#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker

क्या आप चंपू साहित्य के बारे में विस्तार से बता सकते हैं?

Kya Aap Champu Saahity Ke Baare Me Vistaar Se Bta Sakte Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
1:00
आपका सवाल है कि क्या आप हमको साहित्य के बारे में विस्तार से बता सकते हैं तो चंपू काव्य का एक भेज दें अर्थात गद्य और पद्य में मिश्रित काव्य कुसुमपुर कहते हैं गद्य पद्य में स्थित काव्य को चुप चुप रहते हैं काविश की एक विद्या का उल्लेख साहित्य शास्त्र के प्राचीन आचार्य भामाशाह मंडी मानव की आदि ने किया है यह जो कि एक पद्य पद्य में शैली का प्रयोग वैदिक साहित्य बोधक जाता कि आज चेतक मलैया जी अति प्राचीन साहित्य में भी मिलते हैं चंपू काव्य परंपरा का पारण दिखा में अर्थ वेद से प्राप्त होते हैं क्योंकि चंपू नाम से प्रत्येक कवि की रचना 10 वीं सदी पहले हुई थी
Aapaka savaal hai ki kya aap hamako saahity ke baare mein vistaar se bata sakate hain to champoo kaavy ka ek bhej den arthaat gady aur pady mein mishrit kaavy kusumapur kahate hain gady pady mein sthit kaavy ko chup chup rahate hain kaavish kee ek vidya ka ullekh saahity shaastr ke praacheen aachaary bhaamaashaah mandee maanav kee aadi ne kiya hai yah jo ki ek pady pady mein shailee ka prayog vaidik saahity bodhak jaata ki aaj chetak malaiya jee ati praacheen saahity mein bhee milate hain champoo kaavy parampara ka paaran dikha mein arth ved se praapt hote hain kyonki champoo naam se pratyek kavi kee rachana 10 veen sadee pahale huee thee

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या आप चंपू साहित्य के बारे में विस्तार से बता सकते हैं?Kya Aap Champu Saahity Ke Baare Me Vistaar Se Bta Sakte Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:36
तेरी 1 हाथ का सवाल है क्या आप चंपू साहित्य के बारे में विस्तार से बता सकते हैं तो साथियों आपका सवाल का उत्तर इस प्रकार से संतोष सर्वाधिक आयुर्वेद है गद और पद मिश्रित काव्य को चंपू कहते हैं गधे और पर मिश्रित काव्य को चंपू कहते हैं गत पद्मश्री का प्रयोग वैदिक साहित्य और जातक जातक माला आदि अति प्राचीन साहित्य में ही लिखता है
Teree 1 haath ka savaal hai kya aap champoo saahity ke baare mein vistaar se bata sakate hain to saathiyon aapaka savaal ka uttar is prakaar se santosh sarvaadhik aayurved hai gad aur pad mishrit kaavy ko champoo kahate hain gadhe aur par mishrit kaavy ko champoo kahate hain gat padmashree ka prayog vaidik saahity aur jaatak jaatak maala aadi ati praacheen saahity mein hee likhata hai

bolkar speaker
क्या आप चंपू साहित्य के बारे में विस्तार से बता सकते हैं?Kya Aap Champu Saahity Ke Baare Me Vistaar Se Bta Sakte Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:38
बेटा आपको प्रश्न है कि क्या चंपू आप सब साइट के बारे में विस्तार से बता सकते हैं तो देख कर पहले रचना को काव्य कहा जाता था बाद में साहित्य कहा जाने लगा कभी-कभी दुबे रोते थे गद्य और पद्य फिर उसके स्थान पर साहित्य आ गया उस साहित्य की भी दूर होने लगे गद्य और पद्य ठीक है ना जब दूसरों को कहा जाता है इसमें गद्य और पद्य दोनों का प्रयोग होता है जैसे इंशाल्लाह खाकर रानी केतकी की कहानी जो है वह चमकू साहित्य में है समझा अपना पुराने अगर देखेंगे तो बहुत से कार्य जो है वह केवल आध्यात्मिक यह कुछ कागजों है या साहित्य उनसे कहिए गत्यात्मक है लेकिन जब दोनों मिक्स चलते थे तुमको चंपू कहा जाता था और भारत में जो हिंदी के नाटक लिखे नहीं हैं अलग चंपू सैनी के ही हैं समझा अपना लेकिन वस्तुतः चंपू साहित्य के रानी केतकी की कहानियां उदय भान सिंह जी साला खान के द्वारा लिखा गया है उसे देखेंगे तुझको देखेंगे पात्र जो है वह बोल रहे हैं तो गद्दी आत्मक होता है अचानक बोलते बोलते पाते हैं उनका करके बात कर लेते हैं फिर ऊपर अध्यात्मिक शैली में बोलते हैं बहुत सी गद्य रचनाएं रचनाएं भी इसी गद्य पद्य की शैली में लिखी गई है लेकिन केवल नाटक रूप में जाना गया है वह भारतीय ने कर्नाटक को चाय प्रसाद के नाटक या कह दीजिए प्रसादी के नाटक हो लेकिन चंपू साहित्य जो है वह कथा आत्मक विधायक नहीं ज्यादा प्रसिद्ध रहा है
Beta aapako prashn hai ki kya champoo aap sab sait ke baare mein vistaar se bata sakate hain to dekh kar pahale rachana ko kaavy kaha jaata tha baad mein saahity kaha jaane laga kabhee-kabhee dube rote the gady aur pady phir usake sthaan par saahity aa gaya us saahity kee bhee door hone lage gady aur pady theek hai na jab doosaron ko kaha jaata hai isamen gady aur pady donon ka prayog hota hai jaise inshaallaah khaakar raanee ketakee kee kahaanee jo hai vah chamakoo saahity mein hai samajha apana puraane agar dekhenge to bahut se kaary jo hai vah keval aadhyaatmik yah kuchh kaagajon hai ya saahity unase kahie gatyaatmak hai lekin jab donon miks chalate the tumako champoo kaha jaata tha aur bhaarat mein jo hindee ke naatak likhe nahin hain alag champoo sainee ke hee hain samajha apana lekin vastutah champoo saahity ke raanee ketakee kee kahaaniyaan uday bhaan sinh jee saala khaan ke dvaara likha gaya hai use dekhenge tujhako dekhenge paatr jo hai vah bol rahe hain to gaddee aatmak hota hai achaanak bolate bolate paate hain unaka karake baat kar lete hain phir oopar adhyaatmik shailee mein bolate hain bahut see gady rachanaen rachanaen bhee isee gady pady kee shailee mein likhee gaee hai lekin keval naatak roop mein jaana gaya hai vah bhaarateey ne karnaatak ko chaay prasaad ke naatak ya kah deejie prasaadee ke naatak ho lekin champoo saahity jo hai vah katha aatmak vidhaayak nahin jyaada prasiddh raha hai

bolkar speaker
क्या आप चंपू साहित्य के बारे में विस्तार से बता सकते हैं?Kya Aap Champu Saahity Ke Baare Me Vistaar Se Bta Sakte Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:27
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न नंबर साहित्य के बारे में विस्तार से बता सकते हैं तो फ्रेंड टैंपो साहित्य गद्य पद्य को कहा जाता है जब कोई काव्य गद्य पद्य के रूप में कहा जाता है तो उसे ही पहले चंपू साहित्य बहुत ही फेमस हुआ था और चंपू साहित्य गद्य उसमें आता है तो उसमें गब्बर का गद्य जो काबे होता है यह कहा जाता है धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn nambar saahity ke baare mein vistaar se bata sakate hain to phrend taimpo saahity gady pady ko kaha jaata hai jab koee kaavy gady pady ke roop mein kaha jaata hai to use hee pahale champoo saahity bahut hee phemas hua tha aur champoo saahity gady usamen aata hai to usamen gabbar ka gady jo kaabe hota hai yah kaha jaata hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या आप चंपू साहित्य के बारे में विस्तार से बता सकते हैं?Kya Aap Champu Saahity Ke Baare Me Vistaar Se Bta Sakte Hai
anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
0:28
कर दोस्तों बोलकर आप में स्वागत है सवाल है कि गधे तथा पद मिश्रित काव्य को चंपू कहते हैं और काव्य की इसी विद्या का उल्लेख साहित्य साहित्य शास्त्र के प्राचीन आचार्य ओबामा डंडी वामन आदि ने ही नहीं किया जो गद्य पद्य में से श्रेष्ठ अली का प्रयोग वैदिक साहित्य बौद्ध जाता के जातक माला आदि अति प्राचीन साहित्य में भी मिलता है
Kar doston bolakar aap mein svaagat hai savaal hai ki gadhe tatha pad mishrit kaavy ko champoo kahate hain aur kaavy kee isee vidya ka ullekh saahity saahity shaastr ke praacheen aachaary obaama dandee vaaman aadi ne hee nahin kiya jo gady pady mein se shreshth alee ka prayog vaidik saahity bauddh jaata ke jaatak maala aadi ati praacheen saahity mein bhee milata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • साहित्य चम्पू, हिन्दी साहित्य चम्पू क्या है
URL copied to clipboard