#जीवन शैली

अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
2:20
प्रश्न पूछा गया ज्यादातर खामोश रहने वाले लोगों को घमंडी क्यों समझते हैं या फिर खामोश रहने वालों का मजाक उड़ाते हैं तो देखिए कोई देखे आपकी तारीफ करेगा आप खुश हो जाओगे फिर थोड़ी देर में कोई देखिए अगर आपको बुरा बोल देगा तो आप दुख हो जाओगे जब दुखी हो जाओगे लोगों के देखे कहने से आपको देखे फर्क पड़ता है फिर आप को देखे अपने ऊपर खुद विश्वास नहीं है इसलिए दुनिया क्या कहती है इस पर ध्यान मत दीजिए देखिए देखिए मैं तो यही बोलूंगा कि रिश्ते में कभी कभी चुप रहना इसलिए भी देखे बेहतर होता क्योंकि हम को पता होता है कि चुप रहने में ही भलाई है शांति व्यवस्था देखें इससे बनी रहती है और सुबह से मैं यही कहूंगा कि खामोश रहने वाले थे कि सभी लोग घमंडी नहीं होते हैं मतलब कि हर इंसान एक जैसा नहीं होता शायद कुछ खामोश रहने वाले घमंडी हो तो मिलेगी हर इंसान देखिए घमंडी नहीं होता इस प्रकृति प्रकृति ने सभी को देखे अलग अलग बनाया है किसी को ज्यादा बातचीत दिखेगा नहीं लगता है उसमें यह बिना बात के बोलता नहीं है वह तो दिखे जरूरी नहीं कि वह घमंडी हो जरा अपनी बात बताऊं तुझे कि मुझे भी ज्यादा बात करना नहीं अच्छा लगता मुझे मस्ती करता हूं माउस करता हूं सब कुछ करता हूं लेकिन कभी-कभी कुछ इंसान क्या है कुछ ज्यादा ही भूल जाते और ज्यादा बोलना कभी कभी देखेगा तो हो जाता तो लाइफ में सोचे समझे और जो दिखे अगर किसी का मजाक उड़ाता है दूसरे का मजाक नहीं वह अपने ही मज़ा बनाता है मैं आपको बता दूं जो मजाक बनाता है ना उसको यह नहीं पता था कि सामने वाला से कितना ज्यादा समझदार है लाइफ में दिखी आपको हर तरीके के लोग मिल जाएंगे जो जून का हमेशा एक ही काम रहता है दूसरों को मजाक बनाना अपना देख कर दूसरे के बारे में बुराइयां करना तो ऐसे लोगों से देखिए आप दूरी बनाकर रहेंगे वह देखिए ज्यादा सही रहेगा क्योंकि वह उनका तो जीवन भर बाद ही रहता है इसलिए अच्छा भैया देखकर मजाक बनाना शुरू से चलना दूसरों की बुराइयां करना कुछ इस तरीके प्राणी आपको देखिए लाइफ में जरूर मिलेंगे तो ऐसे लोगों से आप दूरी बनाकर हो जय हिंद जय भारत
Prashn poochha gaya jyaadaatar khaamosh rahane vaale logon ko ghamandee kyon samajhate hain ya phir khaamosh rahane vaalon ka majaak udaate hain to dekhie koee dekhe aapakee taareeph karega aap khush ho jaoge phir thodee der mein koee dekhie agar aapako bura bol dega to aap dukh ho jaoge jab dukhee ho jaoge logon ke dekhe kahane se aapako dekhe phark padata hai phir aap ko dekhe apane oopar khud vishvaas nahin hai isalie duniya kya kahatee hai is par dhyaan mat deejie dekhie dekhie main to yahee boloonga ki rishte mein kabhee kabhee chup rahana isalie bhee dekhe behatar hota kyonki ham ko pata hota hai ki chup rahane mein hee bhalaee hai shaanti vyavastha dekhen isase banee rahatee hai aur subah se main yahee kahoonga ki khaamosh rahane vaale the ki sabhee log ghamandee nahin hote hain matalab ki har insaan ek jaisa nahin hota shaayad kuchh khaamosh rahane vaale ghamandee ho to milegee har insaan dekhie ghamandee nahin hota is prakrti prakrti ne sabhee ko dekhe alag alag banaaya hai kisee ko jyaada baatacheet dikhega nahin lagata hai usamen yah bina baat ke bolata nahin hai vah to dikhe jarooree nahin ki vah ghamandee ho jara apanee baat bataoon tujhe ki mujhe bhee jyaada baat karana nahin achchha lagata mujhe mastee karata hoon maus karata hoon sab kuchh karata hoon lekin kabhee-kabhee kuchh insaan kya hai kuchh jyaada hee bhool jaate aur jyaada bolana kabhee kabhee dekhega to ho jaata to laiph mein soche samajhe aur jo dikhe agar kisee ka majaak udaata hai doosare ka majaak nahin vah apane hee maza banaata hai main aapako bata doon jo majaak banaata hai na usako yah nahin pata tha ki saamane vaala se kitana jyaada samajhadaar hai laiph mein dikhee aapako har tareeke ke log mil jaenge jo joon ka hamesha ek hee kaam rahata hai doosaron ko majaak banaana apana dekh kar doosare ke baare mein buraiyaan karana to aise logon se dekhie aap dooree banaakar rahenge vah dekhie jyaada sahee rahega kyonki vah unaka to jeevan bhar baad hee rahata hai isalie achchha bhaiya dekhakar majaak banaana shuroo se chalana doosaron kee buraiyaan karana kuchh is tareeke praanee aapako dekhie laiph mein jaroor milenge to aise logon se aap dooree banaakar ho jay hind jay bhaarat

और जवाब सुनें

Dhiraj Gurjar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dhiraj जी का जवाब
Unknown
1:06

India is Great Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए India जी का जवाब
Master Chef in House
1:07
हां यह बात सच है कि जब खामोश रहते हैं उसकी मजाक लोग वाकई में उड़ाते हैं जिसमें कि मैं कभी सोचता हूं कि कुछ नहीं बोल रहा था कोई मतलब ना उसके पीछे से कुछ करो उसके आगे से कुछ करो उसको कोई फर्क ही नहीं पड़ता है कई लोग हैं और मैं खुद भी ऐसा बोलता हूं इसमें झूठ बोलने वाली कोई बात नहीं और किसी चीज से रिलेटेड कोई किसी भी मतलब चीज के बारे में आप बात कर लो मुझसे तो मैं बकने में कभी पीछे नहीं आता हूं तो ऐसे में क्या मुझे जोर द मून धानसा बैठा रहता है उसके बारे में प्यार उसको कुछ है ही नहीं कोई मतलब ही नहीं होता है बसेरा मूर्ति किधर बैठा तो उसे बस मतलब चुप चाप से बैठे रहते हैं इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है लेकिन हां यह जरूर है कि अपने को करना नहीं चाहिए क्योंकि हर इंसान एक इंसान ही है वह भी वैसे ही है जैसे कि आप हैं बस मजाक मस्ती तो वह अपनी जगह है थोड़ा बहुत चलता है
Haan yah baat sach hai ki jab khaamosh rahate hain usakee majaak log vaakee mein udaate hain jisamen ki main kabhee sochata hoon ki kuchh nahin bol raha tha koee matalab na usake peechhe se kuchh karo usake aage se kuchh karo usako koee phark hee nahin padata hai kaee log hain aur main khud bhee aisa bolata hoon isamen jhooth bolane vaalee koee baat nahin aur kisee cheej se rileted koee kisee bhee matalab cheej ke baare mein aap baat kar lo mujhase to main bakane mein kabhee peechhe nahin aata hoon to aise mein kya mujhe jor da moon dhaanasa baitha rahata hai usake baare mein pyaar usako kuchh hai hee nahin koee matalab hee nahin hota hai basera moorti kidhar baitha to use bas matalab chup chaap se baithe rahate hain isase koee phark nahin padata hai lekin haan yah jaroor hai ki apane ko karana nahin chaahie kyonki har insaan ek insaan hee hai vah bhee vaise hee hai jaise ki aap hain bas majaak mastee to vah apanee jagah hai thoda bahut chalata hai

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:39
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका अपना प्रश्न ज्यादातर खामोश रहने वाले लोगों को घमंडी क्यों समझते हैं या फिर खामोश रहने वालों का मजाक क्यों मनाया जाता है तो फ्रेंड जो लोग खामोश रहते हैं नीलू पागल कर लेते हैं कि यह तो कुछ नहीं बोल रहे हैं इसलिए घमंडी है बेकार है उनको मजाक उड़ाते हैं ऐसा नहीं होता है जो समझदार लोग होते हैं वे खामोश रहते हैं बेवजह है जहां पर उनकी जरूरत हो फालतू की बकबक नहीं करते हैं और जहां पर उन्हें बोलना है वहीं पर बोलते हैं तो ऐसा नहीं है कि खामोश तो घमंडी होते हैं यह बहुत अच्छे होते हैं बस बोलने का सही वक्त होना चाहिए तब बोलना संवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka apana prashn jyaadaatar khaamosh rahane vaale logon ko ghamandee kyon samajhate hain ya phir khaamosh rahane vaalon ka majaak kyon manaaya jaata hai to phrend jo log khaamosh rahate hain neeloo paagal kar lete hain ki yah to kuchh nahin bol rahe hain isalie ghamandee hai bekaar hai unako majaak udaate hain aisa nahin hota hai jo samajhadaar log hote hain ve khaamosh rahate hain bevajah hai jahaan par unakee jaroorat ho phaalatoo kee bakabak nahin karate hain aur jahaan par unhen bolana hai vaheen par bolate hain to aisa nahin hai ki khaamosh to ghamandee hote hain yah bahut achchhe hote hain bas bolane ka sahee vakt hona chaahie tab bolana sanvaad

Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
3:07
जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि ज्यादातर खामोश रहने वाले लोगों को घमंडी क्यों समझते हैं या फिर खामोश रहने वाले लोगों का मजाक क्यों उड़ाते हैं लेकिन यह जो इंसान है वह अपने जैसा जो इंसान जैसा होता है वह इंसान को उसी टाइप से जांच करता तो अक्सर मतलब यह इंसान बहुत अच्छे होते हैं जो खामोश रहते हैं या फिर जो थोड़ा कम बोलते हैं तो वह इंसान बहुत ज्यादा बैटर होते हैं क्योंकि वह हर सिचुएशन को समझते हैं उसके बाद बोलते हैं और कोई इंसान बहुत ज्यादा बोलता रहता पक पक पक पक तो क्या होता है कि लोग मतलब उससे बहुत ज्यादा कि हां यार यह तो यह तीव्रता है यह करता है वह है लेकिन हर इंसान का अपना तरीका होता तो मैं यह बता दूं कि जो इंसान है कोई भी इंसान है वह कोई कैसे भी रहे कोई ज्यादा बोले या फिर कोई ज्यादा कम बोले अपने साइड से ही दर्द करेगा डेट्स बैटर कि जो इंसान जिस चीज में कंफर्टेबल है तू और कम बोलना भी बहुत सही बात है क्योंकि नहीं किए कम बोलने से क्या होता है कि अगर विवाद होने के चांसेस बहुत कम होते हैं एंड को और उसकी जो एलर्जी होती है वह दोस्ती होती है जैसे कि आप बोलोगे कि जो एनर्जी बोलने में भी बहुत ज्यादा लगती है जो कम बोलता है तो है क्या होता है कि उसके उसके बाद उसके बाद की वैल्यू भी रहती है जो इंसान बोलता रहता है 14 घंटे तो उसके बाद की कोई वैल्यू नहीं रहती लेकिन जो इंसान शांत रहता है और वह कोई बात बात बोलता है तो क्या होता है कि उसकी बात क्यों पराई होती है और ज्यादातर आप नोटिस क्योंकि जितने भी मतलब मैं एजुकेटेड लोग होते हैं वह बहुत कम बोलते हैं जितनी बात रहती है उतनी उतना ही बोलते हैं तो हम नहीं किसी को जज कर सकते क्योंकि ऐसी क्वालिटी है तो वह इंसान है ऐसा है और मतलब कोई ऐसा है तो वह ऐसा नहीं कर सकते क्योंकि हर एक इंसान का एक अलग क्या तो मैं कहूंगी कि कोई कैसा भी हो उसको ऐसे ही एक्सेप्ट करना चाहिए वहां अक्सर सोसाइटी में ऐसा होता है कि लोग अगर कोई काम बोलता है तो लोग कहते हैं घमंडी है क्या हो गया बोलने दो बोलने से क्या होने वाला है क्योंकि हम दुनिया को देख कर चलने लगेंगे अगर हम यह सोचने लगे कि दुनिया क्या सोचेगी तो फिर दुनिया क्या सोचेगी बात तो मैं तुम्हें यही सजेशन देना सॉन्ग कि आप जैसे कोई भी इंसान जैसा अच्छा अच्छा फील करता अगर वह कम बोलने में अच्छा फील करता है अगर वह ज्यादा बोलने में अच्छा फिर करता तो वह ऐसे बोले और ना कि मतलब हर चीज में बैलेंस होना चाहिए जैसे कोई कम बोलता है तो भी बैठा है कोई ज्यादा ज्यादा बोलने वाले लोगों को देखा है कि उन्हें बहुत सारा नुकसान होता है और हर एक बात अपनी शेयर कर देते हैं और मतलब क्या होता है कि फिर बाद में उन्हें बहुत ज्यादा पछतावा होने लगता तो मेरे हिसाब से कोई इंसान कैसे भी जज करें बस अपने आप में ही करना चाहिए खुशी रखनी चाहिए क्योंकि कोई इंसान कितना भी बैटर बनता है उसमें लोग खामियां निकालेंगे थैंक यू
Jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki jyaadaatar khaamosh rahane vaale logon ko ghamandee kyon samajhate hain ya phir khaamosh rahane vaale logon ka majaak kyon udaate hain lekin yah jo insaan hai vah apane jaisa jo insaan jaisa hota hai vah insaan ko usee taip se jaanch karata to aksar matalab yah insaan bahut achchhe hote hain jo khaamosh rahate hain ya phir jo thoda kam bolate hain to vah insaan bahut jyaada baitar hote hain kyonki vah har sichueshan ko samajhate hain usake baad bolate hain aur koee insaan bahut jyaada bolata rahata pak pak pak pak to kya hota hai ki log matalab usase bahut jyaada ki haan yaar yah to yah teevrata hai yah karata hai vah hai lekin har insaan ka apana tareeka hota to main yah bata doon ki jo insaan hai koee bhee insaan hai vah koee kaise bhee rahe koee jyaada bole ya phir koee jyaada kam bole apane said se hee dard karega dets baitar ki jo insaan jis cheej mein kamphartebal hai too aur kam bolana bhee bahut sahee baat hai kyonki nahin kie kam bolane se kya hota hai ki agar vivaad hone ke chaanses bahut kam hote hain end ko aur usakee jo elarjee hotee hai vah dostee hotee hai jaise ki aap bologe ki jo enarjee bolane mein bhee bahut jyaada lagatee hai jo kam bolata hai to hai kya hota hai ki usake usake baad usake baad kee vailyoo bhee rahatee hai jo insaan bolata rahata hai 14 ghante to usake baad kee koee vailyoo nahin rahatee lekin jo insaan shaant rahata hai aur vah koee baat baat bolata hai to kya hota hai ki usakee baat kyon paraee hotee hai aur jyaadaatar aap notis kyonki jitane bhee matalab main ejuketed log hote hain vah bahut kam bolate hain jitanee baat rahatee hai utanee utana hee bolate hain to ham nahin kisee ko jaj kar sakate kyonki aisee kvaalitee hai to vah insaan hai aisa hai aur matalab koee aisa hai to vah aisa nahin kar sakate kyonki har ek insaan ka ek alag kya to main kahoongee ki koee kaisa bhee ho usako aise hee eksept karana chaahie vahaan aksar sosaitee mein aisa hota hai ki log agar koee kaam bolata hai to log kahate hain ghamandee hai kya ho gaya bolane do bolane se kya hone vaala hai kyonki ham duniya ko dekh kar chalane lagenge agar ham yah sochane lage ki duniya kya sochegee to phir duniya kya sochegee baat to main tumhen yahee sajeshan dena song ki aap jaise koee bhee insaan jaisa achchha achchha pheel karata agar vah kam bolane mein achchha pheel karata hai agar vah jyaada bolane mein achchha phir karata to vah aise bole aur na ki matalab har cheej mein bailens hona chaahie jaise koee kam bolata hai to bhee baitha hai koee jyaada jyaada bolane vaale logon ko dekha hai ki unhen bahut saara nukasaan hota hai aur har ek baat apanee sheyar kar dete hain aur matalab kya hota hai ki phir baad mein unhen bahut jyaada pachhataava hone lagata to mere hisaab se koee insaan kaise bhee jaj karen bas apane aap mein hee karana chaahie khushee rakhanee chaahie kyonki koee insaan kitana bhee baitar banata hai usamen log khaamiyaan nikaalenge thaink yoo

Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
3:07
जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि ज्यादातर खामोश रहने वाले लोगों को घमंडी क्यों समझते हैं या फिर खामोश रहने वाले लोगों का मजाक क्यों उड़ाते हैं लेकिन यह जो इंसान है वह अपने जैसा जो इंसान जैसा होता है वह इंसान को उसी टाइप से जांच करता तो अक्सर मतलब यह इंसान बहुत अच्छे होते हैं जो खामोश रहते हैं या फिर जो थोड़ा कम बोलते हैं तो वह इंसान बहुत ज्यादा बैटर होते हैं क्योंकि वह हर सिचुएशन को समझते हैं उसके बाद बोलते हैं और कोई इंसान बहुत ज्यादा बोलता रहता पक पक पक पक तो क्या होता है कि लोग मतलब उससे बहुत ज्यादा कि हां यार यह तो यह तीव्रता है यह करता है वह है लेकिन हर इंसान का अपना तरीका होता तो मैं यह बता दूं कि जो इंसान है कोई भी इंसान है वह कोई कैसे भी रहे कोई ज्यादा बोले या फिर कोई ज्यादा कम बोले अपने साइड से ही दर्द करेगा डेट्स बैटर कि जो इंसान जिस चीज में कंफर्टेबल है तू और कम बोलना भी बहुत सही बात है क्योंकि नहीं किए कम बोलने से क्या होता है कि अगर विवाद होने के चांसेस बहुत कम होते हैं एंड को और उसकी जो एलर्जी होती है वह दोस्ती होती है जैसे कि आप बोलोगे कि जो एनर्जी बोलने में भी बहुत ज्यादा लगती है जो कम बोलता है तो है क्या होता है कि उसके उसके बाद उसके बाद की वैल्यू भी रहती है जो इंसान बोलता रहता है 14 घंटे तो उसके बाद की कोई वैल्यू नहीं रहती लेकिन जो इंसान शांत रहता है और वह कोई बात बात बोलता है तो क्या होता है कि उसकी बात क्यों पराई होती है और ज्यादातर आप नोटिस क्योंकि जितने भी मतलब मैं एजुकेटेड लोग होते हैं वह बहुत कम बोलते हैं जितनी बात रहती है उतनी उतना ही बोलते हैं तो हम नहीं किसी को जज कर सकते क्योंकि ऐसी क्वालिटी है तो वह इंसान है ऐसा है और मतलब कोई ऐसा है तो वह ऐसा नहीं कर सकते क्योंकि हर एक इंसान का एक अलग क्या तो मैं कहूंगी कि कोई कैसा भी हो उसको ऐसे ही एक्सेप्ट करना चाहिए वहां अक्सर सोसाइटी में ऐसा होता है कि लोग अगर कोई काम बोलता है तो लोग कहते हैं घमंडी है क्या हो गया बोलने दो बोलने से क्या होने वाला है क्योंकि हम दुनिया को देख कर चलने लगेंगे अगर हम यह सोचने लगे कि दुनिया क्या सोचेगी तो फिर दुनिया क्या सोचेगी बात तो मैं तुम्हें यही सजेशन देना सॉन्ग कि आप जैसे कोई भी इंसान जैसा अच्छा अच्छा फील करता अगर वह कम बोलने में अच्छा फील करता है अगर वह ज्यादा बोलने में अच्छा फिर करता तो वह ऐसे बोले और ना कि मतलब हर चीज में बैलेंस होना चाहिए जैसे कोई कम बोलता है तो भी बैठा है कोई ज्यादा ज्यादा बोलने वाले लोगों को देखा है कि उन्हें बहुत सारा नुकसान होता है और हर एक बात अपनी शेयर कर देते हैं और मतलब क्या होता है कि फिर बाद में उन्हें बहुत ज्यादा पछतावा होने लगता तो मेरे हिसाब से कोई इंसान कैसे भी जज करें बस अपने आप में ही करना चाहिए खुशी रखनी चाहिए क्योंकि कोई इंसान कितना भी बैटर बनता है उसमें लोग खामियां निकालेंगे थैंक यू
Jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki jyaadaatar khaamosh rahane vaale logon ko ghamandee kyon samajhate hain ya phir khaamosh rahane vaale logon ka majaak kyon udaate hain lekin yah jo insaan hai vah apane jaisa jo insaan jaisa hota hai vah insaan ko usee taip se jaanch karata to aksar matalab yah insaan bahut achchhe hote hain jo khaamosh rahate hain ya phir jo thoda kam bolate hain to vah insaan bahut jyaada baitar hote hain kyonki vah har sichueshan ko samajhate hain usake baad bolate hain aur koee insaan bahut jyaada bolata rahata pak pak pak pak to kya hota hai ki log matalab usase bahut jyaada ki haan yaar yah to yah teevrata hai yah karata hai vah hai lekin har insaan ka apana tareeka hota to main yah bata doon ki jo insaan hai koee bhee insaan hai vah koee kaise bhee rahe koee jyaada bole ya phir koee jyaada kam bole apane said se hee dard karega dets baitar ki jo insaan jis cheej mein kamphartebal hai too aur kam bolana bhee bahut sahee baat hai kyonki nahin kie kam bolane se kya hota hai ki agar vivaad hone ke chaanses bahut kam hote hain end ko aur usakee jo elarjee hotee hai vah dostee hotee hai jaise ki aap bologe ki jo enarjee bolane mein bhee bahut jyaada lagatee hai jo kam bolata hai to hai kya hota hai ki usake usake baad usake baad kee vailyoo bhee rahatee hai jo insaan bolata rahata hai 14 ghante to usake baad kee koee vailyoo nahin rahatee lekin jo insaan shaant rahata hai aur vah koee baat baat bolata hai to kya hota hai ki usakee baat kyon paraee hotee hai aur jyaadaatar aap notis kyonki jitane bhee matalab main ejuketed log hote hain vah bahut kam bolate hain jitanee baat rahatee hai utanee utana hee bolate hain to ham nahin kisee ko jaj kar sakate kyonki aisee kvaalitee hai to vah insaan hai aisa hai aur matalab koee aisa hai to vah aisa nahin kar sakate kyonki har ek insaan ka ek alag kya to main kahoongee ki koee kaisa bhee ho usako aise hee eksept karana chaahie vahaan aksar sosaitee mein aisa hota hai ki log agar koee kaam bolata hai to log kahate hain ghamandee hai kya ho gaya bolane do bolane se kya hone vaala hai kyonki ham duniya ko dekh kar chalane lagenge agar ham yah sochane lage ki duniya kya sochegee to phir duniya kya sochegee baat to main tumhen yahee sajeshan dena song ki aap jaise koee bhee insaan jaisa achchha achchha pheel karata agar vah kam bolane mein achchha pheel karata hai agar vah jyaada bolane mein achchha phir karata to vah aise bole aur na ki matalab har cheej mein bailens hona chaahie jaise koee kam bolata hai to bhee baitha hai koee jyaada jyaada bolane vaale logon ko dekha hai ki unhen bahut saara nukasaan hota hai aur har ek baat apanee sheyar kar dete hain aur matalab kya hota hai ki phir baad mein unhen bahut jyaada pachhataava hone lagata to mere hisaab se koee insaan kaise bhee jaj karen bas apane aap mein hee karana chaahie khushee rakhanee chaahie kyonki koee insaan kitana bhee baitar banata hai usamen log khaamiyaan nikaalenge thaink yoo

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • खामोशी में कौन रहता है, क्या खामोश रहने वाले लोग घमंडी होते है ?
URL copied to clipboard