#जीवन शैली

bolkar speaker

इंसान अपनी जिंदगी किसके लिए जीता है?

Insaan Apni Zindagi Kiske Lie Jeeta Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:03
मित्र आप का सवाल है इंसान अपनी जिंदगी किसके लिए जीता है तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर यह है अगर इंसान को अपने जीवन को यदि आप हंसते खिलखिलाते जीना चाहते हो तो अपने दिमाग और दिल हर देख की सभी खिड़कियों को हमेशा के लिए खुले रखो तो आप अच्छा महसूस करेंगे आपका जीवन कितना सुखद में हो जाता है अपनी जिंदगी जीने का कोई लाख दुख होने के बाद भी हंसते-हंसते अपनी जिंदगी जीते हैं कुछ इंसानों के पास सब कुछ होते हुए भी दुखी रहते हैं दोस्तों मनुष्य जीवन बहुमूल्य है और जो लोग इसकी वास्तविकता को सही ढंग से समझते हैं वही जिंदगी का सही लोग उठाते हैं और अपने बच्चों को अच्छे से पालन पोषण और उन्हें शिक्षा और शिक्षा देना यह आपकी जिंदगी का मूल मकसद होना चाहिए मुट्ठी बांधकर इस संसार में आते हैं परंतु मुट्ठी खोल कर जाते हैं यह बंदगी का असली सत्य है धन्यवाद दोस्तों
Mitr aap ka savaal hai insaan apanee jindagee kisake lie jeeta hai to doston aapake savaal ka uttar yah hai agar insaan ko apane jeevan ko yadi aap hansate khilakhilaate jeena chaahate ho to apane dimaag aur dil har dekh kee sabhee khidakiyon ko hamesha ke lie khule rakho to aap achchha mahasoos karenge aapaka jeevan kitana sukhad mein ho jaata hai apanee jindagee jeene ka koee laakh dukh hone ke baad bhee hansate-hansate apanee jindagee jeete hain kuchh insaanon ke paas sab kuchh hote hue bhee dukhee rahate hain doston manushy jeevan bahumooly hai aur jo log isakee vaastavikata ko sahee dhang se samajhate hain vahee jindagee ka sahee log uthaate hain aur apane bachchon ko achchhe se paalan poshan aur unhen shiksha aur shiksha dena yah aapakee jindagee ka mool makasad hona chaahie mutthee baandhakar is sansaar mein aate hain parantu mutthee khol kar jaate hain yah bandagee ka asalee saty hai dhanyavaad doston

और जवाब सुनें

bolkar speaker
इंसान अपनी जिंदगी किसके लिए जीता है?Insaan Apni Zindagi Kiske Lie Jeeta Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:23
हेलो दोस्तों स्वागत है आपका दोस्तों आप का सवाल है इंसान अपनी जिंदगी किसके लिए जीता है तो दोस्तों इंसान अपनी जिंदगी अपने बच्चों के लिए जीता है अपने घर परिवार के लिए जीता है अपने मां-बाप के लिए जीता है तो दोस्तों इंसान अपने परिवार के लिए जीता रहता है और उसी परिवार के लिए सब कुछ जिंदगी भर करता रहता है तो धन्यवाद
Helo doston svaagat hai aapaka doston aap ka savaal hai insaan apanee jindagee kisake lie jeeta hai to doston insaan apanee jindagee apane bachchon ke lie jeeta hai apane ghar parivaar ke lie jeeta hai apane maan-baap ke lie jeeta hai to doston insaan apane parivaar ke lie jeeta rahata hai aur usee parivaar ke lie sab kuchh jindagee bhar karata rahata hai to dhanyavaad

bolkar speaker
इंसान अपनी जिंदगी किसके लिए जीता है?Insaan Apni Zindagi Kiske Lie Jeeta Hai
Mohitrajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Mohitrajput जी का जवाब
Unknown
0:25
जब जन्म लेता है तो अपनी जान बचाने के लिए जीता है खाने के लिए जीता है और जब बड़ा हो जाता है तो अपने लिए जीता है और फिर थोड़ा और बड़ा हो जाता है फिर अपने परिवार के लिए पूरी जिंदगी में एक इंसान अपने लिए वही जीत सकता है जिसके पास करोड़ो कहता हूं फिर की फैमिली हो जाती है तो फैमिली के लिए जीता है ऐसे ही घर से घर चलते जाते हैं हर एक इंसान का कोई मकसद है कोई ना कोई किसी के लिए ठीक है
Jab janm leta hai to apanee jaan bachaane ke lie jeeta hai khaane ke lie jeeta hai aur jab bada ho jaata hai to apane lie jeeta hai aur phir thoda aur bada ho jaata hai phir apane parivaar ke lie pooree jindagee mein ek insaan apane lie vahee jeet sakata hai jisake paas karodo kahata hoon phir kee phaimilee ho jaatee hai to phaimilee ke lie jeeta hai aise hee ghar se ghar chalate jaate hain har ek insaan ka koee makasad hai koee na koee kisee ke lie theek hai

bolkar speaker
इंसान अपनी जिंदगी किसके लिए जीता है?Insaan Apni Zindagi Kiske Lie Jeeta Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
2:33
इंसान अपनी जिंदगी किसके लिए जीता है बहुत सुंदर प्रश्न पूछा है इंसान अपनी जिंदगी अपने आप के लिए जीता है लेकिन हर बार वह कह नहीं पाता है तो वह बता देता है कि अभी एक बार मेरी बेटी की शादी हो जाए उसका बच्चा देखने को मुझे मिल जाए तो मैं आराम से भगवान के घर जाऊंगी यह जाऊंगा और अगर बच्चा हो जाता है तो बच्चे कभी शादी अगर हो जाए बच्चे के बच्चे की उसको मैं देखूं तुम्हें आराम से और आनंद से ईश्वर के पास जाऊंगा या जाओगे तो ऐसे माध्यम से चाय माध्यम कोई कोई भी हो चाहे अपने खुद के बच्चे हो चाय दूसरी चीजें हो हर चीज के माध्यम से इंसान जो है अपने आप के लिए जीता है यह सुनने को थोड़ा सा कुछ लोगों को आश्चर्यचकित लगेगा आश्चर्य लगे लेकिन जरा अपने आप अंदर जाकर जब वह देखा जाता है तो यही बात सामने आ जाते हैं और प्रसिद्ध चक्की चलाने वाला जो एक कैरेक्टर हमारी टीचर में उसका नाम बीरबल है उन्होंने अकबर के अकबर के दरबार दरबार में एक प्रयोग करके दिखा साबित किया था कि सबसे प्यारी जान जान सबसे प्यारी है और उसी के लिए इंसान जीता है धन्यवाद
Insaan apanee jindagee kisake lie jeeta hai bahut sundar prashn poochha hai insaan apanee jindagee apane aap ke lie jeeta hai lekin har baar vah kah nahin paata hai to vah bata deta hai ki abhee ek baar meree betee kee shaadee ho jae usaka bachcha dekhane ko mujhe mil jae to main aaraam se bhagavaan ke ghar jaoongee yah jaoonga aur agar bachcha ho jaata hai to bachche kabhee shaadee agar ho jae bachche ke bachche kee usako main dekhoon tumhen aaraam se aur aanand se eeshvar ke paas jaoonga ya jaoge to aise maadhyam se chaay maadhyam koee koee bhee ho chaahe apane khud ke bachche ho chaay doosaree cheejen ho har cheej ke maadhyam se insaan jo hai apane aap ke lie jeeta hai yah sunane ko thoda sa kuchh logon ko aashcharyachakit lagega aashchary lage lekin jara apane aap andar jaakar jab vah dekha jaata hai to yahee baat saamane aa jaate hain aur prasiddh chakkee chalaane vaala jo ek kairektar hamaaree teechar mein usaka naam beerabal hai unhonne akabar ke akabar ke darabaar darabaar mein ek prayog karake dikha saabit kiya tha ki sabase pyaaree jaan jaan sabase pyaaree hai aur usee ke lie insaan jeeta hai dhanyavaad

bolkar speaker
इंसान अपनी जिंदगी किसके लिए जीता है?Insaan Apni Zindagi Kiske Lie Jeeta Hai
Vikas Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vikas जी का जवाब
Student
0:31
एक इंसान अपनी जिंदगी किसकी लेता है फ्रेंड्स इंसान अपने जिनके अपने परिवार के लिए होता है वह चाहता है कि उसका परिवार और सुख दुख की घड़ी में उसको 7:00 बजे इक्विपमेंट्स व अपने परिवार की प्रविष्टि रिसर्च साली जिंदगी दांव पर लगा देता है शाम को इसलिए मेरे हिसाब से इंसान अपने फ्रेंड्स अपनी जिंदगी अपने परिवार वालों के लिए तत्पर बच्चों की कविता अपने माता-पिता के कितने फ्रेंड से हिसाब से यही है जेंट्स अगर आपको अच्छा लगा हो तो प्लीज लाइक करें जय हिंद जय भारत
Ek insaan apanee jindagee kisakee leta hai phrends insaan apane jinake apane parivaar ke lie hota hai vah chaahata hai ki usaka parivaar aur sukh dukh kee ghadee mein usako 7:00 baje ikvipaments va apane parivaar kee pravishti risarch saalee jindagee daanv par laga deta hai shaam ko isalie mere hisaab se insaan apane phrends apanee jindagee apane parivaar vaalon ke lie tatpar bachchon kee kavita apane maata-pita ke kitane phrend se hisaab se yahee hai jents agar aapako achchha laga ho to pleej laik karen jay hind jay bhaarat

bolkar speaker
इंसान अपनी जिंदगी किसके लिए जीता है?Insaan Apni Zindagi Kiske Lie Jeeta Hai
Akriti mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Akriti जी का जवाब
Unknown
0:49

bolkar speaker
इंसान अपनी जिंदगी किसके लिए जीता है?Insaan Apni Zindagi Kiske Lie Jeeta Hai
अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
1:33
प्रश्न पूछा कि इंसान अपनी जिंदगी किसके लिए देता है इंसान होता ना उसकी सोच एक जैसी नहीं होती कई देखे कई इंसान है तो सबकी सोच अपनी अलग अलग होती कुछ इंसान होते हैं बस अपने लिए जीते हैं कुछ इंसान होते हैं अपने मां-बाप के लिए जीते हैं कुछ इंसान हैं जो मां बाप अपने बच्चों के लिए जीते हैं कुछ अपने देश के लिए जीते हैं कुछ मतलब कहीं ना कहीं जीवन जी रहा है कुछ अपने फायदे के लिए जीता है तो कोई क्या है कि दूसरे को नुकसान भी पहुंचा देता बस अपने फायदे के लिए तो जीवन में आपको कई तरीके के लोग मिलेंगे अच्छे व्यक्ति मिलेंगे बुरे व्यक्ति मिलेंगे तो जीवन सब अपने अपने तरीके से जीरा आज भारत देश के फौजी जो भाई है क्या है अपने देश के लिए लड़ रहा है मतलब उनको यह डर नहीं है वह यह जानते कभी भी वह शहीद हो सकते हैं देश की रक्षा करते करते लेकिन देश के लिए बोल रहे हैं अपने माता पिता को छोड़ देते हैं बस उनको बस अपनी फायदा दिखता है वह अपने ही लिए जीना चाहते हैं और जो माता-पिता होते हैं कुछ अपने बच्चों के लिए जीते हैं पढ़ाते हैं दिखाते जीवन में इतनी कट नहीं आती तभी भी वही सोच थी मेरा बच्चा पढ़ लिख कर आगे बढ़े नाम रोशन करें तो तेरे तरीके के लोग हैं 3 तरीके की सोच है तो शिवम सब अपने तरीके से कुचेरा कुछ दूसरों के तरीके से जीरा ऐसे ही है जय हिंद जय भारत
Prashn poochha ki insaan apanee jindagee kisake lie deta hai insaan hota na usakee soch ek jaisee nahin hotee kaee dekhe kaee insaan hai to sabakee soch apanee alag alag hotee kuchh insaan hote hain bas apane lie jeete hain kuchh insaan hote hain apane maan-baap ke lie jeete hain kuchh insaan hain jo maan baap apane bachchon ke lie jeete hain kuchh apane desh ke lie jeete hain kuchh matalab kaheen na kaheen jeevan jee raha hai kuchh apane phaayade ke lie jeeta hai to koee kya hai ki doosare ko nukasaan bhee pahuncha deta bas apane phaayade ke lie to jeevan mein aapako kaee tareeke ke log milenge achchhe vyakti milenge bure vyakti milenge to jeevan sab apane apane tareeke se jeera aaj bhaarat desh ke phaujee jo bhaee hai kya hai apane desh ke lie lad raha hai matalab unako yah dar nahin hai vah yah jaanate kabhee bhee vah shaheed ho sakate hain desh kee raksha karate karate lekin desh ke lie bol rahe hain apane maata pita ko chhod dete hain bas unako bas apanee phaayada dikhata hai vah apane hee lie jeena chaahate hain aur jo maata-pita hote hain kuchh apane bachchon ke lie jeete hain padhaate hain dikhaate jeevan mein itanee kat nahin aatee tabhee bhee vahee soch thee mera bachcha padh likh kar aage badhe naam roshan karen to tere tareeke ke log hain 3 tareeke kee soch hai to shivam sab apane tareeke se kuchera kuchh doosaron ke tareeke se jeera aise hee hai jay hind jay bhaarat

bolkar speaker
इंसान अपनी जिंदगी किसके लिए जीता है?Insaan Apni Zindagi Kiske Lie Jeeta Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
2:23
बेटा आपका प्रश्न इंसान अपनी जिंदगी किसके लिए जीता है सीधी बात है इंसान जिंदगी तो अपने विचारों अपनी भावनाओं संजना अपने लक्ष्य के लिए जीता है हर आदमी का लेकिन अंतर क्यों दिखाई पड़ता क्योंकि जिंदगी जीने के एक नजरिया होता है जिसे जीवन दर्शन कहते हैं उस जीवन दर्शन में बहुत सी चीजें छोड़ जाती हैं खुद की भावनाएं संवेदनाएं अपने परिवार माता-पिता परिवार का सम्मान दुश्मनों से दुश्मनी मित्रों से मैत्री रिश्ते नातों का निर्वाह बहुत कुछ आ जाता है जीवन के लक्ष्य आ जाते हैं समझे अपना और उन सब की संपूर्ण थी करना चाहता है यह ध्यान रखें कि बहुत से लोग जिंदगी दुश्मनी के लिए भी जीते हैं सीमा पर खड़ा हुआ सैनिक देश की रक्षा के लिए जीता है लेकिन केवल एक ही लक्ष्य जीवन का नहीं होता है कुछ लक्ष्य बड़े होते हैं कुछ छोटे होते हैं उसमें कुछ विशिष्ट बन जाए तो जिंदगी जीने का नजरिया जिसे जीवन दर्शन कहा जाता है सबके जीवन दर्शन अलग-अलग होते हैं लेकिन उसमें कहीं ना कहीं आत्म संतुष्टि का तत्व जरूर होता है क्योंकि जिंदगी का जो भी लक्षकार उसमें आस में संतुष्टि नहीं होगी तो आदमी कभी उस काम से संतुष्ट नहीं होगा और उसे करके भी सर जी आपने जो चाहता नहीं था हो गया उससे कभी भी एक तरह से शांति नहीं मिलेगी इसलिए मेरा तो एक गाना का आदमी अपनी जिंदगी अपने मन की अपनी संवेदना ओं की संतुष्टि के लिए जीता है कहां पर स्थित बस उसमें बदलाव होते रहते हैं और एक साथ कई संदर्भों से जुड़े जाया करते हैं क्योंकि एक ही व्यक्ति जो होता है अगर अधिकारी है ऑफिस का तो समाज का हो सकता है एक विशिष्ट व्यक्तित्व अपनी पत्नी का पति हो अपने बच्चों का पीता हूं अपने माता-पिता की संतान हो अपने समाज का एक विशिष्ट व्यक्तित्व और उसमें किस चीज को उसने तवज्जो ज्यादा दिया या किस चीज में ज्यादा सफलता मिली और लोग उसका नाम उसके लिए लेने लगते हैं इसकी केवल इतना ही नहीं है जिंदगी जीने के नजरिया मैंने आपसे के बहुत से हैं उसमें कोई भी श्रेष्ठ माने जाया करता है थैंक यू
Beta aapaka prashn insaan apanee jindagee kisake lie jeeta hai seedhee baat hai insaan jindagee to apane vichaaron apanee bhaavanaon sanjana apane lakshy ke lie jeeta hai har aadamee ka lekin antar kyon dikhaee padata kyonki jindagee jeene ke ek najariya hota hai jise jeevan darshan kahate hain us jeevan darshan mein bahut see cheejen chhod jaatee hain khud kee bhaavanaen sanvedanaen apane parivaar maata-pita parivaar ka sammaan dushmanon se dushmanee mitron se maitree rishte naaton ka nirvaah bahut kuchh aa jaata hai jeevan ke lakshy aa jaate hain samajhe apana aur un sab kee sampoorn thee karana chaahata hai yah dhyaan rakhen ki bahut se log jindagee dushmanee ke lie bhee jeete hain seema par khada hua sainik desh kee raksha ke lie jeeta hai lekin keval ek hee lakshy jeevan ka nahin hota hai kuchh lakshy bade hote hain kuchh chhote hote hain usamen kuchh vishisht ban jae to jindagee jeene ka najariya jise jeevan darshan kaha jaata hai sabake jeevan darshan alag-alag hote hain lekin usamen kaheen na kaheen aatm santushti ka tatv jaroor hota hai kyonki jindagee ka jo bhee lakshakaar usamen aas mein santushti nahin hogee to aadamee kabhee us kaam se santusht nahin hoga aur use karake bhee sar jee aapane jo chaahata nahin tha ho gaya usase kabhee bhee ek tarah se shaanti nahin milegee isalie mera to ek gaana ka aadamee apanee jindagee apane man kee apanee sanvedana on kee santushti ke lie jeeta hai kahaan par sthit bas usamen badalaav hote rahate hain aur ek saath kaee sandarbhon se jude jaaya karate hain kyonki ek hee vyakti jo hota hai agar adhikaaree hai ophis ka to samaaj ka ho sakata hai ek vishisht vyaktitv apanee patnee ka pati ho apane bachchon ka peeta hoon apane maata-pita kee santaan ho apane samaaj ka ek vishisht vyaktitv aur usamen kis cheej ko usane tavajjo jyaada diya ya kis cheej mein jyaada saphalata milee aur log usaka naam usake lie lene lagate hain isakee keval itana hee nahin hai jindagee jeene ke najariya mainne aapase ke bahut se hain usamen koee bhee shreshth maane jaaya karata hai thaink yoo

bolkar speaker
इंसान अपनी जिंदगी किसके लिए जीता है?Insaan Apni Zindagi Kiske Lie Jeeta Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
2:23
बेटा आपका प्रश्न इंसान अपनी जिंदगी किसके लिए जीता है सीधी बात है इंसान जिंदगी तो अपने विचारों अपनी भावनाओं संजना अपने लक्ष्य के लिए जीता है हर आदमी का लेकिन अंतर क्यों दिखाई पड़ता क्योंकि जिंदगी जीने के एक नजरिया होता है जिसे जीवन दर्शन कहते हैं उस जीवन दर्शन में बहुत सी चीजें छोड़ जाती हैं खुद की भावनाएं संवेदनाएं अपने परिवार माता-पिता परिवार का सम्मान दुश्मनों से दुश्मनी मित्रों से मैत्री रिश्ते नातों का निर्वाह बहुत कुछ आ जाता है जीवन के लक्ष्य आ जाते हैं समझे अपना और उन सब की संपूर्ण थी करना चाहता है यह ध्यान रखें कि बहुत से लोग जिंदगी दुश्मनी के लिए भी जीते हैं सीमा पर खड़ा हुआ सैनिक देश की रक्षा के लिए जीता है लेकिन केवल एक ही लक्ष्य जीवन का नहीं होता है कुछ लक्ष्य बड़े होते हैं कुछ छोटे होते हैं उसमें कुछ विशिष्ट बन जाए तो जिंदगी जीने का नजरिया जिसे जीवन दर्शन कहा जाता है सबके जीवन दर्शन अलग-अलग होते हैं लेकिन उसमें कहीं ना कहीं आत्म संतुष्टि का तत्व जरूर होता है क्योंकि जिंदगी का जो भी लक्षकार उसमें आस में संतुष्टि नहीं होगी तो आदमी कभी उस काम से संतुष्ट नहीं होगा और उसे करके भी सर जी आपने जो चाहता नहीं था हो गया उससे कभी भी एक तरह से शांति नहीं मिलेगी इसलिए मेरा तो एक गाना का आदमी अपनी जिंदगी अपने मन की अपनी संवेदना ओं की संतुष्टि के लिए जीता है कहां पर स्थित बस उसमें बदलाव होते रहते हैं और एक साथ कई संदर्भों से जुड़े जाया करते हैं क्योंकि एक ही व्यक्ति जो होता है अगर अधिकारी है ऑफिस का तो समाज का हो सकता है एक विशिष्ट व्यक्तित्व अपनी पत्नी का पति हो अपने बच्चों का पीता हूं अपने माता-पिता की संतान हो अपने समाज का एक विशिष्ट व्यक्तित्व और उसमें किस चीज को उसने तवज्जो ज्यादा दिया या किस चीज में ज्यादा सफलता मिली और लोग उसका नाम उसके लिए लेने लगते हैं इसकी केवल इतना ही नहीं है जिंदगी जीने के नजरिया मैंने आपसे के बहुत से हैं उसमें कोई भी श्रेष्ठ माने जाया करता है थैंक यू
Beta aapaka prashn insaan apanee jindagee kisake lie jeeta hai seedhee baat hai insaan jindagee to apane vichaaron apanee bhaavanaon sanjana apane lakshy ke lie jeeta hai har aadamee ka lekin antar kyon dikhaee padata kyonki jindagee jeene ke ek najariya hota hai jise jeevan darshan kahate hain us jeevan darshan mein bahut see cheejen chhod jaatee hain khud kee bhaavanaen sanvedanaen apane parivaar maata-pita parivaar ka sammaan dushmanon se dushmanee mitron se maitree rishte naaton ka nirvaah bahut kuchh aa jaata hai jeevan ke lakshy aa jaate hain samajhe apana aur un sab kee sampoorn thee karana chaahata hai yah dhyaan rakhen ki bahut se log jindagee dushmanee ke lie bhee jeete hain seema par khada hua sainik desh kee raksha ke lie jeeta hai lekin keval ek hee lakshy jeevan ka nahin hota hai kuchh lakshy bade hote hain kuchh chhote hote hain usamen kuchh vishisht ban jae to jindagee jeene ka najariya jise jeevan darshan kaha jaata hai sabake jeevan darshan alag-alag hote hain lekin usamen kaheen na kaheen aatm santushti ka tatv jaroor hota hai kyonki jindagee ka jo bhee lakshakaar usamen aas mein santushti nahin hogee to aadamee kabhee us kaam se santusht nahin hoga aur use karake bhee sar jee aapane jo chaahata nahin tha ho gaya usase kabhee bhee ek tarah se shaanti nahin milegee isalie mera to ek gaana ka aadamee apanee jindagee apane man kee apanee sanvedana on kee santushti ke lie jeeta hai kahaan par sthit bas usamen badalaav hote rahate hain aur ek saath kaee sandarbhon se jude jaaya karate hain kyonki ek hee vyakti jo hota hai agar adhikaaree hai ophis ka to samaaj ka ho sakata hai ek vishisht vyaktitv apanee patnee ka pati ho apane bachchon ka peeta hoon apane maata-pita kee santaan ho apane samaaj ka ek vishisht vyaktitv aur usamen kis cheej ko usane tavajjo jyaada diya ya kis cheej mein jyaada saphalata milee aur log usaka naam usake lie lene lagate hain isakee keval itana hee nahin hai jindagee jeene ke najariya mainne aapase ke bahut se hain usamen koee bhee shreshth maane jaaya karata hai thaink yoo

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • अपनी जिंदगी कैसे जीना चाहिए
URL copied to clipboard