#भारत की राजनीति

bolkar speaker

काला पानी की सजा क्या है तथा यह कब शुरू की गई थी?

Kaala Paani Ki Saja Kya Hai Tatha Yah Kab Shuru Kee Gayi Thi
Saloni vishwkarma   Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Saloni जी का जवाब
Unknown
1:56
नमस्कार दोस्तों आपका सवाल है कि काला पानी की सजा क्या है तथा उन पक्षियों की गई थी यदि कि आई थी जिसे सेल्यूट सेल्यूलर जेल के नाम से जाना जाता था और आज भी लोग इसी नाम से जानते हैं या जेल अंडमान निकोबार द्वीप की राजधानी पोर्ट ब्लेयर में बनी हुई है इसका निर्माण 18 सो 96 में शुरू हुआ था और 1980 में यह बनकर तैयार हो गया था शादियों के लिए होता है जो भी कर दी वहां पर जाता है वह दोबारा कभी वापस नहीं आ पाता है उसमें जाना बहुत ही मुश्किल है और खास बात यह है कि वह बहुत ही गलत छोटी दीवारों की बनी है उसे बनना आसान है लेकिन उसे जेल से बाहर निकलना बहुत ही मुश्किल है क्योंकि वह समुद्र में है बीच-बीच में बहुत ही गहरी समझ में है आज भी इस प्रकार की नाम सुन के लोगों की रूह कांप जाती है क्योंकि यह सजा ऐसी थी क्योंकि वहां पर बहुत ही अकेलापन महसूस इसे बहुत ही मतलब अच्छी तरीके से नहीं रखा जाता था जिससे शादी के लोग आपस में एक दूसरे से बात ना कर सके वह बिल्कुल अकेले रहते थे और जितने भी भारतीय जाकर भारतीय लोगों को रखा गया था और जितने भी भारतीय रेल से जाने से मना कर दी थी उन लोगों को फांसी की सजा हो गई थी नारियल के तेल में कौन निकल पाते हैं सब निकलवा दी थी और जो गोलू होता है उससे भी चलवा तेजी राई का तेल में करवाते थे निर्गुणी बहुत ही यातनाएं दी जाती है जेल में वहां पर जिंदा रहने के लिए खाना ही मिलता है
Namaskaar doston aapaka savaal hai ki kaala paanee kee saja kya hai tatha un pakshiyon kee gaee thee yadi ki aaee thee jise selyoot selyoolar jel ke naam se jaana jaata tha aur aaj bhee log isee naam se jaanate hain ya jel andamaan nikobaar dveep kee raajadhaanee port bleyar mein banee huee hai isaka nirmaan 18 so 96 mein shuroo hua tha aur 1980 mein yah banakar taiyaar ho gaya tha shaadiyon ke lie hota hai jo bhee kar dee vahaan par jaata hai vah dobaara kabhee vaapas nahin aa paata hai usamen jaana bahut hee mushkil hai aur khaas baat yah hai ki vah bahut hee galat chhotee deevaaron kee banee hai use banana aasaan hai lekin use jel se baahar nikalana bahut hee mushkil hai kyonki vah samudr mein hai beech-beech mein bahut hee gaharee samajh mein hai aaj bhee is prakaar kee naam sun ke logon kee rooh kaamp jaatee hai kyonki yah saja aisee thee kyonki vahaan par bahut hee akelaapan mahasoos ise bahut hee matalab achchhee tareeke se nahin rakha jaata tha jisase shaadee ke log aapas mein ek doosare se baat na kar sake vah bilkul akele rahate the aur jitane bhee bhaarateey jaakar bhaarateey logon ko rakha gaya tha aur jitane bhee bhaarateey rel se jaane se mana kar dee thee un logon ko phaansee kee saja ho gaee thee naariyal ke tel mein kaun nikal paate hain sab nikalava dee thee aur jo goloo hota hai usase bhee chalava tejee raee ka tel mein karavaate the nirgunee bahut hee yaatanaen dee jaatee hai jel mein vahaan par jinda rahane ke lie khaana hee milata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • काले पानी की सजा क्या है, काले पानी की सजा कब शुरू हुई थी, काले पानी की सजा किसे दी जाती है
  • काले पानी की सजा क्या है, काले पानी की सजा कब शुरू हुई थी, काले पानी की सजा किसे दी जाती है
URL copied to clipboard