नॉलेज वाला है ज्यादा ज्ञान वाला है इसको अंग्रेजी आती है बहुत सारे इसलिए अंग्रेजी को थोड़ा सा विशेष महत्व दे दिया गया और फिर इंटरनेट भी अमेरिका में जिसे ज्यादा है या मेरी जो अमेरिका और इंग्लैंड बड़े देशों में चलती अंग्रेजी अंग्रेजी भाषा किस प्रकार से अंग्रेजी भाषा और लोगों की माने द मंकी किंग भेजिए कि सभी लोगों की या पढ़े लिखे हो या श्रेष्ठ लोगों की भाषा है बल्कि वास्तव में ऐसा नहीं है धन्यवाद
Namaskaar angrejee bolane vaale shakhs ko bhaarat mein tavajjo isalie dee jaatee hai kyonki dhaarana bana dee gaee hai jab aap sthaaneey bhaasha bolate hain jaise aap raajasthaan se raajasthaanee banatee hai usakee tulana mein agar koee hindee bolane vaala vah to log us us ko tavajjo denge ki yah padha likha hai yah adhik jaanakaaree aap panjaab mein hai ya gujaraat mein hai vahaan kee bhaasha koee bol raha hai usakee tulana mein hindee bolane vaale ko tavajjo dee jaegee ab jab hindee bolane vaale adhik hai aur angrejee bolane vaala ek hai tabhee maana jaega ki jyaada nolej vaala hai jyaada gyaan vaala hai isako angrejee aatee hai bahut saare isalie angrejee ko thoda sa vishesh mahatv de diya gaya aur phir intaranet bhee amerika mein jise jyaada hai ya meree jo amerika aur inglaind bade deshon mein chalatee angrejee angrejee bhaasha kis prakaar se angrejee bhaasha aur logon kee maane da mankee king bhejie ki sabhee logon kee ya padhe likhe ho ya shreshth logon kee bhaasha hai balki vaastav mein aisa nahin hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
अंग्रेजी बोलने वाले शख्स को भारत में ज्यादा तवज्जो दी जाती है?Angreji Bolne Vale Shakhs Ko Bharat Mein Jyada Tavajjo Di Jati Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
2:04
अंग्रेजी बोलने वाले शख्स को भारत में ज्यादा तवज्जो क्यों दी जाती है क्योंकि अभी हम मानसिक रूप से गोला में अंग्रेजी जो है वह कहीं न कहीं अंतर्राष्ट्रीय भाषा तो है इसको नकार नहीं सकते हैं और इस देश में बहुत से लोग दिखावे के तौर पर अंग्रेजी को अभी भी तवज्जो दे रहे हैं प्राथमिकता दे रहे हैं अभी 1947 से चल कर के हम लोग संजय दत्त 53 और 2073 सालको लगभग खत्म कर चुके हैं 74 साल पूरा होने जा रहा है लेकिन अभी तो तीतर मानकर चलें बहुत से कार्यालयों में कागज पत्थरों में हम अंग्रेजी को हटा नहीं पाए और रोमन लिपि में अंग्रेजी के शब्द है लिहाजा जो बड़े अधिकारी हैं बड़े पद है आइए शादी के बड़े-बड़े जो व्यापारी है व्यावसायिक है व्यवसाई हैं या उद्योगपति हैं वह आज भी अंग्रेजी का प्रयोग करते हैं और अंग्रेजी स्टेट चंबल अभी बना हुआ है और राष्ट्रभक्ति हमारे अंदर भी डिवेलप नहीं हो पाई तुम अपनी राष्ट्रभाषा को स्थापित कर सके चाहे वह हिंदू हो या कोई और भाषा दुर्भाग्य है कि संविधान के अनुच्छेद 343 में हिंदी खड़ी बोली को देश की राजभाषा तो कहा गया है लेकिन अगले ही अनुच्छेद 343 अनुच्छेद की धारा 2 में अंग्रेजी को उसके साथ 15 साल के लिए जोड़ा गया था और 50 से संविधान चला है तो हाथ जोड़ लीजिए 70 साल बाद भी हम अंग्रेजी को द्वितीय पद जो मूल राजभाषा उसके पद से हटा नहीं पाए कहीं ज्यादा तो आगे के जो 45 से लेकर ज्ञान तक के अनुच्छेद उस में बिजी को प्राथमिकता दी गई है और उससे हिंदी के अनुवाद की बात कही गई है तो इस तरह से और हिंदी को कहीं भी मतलब दबाया तो गया ही हो कहीं भी राष्ट्रभाषा का पद अभी तक मां वेद में हिंदी को राष्ट्रभाषा कह देते
Angrejee bolane vaale shakhs ko bhaarat mein jyaada tavajjo kyon dee jaatee hai kyonki abhee ham maanasik roop se gola mein angrejee jo hai vah kaheen na kaheen antarraashtreey bhaasha to hai isako nakaar nahin sakate hain aur is desh mein bahut se log dikhaave ke taur par angrejee ko abhee bhee tavajjo de rahe hain praathamikata de rahe hain abhee 1947 se chal kar ke ham log sanjay datt 53 aur 2073 saalako lagabhag khatm kar chuke hain 74 saal poora hone ja raha hai lekin abhee to teetar maanakar chalen bahut se kaaryaalayon mein kaagaj pattharon mein ham angrejee ko hata nahin pae aur roman lipi mein angrejee ke shabd hai lihaaja jo bade adhikaaree hain bade pad hai aaie shaadee ke bade-bade jo vyaapaaree hai vyaavasaayik hai vyavasaee hain ya udyogapati hain vah aaj bhee angrejee ka prayog karate hain aur angrejee stet chambal abhee bana hua hai aur raashtrabhakti hamaare andar bhee divelap nahin ho paee tum apanee raashtrabhaasha ko sthaapit kar sake chaahe vah hindoo ho ya koee aur bhaasha durbhaagy hai ki sanvidhaan ke anuchchhed 343 mein hindee khadee bolee ko desh kee raajabhaasha to kaha gaya hai lekin agale hee anuchchhed 343 anuchchhed kee dhaara 2 mein angrejee ko usake saath 15 saal ke lie joda gaya tha aur 50 se sanvidhaan chala hai to haath jod leejie 70 saal baad bhee ham angrejee ko dviteey pad jo mool raajabhaasha usake pad se hata nahin pae kaheen jyaada to aage ke jo 45 se lekar gyaan tak ke anuchchhed us mein bijee ko praathamikata dee gaee hai aur usase hindee ke anuvaad kee baat kahee gaee hai to is tarah se aur hindee ko kaheen bhee matalab dabaaya to gaya hee ho kaheen bhee raashtrabhaasha ka pad abhee tak maan ved mein hindee ko raashtrabhaasha kah dete

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • अंग्रेजी बोलने वाले शख्स,विश्व में अंग्रेजी बोलने वाले देश
URL copied to clipboard