#धर्म और ज्योतिषी

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
3:22

और जवाब सुनें

anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
0:51

Ashish Lavania Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Ashish जी का जवाब
Yoga Instructor
0:21
दूसरा कारण भी हो सकता था करवाने को होता परंतु भगवान श्री कृष्ण के युद्ध युधिष्ठिर जो थे वह कभी झूठ नहीं बोलते थे इसलिए भगवान ने उनसे करवाया क्योंकि और कोई भी झूठ बोल सकता था केवल युधिष्ठिर से तुझे सत्यवान से बिल्कुल झूठ नहीं बोलते हो दुर्गा चाहने बिल्कुल आंख मूंदकर उन पर विश्वास कर लिया था कि यह व्यक्ति झूठ बोलते ही नहीं है इसीलिए और यही कारण में अंतर
Doosara kaaran bhee ho sakata tha karavaane ko hota parantu bhagavaan shree krshn ke yuddh yudhishthir jo the vah kabhee jhooth nahin bolate the isalie bhagavaan ne unase karavaaya kyonki aur koee bhee jhooth bol sakata tha keval yudhishthir se tujhe satyavaan se bilkul jhooth nahin bolate ho durga chaahane bilkul aankh moondakar un par vishvaas kar liya tha ki yah vyakti jhooth bolate hee nahin hai iseelie aur yahee kaaran mein antar

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:41

Vikas Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vikas जी का जवाब
Student
1:04
आपका साले कि भगवान शिव शंकर ने युधिष्ठिर से झूठ बोला है कि अश्व दामन भर गया क्या धर्मशाला के बाद कोई और का निस्तारण द्रोणाचार्य को पेंट्स मारना असंभव कार्य था फ्रेंड मतलब अगर उनके सामने फ्रेंड्स उनको कोई मार्च तक खुली आंख से फ्रेंड्स अगर ओ युद्ध कर रहा तो कैंसिल कराना सबसे कठिन कार्य था फ्रेंड जब फ्रेंड्स श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर से जुट बुलवाया था कि अस्पताल मर गया तब तो फिर फ्रेंड द्रोणाचार्य फ्रेंड्स अपने क्षेत्र के फैंस जमीन में रोने लग गए थे फेंड जोड़ो सरवन लगे चैन की आंख बंद थी तभी सेंड स्टेशन का अर्थ श्री कृष्ण ने अर्जुन से उनका युद्ध अपना खून कब बंद करवाया था तरुण आचार्य का संजू की खुली आंखों में द्रोणाचार्य को मारना असंभव कार्य था अब इसलिए श्री कृष्ण ने यह षड्यंत्र रचा और अपने ही झूठ बोला कि सुदामा मर गया है अगर आपको अच्छा लगा हो तो प्लीज लाइक कर देना चाहिए जय भारत
Aapaka saale ki bhagavaan shiv shankar ne yudhishthir se jhooth bola hai ki ashv daaman bhar gaya kya dharmashaala ke baad koee aur ka nistaaran dronaachaary ko pents maarana asambhav kaary tha phrend matalab agar unake saamane phrends unako koee maarch tak khulee aankh se phrends agar o yuddh kar raha to kainsil karaana sabase kathin kaary tha phrend jab phrends shreekrshn ne yudhishthir se jut bulavaaya tha ki aspataal mar gaya tab to phir phrend dronaachaary phrends apane kshetr ke phains jameen mein rone lag gae the phend jodo saravan lage chain kee aankh band thee tabhee send steshan ka arth shree krshn ne arjun se unaka yuddh apana khoon kab band karavaaya tha tarun aachaary ka sanjoo kee khulee aankhon mein dronaachaary ko maarana asambhav kaary tha ab isalie shree krshn ne yah shadyantr racha aur apane hee jhooth bola ki sudaama mar gaya hai agar aapako achchha laga ho to pleej laik kar dena chaahie jay bhaarat

itishree Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए itishree जी का जवाब
Unknown
1:09
भगवान श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर से झूठ बोल वाया केयर अश्वत्थामा मारा गया क्या द्रोणाचार्य के बाद का कोई और कारण नहीं हो सकता था देखिए जो महाभारत चला धर्माधर्म के बीच तू कौरव के यहां बहुत बहुत अच्छा जोधा थे जो कि गुरु भी थे वह उसमें एक द्रोणाचार्य थे द्रोणाचार्य को हराना बहुत ही मुश्किल हो इसलिए श्री कृष्ण को ऐसा चाल चलना पड़ा क्योंकि युधिष्ठिर कभी झूठ नहीं बोलते यह बात उनको पता तो सबको पता था इसलिए युधिष्ठिर से यह झूठ उसने बुलवाया ताकि क्योंकि और अगर किसी ने यह बात कही होती तो वह विश्वास नहीं करते बहुत जानते थे कि युधिष्ठिर कभी झूठ नहीं बोलते इसलिए श्री कृष्ण ने यह चाल लीला रचाई की जूती स्टेट से यह बात उसने बुलाया उनके मुंह से ताकि वह धनुष नीचे गिरा दे बोन का पत्ता
Bhagavaan shreekrshn ne yudhishthir se jhooth bol vaaya keyar ashvatthaama maara gaya kya dronaachaary ke baad ka koee aur kaaran nahin ho sakata tha dekhie jo mahaabhaarat chala dharmaadharm ke beech too kaurav ke yahaan bahut bahut achchha jodha the jo ki guru bhee the vah usamen ek dronaachaary the dronaachaary ko haraana bahut hee mushkil ho isalie shree krshn ko aisa chaal chalana pada kyonki yudhishthir kabhee jhooth nahin bolate yah baat unako pata to sabako pata tha isalie yudhishthir se yah jhooth usane bulavaaya taaki kyonki aur agar kisee ne yah baat kahee hotee to vah vishvaas nahin karate bahut jaanate the ki yudhishthir kabhee jhooth nahin bolate isalie shree krshn ne yah chaal leela rachaee kee jootee stet se yah baat usane bulaaya unake munh se taaki vah dhanush neeche gira de bon ka patta

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:54
प्रीति श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर से जो झूठ बनवाया था अश्वत्थामा मारा गया है दरअसल मैं अस्वस्थ अमन नाम का एक हाथी था पांडवों की सेना में और श्रीकृष्ण इस बात को जानते थे कि जब तक यह नए युधिस्टर के मुंह से नहीं करवाया जाएगा कि अश्वत्थामा मारा गया अब बंधु आचार्य विश्वास नहीं करेंगे इसलिए भीम ने अपने हाथी अश्वत्थामा को मार दिया और जोर से चिल्लाकर के का अश्वत्थामा मारा गया तब युधिष्ठिर ने कहा कि अश्वत्थामा मारा गया प्राचार्य ने जो अश्वत्थामा के मरने का समाचार युधिस्टर के मुंह से सुना तो निश्चित रूप से मैं विश्वास हो गया कि जब जब कभी असत्य नहीं बोलता है तब उन्होंने पूछा था गंधार है आपका कुंजर तो जैसे ही युधिष्ठिर ने कुंजर शब्द कहा अब उसी समय ही खुशी उसने बहुत तेज शंख ध्वनि की आवाज कर दी तो उस संघ धोनी की आवाज में दुआ चाहिए ना सुन सके कि कुंजन इसलिए वह अपने पुत्र अश्वत्थामा को बेहद प्रेम करते थे इसलिए उन्होंने शास्त्रों का त्याग कर दिया तो उसी समय ही क्योंकि दृष्ट धूमन जो पांडवों के सेनापति थे वह राजा द्रुपद के पुत्र थे और राजा द्रुपद की और द्रोणाचार्य की पहली लड़ाई हो चुकी थी तू आचार्य के द्वारा दुपद का अपमान किया गया था क्योंकि द्रुपद ने दो आचार्य का अपमान भरी सभा में किया था लेकिन दो आचार्य ने अपनी को दक्षिणा में अर्जुन से यही मांगा था कि राजा द्रुपद को बंद करके मेरे सामने लाकर डालोगे इसलिए उस उसके कारण से उसने तलवार से दृष्ट धूमन अनिरुद्ध आचार्य का वध कर दिया इसके सिवा और कोई साधन नहीं कारण नहीं था जिसके कारण से जिस साधन से प्राचार्य के पद किया जा सकता था क्योंकि द्रोणाचार्य अस्त्र शस्त्रों के महा ज्ञाता थे महान भारतीय थे उनके अस्त्र-शस्त्र हाथ में रहते हुए उनका पद करना अत्यंत कठिन था तो श्रीकृष्ण ने यह चाल बताई थी
Preeti shreekrshn ne yudhishthir se jo jhooth banavaaya tha ashvatthaama maara gaya hai darasal main asvasth aman naam ka ek haathee tha paandavon kee sena mein aur shreekrshn is baat ko jaanate the ki jab tak yah nae yudhistar ke munh se nahin karavaaya jaega ki ashvatthaama maara gaya ab bandhu aachaary vishvaas nahin karenge isalie bheem ne apane haathee ashvatthaama ko maar diya aur jor se chillaakar ke ka ashvatthaama maara gaya tab yudhishthir ne kaha ki ashvatthaama maara gaya praachaary ne jo ashvatthaama ke marane ka samaachaar yudhistar ke munh se suna to nishchit roop se main vishvaas ho gaya ki jab jab kabhee asaty nahin bolata hai tab unhonne poochha tha gandhaar hai aapaka kunjar to jaise hee yudhishthir ne kunjar shabd kaha ab usee samay hee khushee usane bahut tej shankh dhvani kee aavaaj kar dee to us sangh dhonee kee aavaaj mein dua chaahie na sun sake ki kunjan isalie vah apane putr ashvatthaama ko behad prem karate the isalie unhonne shaastron ka tyaag kar diya to usee samay hee kyonki drsht dhooman jo paandavon ke senaapati the vah raaja drupad ke putr the aur raaja drupad kee aur dronaachaary kee pahalee ladaee ho chukee thee too aachaary ke dvaara dupad ka apamaan kiya gaya tha kyonki drupad ne do aachaary ka apamaan bharee sabha mein kiya tha lekin do aachaary ne apanee ko dakshina mein arjun se yahee maanga tha ki raaja drupad ko band karake mere saamane laakar daaloge isalie us usake kaaran se usane talavaar se drsht dhooman aniruddh aachaary ka vadh kar diya isake siva aur koee saadhan nahin kaaran nahin tha jisake kaaran se jis saadhan se praachaary ke pad kiya ja sakata tha kyonki dronaachaary astr shastron ke maha gyaata the mahaan bhaarateey the unake astr-shastr haath mein rahate hue unaka pad karana atyant kathin tha to shreekrshn ne yah chaal bataee thee

pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
0:51
जांबा जी का रुणिचा वाले भगवान श्री कृष्ण ने विदेश नीति फूट बुलवाया की अश्वत्थामा मारा गया क्या द्रोणाचार्य के वध का कोई और कारण नहीं हो सकता था उसका विरोध किया है यह बात अच्छी तरीके से पता था लेकिन मुझे को कि अभिषेक कभी झूठ नहीं बोलते हैं और दृष्टि से उन्होंने इस निर्णायक डिस्ट्रिक्ट बोलते तो सब को विश्वास हो गया कि अश्वत्थामा मारा गया अगर कोई और बोलता है तो यह बात को विश्वास नहीं करता लेकिन जब विदेशों में जाकर बोले कि अश्वत्थामा मारा गया तो इंकार कर दिया और यही था कि उन्होंने श्रीकृष्ण ने आदित्य से झूठ बोला या तो आप हमें सवाल पूछने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद
Jaamba jee ka runicha vaale bhagavaan shree krshn ne videsh neeti phoot bulavaaya kee ashvatthaama maara gaya kya dronaachaary ke vadh ka koee aur kaaran nahin ho sakata tha usaka virodh kiya hai yah baat achchhee tareeke se pata tha lekin mujhe ko ki abhishek kabhee jhooth nahin bolate hain aur drshti se unhonne is nirnaayak distrikt bolate to sab ko vishvaas ho gaya ki ashvatthaama maara gaya agar koee aur bolata hai to yah baat ko vishvaas nahin karata lekin jab videshon mein jaakar bole ki ashvatthaama maara gaya to inkaar kar diya aur yahee tha ki unhonne shreekrshn ne aadity se jhooth bola ya to aap hamen savaal poochhane ke lie aapaka bahut-bahut dhanyavaad

Ramvriksh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Ramvriksh जी का जवाब
CivilEngineer
4:00
मित्रों नए साल पर सभी मित्रों को और घर परिवार के सदस्यों को भाई बहनों को उनके परिजनों को नमस्कार सादर प्रणाम सुप्रभात गुड मॉर्निंग नव वर्ष सभी लोगों का मित्रों मंगलमय हो 2012 2021 प्रश्न पूछा गया मित्रों की भगवान श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर से झूठ बोला कि अश्वत्थामा मारा गया या दुराचार के बाद कोई और कारण नहीं हो सकता था देख कर जमा भारत का था उसमें कारों की तरफ से जो गुरु थे और ओ और पांडु के द्रोणाचार्य जी महाराज दो द्रोणाचार्य बहुत विद्वान और शक्तिशाली और वीर विट्ठल के सामने कोई टिक नहीं सकता था जब देखा कि भगवान श्री कृष्ण देखा कि यदि दुर्योधन नहीं मारे जाते हैं तो यह हमारी जो सेना है गोरों के विपक्ष मतलब विरुद्ध लड़ाई में लड़ाई नहीं जीत सकती है हार्दिक हो सकती है तो जहां भगवान रहे व्यवहार का कोई प्रश्न नहीं है तो जो कि उन्होंने आज तक ना उठाने की प्रतिज्ञा की थी भगवान कृष्ण ने एक चाल चली और युधिष्ठिर से झूठ बोला या उन को मारने के लिए प्रयोग नहीं सर कर सकते थे प्रधानाचार्य जी महाराज तो उन्होंने सबको मालूम था कि युधिष्ठिर कभी झूठ बोलते हैं बोल नहीं सकते विश्वास था तो गुरु द्रोणाचार्य को भी विश्वास था उन्होंने कहा कि करना क्या है अश्वत्थामा मारा करना है नरोवा कंजरो नरोड़ना गुर्जरों का गाना मराठी मारा गया अश्वत्थामा मारा गया ना रो ना रो ना रो मायरो अंदर मारा गया को जला डाला कुंजर नहीं मारा क्या अश्वत्थामा नाम का हाथी भी था उसमें सेना में सुषमा नाम का करो कि सेना में हाथी भी था तो लोगों ने कहा कि नर ना करो नरोना गुजरो तो मतलब नर नहीं मारा गया अश्वत्थामा नाम का कोई जमाना गया कुंजर हाथी को कहते हैं उत्तर झूठ उन्होंने बोला था और इसी से दुखी हो गए हो मैं अस्त्र-शस्त्र चेक दिया होगा कि मेरा बेटा ही मारा गया तो लड़ाई जीत के हम क्या करेंगे और इसके बाद मौका पाकर कर दिया इससे बढ़िया मौका नहीं मिलेगा भगवान कृष्ण के पुत्र को पीट किया और दुर्योधन का वध कर दिया देश 2 मिनट में बंद करके गुरु का जबकि ऐसा नहीं होना चाहिए था लेकिन लड़ाई तो जीत ली थी भगवान के पक्ष में बात होनी थी आंडू पुत्रों को विजय दिलाने थी क्योंकि उनके तरफ से थे भगवान श्री कृष्ण को इस तरह से अर्जुन यह दो ना मारे गए उसी तरह से मिशन पिताजी भी मारे गए थे तो इस तरह से युद्ध लड़ा गया महाभारत में किसके माध्यम से पांडवों की जीत सुनिश्चित हुई कहानी
Mitron nae saal par sabhee mitron ko aur ghar parivaar ke sadasyon ko bhaee bahanon ko unake parijanon ko namaskaar saadar pranaam suprabhaat gud morning nav varsh sabhee logon ka mitron mangalamay ho 2012 2021 prashn poochha gaya mitron kee bhagavaan shreekrshn ne yudhishthir se jhooth bola ki ashvatthaama maara gaya ya duraachaar ke baad koee aur kaaran nahin ho sakata tha dekh kar jama bhaarat ka tha usamen kaaron kee taraph se jo guru the aur o aur paandu ke dronaachaary jee mahaaraaj do dronaachaary bahut vidvaan aur shaktishaalee aur veer vitthal ke saamane koee tik nahin sakata tha jab dekha ki bhagavaan shree krshn dekha ki yadi duryodhan nahin maare jaate hain to yah hamaaree jo sena hai goron ke vipaksh matalab viruddh ladaee mein ladaee nahin jeet sakatee hai haardik ho sakatee hai to jahaan bhagavaan rahe vyavahaar ka koee prashn nahin hai to jo ki unhonne aaj tak na uthaane kee pratigya kee thee bhagavaan krshn ne ek chaal chalee aur yudhishthir se jhooth bola ya un ko maarane ke lie prayog nahin sar kar sakate the pradhaanaachaary jee mahaaraaj to unhonne sabako maaloom tha ki yudhishthir kabhee jhooth bolate hain bol nahin sakate vishvaas tha to guru dronaachaary ko bhee vishvaas tha unhonne kaha ki karana kya hai ashvatthaama maara karana hai narova kanjaro narodana gurjaron ka gaana maraathee maara gaya ashvatthaama maara gaya na ro na ro na ro maayaro andar maara gaya ko jala daala kunjar nahin maara kya ashvatthaama naam ka haathee bhee tha usamen sena mein sushama naam ka karo ki sena mein haathee bhee tha to logon ne kaha ki nar na karo narona gujaro to matalab nar nahin maara gaya ashvatthaama naam ka koee jamaana gaya kunjar haathee ko kahate hain uttar jhooth unhonne bola tha aur isee se dukhee ho gae ho main astr-shastr chek diya hoga ki mera beta hee maara gaya to ladaee jeet ke ham kya karenge aur isake baad mauka paakar kar diya isase badhiya mauka nahin milega bhagavaan krshn ke putr ko peet kiya aur duryodhan ka vadh kar diya desh 2 minat mein band karake guru ka jabaki aisa nahin hona chaahie tha lekin ladaee to jeet lee thee bhagavaan ke paksh mein baat honee thee aandoo putron ko vijay dilaane thee kyonki unake taraph se the bhagavaan shree krshn ko is tarah se arjun yah do na maare gae usee tarah se mishan pitaajee bhee maare gae the to is tarah se yuddh lada gaya mahaabhaarat mein kisake maadhyam se paandavon kee jeet sunishchit huee kahaanee

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भगवान कृष्ण युधिष्ठिर तथा द्रोणाचार्य
URL copied to clipboard