#undefined

bolkar speaker

क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्राकृतिक को विनाश की ओर ले जा रहा है?

Kya Pragati Ki Daud Mein Manushya Prakrtik Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha Hai
Deepak Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
संस्कृतप्रचारक, संस्कृतभारती जयपुरमहानगर प्रचारप्रमुख और सन्देशप्रमुख
2:29
नमस्कार मित्र आपने ब्रश नहीं किया है क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है मित्र हम जैसे जैसे प्रगति कर रहे हैं आपने देखा है कि आजकल ऊंची ऊंची बिल्डिंग ए मॉल जगह-जगह सिनेमा हॉल यह सब चीजें आपको मिल रही है और बहुत सारे कॉलेज स्कूल यूनिवर्सिटी सब बन रहा है तो यह बंदे कैसे जब कोई खाली जगह पर जंगल है उस जंगल को खत्म करके उसे जमीन पर बड़ी-बड़ी सारी बिल्डिंग बनाई जाती है कई तरीके से यह प्रकृति का विनाश ही है क्योंकि हम पेड़ पौधों को जंगल को नष्ट करके उस जगह पर एक बिल्डिंग बना रहे हैं अपने रहने के लिए और या बच्चों के पढ़ाई के लिए हमारी पढ़ाई के लिए मतलब कुछ भी अगर बाप बन रहा है तो ठीक है उससे देश प्रगति तो करेगा परंतु आप या हम लोग पूरा देश यह प्रकृति के साथ में खिलवाड़ कर रहा है छेड़छाड़ कर रहा है कि अगर होता है तो प्रकृति कभी नहीं कभी अपना अविनाश रिकार्ड जो विशाल रूप है वह भी दिखाएगी निशान दे अभी सुन रहे हैं कि उत्तराखंड में बर्फ पिघल गई तो उसके बाढ़ जैसी स्थिति हो गई और चक्रवात का आना कई जगह बढ़ाना यह सब क्या है या ग्राम प्रकृति के साथ बिना छेड़छाड़ करेंगे प्रकृति के साथ तो उसका भी काट यह विनाशकारी रूप है वह भी हमें देखने को मिलेगा इसलिए प्रकृति के साथ ज्यादा छेड़छाड़ ना हो अधिक से अधिक पेड़ उगाने की कोशिश करें क्योंकि पेड़ जो पहले के थे जंगल थे वह सब नष्ट किए जा चुके हैं और कभी भी किए जा रहे हैं तो हमें अधिक से अधिक पेड़ उगाने चाहिए ताकि प्रकृति जो है धीरे-धीरे संतुलन में आती रहे धन्यवाद
Namaskaar mitr aapane brash nahin kiya hai kya pragati kee daud mein manushy prakrti ko vinaash kee or le ja raha hai mitr ham jaise jaise pragati kar rahe hain aapane dekha hai ki aajakal oonchee oonchee bilding e mol jagah-jagah sinema hol yah sab cheejen aapako mil rahee hai aur bahut saare kolej skool yoonivarsitee sab ban raha hai to yah bande kaise jab koee khaalee jagah par jangal hai us jangal ko khatm karake use jameen par badee-badee saaree bilding banaee jaatee hai kaee tareeke se yah prakrti ka vinaash hee hai kyonki ham ped paudhon ko jangal ko nasht karake us jagah par ek bilding bana rahe hain apane rahane ke lie aur ya bachchon ke padhaee ke lie hamaaree padhaee ke lie matalab kuchh bhee agar baap ban raha hai to theek hai usase desh pragati to karega parantu aap ya ham log poora desh yah prakrti ke saath mein khilavaad kar raha hai chhedachhaad kar raha hai ki agar hota hai to prakrti kabhee nahin kabhee apana avinaash rikaard jo vishaal roop hai vah bhee dikhaegee nishaan de abhee sun rahe hain ki uttaraakhand mein barph pighal gaee to usake baadh jaisee sthiti ho gaee aur chakravaat ka aana kaee jagah badhaana yah sab kya hai ya graam prakrti ke saath bina chhedachhaad karenge prakrti ke saath to usaka bhee kaat yah vinaashakaaree roop hai vah bhee hamen dekhane ko milega isalie prakrti ke saath jyaada chhedachhaad na ho adhik se adhik ped ugaane kee koshish karen kyonki ped jo pahale ke the jangal the vah sab nasht kie ja chuke hain aur kabhee bhee kie ja rahe hain to hamen adhik se adhik ped ugaane chaahie taaki prakrti jo hai dheere-dheere santulan mein aatee rahe dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्राकृतिक को विनाश की ओर ले जा रहा है?Kya Pragati Ki Daud Mein Manushya Prakrtik Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:06
मन्ना निगम का प्रश्न है क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्राकृतिक विनाश की ओर ले जा रहा है तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार है हमारे एक मनुष्य की मौत आपको क्या होगा यानी आना तो हो गया ना होने से घबरा गया उसने घर से बाहर निकलना ही छोड़ दिया बचे हुए सीमित धन का ही भुगतान करने के लिए इतना जिससे पेड़ को ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ी क्योंकि उसे डर था ज्यादा इस्तेमाल चेक कर जल्दी बुरा हो जाएगा और ना करना बंद कर दिया क्योंकि बाहर जाने से डरता था कहीं किसी कारणवश मौत ना हो जाएगी इंद्रियों का उपयोग बिल्कुल कम करता है जिससे वह कई वर्षों तक यथावत रहे ऐसा गुंडा बना माना था वर्ग एक दिन आसमान में बिजली कड़की लोहरदगा से उसकी मृत्यु हो गई क्योंकि उसका हर दिन कमजोर हो गया था इसलिए हमारे के मनुष्य प्राकृतिक विनाश की ओर ले जा रहे हैं धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Manna nigam ka prashn hai kya pragati kee daud mein manushy praakrtik vinaash kee or le ja raha hai to doston aapake savaal ka uttar is prakaar hai hamaare ek manushy kee maut aapako kya hoga yaanee aana to ho gaya na hone se ghabara gaya usane ghar se baahar nikalana hee chhod diya bache hue seemit dhan ka hee bhugataan karane ke lie itana jisase ped ko jyaada mehanat nahin karanee padee kyonki use dar tha jyaada istemaal chek kar jaldee bura ho jaega aur na karana band kar diya kyonki baahar jaane se darata tha kaheen kisee kaaranavash maut na ho jaegee indriyon ka upayog bilkul kam karata hai jisase vah kaee varshon tak yathaavat rahe aisa gunda bana maana tha varg ek din aasamaan mein bijalee kadakee loharadaga se usakee mrtyu ho gaee kyonki usaka har din kamajor ho gaya tha isalie hamaare ke manushy praakrtik vinaash kee or le ja rahe hain dhanyavaad doston khush raho

bolkar speaker
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्राकृतिक को विनाश की ओर ले जा रहा है?Kya Pragati Ki Daud Mein Manushya Prakrtik Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
1:00
तारक बसने का प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है तो आप बताना चाहेंगे देखिए मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर निकले कि नहीं बल्कि प्रकृति मनुष्य को विनाश की ओर ले कर जा रही है अगर यहां पर मनुष्य जो प्राकृतिक संसाधन है उसका अधिक से अधिक दोहन करता रहेगा तो यकीन मानिए प्रकृति को अपनी चीजों को वापस लेना आता है और जब तक दी वापस रहती है तब सारी साइंस सब कुछ धरा का धरा रह जाता है तो यहां पर मनुष्य के सामने अलार्म इंग सिचुएशन है वह का सचेत नहीं होंगे तो प्रगति अपनी चीजें वापस लेने का हक भी रखती है और कैसे वापस ली जाती है पूर्व में भी सब ने देखा है और आगे भी यह चीज पॉसिबल है आपकी क्या राय है इस बारे में कमेंट सेक्शन अपनी राय जरुर व्यक्त करें मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Taarak basane ka pragati kee daud mein manushy prakrti ko vinaash kee or le ja raha hai to aap bataana chaahenge dekhie manushy prakrti ko vinaash kee or nikale ki nahin balki prakrti manushy ko vinaash kee or le kar ja rahee hai agar yahaan par manushy jo praakrtik sansaadhan hai usaka adhik se adhik dohan karata rahega to yakeen maanie prakrti ko apanee cheejon ko vaapas lena aata hai aur jab tak dee vaapas rahatee hai tab saaree sains sab kuchh dhara ka dhara rah jaata hai to yahaan par manushy ke saamane alaarm ing sichueshan hai vah ka sachet nahin honge to pragati apanee cheejen vaapas lene ka hak bhee rakhatee hai aur kaise vaapas lee jaatee hai poorv mein bhee sab ne dekha hai aur aage bhee yah cheej posibal hai aapakee kya raay hai is baare mein kament sekshan apanee raay jarur vyakt karen meree shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्राकृतिक को विनाश की ओर ले जा रहा है?Kya Pragati Ki Daud Mein Manushya Prakrtik Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:48
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है जी हां फ्रेंड अपनी उन्नति प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है जिस तरह से पेड़ पौधों की कटाई हो रही है तो धीरे-धीरे जंगल सब उजाड़ हो रहे हैं और हरियाली कम हो रही है और वातावरण में प्रदूषण ज्यादा बढ़ रहा है पेड़ पौधे कम होने की वजह से ऑक्सीजन भी कम हो रही है कार्बन डाइऑक्साइड ज्यादा बढ़ रही है और जिस तरह से शहरों का निर्माण हो रहा है तो जंगल वगैरह सब काट रहे हैं इसलिए प्रकृति से छेड़छाड़ मनुष्य कर रहा है और जिस तरह से प्रदूषण फैला हुआ है तो यह प्राकृतिक संसाधन एवं से छेड़छाड़ करने की वजह से विनाश की ओर प्रगति जा रहे हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai kya pragati kee daud mein manushy prakrti ko vinaash kee or le ja raha hai jee haan phrend apanee unnati pragati kee daud mein manushy prakrti ko vinaash kee or le ja raha hai jis tarah se ped paudhon kee kataee ho rahee hai to dheere-dheere jangal sab ujaad ho rahe hain aur hariyaalee kam ho rahee hai aur vaataavaran mein pradooshan jyaada badh raha hai ped paudhe kam hone kee vajah se okseejan bhee kam ho rahee hai kaarban daioksaid jyaada badh rahee hai aur jis tarah se shaharon ka nirmaan ho raha hai to jangal vagairah sab kaat rahe hain isalie prakrti se chhedachhaad manushy kar raha hai aur jis tarah se pradooshan phaila hua hai to yah praakrtik sansaadhan evan se chhedachhaad karane kee vajah se vinaash kee or pragati ja rahe hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्राकृतिक को विनाश की ओर ले जा रहा है?Kya Pragati Ki Daud Mein Manushya Prakrtik Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:34
हेलो शिवांशु आज आप का सवाल है कि क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्राकृतिक को विनाश की ओर ले जा रहा है तू दिखे हां बिल्कुल आप अपने आसपास तुझे देख रहे होंगे कि कल को जितना हरा-भरा देवरिया गांव कितना मतलब बता सकते हैं घर मकान बन गया है पत्नी बन गई है गाड़ी जहां पर इतना प्रेशर नहीं होता तो आज मैं इतना परेशान हो रहा है गाड़ी सब दिखने एक दिन रात दौड़ रहे हैं तू इतनी जरूरत की चीजें से मना भी नहीं कर सकते या फिर यह नहीं कह सकते कि नहीं हमें गाड़ी इंडस्ट्री नगर एनएफसी बंद कर दिया जाएगा तो इंसान को कैसे रोजगार मिलेगा लेकिन इस बना रहे तो कुछ पेड़ पौधे लगा दे जितना पेड़ पौधे काट रहे थे कहीं पर इतना पेड़ पौधे लगा दे जहां पर यूज करने की बात नहीं है क्या गाड़ी करना कैसे कर सकते वहां पर रहने से ज्यादा से ज्यादा से ज्यादा समय पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करना चाहिए ताकि इतना ज्यादा पढ़ी हुई हो एक ही गाड़ी में इतने सारे लोग बैठकर जा के बाद में क्या होता है जैसे पोलूशन डेफिनिशन कार्बन मोनोऑक्साइड निकल रहा है जो पेड़ पौधे के लिए हम लोगों के लिए बहुत ही खतरनाक होते तो इस तरह से अपनी प्रकृति को आगे चले जाएंगे तो हमारे लिए भी सहयोग हमारी सिस्टर जनरेशन के लिए भी सहयोग और हर एक इंसान अच्छे से हल्दी तरीके से जी पाएंगे
Helo shivaanshu aaj aap ka savaal hai ki kya pragati kee daud mein manushy praakrtik ko vinaash kee or le ja raha hai too dikhe haan bilkul aap apane aasapaas tujhe dekh rahe honge ki kal ko jitana hara-bhara devariya gaanv kitana matalab bata sakate hain ghar makaan ban gaya hai patnee ban gaee hai gaadee jahaan par itana preshar nahin hota to aaj main itana pareshaan ho raha hai gaadee sab dikhane ek din raat daud rahe hain too itanee jaroorat kee cheejen se mana bhee nahin kar sakate ya phir yah nahin kah sakate ki nahin hamen gaadee indastree nagar enephasee band kar diya jaega to insaan ko kaise rojagaar milega lekin is bana rahe to kuchh ped paudhe laga de jitana ped paudhe kaat rahe the kaheen par itana ped paudhe laga de jahaan par yooj karane kee baat nahin hai kya gaadee karana kaise kar sakate vahaan par rahane se jyaada se jyaada se jyaada samay pablik traansaport ka istemaal karana chaahie taaki itana jyaada padhee huee ho ek hee gaadee mein itane saare log baithakar ja ke baad mein kya hota hai jaise polooshan dephinishan kaarban monooksaid nikal raha hai jo ped paudhe ke lie ham logon ke lie bahut hee khataranaak hote to is tarah se apanee prakrti ko aage chale jaenge to hamaare lie bhee sahayog hamaaree sistar janareshan ke lie bhee sahayog aur har ek insaan achchhe se haldee tareeke se jee paenge

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मनुष्य प्राकृतिक पर क्या जुर्म उठा रहा है, प्राकृति को कैसे बचाया जा सकता है
  • क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्राकृतिक को विनाश की ओर ले जा रहा है, आर्थिक समृद्धि के लिये प्राकृतिक वनस्पति का विनाश, प्राकृतिक को विनाश की ओर ले जा रहा है मनुष्य
URL copied to clipboard