#भारत की राजनीति

Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
1:03
आपका सवाल है कि क्या खालिस्तान नाम का कोई देश है जिसकी वजह से किसानों को फरिश्ता नहीं देंगे कहा जाता है तो खाली स्थान नाम का अभी कोई वर्तमान में दे तो नहीं है पर सन उन्नीस सौ अस्सी के दशक में खालिस्तान की मांग को लेकर पंजाब के 6 जोकि अमृतसर का अमृतसर की सेक्स और राजनीति या धार्मिक काल तक किए हैं जिसे से अपनी मांग को लेकर बहुत ज्यादा विद्रोह किया था और इसमें लगभग भारतीय मुस्लिम भारतीय पंजाबी और पाकिस्तानी पंजाबी शामिल थे इन दोनों ने मिलकर एक अलग देश बनाने की मांग की थी जो कि यह स्पष्ट नहीं हो पाया था अभी इस मांग को आगे बढ़ाने के लिए राजस्थानी दंगाई कर रहे हैं
Aapaka savaal hai ki kya khaalistaan naam ka koee desh hai jisakee vajah se kisaanon ko pharishta nahin denge kaha jaata hai to khaalee sthaan naam ka abhee koee vartamaan mein de to nahin hai par san unnees sau assee ke dashak mein khaalistaan kee maang ko lekar panjaab ke 6 joki amrtasar ka amrtasar kee seks aur raajaneeti ya dhaarmik kaal tak kie hain jise se apanee maang ko lekar bahut jyaada vidroh kiya tha aur isamen lagabhag bhaarateey muslim bhaarateey panjaabee aur paakistaanee panjaabee shaamil the in donon ne milakar ek alag desh banaane kee maang kee thee jo ki yah spasht nahin ho paaya tha abhee is maang ko aage badhaane ke lie raajasthaanee dangaee kar rahe hain

और जवाब सुनें

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:38
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है क्या खाली स्थान नाम का कोई देश है जिसकी वजह से किसानों को खालिस्तानी दंगाई कहां जा रहा है तो फ्रेंड फिलहाल में अभी खाली स्थान नाम का कोई भी देश नहीं है लेकिन 80 के दशक में किसानों की ओर से खाली स्थान नाम अली स्थान अपना अलग बनाने की आवाजें बहुत दुखी थी और पंजाब में अमृतसर के पास खाली स्थान अलग से बनाना चाहते थे लेकिन सफल नहीं हो पाया अभी तो खाली स्थान नाम का कोई भी देश नहीं है बस खाली कहने के लिए ऐसा कह दिया जाता है धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai kya khaalee sthaan naam ka koee desh hai jisakee vajah se kisaanon ko khaalistaanee dangaee kahaan ja raha hai to phrend philahaal mein abhee khaalee sthaan naam ka koee bhee desh nahin hai lekin 80 ke dashak mein kisaanon kee or se khaalee sthaan naam alee sthaan apana alag banaane kee aavaajen bahut dukhee thee aur panjaab mein amrtasar ke paas khaalee sthaan alag se banaana chaahate the lekin saphal nahin ho paaya abhee to khaalee sthaan naam ka koee bhee desh nahin hai bas khaalee kahane ke lie aisa kah diya jaata hai dhanyavaad

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:08
प्रश्न की क्या खाली स्थान नाम का कोई देश है जिसकी वजह से किसानों को खालिस्तानी दंगाई कहा जाता है खालिस्तान नाम का कोई देश नहीं है बल्कि कुछ सालों पहले जब इंदिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री थी उस समय खाली स्थान को यानी पंजाब को खालिस्तान नाम से देश बनाने की मांग की गई थी और उस वक्त कुछ लोग मिलकर और उन्होंने संगठन बना लिए और आतंक फैला इसीलिए उनको खालिस्तानी आंतकवादी कहा जाता है तो अब जो किसान आंदोलन था उस पर कुछ पंजाब के लोग भी थे और वह जो खाली स्थान दिया जो भी समर्थक उनके समर्थक कुछ लोग थे तो इसलिए सभी किसानों को या मीडिया ने खालिस्तानी दंगाई कह दिया होगा क्योंकि जो वहां पर जो झंडा लगाया गया था ना उससे लाल किले पर तो वह खालसा पंथ का था तो इसलिए इसको इस से जोड़ा गया है आज भी इस खालिस्तान की मांग है वह कनाडा और जो लंदन है वहां पर अक्सर होती रहती है
Prashn kee kya khaalee sthaan naam ka koee desh hai jisakee vajah se kisaanon ko khaalistaanee dangaee kaha jaata hai khaalistaan naam ka koee desh nahin hai balki kuchh saalon pahale jab indira gaandhee bhaarat kee pradhaanamantree thee us samay khaalee sthaan ko yaanee panjaab ko khaalistaan naam se desh banaane kee maang kee gaee thee aur us vakt kuchh log milakar aur unhonne sangathan bana lie aur aatank phaila iseelie unako khaalistaanee aantakavaadee kaha jaata hai to ab jo kisaan aandolan tha us par kuchh panjaab ke log bhee the aur vah jo khaalee sthaan diya jo bhee samarthak unake samarthak kuchh log the to isalie sabhee kisaanon ko ya meediya ne khaalistaanee dangaee kah diya hoga kyonki jo vahaan par jo jhanda lagaaya gaya tha na usase laal kile par to vah khaalasa panth ka tha to isalie isako is se joda gaya hai aaj bhee is khaalistaan kee maang hai vah kanaada aur jo landan hai vahaan par aksar hotee rahatee hai

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:30
नमस्कार अगर प्रश्न का खाली स्थान नाम का कोई देश है जिसकी वजह से किसानों को खालिस्तानी दंगाई कहां जा रहा है तो आप को बनाते दिखे खाली स्थान नाम का कोई देश नहीं है खाली स्थान नाम से एक देश की परिकल्पना जरूर है जिस को पूरा करना चाहते हैं जिसमें हिंदुस्तान भी आता है पाकिस्तान भी है तो काफी बड़ा एरिया और लेकर चल रहे हैं हालांकि कोई टीचर करें विश करने की बात करें तो वह नहीं करता है मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Namaskaar agar prashn ka khaalee sthaan naam ka koee desh hai jisakee vajah se kisaanon ko khaalistaanee dangaee kahaan ja raha hai to aap ko banaate dikhe khaalee sthaan naam ka koee desh nahin hai khaalee sthaan naam se ek desh kee parikalpana jaroor hai jis ko poora karana chaahate hain jisamen hindustaan bhee aata hai paakistaan bhee hai to kaaphee bada eriya aur lekar chal rahe hain haalaanki koee teechar karen vish karane kee baat karen to vah nahin karata hai main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
1:09
नमस्कार दोस्तों बोल कर अब मैं स्वागत है सवाल है कि क्या खाली स्थान नाम का कोई देश है जी नहीं तथा मेरा मानना है कि आज के समय में दुनिया में ऐसा कोई भी देश नहीं है तथा सन् 1984 में ऑपरेशन ब्लू स्टार और सिक्स रोड्स के बाद पंजाब के अमृतसर में लगभग 100000 लोगों का हुजूम उठा हुआ और अलग देश खाली स्थान का ऐलान किया था जिसमें पंजाब चंडीगढ़ और हरियाणा के कुछ क्षेत्र आते थे यह पहली बार था जब आम लोगों ने खालिस्तान की मांग की थी इतिहास में खालिस्तान का जिक्र 1945 में मिलता था लेकिन यह केवल एक राजनीतिक धारा थे तथा 80 के दशक में इसे आम लोगों का भारी समर्थन मिला था लेकिन आज इसका कोई प्रभाव नहीं है और जैसे ही दक्षिण भारत में दे वीर नाडु की बात की जाती है बिल्कुल वैसे ही आज सिर्फ राजनीति के लिए किसानों को खाली स्थान कहा जा रहा है
Namaskaar doston bol kar ab main svaagat hai savaal hai ki kya khaalee sthaan naam ka koee desh hai jee nahin tatha mera maanana hai ki aaj ke samay mein duniya mein aisa koee bhee desh nahin hai tatha san 1984 mein opareshan bloo staar aur siks rods ke baad panjaab ke amrtasar mein lagabhag 100000 logon ka hujoom utha hua aur alag desh khaalee sthaan ka ailaan kiya tha jisamen panjaab chandeegadh aur hariyaana ke kuchh kshetr aate the yah pahalee baar tha jab aam logon ne khaalistaan kee maang kee thee itihaas mein khaalistaan ka jikr 1945 mein milata tha lekin yah keval ek raajaneetik dhaara the tatha 80 ke dashak mein ise aam logon ka bhaaree samarthan mila tha lekin aaj isaka koee prabhaav nahin hai aur jaise hee dakshin bhaarat mein de veer naadu kee baat kee jaatee hai bilkul vaise hee aaj sirph raajaneeti ke lie kisaanon ko khaalee sthaan kaha ja raha hai

Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
2:13
क्या खालिस्तान नाम का कोई देश है जिसकी वजह से किसानों को खालिस्तानी दंगाई कहा जा रहा है कि आप सभी को याद होगा कि 1984 में इंदिरा गांधी जी की हत्या की गई थी और इंदिरा गांधी जी की हत्या का 16 उनके अंगरक्षक ने की थी और ऐसा माना जाता है कि उससे कुछ महीने पूर्व 1984 में इंदिरा गांधी जी ने सिखों के कथा का तथाकथित संत कहे जाने वाले जरनैल सिंह भिंडरावाला जो कि आतंकवादी बन चुके थे जिन्होंने जो स्वर्ण मंदिर है गोल्डन टेंपल अमृतसर का उसके अंदर अपनी सेना बना ली थी और पाकिस्तान की मदद से वहां पर कई तरीके के हथियार भी थे वहां से बोलो भारत के खिलाफ और पंजाब में अराजकता फैला रहे थे और आपने एक नए देश का प्रोपेगेंडा वह लोग फैलाना चाहते थे और भविष्य में खालसा पंथ जिससे हम कहते हैं वह खालसा के नाम से खालिस्तान नाम के अलग देश बनाने की वो लोग मांग रखते थे किंतु इंदिरा गांधी जी ने वहां पर आर्मी के द्वारा एक्शन कराया जिसमें उनका जरनैल सिंह भिंडरावाला जो सुन के सिखों के संत कहे जाते थे उनकी व्यक्ति हो गई और स्वर्ण मंदिर को भी क्षति पहुंची इससे गुस्से में आकर कुछ लोगों ने खालिस्तान की मांग को और तेज कर दिया और भारत के विरुद्ध बोलो खो गए इस आंदोलन में भी खालिस्तानी तत्व पाए गए हैं जिसमें अंदाजा लगाया जा रहा है कि कि कने कनाडा में बसे जो सिख लोग हैं जो भारत से उस चीज का स्वर्ण मंदिर पर किए गए हमले का बदला लेना चाहते हैं वह लोग किसानों के बीच में है और खालिस्तानी प्रोपेगेंडा को हवा देने की कोशिश की जा रही है अब इस बात में कितनी सत्यता है यह जांच का विषय हो सकता है किंतु हाथ खालिस्तानी आतंकवाद का उदय इंदिरा गांधी जी के ऑपरेशन ब्लू स्टार के कारण मैं समझता हूं हुआ था और कुर्सी खाली स्थान के कारण आज तमाम देशों में पाकिस्तान की आईएसआई के द्वारा भी उसकी फंडिंग की जाती है
Kya khaalistaan naam ka koee desh hai jisakee vajah se kisaanon ko khaalistaanee dangaee kaha ja raha hai ki aap sabhee ko yaad hoga ki 1984 mein indira gaandhee jee kee hatya kee gaee thee aur indira gaandhee jee kee hatya ka 16 unake angarakshak ne kee thee aur aisa maana jaata hai ki usase kuchh maheene poorv 1984 mein indira gaandhee jee ne sikhon ke katha ka tathaakathit sant kahe jaane vaale jaranail sinh bhindaraavaala jo ki aatankavaadee ban chuke the jinhonne jo svarn mandir hai goldan tempal amrtasar ka usake andar apanee sena bana lee thee aur paakistaan kee madad se vahaan par kaee tareeke ke hathiyaar bhee the vahaan se bolo bhaarat ke khilaaph aur panjaab mein araajakata phaila rahe the aur aapane ek nae desh ka propegenda vah log phailaana chaahate the aur bhavishy mein khaalasa panth jisase ham kahate hain vah khaalasa ke naam se khaalistaan naam ke alag desh banaane kee vo log maang rakhate the kintu indira gaandhee jee ne vahaan par aarmee ke dvaara ekshan karaaya jisamen unaka jaranail sinh bhindaraavaala jo sun ke sikhon ke sant kahe jaate the unakee vyakti ho gaee aur svarn mandir ko bhee kshati pahunchee isase gusse mein aakar kuchh logon ne khaalistaan kee maang ko aur tej kar diya aur bhaarat ke viruddh bolo kho gae is aandolan mein bhee khaalistaanee tatv pae gae hain jisamen andaaja lagaaya ja raha hai ki ki kane kanaada mein base jo sikh log hain jo bhaarat se us cheej ka svarn mandir par kie gae hamale ka badala lena chaahate hain vah log kisaanon ke beech mein hai aur khaalistaanee propegenda ko hava dene kee koshish kee ja rahee hai ab is baat mein kitanee satyata hai yah jaanch ka vishay ho sakata hai kintu haath khaalistaanee aatankavaad ka uday indira gaandhee jee ke opareshan bloo staar ke kaaran main samajhata hoon hua tha aur kursee khaalee sthaan ke kaaran aaj tamaam deshon mein paakistaan kee aaeeesaee ke dvaara bhee usakee phanding kee jaatee hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • खालिस्तान की राजधानी, खालिस्तान का अर्थ क्या है,खालिस्तान का किसान आन्दोलन
  • खालिस्तान आंदोलन के इतिहास, किसानो को खालिस्तानी किसान क्यों बोला जा रहा है,खालिस्तान का अर्थ
  • खालिस्तान देश के बारे में बताएं, किसानों को खालिस्तानी दंगा क्यों बोला जा रहा हूं, किसान आंदोलन 2020
URL copied to clipboard