#जीवन शैली

Author Yogendra Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Author जी का जवाब
लेखक
4:18
हेलो दोस्तों मेरा नाम है योगेंद्र सिंह में एक लेखक हूं और लाइफ कोच वाली कौन सी बात साबित करती है कि शांति आतंक व्यक्ति के अंदर से पैदा होता है दिखाई नहीं जाते हैं बहुत अच्छा सवाल है और इस सवाल का जवाब मिलेगा आप को बच्चों में बच्चे जो छोटे होते हैं उनमें ऐसी चीज होती है जो दिखाई नहीं जाती उस समय तक तो नहीं सिखाई जाती है क्योंकि कोई बच्चा आजा वह थोड़ा बहुत चलना शुरू करता है हाथ पर चलाना शुरु करता तो एक बच्चा है जो दूसरे की चीजें छीन लेता है दूसरे से लड़ाई करता है तो उसे उसी बात में सुकून मिलता उसी बात में खुशी मिलती है लेकिन जो दूसरा बच्चा है वह आपस में शेयरिंग करता है चीज दूसरे को देता है दूसरे से लड़ाई नहीं करता तो दोनों बच्चे हैं वैसे को नहीं ऐसी चीज सिखाई नहीं गई है बाय डिफॉल्ट जो चीज है इंसान के अंदर होती है वह वही बाहर रिफ्लेक्ट करता है तो यह साबित कर पीने की उम्र सिखाया नहीं दिया है क्योंकि उस समय तुम इतनी ज्यादा लैंग्वेज समझ में भी नहीं आती है वह थोड़ा बहुत बोल सकते हैं लेकिन इन सारी चीजों को इतनी जल्दी नहीं सीख पाते तो जोन में पहले से फिट होता है जो उनके संस्कार होते हैं प्रियंका को उसके बोर्डिंग हो रही एक्ट करते हैं एक बच्चा जो दूसरे की चीजें छीन कर खुश होता है और दूसरा बच्चा अपनी चीजें शेयर करके खुश होता है तो यह सारी चीजें बताती हैं कि किस तरह से इंसान के भीतर ही सारी चीजें होती हैं और जिस इंसान के अंदर जो चीज होती है वह वही चीजें देता है गाली की बात करें या ज्ञान की बात करें जिस इंसान के भीतर गालियां भरी हुई हैं वह तो गाली देगा वह तो बुरा भला ही कहेगा लेकिन जिस इंसान के भीतर ज्ञान भरा हुआ है वह हमेशा ज्ञान की बात करेगा जीवन को सुधारने की बात करेगा और ऐसे लोग जिनके दिल में जिनके मन में अच्छी बातें होती ज्ञान होता है उन लोगों का हम महान कहते हैं जैसे हम विवेकानंद जी की बात करें उन्होंने इतना अपना नाम ऊंचा किया है उन्होंने वही चीजें दी है जो उनके अंदर और जो लोग गाली दे रहे हैं या किसी को बुरा भला कह रहे हैं या नफरत फैला रहे हैं या आतंक फैला रहे हैं तो उनके मन में जो चीजें हैं वह हिसाब से काम कर रहे हैं और बाहर की चीज अगर इफेक्ट डालती भी है तो वह से लिए डालती हैं जो कि हमारे अंदर पहले से वह चीज है यानी कि उस इंसान का इंटरेस्ट किस तरह से एक ऐसा इंसान जिसके मन में प्यार है दूसरे के लिए जो सभी से प्यार करता है उसे आप कितनी भी नफरत की बातें सिखा दीजिए उसका मन कभी दवाई नहीं देगा किसी से नफरत करने का तो तू इंटरनेट तरीके का इंसान है और दूसरी तरफ जो इंसान है नफरत करने वाला उसे आप कितनी भी प्यार की बातें सिखा दीजिए वह प्यार नहीं खेल सकती उसे तो ऑलरेडी नफरत भरी ही हुई है पहले से ही तो डिपेंड करता है कि शान की फितरत क्या है इंसान का माइंड किस तरह का काम कर रहा है और हर किसी के अलग-अलग संस्कार हैं पूर्व जन्मों के उसी के हिसाब से काम करता है और बात रही यहां पर दुनिया में तो सिंपल सी बात है अगर आप किसी का खून करोगे तो उसकी सजा मिलेगी आप किसी को बुरा भला कहोगे तो उसकी सजा मिलेगी अगर आप अच्छा काम करोगे तो आपको अच्छा कहेंगे तो डिपेंड करता है इंसान किस तरफ जाना चाहते हैं इन सबके बावजूद भी खुद को बदलने की ठानी की अपनी कमी को दूर करने की कोशिश में लग जाए तो बेशक वह बदला जा सकता है लेकिन उसके लिए उसे खुद ही कोशिश करनी पड़ेगी इसी तरीके से जो इंसान प्यार कर रहा है उसे अगर नफरत करनी है किसी से अगर इन्फ्रेंस हो करके तो उसे बहुत ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी ऐसे ही इंसुरेंस नहीं हो जाएगा कोई किसी भी चीज से तो यह सारी चीजें तो इंसान के इंटरनली होती हैं कि वह किस तरफ जाना चाहता है किस तरफ जाता है तो उस इंसान के पास जो चीज रोती हूं वही देता है यही कारण है कि इंसान के अंदर शांति होती है तो वह शांति देता है इंसान के अंदर नफरत हो गई तो वह नफरत देता है बहुत-बहुत शुक्रिया सवाल पूछने के लिए यह सवाल बहुत ही ज्यादा सोचने वाला है लोगों के लिए सभी के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद
Helo doston mera naam hai yogendr sinh mein ek lekhak hoon aur laiph koch vaalee kaun see baat saabit karatee hai ki shaanti aatank vyakti ke andar se paida hota hai dikhaee nahin jaate hain bahut achchha savaal hai aur is savaal ka javaab milega aap ko bachchon mein bachche jo chhote hote hain unamen aisee cheej hotee hai jo dikhaee nahin jaatee us samay tak to nahin sikhaee jaatee hai kyonki koee bachcha aaja vah thoda bahut chalana shuroo karata hai haath par chalaana shuru karata to ek bachcha hai jo doosare kee cheejen chheen leta hai doosare se ladaee karata hai to use usee baat mein sukoon milata usee baat mein khushee milatee hai lekin jo doosara bachcha hai vah aapas mein sheyaring karata hai cheej doosare ko deta hai doosare se ladaee nahin karata to donon bachche hain vaise ko nahin aisee cheej sikhaee nahin gaee hai baay dipholt jo cheej hai insaan ke andar hotee hai vah vahee baahar riphlekt karata hai to yah saabit kar peene kee umr sikhaaya nahin diya hai kyonki us samay tum itanee jyaada laingvej samajh mein bhee nahin aatee hai vah thoda bahut bol sakate hain lekin in saaree cheejon ko itanee jaldee nahin seekh paate to jon mein pahale se phit hota hai jo unake sanskaar hote hain priyanka ko usake bording ho rahee ekt karate hain ek bachcha jo doosare kee cheejen chheen kar khush hota hai aur doosara bachcha apanee cheejen sheyar karake khush hota hai to yah saaree cheejen bataatee hain ki kis tarah se insaan ke bheetar hee saaree cheejen hotee hain aur jis insaan ke andar jo cheej hotee hai vah vahee cheejen deta hai gaalee kee baat karen ya gyaan kee baat karen jis insaan ke bheetar gaaliyaan bharee huee hain vah to gaalee dega vah to bura bhala hee kahega lekin jis insaan ke bheetar gyaan bhara hua hai vah hamesha gyaan kee baat karega jeevan ko sudhaarane kee baat karega aur aise log jinake dil mein jinake man mein achchhee baaten hotee gyaan hota hai un logon ka ham mahaan kahate hain jaise ham vivekaanand jee kee baat karen unhonne itana apana naam ooncha kiya hai unhonne vahee cheejen dee hai jo unake andar aur jo log gaalee de rahe hain ya kisee ko bura bhala kah rahe hain ya napharat phaila rahe hain ya aatank phaila rahe hain to unake man mein jo cheejen hain vah hisaab se kaam kar rahe hain aur baahar kee cheej agar iphekt daalatee bhee hai to vah se lie daalatee hain jo ki hamaare andar pahale se vah cheej hai yaanee ki us insaan ka intarest kis tarah se ek aisa insaan jisake man mein pyaar hai doosare ke lie jo sabhee se pyaar karata hai use aap kitanee bhee napharat kee baaten sikha deejie usaka man kabhee davaee nahin dega kisee se napharat karane ka to too intaranet tareeke ka insaan hai aur doosaree taraph jo insaan hai napharat karane vaala use aap kitanee bhee pyaar kee baaten sikha deejie vah pyaar nahin khel sakatee use to olaredee napharat bharee hee huee hai pahale se hee to dipend karata hai ki shaan kee phitarat kya hai insaan ka maind kis tarah ka kaam kar raha hai aur har kisee ke alag-alag sanskaar hain poorv janmon ke usee ke hisaab se kaam karata hai aur baat rahee yahaan par duniya mein to simpal see baat hai agar aap kisee ka khoon karoge to usakee saja milegee aap kisee ko bura bhala kahoge to usakee saja milegee agar aap achchha kaam karoge to aapako achchha kahenge to dipend karata hai insaan kis taraph jaana chaahate hain in sabake baavajood bhee khud ko badalane kee thaanee kee apanee kamee ko door karane kee koshish mein lag jae to beshak vah badala ja sakata hai lekin usake lie use khud hee koshish karanee padegee isee tareeke se jo insaan pyaar kar raha hai use agar napharat karanee hai kisee se agar inphrens ho karake to use bahut jyaada mehanat karanee padegee aise hee insurens nahin ho jaega koee kisee bhee cheej se to yah saaree cheejen to insaan ke intaranalee hotee hain ki vah kis taraph jaana chaahata hai kis taraph jaata hai to us insaan ke paas jo cheej rotee hoon vahee deta hai yahee kaaran hai ki insaan ke andar shaanti hotee hai to vah shaanti deta hai insaan ke andar napharat ho gaee to vah napharat deta hai bahut-bahut shukriya savaal poochhane ke lie yah savaal bahut hee jyaada sochane vaala hai logon ke lie sabhee ke lie bahut-bahut dhanyavaad

और जवाब सुनें

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:54
नहीं कि कौन सी बात साबित करते किसान दिया पंख एक व्यक्ति के अंदर से ही पता करें जिससे कही नहीं जाती जी हां बिल्कुल हमारे जो मन है हमारा जो मस्तिष्क है जैसा सोचता है वैसे हम बन जाते हैं अगर हमने बार-बार लड़ाई की सोचेंगे बार-बार नकारात्मक सोचेंगे तो हमारा जो मन है वह पूरे शरीर को वैसी उर्जा भेजेगा और हमारा शरीर एक्टिव हो जाएगा हमारा सर हमारा शरीर लड़ाकू हो जाएगा मैं गुस्सा आने लगेगा और अगर हमारा मन होगा मस्तिष्क ऐसा सोचता है कि मैं खुश हूं मैं तू सारे लोग अच्छे हैं मुझे आज शांत रहना है मुझे खुश रहना है मुझे किसी का बुरा नहीं किया ना तो हमारा शरीर वैसे ही गतिविधियां करने लगेगा कि मस्तिष्क की ही देन है जैसा हम सोचेंगे वैसा ही हमारा जीवन बनता जाएगा धन्यवाद
Nahin ki kaun see baat saabit karate kisaan diya pankh ek vyakti ke andar se hee pata karen jisase kahee nahin jaatee jee haan bilkul hamaare jo man hai hamaara jo mastishk hai jaisa sochata hai vaise ham ban jaate hain agar hamane baar-baar ladaee kee sochenge baar-baar nakaaraatmak sochenge to hamaara jo man hai vah poore shareer ko vaisee urja bhejega aur hamaara shareer ektiv ho jaega hamaara sar hamaara shareer ladaakoo ho jaega main gussa aane lagega aur agar hamaara man hoga mastishk aisa sochata hai ki main khush hoon main too saare log achchhe hain mujhe aaj shaant rahana hai mujhe khush rahana hai mujhe kisee ka bura nahin kiya na to hamaara shareer vaise hee gatividhiyaan karane lagega ki mastishk kee hee den hai jaisa ham sochenge vaisa hee hamaara jeevan banata jaega dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • शांति और आतंक में क्या फर्क होता है, शांति कैसे प्राप्त करे, आतंक कैसे खत्म करे
URL copied to clipboard