#undefined

bolkar speaker

क्या जन्मदिन के दिन केक को काटना उचित है या नहीं?

Kya Janmdin Ke Din Cake Ko Katna Uchit Hai Ya Nahi
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:07
प्रश्न है कि क्या जन्मदिन के दिन केक काटना उचित है या ना मिले यह आज के समय में बहुत ही चर्चित विषय है क्योंकि गांव में लोग मानते हैं कि हमारी सभ्यता की हमारी संस्कृति नहीं यह विदेशी संस्कृति है जो बच्चे हैं वह जिद करते हैं कि अक्सर चलता है कि ऐसा होना चाहिए कि नहीं तुझसे अच्छा आप कोई अच्छा भोजन घर पर बनाएंगे उसका उत्सव मनाया तो पति के रूप में और कहां से चला कर जहां पर वह बासी भोजन खाते हैं जिन देशों में इसे वेस्टर्न कंट्रीज है तो भारतीय के कप भारत में प्रथम स्थान पूर्णिमा की आप की विचारधारा क्या है बिना केक का देवी जन्मदिन मनाया जा सकता है
Prashn hai ki kya janmadin ke din kek kaatana uchit hai ya na mile yah aaj ke samay mein bahut hee charchit vishay hai kyonki gaanv mein log maanate hain ki hamaaree sabhyata kee hamaaree sanskrti nahin yah videshee sanskrti hai jo bachche hain vah jid karate hain ki aksar chalata hai ki aisa hona chaahie ki nahin tujhase achchha aap koee achchha bhojan ghar par banaenge usaka utsav manaaya to pati ke roop mein aur kahaan se chala kar jahaan par vah baasee bhojan khaate hain jin deshon mein ise vestarn kantreej hai to bhaarateey ke kap bhaarat mein pratham sthaan poornima kee aap kee vichaaradhaara kya hai bina kek ka devee janmadin manaaya ja sakata hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या जन्मदिन के दिन केक को काटना उचित है या नहीं?Kya Janmdin Ke Din Cake Ko Katna Uchit Hai Ya Nahi
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:19
नमस्कार दोस्तों प्रश्न क्या जन्मदिन के दिन केक को काटना उचित है या नहीं तो दोस्तों शास्त्रों के अनुसार अगर देखा जाए तो केक काटने की ऐसी कोई पता नहीं थी अभी भी ग्रामीण क्षेत्रों में केक नहीं काटा जाता है लेकिन शहरों में लोगों को दिखाने के लिए केक काटा जाता है और बड़े दुख की बात है कि जब आप पिक्चरों में देखते होंगे कि मोमबत्ती को पूजा जाता है उस व्यक्ति का अंत हो जाता है और हम केक पर भी यही कार्य कर रहे होते हैं मोमबत्ती को बुझा देते हैं तो यह बिल्कुल गलत है ग्रामीण क्षेत्रों में भी अब देखा देखी यह सब चीजें फैलती जा रही है केक काटने का जन्म उत्सव के लिए सही है लेकिन वहां पर केक के बदले वह कोई फूलों का वह क्या कहते हैं हम आपको खोए का बना कर रखते हैं हलवा बना कर रख देते थे यह हम पाश्चात्य सभ्यता की कॉपी कर रहे हैं और आजकल के कितने महीने होते जा रहे हैं और बहुत लोगों को वह मांसाहारी भी बना रहे हैं प्रकार के जो शाकाहारी हैं जाने अनजाने में उस में अंडे का प्रयोग किया जाता है जिससे कि अंडा खा लेते हैं उन्हें और स्वाद आने लग जाता है तो वैसे केक नहीं काटना चाहिए अगर काटना भी है तो आपको खोए का बना सकते हैं आप किसी हलवे का बना सकते हैं और कोशिश करेगी वहां पर आप जो मोमबत्ती जला रहे हैं उसको भुजाएं ना बल्कि पूजा स्थल पर कहीं रख दें धन्यवाद
Namaskaar doston prashn kya janmadin ke din kek ko kaatana uchit hai ya nahin to doston shaastron ke anusaar agar dekha jae to kek kaatane kee aisee koee pata nahin thee abhee bhee graameen kshetron mein kek nahin kaata jaata hai lekin shaharon mein logon ko dikhaane ke lie kek kaata jaata hai aur bade dukh kee baat hai ki jab aap pikcharon mein dekhate honge ki momabattee ko pooja jaata hai us vyakti ka ant ho jaata hai aur ham kek par bhee yahee kaary kar rahe hote hain momabattee ko bujha dete hain to yah bilkul galat hai graameen kshetron mein bhee ab dekha dekhee yah sab cheejen phailatee ja rahee hai kek kaatane ka janm utsav ke lie sahee hai lekin vahaan par kek ke badale vah koee phoolon ka vah kya kahate hain ham aapako khoe ka bana kar rakhate hain halava bana kar rakh dete the yah ham paashchaaty sabhyata kee kopee kar rahe hain aur aajakal ke kitane maheene hote ja rahe hain aur bahut logon ko vah maansaahaaree bhee bana rahe hain prakaar ke jo shaakaahaaree hain jaane anajaane mein us mein ande ka prayog kiya jaata hai jisase ki anda kha lete hain unhen aur svaad aane lag jaata hai to vaise kek nahin kaatana chaahie agar kaatana bhee hai to aapako khoe ka bana sakate hain aap kisee halave ka bana sakate hain aur koshish karegee vahaan par aap jo momabattee jala rahe hain usako bhujaen na balki pooja sthal par kaheen rakh den dhanyavaad

bolkar speaker
क्या जन्मदिन के दिन केक को काटना उचित है या नहीं?Kya Janmdin Ke Din Cake Ko Katna Uchit Hai Ya Nahi
Sandeep chhipa Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sandeep जी का जवाब
social worker (MSW)
1:35

bolkar speaker
क्या जन्मदिन के दिन केक को काटना उचित है या नहीं?Kya Janmdin Ke Din Cake Ko Katna Uchit Hai Ya Nahi
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:54
कृष्ण भगवान जी के जन्मदिन के दिन सूट काटना उचित है तू हमारे बुजुर्ग पुरानी मन की बात की जाए तो कोई केस नहीं चाहते क्योंकि मैं अपने धर्म के प्रति ज्यादा मानते थे जब जन्मदिन था और दादा मंदिर जाकर भगवान से और ज्यादातर अपने माता-पिता से राशि वाले के साथ में जाते थे आजकल वेस्टर्न कल्चर शॉक एक चैनल साथ मनाया जा रहा है मेरे घर में बहुत ही गलत है के काटने की वजह मंदिर में चक्कर भगवान के सामने पूजा करे और अपने माता-पिता से आशीर्वाद ले के काटने से यह अच्छा है धन्यवाद
Krshn bhagavaan jee ke janmadin ke din soot kaatana uchit hai too hamaare bujurg puraanee man kee baat kee jae to koee kes nahin chaahate kyonki main apane dharm ke prati jyaada maanate the jab janmadin tha aur daada mandir jaakar bhagavaan se aur jyaadaatar apane maata-pita se raashi vaale ke saath mein jaate the aajakal vestarn kalchar shok ek chainal saath manaaya ja raha hai mere ghar mein bahut hee galat hai ke kaatane kee vajah mandir mein chakkar bhagavaan ke saamane pooja kare aur apane maata-pita se aasheervaad le ke kaatane se yah achchha hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या जन्मदिन के दिन केक को काटना उचित है या नहीं?Kya Janmdin Ke Din Cake Ko Katna Uchit Hai Ya Nahi
Naayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Naayank जी का जवाब
College
1:14
तो वह इतिहास की बात करें तो भारतीय समाज में एक काटना कभी खाई नहीं और जहां से भी है आया है उन्हें भी शायद ही बताओ कि ऐसा क्यों करते हैं यह जरूर है कि केक काटने वाली चीजें इसलिए होगी क्योंकि बिना कांटे आपकी एक नहीं कर सकते तो हाथ ना तो जरूरी है वह बस अलग बात है कि लोगों ने तरह तरीके से चीजें डालते के काटने पर कैंडल लगाई जाए बैलेंस लगा दी जाए और आजकल तो बड़ा खराब चीज है कि केककुम लगा दीजिए खराब लगता है कि पूरा देश बर्बाद हो जाता है चेहरा बर्बाद होता है और कुछ मतलब नहीं था लेकिन तब भी धीरे-धीरे करके ऐसी चीज है आती रहती हैं लोग भी बरसात बंद करके वह चीज करते रहते हैं जो बाकी लोग करते हैं मेरा मानना है केक काटने में कोई दिक्कत नहीं हुई चीजें 1 किलो की दुआ से स्टार्ट कीजिए उसमें कोई दिक्कत नहीं लेकिन अगर कोई एक पर लगा रहा है बर्बाद कर रहा है तू
To vah itihaas kee baat karen to bhaarateey samaaj mein ek kaatana kabhee khaee nahin aur jahaan se bhee hai aaya hai unhen bhee shaayad hee batao ki aisa kyon karate hain yah jaroor hai ki kek kaatane vaalee cheejen isalie hogee kyonki bina kaante aapakee ek nahin kar sakate to haath na to jarooree hai vah bas alag baat hai ki logon ne tarah tareeke se cheejen daalate ke kaatane par kaindal lagaee jae bailens laga dee jae aur aajakal to bada kharaab cheej hai ki kekakum laga deejie kharaab lagata hai ki poora desh barbaad ho jaata hai chehara barbaad hota hai aur kuchh matalab nahin tha lekin tab bhee dheere-dheere karake aisee cheej hai aatee rahatee hain log bhee barasaat band karake vah cheej karate rahate hain jo baakee log karate hain mera maanana hai kek kaatane mein koee dikkat nahin huee cheejen 1 kilo kee dua se staart keejie usamen koee dikkat nahin lekin agar koee ek par laga raha hai barbaad kar raha hai too

bolkar speaker
क्या जन्मदिन के दिन केक को काटना उचित है या नहीं?Kya Janmdin Ke Din Cake Ko Katna Uchit Hai Ya Nahi
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:33
हेलो एवरीवन स्वागत है आपका आपका जन्मदिन की बहुत है इसमें कोई बुराई नहीं है आजकल तो सभी जन्मदिन में केक काटते हैं बस आप जॉब किस में कैंडल लगाते हैं मोमबत्ती लगाते हैं मोमबत्ती को मौत होती है क्योंकि कोई भी ना फिर काम पर रोशनी करी जाती है देना नहीं किया जाता यह बुझाया नहीं जाता कोई भी शुभ काम करती है तो दिया हम चलाते हैं मोमबत्ती जलाते हैं वह आते नहीं सांप के काटने पर मोमबत्ती आपको नहीं पूछा नहीं है धन्यवाद
Helo evareevan svaagat hai aapaka aapaka janmadin kee bahut hai isamen koee buraee nahin hai aajakal to sabhee janmadin mein kek kaatate hain bas aap job kis mein kaindal lagaate hain momabattee lagaate hain momabattee ko maut hotee hai kyonki koee bhee na phir kaam par roshanee karee jaatee hai dena nahin kiya jaata yah bujhaaya nahin jaata koee bhee shubh kaam karatee hai to diya ham chalaate hain momabattee jalaate hain vah aate nahin saamp ke kaatane par momabattee aapako nahin poochha nahin hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या जन्मदिन के दिन केक को काटना उचित है या नहीं?Kya Janmdin Ke Din Cake Ko Katna Uchit Hai Ya Nahi
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:40
नमस्कार दोस्तों आपका पसंद है क्या जन्मदिन के दिन 1 को काटना उचित है या नहीं तो दोस्तों आपके सवाल का प्रकार है जन्मदिन के दिन के को काटना उचित है क्योंकि के को काट के सभी को खिलाया जाता है इसलिए जन्मदिन के दिन खुशियों का माहौल होता है जो सभी का मुंह मीठा किया जाता है और जन्मदिन को बड़े धूमधाम के साथ मनाया जाता है धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Namaskaar doston aapaka pasand hai kya janmadin ke din 1 ko kaatana uchit hai ya nahin to doston aapake savaal ka prakaar hai janmadin ke din ke ko kaatana uchit hai kyonki ke ko kaat ke sabhee ko khilaaya jaata hai isalie janmadin ke din khushiyon ka maahaul hota hai jo sabhee ka munh meetha kiya jaata hai aur janmadin ko bade dhoomadhaam ke saath manaaya jaata hai dhanyavaad doston khush raho

bolkar speaker
क्या जन्मदिन के दिन केक को काटना उचित है या नहीं?Kya Janmdin Ke Din Cake Ko Katna Uchit Hai Ya Nahi
Deepak Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
संस्कृतप्रचारक, संस्कृतभारती जयपुरमहानगर प्रचारप्रमुख और सन्देशप्रमुख
1:12
नमस्कार मित्र आप ने प्रश्न किया है क्या जन्मदिन के दिन एक को काटना उचित है या नहीं मित्र ने कि यह वैसे तो संस्कृति हमारे भारत देश में पहले से नहीं थी कोई जहां तक मुझे लगता है यह संस्कृति आश्चर्य संस्कृति है कि मोमबत्ती जलाकर के के ऊपर रखना और उसे बुझा कर के काटना चली फिर भी कोई नहीं अगर आप केक काटना चाहते हैं तो यह काम करिए कि हमारी भारतीय संस्कृति कहती है कि दिया बुझाओ नहीं जलाओ तो आपको दिया लगाना है ना की भुजा ना तो आप जो है मोमबत्ती का उपयोग ना करके काट सकते हैं पर मोमबत्ती को बुझाए नहीं उस पर लगाना ही नहीं है लगाते हैं तो वैसे ही हंसते बजाकर के साइड में रख दिया फिर उसको निकाल करके कहीं पर साइड में वैसे ही रख दे तो बहुत ज्यादा सही रहेगा क्योंकि आप अगर ऐसे मोमबत्ती को अगर भूल जाते हैं तो हमारी संस्कृति में बिल्कुल भी नहीं है बाकी के आप आराम से काट कर खा सकते हैं बांटते खा सकते हैं पर मोमबत्ती को बुझाना यह हमारी संस्कृति में नहीं है धन्यवाद
Namaskaar mitr aap ne prashn kiya hai kya janmadin ke din ek ko kaatana uchit hai ya nahin mitr ne ki yah vaise to sanskrti hamaare bhaarat desh mein pahale se nahin thee koee jahaan tak mujhe lagata hai yah sanskrti aashchary sanskrti hai ki momabattee jalaakar ke ke oopar rakhana aur use bujha kar ke kaatana chalee phir bhee koee nahin agar aap kek kaatana chaahate hain to yah kaam karie ki hamaaree bhaarateey sanskrti kahatee hai ki diya bujhao nahin jalao to aapako diya lagaana hai na kee bhuja na to aap jo hai momabattee ka upayog na karake kaat sakate hain par momabattee ko bujhae nahin us par lagaana hee nahin hai lagaate hain to vaise hee hansate bajaakar ke said mein rakh diya phir usako nikaal karake kaheen par said mein vaise hee rakh de to bahut jyaada sahee rahega kyonki aap agar aise momabattee ko agar bhool jaate hain to hamaaree sanskrti mein bilkul bhee nahin hai baakee ke aap aaraam se kaat kar kha sakate hain baantate kha sakate hain par momabattee ko bujhaana yah hamaaree sanskrti mein nahin hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • जन्मदिन मनाने की विधि, जन्मदिन मनाने की विधि बताइए, बच्चों का जन्मदिन मनाने की विधि
URL copied to clipboard