#जीवन शैली

bolkar speaker

आज के भारतीय समाज में क्या गलत हो रहा हैं?

Aaj Ke Bhartiya Samaj Mein Kya Galat Ho Raha Hain
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:22

और जवाब सुनें

bolkar speaker
आज के भारतीय समाज में क्या गलत हो रहा हैं?Aaj Ke Bhartiya Samaj Mein Kya Galat Ho Raha Hain
Vikas Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vikas जी का जवाब
Student
1:22

bolkar speaker
आज के भारतीय समाज में क्या गलत हो रहा हैं?Aaj Ke Bhartiya Samaj Mein Kya Galat Ho Raha Hain
anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
0:46
मेरे अनुसार आज के भारतीय समाज में कई लोग महिलाओं के साथ लड़कियों के साथ जबरदस्ती करते हैं प्रताड़ित करते हैं और बलात्कार करते हैं किडनैप करते हैं और धर्म के विरुद्ध जानवर कुछ गलत करते हैं धर्म के नाम पर गालियां भी देते हैं यह सब हमारे भारतीय में आज के समय में सब गलत हो रहा है
Mere anusaar aaj ke bhaarateey samaaj mein kaee log mahilaon ke saath ladakiyon ke saath jabaradastee karate hain prataadit karate hain aur balaatkaar karate hain kidanaip karate hain aur dharm ke viruddh jaanavar kuchh galat karate hain dharm ke naam par gaaliyaan bhee dete hain yah sab hamaare bhaarateey mein aaj ke samay mein sab galat ho raha hai

bolkar speaker
आज के भारतीय समाज में क्या गलत हो रहा हैं?Aaj Ke Bhartiya Samaj Mein Kya Galat Ho Raha Hain
अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
3:56
प्रश्न पूछा गया है कि आज के भारतीय समाज में क्या गलत हो रहा है कि आज के भारतीय समाज की बात करें तो आप खुद की एक कहानी मैं सुनाता हूं उससे आप समझ जाओगे कि समाज में क्या हो रहा है पिता क्या है कि बेटे को देखे डॉक्टर बनना चाहता था बेटा इतना मेघा भी नहीं था कि मेडिकल प्रवेश परीक्षा क्लियर कर लेता है इसलिए दलालों से एमबीबीएस की सीट खरीदने का जुगाड़ किया जमीन हो गई जायदाद हो गया 6 बार हो गया सब गिरवी रखे ₹300000 दलालों को दिए लेकिन अफसोस वहां धोखा हो गया अब क्या करें तो क्या करें देखिए लड़कियों को तो डॉक्टर बनाना है कैसे भी फिर किसी तरह विदेश में लड़कियों को एडमिशन कराया गया वहां लड़का चल नहीं पाया फेल होने लगा तो वह देखी क्या है कि डिप्रेशन में रहने लगा तो रक्षाबंधन पर घर आया और घर में ही दिखे उसने फांसी लगा ली सारे अरमान धराशाई रेत के महल की तरह रहेगा 20 दिन बाद मां-बाप और बहन ने भी कीटनाशक खाकर आत्महत्या कर ली अपने बेटे को डॉक्टर बनाने की छोटी मुस्कान छावनी पूरा परिवार ले लिया समझ लीजिए यह सच्ची घटना में बता रहा हूं मां बाप अपने सपने अपनी महत्वाकांक्षा अपने बच्चों से पूरी करना चाहता है मैंने देखा है कि कुछ मां बाप अपने बच्चों को टॉपर बनाने के लिए इतना ज्यादा अंगल दबाव डालते कि बच्चे का स्वाभाविक विकास भी दिखे रुक जाता है आधुनिक स्कूली शिक्षा बच्चों का मूल्यांकन और ग्रेडिंग ऐसे करती है कि जैसे सेब के बाग में सेब की खेती की जाती पूरे देश के करोड़ों बच्चों को एक ही पाठ्यक्रम पढ़ाया जा रहा है उदाहरण के तौर पर जंगल में सभी पशुओं को एकत्र कर सब का इंतिहान लिया जा रहा और पेड़ पर चढ़ने की क्षमता देखकर रंग निकाली जा रही है शिक्षा व्यवस्था भूल जाती है कि इस प्रश्न पत्र में तो बेचारा हाथी का बच्चा फेल हो जाएगा और बंदर पहला आ जाएगा अब देखिए पूरे जंगल में यह बात पहले की कामयाब है जो झट से पेड़ पर चढ़ जाए बाकी सब का जीवन व्यर्थ है इसलिए उन सब जानवरों के दिन के बच्चे कूद के झटपट पेड़ पर ना चल पाए उनके लिए कोचिंग संस्थान खुल गया वहां पर बच्चों को पेड़ पर चलना सिखाया जाता है चल पड़े हाथी जिराफ से साणंद ऐसी सब समंदर की समझ लिया चल पड़ी अपने बच्चों के साथ कौन सी संस्थान के ओरिया में उदाहरण आपको दे रहा हूं तो हमारा विधवा भी पेड़ पर चलेगा हमारा नाम रोशन करेगा हाथी के घर लड़का हुआ तो उसने उसे दी की गोद में लेकर कहा हमारी जिंदगी का एक ही मकसद है कि हमारा वीडियो पेड़ पर चढ़े और जब बेटवा पेड़ पर नहीं चल पाया तो हाथी ने सपरिवार खुदकुशी कर ली अपने बच्चों को पहचानिए वह क्या है वह जानिए हाथी है शेर चीता जिराफ उठाइए मछली है या फिर हंस है मोर है या कोई है क्या पता उसकी थी वह और यदि चींटी है आपका बच्चा तो हताश निराश ना होती थी धरती का सबसे पश्चिमी जीव है और अपने खुद के भजन की तुलना में 1000 गुना ज्यादा वजन उठा सकता है इसलिए अपने बच्चों की क्षमता को परखे और जीवन में आगे बढ़ने की प्रोत्साहित करें ना कि भेड़ चाल चलाते हुए उसे हतोत्साहित करें निराश ना हो कि नहीं को शहनाई बजाने पर भी भारत से मिलाए तो इन सब बातों को ध्यान दें यही आज की डेट में समाज में गलत हुआ ऐसे तो बहुत कुछ हो रहा है जय हिंद जय भारत
Prashn poochha gaya hai ki aaj ke bhaarateey samaaj mein kya galat ho raha hai ki aaj ke bhaarateey samaaj kee baat karen to aap khud kee ek kahaanee main sunaata hoon usase aap samajh jaoge ki samaaj mein kya ho raha hai pita kya hai ki bete ko dekhe doktar banana chaahata tha beta itana megha bhee nahin tha ki medikal pravesh pareeksha kliyar kar leta hai isalie dalaalon se emabeebeees kee seet khareedane ka jugaad kiya jameen ho gaee jaayadaad ho gaya 6 baar ho gaya sab giravee rakhe ₹300000 dalaalon ko die lekin aphasos vahaan dhokha ho gaya ab kya karen to kya karen dekhie ladakiyon ko to doktar banaana hai kaise bhee phir kisee tarah videsh mein ladakiyon ko edamishan karaaya gaya vahaan ladaka chal nahin paaya phel hone laga to vah dekhee kya hai ki dipreshan mein rahane laga to rakshaabandhan par ghar aaya aur ghar mein hee dikhe usane phaansee laga lee saare aramaan dharaashaee ret ke mahal kee tarah rahega 20 din baad maan-baap aur bahan ne bhee keetanaashak khaakar aatmahatya kar lee apane bete ko doktar banaane kee chhotee muskaan chhaavanee poora parivaar le liya samajh leejie yah sachchee ghatana mein bata raha hoon maan baap apane sapane apanee mahatvaakaanksha apane bachchon se pooree karana chaahata hai mainne dekha hai ki kuchh maan baap apane bachchon ko topar banaane ke lie itana jyaada angal dabaav daalate ki bachche ka svaabhaavik vikaas bhee dikhe ruk jaata hai aadhunik skoolee shiksha bachchon ka moolyaankan aur greding aise karatee hai ki jaise seb ke baag mein seb kee khetee kee jaatee poore desh ke karodon bachchon ko ek hee paathyakram padhaaya ja raha hai udaaharan ke taur par jangal mein sabhee pashuon ko ekatr kar sab ka intihaan liya ja raha aur ped par chadhane kee kshamata dekhakar rang nikaalee ja rahee hai shiksha vyavastha bhool jaatee hai ki is prashn patr mein to bechaara haathee ka bachcha phel ho jaega aur bandar pahala aa jaega ab dekhie poore jangal mein yah baat pahale kee kaamayaab hai jo jhat se ped par chadh jae baakee sab ka jeevan vyarth hai isalie un sab jaanavaron ke din ke bachche kood ke jhatapat ped par na chal pae unake lie koching sansthaan khul gaya vahaan par bachchon ko ped par chalana sikhaaya jaata hai chal pade haathee jiraaph se saanand aisee sab samandar kee samajh liya chal padee apane bachchon ke saath kaun see sansthaan ke oriya mein udaaharan aapako de raha hoon to hamaara vidhava bhee ped par chalega hamaara naam roshan karega haathee ke ghar ladaka hua to usane use dee kee god mein lekar kaha hamaaree jindagee ka ek hee makasad hai ki hamaara veediyo ped par chadhe aur jab betava ped par nahin chal paaya to haathee ne saparivaar khudakushee kar lee apane bachchon ko pahachaanie vah kya hai vah jaanie haathee hai sher cheeta jiraaph uthaie machhalee hai ya phir hans hai mor hai ya koee hai kya pata usakee thee vah aur yadi cheentee hai aapaka bachcha to hataash niraash na hotee thee dharatee ka sabase pashchimee jeev hai aur apane khud ke bhajan kee tulana mein 1000 guna jyaada vajan utha sakata hai isalie apane bachchon kee kshamata ko parakhe aur jeevan mein aage badhane kee protsaahit karen na ki bhed chaal chalaate hue use hatotsaahit karen niraash na ho ki nahin ko shahanaee bajaane par bhee bhaarat se milae to in sab baaton ko dhyaan den yahee aaj kee det mein samaaj mein galat hua aise to bahut kuchh ho raha hai jay hind jay bhaarat

bolkar speaker
आज के भारतीय समाज में क्या गलत हो रहा हैं?Aaj Ke Bhartiya Samaj Mein Kya Galat Ho Raha Hain
nitu Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए nitu जी का जवाब
Online Store
0:02

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारतीय समाज, भारतीय समाज क्या है
URL copied to clipboard