#टेक्नोलॉजी

Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student 🇮🇳🇮🇳🇮🇳 mission Indian Army🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳
1:04
नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप संभालो भारत की तकनीक के क्षेत्र में पिता होने क्या-क्या ऐतिहासिक कारण हो सकते दुखी रहते हो मुझे नहीं पता लिखने से हम लोगों से करना जिसमें भारत के चित्र पिछड़ा पिछड़ा हुआ जीरो की कमी नहीं भारत में हर साल में लगभग आधे इंजीनियर बनते इंजीनियरों की कमी कर मुझे बाहर से इंजीनियर मंगवाने पड़ते हैं और उसी बात है कि हमारे देश में विभिन्न संसाधनों का फोटो से विकास नहीं हुआ मैडम इतने ज्यादा संसाधन का विकास तो दुनिया का कोई भी देश में कितने लोग की टक्कर के मामले में हम से टक्कर नहीं ले पाएगा नाम बिना के प्रत्येक देश को टक्कर देंगे लेकिन क्या है यहां पर भी पूर्ण रूप से संसाधनों का विकास नहीं हुआ तो मैं भी सब से तो एक न एक दिन ऐसा भी आएगा जब टेक्नोलॉजी के मामले में दुनिया के अन्य देशों को पछाड़ देकर जो इस समय गांव पर चलने तो वहां पर इंजीनियरों के इंजीनियरों की कमी है और संसाधन का विकास उम्मीद करता हूं सवाल का जवाब अच्छा लगा होगा धन्यवाद
Namaskaar doston kaise hain aap sambhaalo bhaarat kee takaneek ke kshetr mein pita hone kya-kya aitihaasik kaaran ho sakate dukhee rahate ho mujhe nahin pata likhane se ham logon se karana jisamen bhaarat ke chitr pichhada pichhada hua jeero kee kamee nahin bhaarat mein har saal mein lagabhag aadhe injeeniyar banate injeeniyaron kee kamee kar mujhe baahar se injeeniyar mangavaane padate hain aur usee baat hai ki hamaare desh mein vibhinn sansaadhanon ka photo se vikaas nahin hua maidam itane jyaada sansaadhan ka vikaas to duniya ka koee bhee desh mein kitane log kee takkar ke maamale mein ham se takkar nahin le paega naam bina ke pratyek desh ko takkar denge lekin kya hai yahaan par bhee poorn roop se sansaadhanon ka vikaas nahin hua to main bhee sab se to ek na ek din aisa bhee aaega jab teknolojee ke maamale mein duniya ke any deshon ko pachhaad dekar jo is samay gaanv par chalane to vahaan par injeeniyaron ke injeeniyaron kee kamee hai aur sansaadhan ka vikaas ummeed karata hoon savaal ka javaab achchha laga hoga dhanyavaad

और जवाब सुनें

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:16
नमस्कार मित्रों प्रश्न है कि भारत के तकनीक के क्षेत्र में पिछड़ा होने के क्या ऐतिहासिक कारण हो सकते हैं तो दोस्तों सबसे बड़ा जो कारण है पिछड़ेपन का एक तो आरक्षण है जो हमारे अच्छे बच्चे हैं जिनके अच्छा कुछ कर सकते हैं आरक्षण की आड़ में विचारे व पीछे पड़ रह जाते हैं उनको कोई मौका नहीं मिल पाता और एक दूसरा कारण यह है कि बहुत सारे लोग यहां के पढ़ाई करके सरकार की संस्थाओं से सस्ते में पढ़ाई कर कर के जो कि विदेशों में चले जाते हैं जिसे हम बोलते हैं ब्रेन ड्रेन क्योंकि इनकी कदर भारत में कंपनियां नहीं करती हैं ना ही सरकार ने ऐसा कोई प्रावधान किया है उनके लिए और आप देखेंगे विदेशों में कितने चाय नाश्ता में वह चाहे कितने भी आईडी क्षेत्र में हो सबसे ज्यादा आपको भारतीय मिलेंगे भारतीयों के पास दिमाग है आईटी सेक्टर में हो अच्छा कर सकते हैं इसमें सरकार को साथ देना चाहिए सरकार को भी सेटिंग देना चाहिए अच्छे-अच्छे संस्थान खोलने चाहिए आरक्षण पर अंकुश लगाना चाहिए तो निश्चित रूप से हम टेक्नोलॉजी में सबसे आगे खड़े होकर दिखा सकते हैं धन्यवाद
Namaskaar mitron prashn hai ki bhaarat ke takaneek ke kshetr mein pichhada hone ke kya aitihaasik kaaran ho sakate hain to doston sabase bada jo kaaran hai pichhadepan ka ek to aarakshan hai jo hamaare achchhe bachche hain jinake achchha kuchh kar sakate hain aarakshan kee aad mein vichaare va peechhe pad rah jaate hain unako koee mauka nahin mil paata aur ek doosara kaaran yah hai ki bahut saare log yahaan ke padhaee karake sarakaar kee sansthaon se saste mein padhaee kar kar ke jo ki videshon mein chale jaate hain jise ham bolate hain bren dren kyonki inakee kadar bhaarat mein kampaniyaan nahin karatee hain na hee sarakaar ne aisa koee praavadhaan kiya hai unake lie aur aap dekhenge videshon mein kitane chaay naashta mein vah chaahe kitane bhee aaeedee kshetr mein ho sabase jyaada aapako bhaarateey milenge bhaarateeyon ke paas dimaag hai aaeetee sektar mein ho achchha kar sakate hain isamen sarakaar ko saath dena chaahie sarakaar ko bhee seting dena chaahie achchhe-achchhe sansthaan kholane chaahie aarakshan par ankush lagaana chaahie to nishchit roop se ham teknolojee mein sabase aage khade hokar dikha sakate hain dhanyavaad

Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:47
कि तकनीक के क्षेत्र में पिछड़ा होने की क्या ऐतिहासिक कारण हो सकते कहां हो सकते हैं क्योंकि अब शुरू से देखेंगे कि इंडिया की कैसी जगह है आज ही आंखे फेर है उसमें यह कभी न सोचो कि मेरी बेटी कुछ आगे बढ़े कोशिश करें कि बेटा हो जितना ज्यादा हो सकता है आप नोटिस करेंगे बेटी कुछ घर में बहुत खुशियां मिले होते बेटा निशिकानन भारत बिछड़ जाता है तू कहीं पर भी बाहर भेजे तो बहुत अच्छे लगते हैं कि वह मिस्टेक अपनी बेटी को भेज दिया तो बेटी हो तो बिल्कुल नहीं भेजते हैं यहीं से बिछड़ना शुरू हो जाते दिलवाले के पिक्चर चाहिए रहता है होते-होते यह हो गया कि हो रहा है भारत का दर्द भरे गने पर आराम आराम से हो रहा है
Ki takaneek ke kshetr mein pichhada hone kee kya aitihaasik kaaran ho sakate kahaan ho sakate hain kyonki ab shuroo se dekhenge ki indiya kee kaisee jagah hai aaj hee aankhe pher hai usamen yah kabhee na socho ki meree betee kuchh aage badhe koshish karen ki beta ho jitana jyaada ho sakata hai aap notis karenge betee kuchh ghar mein bahut khushiyaan mile hote beta nishikaanan bhaarat bichhad jaata hai too kaheen par bhee baahar bheje to bahut achchhe lagate hain ki vah mistek apanee betee ko bhej diya to betee ho to bilkul nahin bhejate hain yaheen se bichhadana shuroo ho jaate dilavaale ke pikchar chaahie rahata hai hote-hote yah ho gaya ki ho raha hai bhaarat ka dard bhare gane par aaraam aaraam se ho raha hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारत के तकनीक के क्षेत्र में पिछड़ा होने के ऐतिहासिक कारण, क्या हमारे देश में वैज्ञानिक प्रगति के लिए उपयुक्त वातावरण नहीं है
URL copied to clipboard