#जीवन शैली

bolkar speaker

दूसरों को दुख पहुंचाने से क्या खुशी मिलती है?

Dusro Ko Dukh Pahunchane Se Kya Khushi Milti Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:53

और जवाब सुनें

bolkar speaker
दूसरों को दुख पहुंचाने से क्या खुशी मिलती है?Dusro Ko Dukh Pahunchane Se Kya Khushi Milti Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:24

bolkar speaker
दूसरों को दुख पहुंचाने से क्या खुशी मिलती है?Dusro Ko Dukh Pahunchane Se Kya Khushi Milti Hai
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
1:16

bolkar speaker
दूसरों को दुख पहुंचाने से क्या खुशी मिलती है?Dusro Ko Dukh Pahunchane Se Kya Khushi Milti Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:27

bolkar speaker
दूसरों को दुख पहुंचाने से क्या खुशी मिलती है?Dusro Ko Dukh Pahunchane Se Kya Khushi Milti Hai
Vikas Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vikas जी का जवाब
Student
1:09
तपस वाले की दूसरों को दुख पहुंचाने में क्या खुशी मिलती है सिर्फ मेरे साथ से बिल्कुल भी नहीं पेंट्स आप किसी को हर्ट करके आओ ठीक है फ्रेंड हॉट करके उसके बाद फिर आप अपने घर पर उल्टे लौट के आओ ठीक है फिर आप जो प्राप्त सो गए आप मैं आपको एक अंदर अंदर से फीलिंग होगी कि यार आज जो मैंने उस बंद सब जो गलत किया है जो नकल किया है बिल्कुल भी सही नहीं क्या है अब मैं उस गलती का एहसास कर सकता हूं फ्रेंड्स आप अपने घुट घुट के अंदर से मर जाओगे आप जो गलती करते हो उसका प्रचार तरह अगर आप नहीं कर पाते थे सेंट्स आप अंदर से घुट घुट के मर जाते हो विशाल से फ्रेंड्स किसी को तो पता चलता आपको कभी भी खुशी नहीं मिलेगी फ्रेंड्स कभी भी मेरे पास तक बात मान लेना फ्रेंड्स आपको बल के अंदर अंदर से दुख होगा यार मैंने उसको दुख पहुंचाया तो यार अभी आप माफी मांगे पर व्हाट्सएप माफी मांगने के लायक ही नहीं है इसलिए आप किसी को दुख ना दे फ्रेंड शुक्ला सुप्पी ना दे पाए तो किसी को दुख दीना दे अगर आपको ठेस लगे तो 20 लाइक कर देना चाहिए था
Tapas vaale kee doosaron ko dukh pahunchaane mein kya khushee milatee hai sirph mere saath se bilkul bhee nahin pents aap kisee ko hart karake aao theek hai phrend hot karake usake baad phir aap apane ghar par ulte laut ke aao theek hai phir aap jo praapt so gae aap main aapako ek andar andar se pheeling hogee ki yaar aaj jo mainne us band sab jo galat kiya hai jo nakal kiya hai bilkul bhee sahee nahin kya hai ab main us galatee ka ehasaas kar sakata hoon phrends aap apane ghut ghut ke andar se mar jaoge aap jo galatee karate ho usaka prachaar tarah agar aap nahin kar paate the sents aap andar se ghut ghut ke mar jaate ho vishaal se phrends kisee ko to pata chalata aapako kabhee bhee khushee nahin milegee phrends kabhee bhee mere paas tak baat maan lena phrends aapako bal ke andar andar se dukh hoga yaar mainne usako dukh pahunchaaya to yaar abhee aap maaphee maange par vhaatsep maaphee maangane ke laayak hee nahin hai isalie aap kisee ko dukh na de phrend shukla suppee na de pae to kisee ko dukh deena de agar aapako thes lage to 20 laik kar dena chaahie tha

bolkar speaker
दूसरों को दुख पहुंचाने से क्या खुशी मिलती है?Dusro Ko Dukh Pahunchane Se Kya Khushi Milti Hai
itishree Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए itishree जी का जवाब
Unknown
1:09
दूसरों को दुख पहुंचाने से क्या खुशी मिलती है दुख दूसरे को दुख पहुंचाने पहुंचाने से खुशी नहीं होती अभी लोग कैसे हैं जो कि उनको दुख देकर उनको बहुत ही अच्छा लगता है मुझे यह नहीं पता कि क्या अच्छा लगता है क्योंकि कर्म का फल को भी सब को भोगना पड़ता है अगर आप किसी का दिल दुखाया है उसी को दुख पहुंचाया है तो भगवान को उसका दोगुना दुख आपको देखा इसलिए अगर आप अगर किसी के कष्ट वाक्य और कोई भी वाक्य आप नहीं सेंड कर सके तो यह बात किसी को नहीं भी आप बता सके इसलिए सब से प्यार से बात कीजिए सबको हंसाने की खुश रहने की कोशिश कीजिए जीवन का यही महत्व है इससे जीवन अच्छा करता है और भगवान की आप ऊपर पैसे ना होते हैं तो दूसरों को दुख देना बंद करें क्योंकि भगवान सब देख रहा है
Doosaron ko dukh pahunchaane se kya khushee milatee hai dukh doosare ko dukh pahunchaane pahunchaane se khushee nahin hotee abhee log kaise hain jo ki unako dukh dekar unako bahut hee achchha lagata hai mujhe yah nahin pata ki kya achchha lagata hai kyonki karm ka phal ko bhee sab ko bhogana padata hai agar aap kisee ka dil dukhaaya hai usee ko dukh pahunchaaya hai to bhagavaan ko usaka doguna dukh aapako dekha isalie agar aap agar kisee ke kasht vaaky aur koee bhee vaaky aap nahin send kar sake to yah baat kisee ko nahin bhee aap bata sake isalie sab se pyaar se baat keejie sabako hansaane kee khush rahane kee koshish keejie jeevan ka yahee mahatv hai isase jeevan achchha karata hai aur bhagavaan kee aap oopar paise na hote hain to doosaron ko dukh dena band karen kyonki bhagavaan sab dekh raha hai

bolkar speaker
दूसरों को दुख पहुंचाने से क्या खुशी मिलती है?Dusro Ko Dukh Pahunchane Se Kya Khushi Milti Hai
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:36
दूसरों को दुख पहुंचाने से थोड़े समय के लिए इंसान खुशी महसूस कर सकता है बाद में उसे जो पड़ता पड़ता है उसका सबसे बड़ा बेकार है इसलिए इंसान को दूसरे के दुख देने में लेने से पहले यह सोचना चाहिए कि तू को मुझे भी भुगतना पड़ेगा इसीलिए दूसरे के प्रति रोजगार का कार्य करते रहना चाहिए यही इंसानियत है
Doosaron ko dukh pahunchaane se thode samay ke lie insaan khushee mahasoos kar sakata hai baad mein use jo padata padata hai usaka sabase bada bekaar hai isalie insaan ko doosare ke dukh dene mein lene se pahale yah sochana chaahie ki too ko mujhe bhee bhugatana padega iseelie doosare ke prati rojagaar ka kaary karate rahana chaahie yahee insaaniyat hai

bolkar speaker
दूसरों को दुख पहुंचाने से क्या खुशी मिलती है?Dusro Ko Dukh Pahunchane Se Kya Khushi Milti Hai
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
2:21
दूसरों को दुख पहुंचाने से केवल खुशी एक राक्षस श्रेणी के इंसान को ही मिल सकती है बाकी जो नेक इंसान होगा जो भला आदमी होगा जो अपने संस्कारों के उपरांत घर का व्यक्ति होगा वह कभी किसी को दुख नहीं दे सकता है क्योंकि हमें संसार में भगवान ने दूसरों को दुख देने के लिए नहीं भेजा है हमें संसार में भगवान ने दूसरों को खुशी बांटने के लिए भेजा है क्षमता देने के लिए भेजा है दूसरों को का चिंतन कीजिए दूसरों का लाभ कीजिए सत्यम शिवम सुंदरम की भावना रखिए सभी की सहायता कीजिए सेवा कीजिए इसलिए भगवान ने आपको प्रेम पूर्वक भाई चारे के साथ मिलकर के रहने को भेजा है यह किसी को पीड़ा पहुंचाना किसी को दुख देना किसी की आंखों से रुलाना किसी को मारना केवल राक्षस की कर्म हो सकते हैं केवल एक राक्षस व्यक्ति दूसरों के दुखी होने पर दूसरों के टेंशन युक्त होने पर दूसरों के पर्सेंट करने पर प्रसन्न होते हैं कभी नेक इंसान कभी देखते वक्त वाला इंसान कोई भला आदमी कदापि किसी को दुख नहीं देना चाहेगा क्योंकि तुलसीदास जी ने तो बहुत पहले का है कि परहित सरिस धर्म नहिं भाई पर पीड़ा सम नहिं आत्माएं दूसरों को दुख देना दूसरों को पीड़ा पहुंचाना महान रिश्ता का कार्य राष्ट्रपति का कार्य है और महर्षि वेदव्यास जी ने भी इस ग्रुप में 18 पुराण शिव पुराण की रचना करने के बाद यही कहा है अष्टादश पुराणेषु व्यासस्य बचन नियम परोपकार पर न्याय पा पाए पर प्रणब परोपकार करना सबसे बड़ा पुण्य का कार्य है और दूसरों को दुख देना दूसरों को पीड़ा पहुंचाना दूसरों को परेशान करना दूसरों को मारना दूसरों की हत्या करना सबसे बड़ा कदम निजता का कार्य क्षमता का कार्य और राक्षसों का कार्य होता है कोई भी सज्जन इंसान दूसरों को दुख देकर कि कभी खुशी नहीं होता है अपितु संवेदना के कारण वह भी अपने आप को पीड़ित और दुखी अनुभव करता है
Doosaron ko dukh pahunchaane se keval khushee ek raakshas shrenee ke insaan ko hee mil sakatee hai baakee jo nek insaan hoga jo bhala aadamee hoga jo apane sanskaaron ke uparaant ghar ka vyakti hoga vah kabhee kisee ko dukh nahin de sakata hai kyonki hamen sansaar mein bhagavaan ne doosaron ko dukh dene ke lie nahin bheja hai hamen sansaar mein bhagavaan ne doosaron ko khushee baantane ke lie bheja hai kshamata dene ke lie bheja hai doosaron ko ka chintan keejie doosaron ka laabh keejie satyam shivam sundaram kee bhaavana rakhie sabhee kee sahaayata keejie seva keejie isalie bhagavaan ne aapako prem poorvak bhaee chaare ke saath milakar ke rahane ko bheja hai yah kisee ko peeda pahunchaana kisee ko dukh dena kisee kee aankhon se rulaana kisee ko maarana keval raakshas kee karm ho sakate hain keval ek raakshas vyakti doosaron ke dukhee hone par doosaron ke tenshan yukt hone par doosaron ke parsent karane par prasann hote hain kabhee nek insaan kabhee dekhate vakt vaala insaan koee bhala aadamee kadaapi kisee ko dukh nahin dena chaahega kyonki tulaseedaas jee ne to bahut pahale ka hai ki parahit saris dharm nahin bhaee par peeda sam nahin aatmaen doosaron ko dukh dena doosaron ko peeda pahunchaana mahaan rishta ka kaary raashtrapati ka kaary hai aur maharshi vedavyaas jee ne bhee is grup mein 18 puraan shiv puraan kee rachana karane ke baad yahee kaha hai ashtaadash puraaneshu vyaasasy bachan niyam paropakaar par nyaay pa pae par pranab paropakaar karana sabase bada puny ka kaary hai aur doosaron ko dukh dena doosaron ko peeda pahunchaana doosaron ko pareshaan karana doosaron ko maarana doosaron kee hatya karana sabase bada kadam nijata ka kaary kshamata ka kaary aur raakshason ka kaary hota hai koee bhee sajjan insaan doosaron ko dukh dekar ki kabhee khushee nahin hota hai apitu sanvedana ke kaaran vah bhee apane aap ko peedit aur dukhee anubhav karata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • दूसरों को दुख पहुंचाने से क्या खुशी मिलती है दूसरों को दुख पहुंचाने से खुशी
URL copied to clipboard