#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया था?

Aajaad Hind Fauj Ka Gathan Kisne Kiya Tha
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:37
आपको पसंद है आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया था तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार से है आजाद हिंद फौज की स्थापना टोक्यो जापान में 1942 में रासबिहारी बोस ने की थी उन्होंने 28 से 30 मार्च तक उसकी घटना पर लगी लंबी बुलाया था इसकी स्थापना हुई और इनका में उद्देश्य द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान अंग्रेजों के खिलाफ लड़ना दोस्तों
Aapako pasand hai aajaad hind phauj ka gathan kisane kiya tha to doston aapake savaal ka uttar is prakaar se hai aajaad hind phauj kee sthaapana tokyo jaapaan mein 1942 mein raasabihaaree bos ne kee thee unhonne 28 se 30 maarch tak usakee ghatana par lagee lambee bulaaya tha isakee sthaapana huee aur inaka mein uddeshy dviteey vishvayuddh ke dauraan angrejon ke khilaaph ladana doston

और जवाब सुनें

bolkar speaker
आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया था?Aajaad Hind Fauj Ka Gathan Kisne Kiya Tha
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:20
सारा का प्रश्न आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया था तो आपको बताना चाहेंगे कि जो सुभाष चंद्र बोस जी जो भारतीय स्वतंत्रा सेनानी थे उन्होंने यहां पर आजाद हिंद फौज का गठन किया था आपकी कराए इस बारे में कमेंट करने अपनी राय जरुर व्यक्त करें मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Saara ka prashn aajaad hind phauj ka gathan kisane kiya tha to aapako bataana chaahenge ki jo subhaash chandr bos jee jo bhaarateey svatantra senaanee the unhonne yahaan par aajaad hind phauj ka gathan kiya tha aapakee karae is baare mein kament karane apanee raay jarur vyakt karen main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया था?Aajaad Hind Fauj Ka Gathan Kisne Kiya Tha
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:43
आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया था तू आजाद हिंद फौज का गठन सुभाष चंद्र बोस ने 1992 में जो भारत और भारत को अंग्रेजों के कब्जे से स्वतंत्र कराने के लिए आजाद हिंद फौज यार इंडियन नेशनल आर्मी नामक सशस्त्र सेना का गठन किया गया था इस फौज का गठन जापान में हुआ था आज ही इसकी स्थापना भारत के क्रांतिकारी नेता रासबिहारी बोस ने जापान के टोक्यो शहर में कहते हैं
Aajaad hind phauj ka gathan kisane kiya tha too aajaad hind phauj ka gathan subhaash chandr bos ne 1992 mein jo bhaarat aur bhaarat ko angrejon ke kabje se svatantr karaane ke lie aajaad hind phauj yaar indiyan neshanal aarmee naamak sashastr sena ka gathan kiya gaya tha is phauj ka gathan jaapaan mein hua tha aaj hee isakee sthaapana bhaarat ke kraantikaaree neta raasabihaaree bos ne jaapaan ke tokyo shahar mein kahate hain

bolkar speaker
आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया था?Aajaad Hind Fauj Ka Gathan Kisne Kiya Tha
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:20
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया था तो फ्रेंड्स आजाद हिंद फौज का गठन सुभाष चंद्र बोस जी ने किया था उन्होंने आजादी में अपना बहुत ज्यादा योगदान दिया और आजाद हिंद फौज का गठन किया और आजादी की लड़ाई में बहुत ही सहयोग दिया धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai aajaad hind phauj ka gathan kisane kiya tha to phrends aajaad hind phauj ka gathan subhaash chandr bos jee ne kiya tha unhonne aajaadee mein apana bahut jyaada yogadaan diya aur aajaad hind phauj ka gathan kiya aur aajaadee kee ladaee mein bahut hee sahayog diya dhanyavaad

bolkar speaker
आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया था?Aajaad Hind Fauj Ka Gathan Kisne Kiya Tha
Deepak Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
संस्कृतप्रचारक, संस्कृतभारती जयपुरमहानगर प्रचारप्रमुख और सन्देशप्रमुख
2:40
नमस्कार मित्र आप ने प्रश्न किया है आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया था मित्र आजाद हिंद फौज का गठन पहली बार राजा महेंद्र प्रताप सिंह द्वारा किया गया था और यह किया था उन्होंने 19 मई 29 अक्टूबर 1915 को अफगानिस्तान में अफगानिस्तान के अंदर उन्होंने सबसे पहले आजाद आजाद हिंद फौज की स्थापना के दिन का मूल रूप से उद्देश्य उस समय यह था कि यह सरकार बनाने के बाद वह अंग्रेजों से लड़ करके भारत को स्वतंत्रता दिलाना चाहते थे और यह जो संगठन था यह फौज ज्योति है आजाद हिंद सरकार की सेना थी और दक्षिण पूर्वी एशिया के अंदर जो है नेताजी रिलायंस में यही लक्ष्य दशक का की अंग्रेजों से लड़ करके भारत को कैसे आजादी दिलाई जाए धन्यवाद
Namaskaar mitr aap ne prashn kiya hai aajaad hind phauj ka gathan kisane kiya tha mitr aajaad hind phauj ka gathan pahalee baar raaja mahendr prataap sinh dvaara kiya gaya tha aur yah kiya tha unhonne 19 maee 29 aktoobar 1915 ko aphagaanistaan mein aphagaanistaan ke andar unhonne sabase pahale aajaad aajaad hind phauj kee sthaapana ke din ka mool roop se uddeshy us samay yah tha ki yah sarakaar banaane ke baad vah angrejon se lad karake bhaarat ko svatantrata dilaana chaahate the aur yah jo sangathan tha yah phauj jyoti hai aajaad hind sarakaar kee sena thee aur dakshin poorvee eshiya ke andar jo hai netaajee rilaayans mein yahee lakshy dashak ka kee angrejon se lad karake bhaarat ko kaise aajaadee dilaee jae dhanyavaad

bolkar speaker
आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया था?Aajaad Hind Fauj Ka Gathan Kisne Kiya Tha
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
4:54
कृष्ण जी की आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया देखी बड़ी खुशी होती है जब लोग हमारे महापुरुषों के बारे में जानकारी चाहते हैं उसके बारे में जानकारी जुटाना चाहते हैं अपने महापुरुषों को याद करते हैं अपने महापुरुषों के द्वारा की गई और अपने राष्ट्र को आजाद कराने के लिए उनके द्वारा दिए गए बलिदान के बारे में लोग जानना चाहते हैं तो यह बहुत अच्छी बात है और मैं इस प्रश्न के लिए आपको धन्यवाद देना चाहूंगा लेकिन सबसे पहले तो यह कि आजाद हिंद फौज या जिसको हम अंग्रेजी में कहते हैं इंडियन नेशनल आर्मी का गठन 1942 में किया गया था और इसका उद्देश्य था कि भारत को कैसे स्वतंत्र किया जाए भारत को कहते अंग्रेजों की दासता से मुक्त कराए जाएं और इसकी जो स्थापना हुई थी वह 21 अक्टूबर 1942 की हुई थी और इसका जो प्रतीक चिन्ह था वह था एक झंडे पर दौड़ते हुए बाघ का चित्र और आजाद हिंद फौज कहेंगे इंडियन नेशनल आर्मी है इसके गठन की प्रक्रिया होती है आज 26 मार्च 1942 में टोक्यो में रह रहे भारतीय राशि हारी बॉस ने इंडियन नेशनल आर्मी यहां आजाद हिंद फौज के गठन पर विचार की सम्मेलन बुलाया और कैप्टन मोहन सिंह रास बिहारी बोस एवं निरंजन सिंह इन के सहयोग से इंडियन नेशनल आर्मी का गठन किया क्योंकि आजाद हिंद फौज की स्थापना का विचार सर्वप्रथम मोहन सिंह के मन में आया था इसलिए इंडियन नेशनल आर्मी आजाद हिंद फौज का गठन का श्रेय कैप्टन मोहन सिंह को दिया जाता है विदेशों में रह रहे भारतीयों के लिए इंडियन इंडिपेंडेंस लीग की स्थापना की गई विश्व का प्रथम सम्मेलन जून 1942 में बैंकॉक में हुआ था आजाद हिंद फौज की प्रथम डिवीजन का गठन 1 दिसंबर 1942 को मोहन सिंह के अधीन हुआ इसमें लगभग 16300 सैनिक से कालांतर में जापान ने 60000 युद्ध बंदियों को आजाद हिंद फौज में शामिल होने के लिए जापानी सरकार और मोहन सिंह के अधीन भारतीय सैनिकों के बीच आजाद हिंद फौज की भूमिका के संबंध में विवाद उत्पन्न हो जाने के कारण कैप्टन मोहन सिंह निरंजन सिंह गिल को गिरफ्तार कर लिया गया आजाद हिंद फौज का दूसरा चरण कब प्रारंभ हुआ जो सुभाष चंद्र बोस सिंगापुर सुभाष चंद्र बोस ने 1941 में बर्लिन में इंडियन लीग की स्थापना की किंतु जब जर्मनी ने उन्हें रूस के विरुद्ध प्राप्त करने का प्रयास किया तब कठिनाइयां उत्पन्न हुई और बॉस ने दक्षिण पूर्व ही सजा का निश्चय किया जुलाई 1945 में सुभाष चंद्र बोस पंडित जी द्वारा जर्मनी से जापानी नियंत्रण वाले सिंगापुर पहुंचे वहां उन्होंने दिल्ली चलो का प्रसिद्ध नारा दिया 4 जुलाई 1942 को सुभाष चंद्र बोस ने आजाद हिंद फौज एम इंडियन टीम की कमान को संभाला था आजाद हिंद फौज के सिपाही सुभाष चंद्र बोस को नेताजी कहते थे बॉस ने अपने अनुयायियों को अपने मानने वालों को जय हिंद का नारा दिया था उन्होंने 21 अक्टूबर 1942 को सिंगापुर में अस्थाई भारत सरकार आजाद हिंद सरकार की स्थापना की सुभाष चंद्र बोस इस सरकार के राष्ट्रपति प्रधानमंत्री व थानाध्यक्ष तीनों वित्त विभाग एसपी चटर्जी को प्रचार विभाग ऐसे अय्यर को तथा महिला संगठन लक्ष्मी स्वामीनाथन को सौंपा गया संक्षिप्त में मैंने आपको हिंद फौज के गठन की प्रक्रिया इसकी शुरुआत और इसकी गतिविधियों के बारे में संक्षिप्त में आपको पूरी जानकारी देने का प्रयास किया है मुझे बहुत खुशी है मैं दोबारा से कहना चाहता हूं कि सुभाष चंद्र बोस नेताजी उन्होंने हमारे राष्ट्रीय के लिए हमारे राष्ट्र को आजाद कराने के लिए अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त कराने के लिए उन्होंने अपने आप उत्तर वस्तु इस राष्ट्र के कल्याण के लिए राष्ट्र के अच्छाई के लिए अपने आप कब जीवन समर्पित कर दिया हमको ऐसे महान नेता जी सुभाष चंद्र बोस और उस समय के समस्त वितरकों का हम शत शत प्रणाम करते हैं धन्यवाद
Krshn jee kee aajaad hind phauj ka gathan kisane kiya dekhee badee khushee hotee hai jab log hamaare mahaapurushon ke baare mein jaanakaaree chaahate hain usake baare mein jaanakaaree jutaana chaahate hain apane mahaapurushon ko yaad karate hain apane mahaapurushon ke dvaara kee gaee aur apane raashtr ko aajaad karaane ke lie unake dvaara die gae balidaan ke baare mein log jaanana chaahate hain to yah bahut achchhee baat hai aur main is prashn ke lie aapako dhanyavaad dena chaahoonga lekin sabase pahale to yah ki aajaad hind phauj ya jisako ham angrejee mein kahate hain indiyan neshanal aarmee ka gathan 1942 mein kiya gaya tha aur isaka uddeshy tha ki bhaarat ko kaise svatantr kiya jae bhaarat ko kahate angrejon kee daasata se mukt karae jaen aur isakee jo sthaapana huee thee vah 21 aktoobar 1942 kee huee thee aur isaka jo prateek chinh tha vah tha ek jhande par daudate hue baagh ka chitr aur aajaad hind phauj kahenge indiyan neshanal aarmee hai isake gathan kee prakriya hotee hai aaj 26 maarch 1942 mein tokyo mein rah rahe bhaarateey raashi haaree bos ne indiyan neshanal aarmee yahaan aajaad hind phauj ke gathan par vichaar kee sammelan bulaaya aur kaiptan mohan sinh raas bihaaree bos evan niranjan sinh in ke sahayog se indiyan neshanal aarmee ka gathan kiya kyonki aajaad hind phauj kee sthaapana ka vichaar sarvapratham mohan sinh ke man mein aaya tha isalie indiyan neshanal aarmee aajaad hind phauj ka gathan ka shrey kaiptan mohan sinh ko diya jaata hai videshon mein rah rahe bhaarateeyon ke lie indiyan indipendens leeg kee sthaapana kee gaee vishv ka pratham sammelan joon 1942 mein bainkok mein hua tha aajaad hind phauj kee pratham diveejan ka gathan 1 disambar 1942 ko mohan sinh ke adheen hua isamen lagabhag 16300 sainik se kaalaantar mein jaapaan ne 60000 yuddh bandiyon ko aajaad hind phauj mein shaamil hone ke lie jaapaanee sarakaar aur mohan sinh ke adheen bhaarateey sainikon ke beech aajaad hind phauj kee bhoomika ke sambandh mein vivaad utpann ho jaane ke kaaran kaiptan mohan sinh niranjan sinh gil ko giraphtaar kar liya gaya aajaad hind phauj ka doosara charan kab praarambh hua jo subhaash chandr bos singaapur subhaash chandr bos ne 1941 mein barlin mein indiyan leeg kee sthaapana kee kintu jab jarmanee ne unhen roos ke viruddh praapt karane ka prayaas kiya tab kathinaiyaan utpann huee aur bos ne dakshin poorv hee saja ka nishchay kiya julaee 1945 mein subhaash chandr bos pandit jee dvaara jarmanee se jaapaanee niyantran vaale singaapur pahunche vahaan unhonne dillee chalo ka prasiddh naara diya 4 julaee 1942 ko subhaash chandr bos ne aajaad hind phauj em indiyan teem kee kamaan ko sambhaala tha aajaad hind phauj ke sipaahee subhaash chandr bos ko netaajee kahate the bos ne apane anuyaayiyon ko apane maanane vaalon ko jay hind ka naara diya tha unhonne 21 aktoobar 1942 ko singaapur mein asthaee bhaarat sarakaar aajaad hind sarakaar kee sthaapana kee subhaash chandr bos is sarakaar ke raashtrapati pradhaanamantree va thaanaadhyaksh teenon vitt vibhaag esapee chatarjee ko prachaar vibhaag aise ayyar ko tatha mahila sangathan lakshmee svaameenaathan ko saumpa gaya sankshipt mein mainne aapako hind phauj ke gathan kee prakriya isakee shuruaat aur isakee gatividhiyon ke baare mein sankshipt mein aapako pooree jaanakaaree dene ka prayaas kiya hai mujhe bahut khushee hai main dobaara se kahana chaahata hoon ki subhaash chandr bos netaajee unhonne hamaare raashtreey ke lie hamaare raashtr ko aajaad karaane ke lie angrejon kee gulaamee se mukt karaane ke lie unhonne apane aap uttar vastu is raashtr ke kalyaan ke lie raashtr ke achchhaee ke lie apane aap kab jeevan samarpit kar diya hamako aise mahaan neta jee subhaash chandr bos aur us samay ke samast vitarakon ka ham shat shat pranaam karate hain dhanyavaad

bolkar speaker
आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया था?Aajaad Hind Fauj Ka Gathan Kisne Kiya Tha
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:29
स्कार दोस्तों बोलकर आप में स्वागत है सवाल है कि आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया था तो आजाद हिंद फौज का गठन टोक्यो जापान में 1942 में रासबिहारी बोस किया था उन्होंने 28 से 30 तक मार्च तक गठन पर विचार विमर्श किया था चार विमर्श में द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान व्यक्त लाभ लड़ना था
Skaar doston bolakar aap mein svaagat hai savaal hai ki aajaad hind phauj ka gathan kisane kiya tha to aajaad hind phauj ka gathan tokyo jaapaan mein 1942 mein raasabihaaree bos kiya tha unhonne 28 se 30 tak maarch tak gathan par vichaar vimarsh kiya tha chaar vimarsh mein dviteey vishvayuddh ke dauraan vyakt laabh ladana tha

bolkar speaker
आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया था?Aajaad Hind Fauj Ka Gathan Kisne Kiya Tha
Sonu Malviya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sonu जी का जवाब
Study
0:19
हां तो आपने पूछा है कि आजाद आजाद हिंद फोटो काढून कब पहुंचे गठन किसने किया था तो आजाद हिंद फौज का गठन राजा महेंद्र प्रताप सिंह ने 29 और 29 अप्रैल 1915 में किया था और इसका मुख्य उद्देश्य था अंग्रेजों से लड़कर भारत को स्वतंत्र प्रणाम धन्यवाद सवार के लिए
Haan to aapane poochha hai ki aajaad aajaad hind photo kaadhoon kab pahunche gathan kisane kiya tha to aajaad hind phauj ka gathan raaja mahendr prataap sinh ne 29 aur 29 aprail 1915 mein kiya tha aur isaka mukhy uddeshy tha angrejon se ladakar bhaarat ko svatantr pranaam dhanyavaad savaar ke lie

bolkar speaker
आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया था?Aajaad Hind Fauj Ka Gathan Kisne Kiya Tha
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:16
आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया था तो आजाद हिंद फौज का गठन सुभाष चंद्र बोस ने ही किया था सुभाष चंद्र बोस ने भारत से बाहर रहकर आजाद हिंद फौज का गठन किया है
Aajaad hind phauj ka gathan kisane kiya tha to aajaad hind phauj ka gathan subhaash chandr bos ne hee kiya tha subhaash chandr bos ne bhaarat se baahar rahakar aajaad hind phauj ka gathan kiya hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • आजाद हिंद फौज का गठन किसने किया था, आजाद हिंद फौज की स्थापना, आजाद हिंद फौज का गठन
URL copied to clipboard