#undefined

bolkar speaker

ब्लैक होल क्या होता है साइंस के मुताबिक इसकी रचना कैसी होती है?

Black Hole Kya Hota Hai Science Ke Mutabik Iski Rachna Kaise Hoti Hai
Naayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Naayank जी का जवाब
College
1:40
ब्लैक होल क्या है जो यह टॉपिक में काला धब्बा कुछ गहरे अंतरिक्ष में कुछ द्रव्यमान और घनत्व वाला आकाशीय पिंड ब्लैक होल होते हैं करते हैं अल्बर्ट आइंस्टीन थ्योरी ऑफ रिलेटिविटी पुरानी चादर तो सभी जानते हैं कि ब्लैक और पूरी यूनिवर्स का है सबसे खतरनाक आकाशीय पिंड है जो अपने एरिया में आने वाली सभी चीजों को निकलता है यहां तक कि प्रकाश की स्पीड का किसानों की 300000 मीटर पर सेकंड होती है उसे भी अपने में समाहित है यानी यह लाइट का इस पर कोई फर्क नहीं पड़ता और ऐसा क्यों होता है क्योंकि यहां पर बहुत ज्यादा ग्रेविटी होते हैं से एक ड्राइवर की जो है उसकी वजह से आज हम खड़े हुए ग्रेविटी वह में नीचे खींच रही है जो मूड है वहां पर कम बेटी तो उसमें हम आराम से ज्यादा ज्यादा उसके मुताबिक ज्यादा है कि वह लाइट तक को निकल लेते लाइट को बंद करो अब यह कैसे बनती है तो कोई ऑब्जेक्ट को गर्म हो जाता छोटा गजक रेडियस प्यार करती तो मैं ब्लॉक खोल बंद कन्वर्ट के लिए तो वह भी 100000 दिन लगता है
Blaik hol kya hai jo yah topik mein kaala dhabba kuchh gahare antariksh mein kuchh dravyamaan aur ghanatv vaala aakaasheey pind blaik hol hote hain karate hain albart aainsteen thyoree oph riletivitee puraanee chaadar to sabhee jaanate hain ki blaik aur pooree yoonivars ka hai sabase khataranaak aakaasheey pind hai jo apane eriya mein aane vaalee sabhee cheejon ko nikalata hai yahaan tak ki prakaash kee speed ka kisaanon kee 300000 meetar par sekand hotee hai use bhee apane mein samaahit hai yaanee yah lait ka is par koee phark nahin padata aur aisa kyon hota hai kyonki yahaan par bahut jyaada grevitee hote hain se ek draivar kee jo hai usakee vajah se aaj ham khade hue grevitee vah mein neeche kheench rahee hai jo mood hai vahaan par kam betee to usamen ham aaraam se jyaada jyaada usake mutaabik jyaada hai ki vah lait tak ko nikal lete lait ko band karo ab yah kaise banatee hai to koee objekt ko garm ho jaata chhota gajak rediyas pyaar karatee to main blok khol band kanvart ke lie to vah bhee 100000 din lagata hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
ब्लैक होल क्या होता है साइंस के मुताबिक इसकी रचना कैसी होती है?Black Hole Kya Hota Hai Science Ke Mutabik Iski Rachna Kaise Hoti Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
2:14
हेलो भवानी आई होप आप सब ठीक होंगे ना दिखे योजना पूछा है ब्लैक होल क्या होता है साइंस के मुताबिक इसके इतना कैसे होती है लेकिन ब्लैक होल अब तक ब्रह्मांड में सबसे हसीन पलों में से एक था अब तक इनके बारे में कोई भी प्रत्यक्ष जाने की मौजूदा जो है प्रमाण नहीं मिला है यह ऐसा पेड़ है जहां जाकर हमारी भौतिकी फिजिक्स का ध्यान पूरी तरह से नाकाम हो जाता है इन सबके बावजूद भी लेकिन क्या अगर आप ब्लैक ब्लैक होल हो ही ना बल्कि एक स्पष्ट कंपन करने वाले धागों बालम सिंह जैसे बोलते हैं कि होता जिसमें अन्ना की बनती है सच होने की संभावना है बल्कि यह भी कहा गया कि आने वाले समय में उन्हें देखा भी जा सकता है ब्लैक होल की अवधारणा महान भौतिकवादी अल्बर्ट आइंस्टीन के सापेक्षता संबंधी सिद्धांत सबसे पहले सामने आई थी उसे जान पर यह कुछ पदार्थ बहुत ही ज्यादा छोटा आयतन में सुकड़ी जाए तो कुत्तों का बाल बहुत अधिक प्रभावी हो जाएगा जयपुर से वशीकरण प्रकृति के चार मूल बोलो पर बहुत हावी हो जाएगा जैसे शक्तिशाली नाभि पर पदार्थ को जोड़ें रखता है अगर हम बात करें कि बिल्कुल किस तरह का होता है तो एक नाजुक सीमा पर पहुंचने के बाद पदार्थ केवल अन्यतम सुख बिंदु के दृश्य पड़ता है इस अनंत निश्चित रूप से गलत कहा जाता है यह बिंदु एक सत्ता पर गिरा होता है जिसे इवेंट होराइजन कहते हैं और यह बिंदु वह स्थान था जहां गुरुत्व बल प्रकाश की गति का इस प्रभाव कर देता यानी प्रकाश तक को अपने अंदर ही खींच सकता है और हाल में ही अप्रकाशित लाइफ साइंस ऑफ रिपोर्ट में इस सिद्धांत की पैरवी करने वाले ब्लैक को एक कमरे में पेंट जाने के बावजूद अलीगंज के रूप में बदलने की बात करते हैं इस दौर में ब्लैक होल ना तो ब्लैक और ना ही खोल है बल्कि है संकुचित न्यूटन के तार हैं न्यूटन के तारीख तक बनते हैं जबकि स्पेन के पास से करने के लिए पर्याप्त गुरुत्वाकर्षण या गुरु नहीं होता है फिर भी इनके अंदर का पदार्थ इतना गुस्सा क्यों होता है किस शहर को पूरा का पूरा सूर्य को भी समाज है तो इसके बारे में इतनी ही इंफॉर्मेशन है मेरे पास आशा करता हूं आपको पसंद आए तो लाइक और सब्सक्राइब करें
Helo bhavaanee aaee hop aap sab theek honge na dikhe yojana poochha hai blaik hol kya hota hai sains ke mutaabik isake itana kaise hotee hai lekin blaik hol ab tak brahmaand mein sabase haseen palon mein se ek tha ab tak inake baare mein koee bhee pratyaksh jaane kee maujooda jo hai pramaan nahin mila hai yah aisa ped hai jahaan jaakar hamaaree bhautikee phijiks ka dhyaan pooree tarah se naakaam ho jaata hai in sabake baavajood bhee lekin kya agar aap blaik blaik hol ho hee na balki ek spasht kampan karane vaale dhaagon baalam sinh jaise bolate hain ki hota jisamen anna kee banatee hai sach hone kee sambhaavana hai balki yah bhee kaha gaya ki aane vaale samay mein unhen dekha bhee ja sakata hai blaik hol kee avadhaarana mahaan bhautikavaadee albart aainsteen ke saapekshata sambandhee siddhaant sabase pahale saamane aaee thee use jaan par yah kuchh padaarth bahut hee jyaada chhota aayatan mein sukadee jae to kutton ka baal bahut adhik prabhaavee ho jaega jayapur se vasheekaran prakrti ke chaar mool bolo par bahut haavee ho jaega jaise shaktishaalee naabhi par padaarth ko joden rakhata hai agar ham baat karen ki bilkul kis tarah ka hota hai to ek naajuk seema par pahunchane ke baad padaarth keval anyatam sukh bindu ke drshy padata hai is anant nishchit roop se galat kaha jaata hai yah bindu ek satta par gira hota hai jise ivent horaijan kahate hain aur yah bindu vah sthaan tha jahaan gurutv bal prakaash kee gati ka is prabhaav kar deta yaanee prakaash tak ko apane andar hee kheench sakata hai aur haal mein hee aprakaashit laiph sains oph riport mein is siddhaant kee pairavee karane vaale blaik ko ek kamare mein pent jaane ke baavajood aleeganj ke roop mein badalane kee baat karate hain is daur mein blaik hol na to blaik aur na hee khol hai balki hai sankuchit nyootan ke taar hain nyootan ke taareekh tak banate hain jabaki spen ke paas se karane ke lie paryaapt gurutvaakarshan ya guru nahin hota hai phir bhee inake andar ka padaarth itana gussa kyon hota hai kis shahar ko poora ka poora soory ko bhee samaaj hai to isake baare mein itanee hee imphormeshan hai mere paas aasha karata hoon aapako pasand aae to laik aur sabsakraib karen

bolkar speaker
ब्लैक होल क्या होता है साइंस के मुताबिक इसकी रचना कैसी होती है?Black Hole Kya Hota Hai Science Ke Mutabik Iski Rachna Kaise Hoti Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:33
सेंड स्वागत है आपका आपका प्लेसमेंट ब्लैक होल क्या होता है साइंस में निकालें किसकी रचना कैसे होती है तो फ्रेंड से वायुमंडल में ओजोन की परत है उसमें जो प्रदूषण के कारण हुई हो गया है उसके ही ब्लैक होल कहते हैं जिससे कि खतरनाक कैसे नीचे आती है अल्ट्रावायलेट करना है जो ओजोन की परत है वह सूर्य की अल्ट्रावायलेट किरणों से बचाती है फर्क इतना पलूशन बढ़ गया है कि उसमें होल होने लगा है उसे ही ब्लैक होल कहते हैं और यह बोल होता है धन्यवाद
Send svaagat hai aapaka aapaka plesament blaik hol kya hota hai sains mein nikaalen kisakee rachana kaise hotee hai to phrend se vaayumandal mein ojon kee parat hai usamen jo pradooshan ke kaaran huee ho gaya hai usake hee blaik hol kahate hain jisase ki khataranaak kaise neeche aatee hai altraavaayalet karana hai jo ojon kee parat hai vah soory kee altraavaayalet kiranon se bachaatee hai phark itana palooshan badh gaya hai ki usamen hol hone laga hai use hee blaik hol kahate hain aur yah bol hota hai dhanyavaad

bolkar speaker
ब्लैक होल क्या होता है साइंस के मुताबिक इसकी रचना कैसी होती है?Black Hole Kya Hota Hai Science Ke Mutabik Iski Rachna Kaise Hoti Hai
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
1:16
चलो तो आपका स्वागत है हमारे चैनल पर आप का सवाल है ब्लैक होल क्या होता है और साइंस के मुताबिक इसकी रत्ना कैसे होती है तू प्ले खोलिया कृष्ण विवर सामान्य सापेक्ष में इतने शक्तिशाली कुर्ता क्षण क्षेत्र वाली कोई एक ऐसी काकोली वस्तुओं के हिसाब से प्रकाश सहित कुछ भी नहीं बच सकता इसे का लाया कृष्ण इसलिए कहा जाता है क्योंकि यह अपने ऊपर पड़ने वाली सारे प्रकाश को अवशोषित कर लेता है जो और कुछ भी प्रभावित नहीं करता इस एक काला किशमिश कहते हैं कि यह कुछ प्राइवेट 30 नहीं करता यह उष्मा गति में ठीक आदर्श कृष्णिका की तरह ही कृष्ण विवर वर्तमान में 70 दिन है तापमान में हॉकिंग विवरण कहते हैं अपने दृष्टि दृष्टि भीतरी भाग को बावजूद एक ब्लैक होल अन्य पदार्थों के साथ तकिया के माध्यम से अपनी स्थिति प्रकट करता है बस तुमने ब्लैक होल का पता तारों के समूह की गति से लगाया जा सकता है जो अंतरिक्ष से खाली दिखाई देने वाले एक ही चयन की प्रक्रिया कर रहे हो धन्यवाद दोस्तों
Chalo to aapaka svaagat hai hamaare chainal par aap ka savaal hai blaik hol kya hota hai aur sains ke mutaabik isakee ratna kaise hotee hai too ple kholiya krshn vivar saamaany saapeksh mein itane shaktishaalee kurta kshan kshetr vaalee koee ek aisee kaakolee vastuon ke hisaab se prakaash sahit kuchh bhee nahin bach sakata ise ka laaya krshn isalie kaha jaata hai kyonki yah apane oopar padane vaalee saare prakaash ko avashoshit kar leta hai jo aur kuchh bhee prabhaavit nahin karata is ek kaala kishamish kahate hain ki yah kuchh praivet 30 nahin karata yah ushma gati mein theek aadarsh krshnika kee tarah hee krshn vivar vartamaan mein 70 din hai taapamaan mein hoking vivaran kahate hain apane drshti drshti bheetaree bhaag ko baavajood ek blaik hol any padaarthon ke saath takiya ke maadhyam se apanee sthiti prakat karata hai bas tumane blaik hol ka pata taaron ke samooh kee gati se lagaaya ja sakata hai jo antariksh se khaalee dikhaee dene vaale ek hee chayan kee prakriya kar rahe ho dhanyavaad doston

bolkar speaker
ब्लैक होल क्या होता है साइंस के मुताबिक इसकी रचना कैसी होती है?Black Hole Kya Hota Hai Science Ke Mutabik Iski Rachna Kaise Hoti Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:13
एलजी का सवाल है कि क्या होना है साइंस के मुताबिक इसकी रचना कैसे होती है जैसे हमें पढ़ाएंगे स्कूल में भी बहुत कुछ मैंने भी पढ़ा था तो खून एक तरह का फ्री है अभी तक का मतलब कहा जाता है कि वहां पर ग्रेविटेशनल फोर्स खींचने की क्षमता होती है ऑब्जेक्ट को बहुत ज्यादा तो वहां पर कोई भी मतलब ऑब्जेक्ट या फिर कोई भी चीज अगर उसके मतलब कांटेक्ट में जाता है तो वह चीज लग जाता है और वह चला जाता है तो लगता है कि मैं यहां पर ब्राइटनेस को बहुत ज्यादा क्योंकि वहां पर कोई भी चीज दिखता नहीं है जब तुरंत हो जाता है तू उत्तराखंड में जिसका नाम है और वहां पर कोई भी चीज टिक नहीं पाता जो भी चलाता है इतना ज्यादा वहां पर खींचा बोतल ग्रेविटेशनल फोर्स होता है कि ऑब्जेक्ट जल्दी आ मतलब उधर चला जाता है
Elajee ka savaal hai ki kya hona hai sains ke mutaabik isakee rachana kaise hotee hai jaise hamen padhaenge skool mein bhee bahut kuchh mainne bhee padha tha to khoon ek tarah ka phree hai abhee tak ka matalab kaha jaata hai ki vahaan par greviteshanal phors kheenchane kee kshamata hotee hai objekt ko bahut jyaada to vahaan par koee bhee matalab objekt ya phir koee bhee cheej agar usake matalab kaantekt mein jaata hai to vah cheej lag jaata hai aur vah chala jaata hai to lagata hai ki main yahaan par braitanes ko bahut jyaada kyonki vahaan par koee bhee cheej dikhata nahin hai jab turant ho jaata hai too uttaraakhand mein jisaka naam hai aur vahaan par koee bhee cheej tik nahin paata jo bhee chalaata hai itana jyaada vahaan par kheencha botal greviteshanal phors hota hai ki objekt jaldee aa matalab udhar chala jaata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • ब्लैक और का निर्माण कैसे हुआ, ब्लैक होल कैसे बना, ब्लैक होल कुल कितने प्रकार के होते हैं
  • ब्लैक होल क्या होता है,ब्लैक होल क्या है
  • ब्लैक होल क्या होता है ,ब्लैक होल क्या है ,ब्लैक होल कहाँ है
  • ब्लैक होल क्या होता है,ब्लैक होल क्या है
URL copied to clipboard