#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker

परिकल्पना और विज्ञान का आपस में क्या नाता है?

Parikalpana Aur Vigyan Ka Apas Mein Kya Nata Hai
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
1:03
कैसेवाले कल्पना और विज्ञान का आपस में नाता है क्या जी की परिक्रमा विज्ञान का आपस में बहुत बड़ा नाता है क्योंकि आप जिस चीज की परिकल्पना करते हैं कि यह चीज मतलब अभी तक मनुष्य इस चीज पर विजय प्राप्त की है उसे विज्ञान की मदद से उस चीज को हासिल कर लेते हैं यानी कि जैसा सोचा था आज के लगभग 100 साल पहले कोई नहीं सोचता था कि जो मनुष्य को शांत पहुंचने पर मनुष्य कल परिकल्पना जरूरत थी कि वह एक बार ना एक बार चांद पर पहुंचने का प्रयास करें तो इसलिए उसने विज्ञान की मदद तो चंद्रमा पर भी पतिया मंगल ग्रह पर पहुंच गया था बीपी MP3 से संबंधित की बहुत सी चीजें भी बाकी लोग भविष्य में सभी चीजों पर विजय प्राप्त कर लेगा और तो उस पर अमल करते हैं वह चीज को अपने दिमाग में समझता है और बाद में उस कार्य को कर दिखाता है तो यही अंतर है हमारे हिसाब से बाकी आप लोगों का अलग अलग मत उसे अपना जवाब जरूर दीजिए तुम ही करता हूं कॉल का जवाब अच्छा लगा होगा धन्यवाद
Kaisevaale kalpana aur vigyaan ka aapas mein naata hai kya jee kee parikrama vigyaan ka aapas mein bahut bada naata hai kyonki aap jis cheej kee parikalpana karate hain ki yah cheej matalab abhee tak manushy is cheej par vijay praapt kee hai use vigyaan kee madad se us cheej ko haasil kar lete hain yaanee ki jaisa socha tha aaj ke lagabhag 100 saal pahale koee nahin sochata tha ki jo manushy ko shaant pahunchane par manushy kal parikalpana jaroorat thee ki vah ek baar na ek baar chaand par pahunchane ka prayaas karen to isalie usane vigyaan kee madad to chandrama par bhee patiya mangal grah par pahunch gaya tha beepee mp3 se sambandhit kee bahut see cheejen bhee baakee log bhavishy mein sabhee cheejon par vijay praapt kar lega aur to us par amal karate hain vah cheej ko apane dimaag mein samajhata hai aur baad mein us kaary ko kar dikhaata hai to yahee antar hai hamaare hisaab se baakee aap logon ka alag alag mat use apana javaab jaroor deejie tum hee karata hoon kol ka javaab achchha laga hoga dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
परिकल्पना और विज्ञान का आपस में क्या नाता है?Parikalpana Aur Vigyan Ka Apas Mein Kya Nata Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:28
आपके सोने की परिकल्पना और विज्ञान का प्रश्न है क्या नाता है तो परिकल्पना में सड़क विधि सभी वैज्ञानिक गतिविधियों का मूल पर प्रस्थान बिंदु वैज्ञानिक प्रगति प्रयोग योग्य परिकल्पना के नियंत्रण को से जैसे विज्ञान की प्रकृति होती है 2 शब्दों में हार वैज्ञानिक परिकल्पना एक बयान पर आधारित होती हैं इसकी प्रयोगों के आधार पर पुष्टि का खंडन किया जाता है
Aapake sone kee parikalpana aur vigyaan ka prashn hai kya naata hai to parikalpana mein sadak vidhi sabhee vaigyaanik gatividhiyon ka mool par prasthaan bindu vaigyaanik pragati prayog yogy parikalpana ke niyantran ko se jaise vigyaan kee prakrti hotee hai 2 shabdon mein haar vaigyaanik parikalpana ek bayaan par aadhaarit hotee hain isakee prayogon ke aadhaar par pushti ka khandan kiya jaata hai

bolkar speaker
परिकल्पना और विज्ञान का आपस में क्या नाता है?Parikalpana Aur Vigyan Ka Apas Mein Kya Nata Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:19
भ्रष्ट हैं की परिकल्पना और विज्ञान का आपस में क्या नाता है देखिए विज्ञान में जितने भी अवश्य करें हैं वह सारे परिकल्पना पर आधारित हुए हैं यानी पहले वैज्ञानिक कल्पना करते हैं कि ऐसा हो सकता है और फिर वह लग जाते हैं उसको मूर्त रूप देने में उसको रूप देने में उस काम को करने के लिए तो परिकल्पना के बिना विज्ञान सब उन्हीं परिकल्पना के बिना व्यापार संभव नहीं है क्योंकि पहले हम सोचेंगे फिर वह कार्य करेंगे तो जैसे मान लो हवाई जहाज बनाई तो उन्होंने सोचा होगा पहले कि ऐसा कुछ बनाते हैं कि जो पक्षियों की तरह उड़ सके टीवी बनाने वाले ने सोचा होगा कि कुछ ऐसा बनाते हैं कि यहां बैठे ही कुछ दूर ही चीजें दिखाई दे फोन बनाने वाले ने यह सोचा होगा कि यहां बैठे-बैठे किसी दूसरे व्यक्ति से बात करें कैसे करें कल्पना की होगी कि वहां से वह बोल रहा है यहां से मैं बोल रहा हूं गलत ना करने वाले नहीं तो गलत ना होगी कि जो वॉशिंग मशीन है जो चीज है जो ऐसी है जो खुला है जो गाड़ियां हैं जो आज जितने भी आधुनिक संस्कार हैं तो उनकी पहले कल्पना फिर उनको बनाएंगे तो विज्ञान कल्पनाओं पर आधारित है
Bhrasht hain kee parikalpana aur vigyaan ka aapas mein kya naata hai dekhie vigyaan mein jitane bhee avashy karen hain vah saare parikalpana par aadhaarit hue hain yaanee pahale vaigyaanik kalpana karate hain ki aisa ho sakata hai aur phir vah lag jaate hain usako moort roop dene mein usako roop dene mein us kaam ko karane ke lie to parikalpana ke bina vigyaan sab unheen parikalpana ke bina vyaapaar sambhav nahin hai kyonki pahale ham sochenge phir vah kaary karenge to jaise maan lo havaee jahaaj banaee to unhonne socha hoga pahale ki aisa kuchh banaate hain ki jo pakshiyon kee tarah ud sake teevee banaane vaale ne socha hoga ki kuchh aisa banaate hain ki yahaan baithe hee kuchh door hee cheejen dikhaee de phon banaane vaale ne yah socha hoga ki yahaan baithe-baithe kisee doosare vyakti se baat karen kaise karen kalpana kee hogee ki vahaan se vah bol raha hai yahaan se main bol raha hoon galat na karane vaale nahin to galat na hogee ki jo voshing masheen hai jo cheej hai jo aisee hai jo khula hai jo gaadiyaan hain jo aaj jitane bhee aadhunik sanskaar hain to unakee pahale kalpana phir unako banaenge to vigyaan kalpanaon par aadhaarit hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • शोध परिकल्पना क्या है, परिकल्पना और विज्ञान में अंतर, परिकल्पना क्या है इसका निर्माण कैसे होता है
URL copied to clipboard