#जीवन शैली

bolkar speaker

क्या आधुनिक युग में लालच का वर्चस्व अधिक होता जा रहा है मानव जीवन में?

Kya Aadhunik Yug Mein Laalach Ka Varchasv Adhik Hota Ja Raha Hai Manav Jeevan Mein
 Neeraj Kumar  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए जी का जवाब
Unknown
3:17
हाय दोस्तों मैं यह सवाल है क्या आधुनिक युग में लालच का व्हाट्सएप अधिक होता जा रहा है मानव जीवन में तू आज के जमाने में हर कोई पैसा कमाना चाहता है लोग कहते जरूरी है कि उन्हें अच्छी लाइफ चाहिए थोड़ा कम भी रहेगा तो चल जाएगा लेकिन उसके मन में जरूर रहता है कि वह पैसे उसके पास होने चाहिए अगर एक आम इंसान कभी एरोप्लेन में नहीं गई बैठा है तो उसको जरूर लगेगा कि काश मेरे पास इतना पैसा होता कि मैं एरोप्लेन में बैठ सकता वह कई लोग तो एरोप्लेन में दिल्ली सफर करते हैं लेकिन कई लोग जीवन में जीवन में कभी ट्रेन में भी तक नहीं बैठे होंगे उसको पैसे नहीं होंगे तो कई लोग तो एरोप्लेन में सब सब इसी का सपना देखते हैं वह कभी जीवन में बैठ भी नहीं पाते हैं तो कई हर किसी की हर इच्छा होती है कि यह लोग वह करें मैं वहां जाऊं इस प्लेस पर में ब्लड सपना कि मैं इस देश में जाऊंगा उस शहर को घूमने तो उससे पॉसिबल का पुष्प हो सकता है अगर आप प्लेन घटा चाहते तो आपको बात पैसा होना ही चाहिए बिना पैसे का कोई आपको प्लानिंग नहीं बताएगा आपको 1 घंटे में घूमना चाहते हैं तो आपके पास पैसा ही होना चाहिए तभी आप उसमें खून पाएंगे आप नहीं घूम आएंगे तो पैसा बहुत जरूरी है आजकल लाइफ में बिना पैसे के आप कुछ भी नहीं है इसलिए लोग लालच करते हैं कि हमारे पास पैसा रहेगा तो मैं हर चीज को कर सकता हूं जो मुझे मैं करना चाहता हूं और पैसा कमाना कठिनाई आसान तो पैसा कमाना आसान है अगर आपको लगता है कि पैसा कमाना कठिन है तो आप गलत सोच रहे पैसा कमाना आसान है बस उसका नजरिया होना चाहिए कि आप किस तरीके से पैसा कमाना चाहते हैं और अच्छी तरीके से पैसा कमाए चार्जिंग कमा सकते हैं अब कई लोग होते हैं कि गारमेंट जॉब करना चाहते हैं और बहुत सारा पैसा कमाना चाहते हैं तो यह पॉसिबल नहीं है घर में जो हमें से बाप सेटिस्फाई हो सकते हैं कि आपको इतनी जल्दी मिलेगी आप इसी में ही अपना गुजारा कर सकते हैं लेकिन आप चाहते हैं कि आप बहुत सारा पैसा पैसा कमाए आप दुनिया के सबसे अमीर आदमी बन जाए तो बहुत से बिजनेस करने से ही पोषक होता है तू अगर आपको लगता है कि आप बहुत सारा पैसा कमाना चाहे तो वह बिजनेस नहीं पहुंचे बल्लभगढ़ में जो मैं पॉसिबल नहीं है तो सबकी सोच होती है कि क्या करना है कि कोई कार में जो मैं चाहता है कोई पागल समझता है कोई बिजनेस करता है सबकी इच्छा होती कि वह उसके साथ चलता है वह जुग जुग करना चाहता है अगर वह वही करे तो वह हमेशा सक्सेसफुल होगा अपनी लाइफ में जैसे मैं बिजनेस करना चाहता हूं मैं पैसा कमाना चाहता हूं तुम्हें उसी का ही काम कर रहा हूं तुम्हें अच्छा मेरे लाइफ नहीं की अच्छी मेरे जीवन एक और मैं जो करना चाहता हूं मैं वह कर सकता हूं मेरी इच्छा कि मैं इस देश में घूमना चाहो तो मैं घूम घूम कर आऊंगा क्योंकि मुझे उस तरह का मैं पैसे कमा लूंगा कि मैं उस देश को घूम सकता हूं यह सब चीज रहती हैं
Haay doston main yah savaal hai kya aadhunik yug mein laalach ka vhaatsep adhik hota ja raha hai maanav jeevan mein too aaj ke jamaane mein har koee paisa kamaana chaahata hai log kahate jarooree hai ki unhen achchhee laiph chaahie thoda kam bhee rahega to chal jaega lekin usake man mein jaroor rahata hai ki vah paise usake paas hone chaahie agar ek aam insaan kabhee eroplen mein nahin gaee baitha hai to usako jaroor lagega ki kaash mere paas itana paisa hota ki main eroplen mein baith sakata vah kaee log to eroplen mein dillee saphar karate hain lekin kaee log jeevan mein jeevan mein kabhee tren mein bhee tak nahin baithe honge usako paise nahin honge to kaee log to eroplen mein sab sab isee ka sapana dekhate hain vah kabhee jeevan mein baith bhee nahin paate hain to kaee har kisee kee har ichchha hotee hai ki yah log vah karen main vahaan jaoon is ples par mein blad sapana ki main is desh mein jaoonga us shahar ko ghoomane to usase posibal ka pushp ho sakata hai agar aap plen ghata chaahate to aapako baat paisa hona hee chaahie bina paise ka koee aapako plaaning nahin bataega aapako 1 ghante mein ghoomana chaahate hain to aapake paas paisa hee hona chaahie tabhee aap usamen khoon paenge aap nahin ghoom aaenge to paisa bahut jarooree hai aajakal laiph mein bina paise ke aap kuchh bhee nahin hai isalie log laalach karate hain ki hamaare paas paisa rahega to main har cheej ko kar sakata hoon jo mujhe main karana chaahata hoon aur paisa kamaana kathinaee aasaan to paisa kamaana aasaan hai agar aapako lagata hai ki paisa kamaana kathin hai to aap galat soch rahe paisa kamaana aasaan hai bas usaka najariya hona chaahie ki aap kis tareeke se paisa kamaana chaahate hain aur achchhee tareeke se paisa kamae chaarjing kama sakate hain ab kaee log hote hain ki gaarament job karana chaahate hain aur bahut saara paisa kamaana chaahate hain to yah posibal nahin hai ghar mein jo hamen se baap setisphaee ho sakate hain ki aapako itanee jaldee milegee aap isee mein hee apana gujaara kar sakate hain lekin aap chaahate hain ki aap bahut saara paisa paisa kamae aap duniya ke sabase ameer aadamee ban jae to bahut se bijanes karane se hee poshak hota hai too agar aapako lagata hai ki aap bahut saara paisa kamaana chaahe to vah bijanes nahin pahunche ballabhagadh mein jo main posibal nahin hai to sabakee soch hotee hai ki kya karana hai ki koee kaar mein jo main chaahata hai koee paagal samajhata hai koee bijanes karata hai sabakee ichchha hotee ki vah usake saath chalata hai vah jug jug karana chaahata hai agar vah vahee kare to vah hamesha saksesaphul hoga apanee laiph mein jaise main bijanes karana chaahata hoon main paisa kamaana chaahata hoon tumhen usee ka hee kaam kar raha hoon tumhen achchha mere laiph nahin kee achchhee mere jeevan ek aur main jo karana chaahata hoon main vah kar sakata hoon meree ichchha ki main is desh mein ghoomana chaaho to main ghoom ghoom kar aaoonga kyonki mujhe us tarah ka main paise kama loonga ki main us desh ko ghoom sakata hoon yah sab cheej rahatee hain

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या आधुनिक युग में लालच का वर्चस्व अधिक होता जा रहा है मानव जीवन में?Kya Aadhunik Yug Mein Laalach Ka Varchasv Adhik Hota Ja Raha Hai Manav Jeevan Mein
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:30
हंसने की क्या बोली कि वे लालच का वर्षों से अधिक होता जा रहा है मनोज मनु बिल्कुल लालच का बच्चों से बहुत पड़ रहा है लोग अधिक से अधिक धन इकट्ठा करने की लालसा पालने है सुरेश मैं जल्द से जल्द से जल्द से जल्द से जल्द करोड़पति अरबपति बन गई ना कोई नहीं सीखना है कि मुझे कैसे जीना है जीवन में क्या क्यों आएगी स्तर पर चलाएं धनकुट्टी के मशीन वह नहीं सीखें
Hansane kee kya bolee ki ve laalach ka varshon se adhik hota ja raha hai manoj manu bilkul laalach ka bachchon se bahut pad raha hai log adhik se adhik dhan ikattha karane kee laalasa paalane hai suresh main jald se jald se jald se jald se jald karodapati arabapati ban gaee na koee nahin seekhana hai ki mujhe kaise jeena hai jeevan mein kya kyon aaegee star par chalaen dhanakuttee ke masheen vah nahin seekhen

bolkar speaker
क्या आधुनिक युग में लालच का वर्चस्व अधिक होता जा रहा है मानव जीवन में?Kya Aadhunik Yug Mein Laalach Ka Varchasv Adhik Hota Ja Raha Hai Manav Jeevan Mein
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:26
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है क्या आधुनिक युग में लाल रंग का वर्चस्व अधिक होता जा रहा है मानव जीवन में तो फ्रेंड से हर इंसान एक जैसा नहीं होता है लेकिन बहुत पहले ऐसे इंसान होते हैं जो लालची प्रवृत्ति के होते हैं हर इंसान ऐसा नहीं होता कई लोग सिर्फ अपने में खुश रहते हैं और उनके पास जो होता है उसी में मैं बहुत होते हैं पर बहुत सारे लोग लालची किस्म के होते हैं उन्हें लगता है कि सब कुछ हमें मिल जाएगा सब हमारा ही हो जाए धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai kya aadhunik yug mein laal rang ka varchasv adhik hota ja raha hai maanav jeevan mein to phrend se har insaan ek jaisa nahin hota hai lekin bahut pahale aise insaan hote hain jo laalachee pravrtti ke hote hain har insaan aisa nahin hota kaee log sirph apane mein khush rahate hain aur unake paas jo hota hai usee mein main bahut hote hain par bahut saare log laalachee kism ke hote hain unhen lagata hai ki sab kuchh hamen mil jaega sab hamaara hee ho jae dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या आधुनिक युग में लालच का वर्चस्व अधिक होता जा रहा है, लालच का वर्चस्व
URL copied to clipboard