#जीवन शैली

bolkar speaker

कुछ लोग अपने जिंदगी में करना बहुत चाहते हैं पर कुछ भी नहीं कर पाते ऐसा क्यों?

Kuch Log Apne Jindagi Mein Karna Bahut Chahate Hain Par Kuch Bh Nahin Kar Paate Aisa Kyun
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
4:50
कुछ लोग अपनी जिंदगी में करना बहुत चाहते हैं पर कुछ भी नहीं कर पाते ऐसा क्यों तो दोस्तों इसके पीछे का कारण है आपका कमजोर पराक्रम क्योंकि जो आप करना चाहते हैं वह आपकी चाहत है जबकि उस कार्य को आप को पूरा करना है वह आपका कर्म यानी कि आपका पराक्रम है आप बने कितना भी कुछ करना क्यों नहीं चाहते हो लेकिन जब तक आपका पराक्रम सही ढंग से आपका काम नहीं करेगा पराक्रम आपका शरीर काम नहीं है तब तक कोई भी इंसान कुछ नहीं कर पाता है इसीलिए जिस चीज की चाहत रखते हो और चाहत को पूरा करने की आप को साथ में साथ में शक्ति भी रखनी चाहिए दूसरा है मोटिवेशन मोटिवेशन का मतलब कि आपको कोई जो है गाइड करने वाला नहीं होता आपको कोई यह कॉन्फिडेंट चलाने वाला नहीं होता है कोई मोटिवेशन दिलाने वाला ऐसा नहीं होता है जो कि आपके द्वारा की हुई इच्छाओं और जो है चाहतों को पूरा करने में मदद कर सके कई बार ऐसा होता है कि बहुत से लोग की चाहत होती मैं यह करो वह करो लेकिन दोस्त उसे चाहत जो करता है उसके पीछे का उसे ज्ञान नहीं होता है कि वह हम काम करें कैसे जिस कारण उससे एक ऐसे व्यक्ति की जरूरत होती है उस समय जो उसे उस काम के प्रति उसी का ज्ञान देने वाला होना चाहिए और उसे वह मोटिवेशन देने वाला होना चाहिए और कॉन्फिडेंट देने वाला होना चाहिए तब कोई भी कार्य सफल होता है तीसरा है कर्म और संकल्प बहुत से लोग ऐसे होते हैं कि मैं इस लाइन में जाऊंगा मैं यह काम करूंगा या कुछ भी यह कोई भी कार्य करने से पहले उसकी कल्पना है तो करते हैं परंतु उस प्रकार का कर्म नहीं करते हैं कर्म जब तक कोई नहीं करेगा जब तक जो है वह कार्य संभव नहीं होगा क्योंकि ऋषि मुनियों ने कहा है कि कर्म प्रधान विश्व याद आती राजा यानी कि कर्म में ही सारी चीजें छुपी हुई है जब तक आप किसी चीज का कल नहीं करोगे तब तक वह चीज आपके सामने आपके हाथ में नहीं आएगी आप चाहते तो बहुत रखते हैं लेकिन मेहनत नहीं करते हैं तो चाहत कैसे पूरी होगी क्योंकि चाहत से करने में और मेहनत करने में बहुत अंतर होता है आदमी कोई भी कार्य हो कैसा भी कार्य हो सफलता आपको तभी मिलेगी जब आप उन चाहतों को पूरा करने में पराक्रम करते हैं बिना पराक्रम के कुछ नहीं होने वाला होता है संकल्प शक्ति कहते हैं कि किसी भी चीज की चाहत करने और संकल्प करने में बहुत अंतर होता है चाहते तो कोई भी कर सकता है कि मैं यह भी बन जाऊं वह भी बन जाओ लेकिन संकल्प यानी कि जैसे हम सामान्य भाषा में कटक गांठ बांधना हम संकल्प नहीं करते कि यह कार्य हमें करना हां है तो करना ही है संकल्प हम कर लेते हैं किसी चीज का तो वहां पर हमारा प्रकृति भी साथ रहती है हमें इतनी शक्ति प्रदान करती है हम उस कार्य को करने में सक्षम हो इसीलिए सपने तो देखने चाहिए चाहते करनी चाहिए लेकिन चाहतों को पूरा करने के पीछे एक संकल्प होना चाहिए पांचवा है मकसद मकसद एक ऐसी चीज होती है कि आप जो काम कर रहे हो किसके लिए कर रहे हैं जैसे कि बहुत से लोग कहते हैं वह लोग कहते में जी रहा हूं किसके लिए जी रहा हूं या मैं कुछ काम कर रहा हूं अपने लिए परिवार के लिए फैमिली के लिए कर रहा हूं या लड़की के लिए कर रहा किसके लिए कर रहा हूं तो एक जो है मकसद जिंदगी का होना चाहिए क्योंकि मकसद होने से भी होता है कि व्यक्ति को जो है जीने की चाहत में जीने की चाहत मिलेगी तो आपको कुछ करने की चाहत में लगी मान लीजिए कि आप की कोई अच्छी गर्लफ्रेंड है ठीक है या माता-पिता है या कुछ भी आप अपने जीवन में उनके लिए कुछ करना चाहते हैं तो आपको एक शक्ति मिलेंगे एक ताकत मिलती है कि हां भाई बहन के लिए कुछ करूंगा तो जो है मुझे एक जीने का मकसद है मैं अपने लिए जी लूंगा या किसके लिए जिऊंगा या मैं किसके लिए जी रहा हूं उसके लिए मकसद होना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से इंसान को अपनी जिंदगी को जीने का एक मकसद मिल जाता है एक रास्ता मिल जाता है कि मैं किस और आगे बढ़ रहा हूं मैं मान लूं आपकी जिंदगी में कोई अच्छी सी लड़की आ गई ठीक है और आप जो है उसके लिए जी रहे हैं अगर आपको लगे कि वह लड़की अच्छी है जिंदगी में मेरा सहारा बनेगी तो आप हर जरूरी कोशिश करोगे उसको पाने के लिए आप पराक्रम करोगे मेहनत करोगे सब चीजें प्राप्त करने की कोशिश करोगे यह कुछ बातें जिससे हम जानते हैं कि
Kuchh log apanee jindagee mein karana bahut chaahate hain par kuchh bhee nahin kar paate aisa kyon to doston isake peechhe ka kaaran hai aapaka kamajor paraakram kyonki jo aap karana chaahate hain vah aapakee chaahat hai jabaki us kaary ko aap ko poora karana hai vah aapaka karm yaanee ki aapaka paraakram hai aap bane kitana bhee kuchh karana kyon nahin chaahate ho lekin jab tak aapaka paraakram sahee dhang se aapaka kaam nahin karega paraakram aapaka shareer kaam nahin hai tab tak koee bhee insaan kuchh nahin kar paata hai iseelie jis cheej kee chaahat rakhate ho aur chaahat ko poora karane kee aap ko saath mein saath mein shakti bhee rakhanee chaahie doosara hai motiveshan motiveshan ka matalab ki aapako koee jo hai gaid karane vaala nahin hota aapako koee yah konphident chalaane vaala nahin hota hai koee motiveshan dilaane vaala aisa nahin hota hai jo ki aapake dvaara kee huee ichchhaon aur jo hai chaahaton ko poora karane mein madad kar sake kaee baar aisa hota hai ki bahut se log kee chaahat hotee main yah karo vah karo lekin dost use chaahat jo karata hai usake peechhe ka use gyaan nahin hota hai ki vah ham kaam karen kaise jis kaaran usase ek aise vyakti kee jaroorat hotee hai us samay jo use us kaam ke prati usee ka gyaan dene vaala hona chaahie aur use vah motiveshan dene vaala hona chaahie aur konphident dene vaala hona chaahie tab koee bhee kaary saphal hota hai teesara hai karm aur sankalp bahut se log aise hote hain ki main is lain mein jaoonga main yah kaam karoonga ya kuchh bhee yah koee bhee kaary karane se pahale usakee kalpana hai to karate hain parantu us prakaar ka karm nahin karate hain karm jab tak koee nahin karega jab tak jo hai vah kaary sambhav nahin hoga kyonki rshi muniyon ne kaha hai ki karm pradhaan vishv yaad aatee raaja yaanee ki karm mein hee saaree cheejen chhupee huee hai jab tak aap kisee cheej ka kal nahin karoge tab tak vah cheej aapake saamane aapake haath mein nahin aaegee aap chaahate to bahut rakhate hain lekin mehanat nahin karate hain to chaahat kaise pooree hogee kyonki chaahat se karane mein aur mehanat karane mein bahut antar hota hai aadamee koee bhee kaary ho kaisa bhee kaary ho saphalata aapako tabhee milegee jab aap un chaahaton ko poora karane mein paraakram karate hain bina paraakram ke kuchh nahin hone vaala hota hai sankalp shakti kahate hain ki kisee bhee cheej kee chaahat karane aur sankalp karane mein bahut antar hota hai chaahate to koee bhee kar sakata hai ki main yah bhee ban jaoon vah bhee ban jao lekin sankalp yaanee ki jaise ham saamaany bhaasha mein katak gaanth baandhana ham sankalp nahin karate ki yah kaary hamen karana haan hai to karana hee hai sankalp ham kar lete hain kisee cheej ka to vahaan par hamaara prakrti bhee saath rahatee hai hamen itanee shakti pradaan karatee hai ham us kaary ko karane mein saksham ho iseelie sapane to dekhane chaahie chaahate karanee chaahie lekin chaahaton ko poora karane ke peechhe ek sankalp hona chaahie paanchava hai makasad makasad ek aisee cheej hotee hai ki aap jo kaam kar rahe ho kisake lie kar rahe hain jaise ki bahut se log kahate hain vah log kahate mein jee raha hoon kisake lie jee raha hoon ya main kuchh kaam kar raha hoon apane lie parivaar ke lie phaimilee ke lie kar raha hoon ya ladakee ke lie kar raha kisake lie kar raha hoon to ek jo hai makasad jindagee ka hona chaahie kyonki makasad hone se bhee hota hai ki vyakti ko jo hai jeene kee chaahat mein jeene kee chaahat milegee to aapako kuchh karane kee chaahat mein lagee maan leejie ki aap kee koee achchhee garlaphrend hai theek hai ya maata-pita hai ya kuchh bhee aap apane jeevan mein unake lie kuchh karana chaahate hain to aapako ek shakti milenge ek taakat milatee hai ki haan bhaee bahan ke lie kuchh karoonga to jo hai mujhe ek jeene ka makasad hai main apane lie jee loonga ya kisake lie jioonga ya main kisake lie jee raha hoon usake lie makasad hona chaahie kyonki aisa karane se insaan ko apanee jindagee ko jeene ka ek makasad mil jaata hai ek raasta mil jaata hai ki main kis aur aage badh raha hoon main maan loon aapakee jindagee mein koee achchhee see ladakee aa gaee theek hai aur aap jo hai usake lie jee rahe hain agar aapako lage ki vah ladakee achchhee hai jindagee mein mera sahaara banegee to aap har jarooree koshish karoge usako paane ke lie aap paraakram karoge mehanat karoge sab cheejen praapt karane kee koshish karoge yah kuchh baaten jisase ham jaanate hain ki

और जवाब सुनें

bolkar speaker
कुछ लोग अपने जिंदगी में करना बहुत चाहते हैं पर कुछ भी नहीं कर पाते ऐसा क्यों?Kuch Log Apne Jindagi Mein Karna Bahut Chahate Hain Par Kuch Bh Nahin Kar Paate Aisa Kyun
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:04
नमस्कार दोस्तों प्रश्न ही कुछ लोग अपनी जिंदगी में करना बहुत चाहते हैं पर कुछ भी नहीं कर पाते ऐसा क्यों तो दोस्तों बहुत सारे लोग ऐसे हैं कि करना बस आपने खाली पुलाव बनाते रहते हैं मन में सोचते रहते हैं लेकिन उन पर क्रियान्वित नहीं करते हैं बहुत लोगों ऐसे करते हैं यह करूंगा मैं यह कर लूंगा लेकिन उसके लिए तत्परता नहीं दिखाते उसके लिए बात नहीं करते और जो चीज होती है उसे संतुष्ट हो जाते हैं बस बातों-बातों में ही रहते हैं बहुत सारे में देखा है जो करने वाले व्यक्ति होती है वह ज्यादा बोलते नहीं है वह जो है कुछ करते रहते हैं हाल ही अपने समय को नहीं बताते हैं अपने खाली समय का सदुपयोग करते हैं लेकिन बहुत सारे ऐसे व्यक्तियों को देखा है बस वह कहते हैं कि यह करूंगा यह करूंगा वह करूंगा यह सब बताने में ही वह समय नष्ट कर देते हैं अपना जहां तक खाली समय व्यतीत करते रहते हैं इसलिए वह सफल नहीं हो पाते हैं और जो सफल होते हैं तो सफलता एक प्रोत्साहन का भी रास्ता दिखाती है और प्रोत्साहित होते और काम करने की इच्छा रखते हैं धन्यवाद
Namaskaar doston prashn hee kuchh log apanee jindagee mein karana bahut chaahate hain par kuchh bhee nahin kar paate aisa kyon to doston bahut saare log aise hain ki karana bas aapane khaalee pulaav banaate rahate hain man mein sochate rahate hain lekin un par kriyaanvit nahin karate hain bahut logon aise karate hain yah karoonga main yah kar loonga lekin usake lie tatparata nahin dikhaate usake lie baat nahin karate aur jo cheej hotee hai use santusht ho jaate hain bas baaton-baaton mein hee rahate hain bahut saare mein dekha hai jo karane vaale vyakti hotee hai vah jyaada bolate nahin hai vah jo hai kuchh karate rahate hain haal hee apane samay ko nahin bataate hain apane khaalee samay ka sadupayog karate hain lekin bahut saare aise vyaktiyon ko dekha hai bas vah kahate hain ki yah karoonga yah karoonga vah karoonga yah sab bataane mein hee vah samay nasht kar dete hain apana jahaan tak khaalee samay vyateet karate rahate hain isalie vah saphal nahin ho paate hain aur jo saphal hote hain to saphalata ek protsaahan ka bhee raasta dikhaatee hai aur protsaahit hote aur kaam karane kee ichchha rakhate hain dhanyavaad

bolkar speaker
कुछ लोग अपने जिंदगी में करना बहुत चाहते हैं पर कुछ भी नहीं कर पाते ऐसा क्यों?Kuch Log Apne Jindagi Mein Karna Bahut Chahate Hain Par Kuch Bh Nahin Kar Paate Aisa Kyun
Rohit Rathore Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Student
1:10
तुम एक्सप्रेस सप्ताह में एक बोलता है प्रोफाइल पर ऑप्शन में रोहित राठौर 2 तेलुगू हिंदी में सिर्फ इसलिए नहीं सफल हो पाते क्योंकि वह कुछ बड़ा करना चाहते हैं उसे जाना और करना बहुत अलग होता है क्योंकि कुछ लोग सिर्फ हिंदी में बहुत बड़ा आया बहुत अच्छा करना चाहते हो सब इसके बारे में सोचते हैं इसके लिए करते नहीं उसके पहले अगर आप कुछ करना चाहते हैं तो उसे लिख लीजिए जब आप ऐसे लिखते हैं ना तो आपके माइंड में सब कुछ बना लेता है किसी जगह बना देता है क्या आप उसे अटेंड या तो आपको पहले ही बता ए जिंदगी में क्यों नीला होना जरूरी है यह मैंने किसी भैया से से खोलेला अपने काम को बना लूं कि आप चाहते हैं हिंदी में कुछ अपनी अपनी ला बना लो अगर आप उस चीज को तहे दिल से चाहो तो सारी कायनात उसे आपसे मिलने लग जाएगी इसी प्रकार के लोग चाहते हैं कि जाने में से नहीं कर पाते बस यही दिक्कत है कि जो लोग करते हैं वह कर ही देते हैं और जो लोग चाहते हैं वह सब चाहते हैं उसे कर कभी कर नहीं पाते तो आप जो भी गोल सचिव करना चाहते उन्हें के ऊपर काम करना कभी से इसी वक्त से काम करना चालू करें कि एक बड़ा अफसोस है और छोटा स्टार्ट करें धन्यवाद मिलते हैं उसे अगले साल में 1 तक के लिए
Tum eksapres saptaah mein ek bolata hai prophail par opshan mein rohit raathaur 2 telugoo hindee mein sirph isalie nahin saphal ho paate kyonki vah kuchh bada karana chaahate hain use jaana aur karana bahut alag hota hai kyonki kuchh log sirph hindee mein bahut bada aaya bahut achchha karana chaahate ho sab isake baare mein sochate hain isake lie karate nahin usake pahale agar aap kuchh karana chaahate hain to use likh leejie jab aap aise likhate hain na to aapake maind mein sab kuchh bana leta hai kisee jagah bana deta hai kya aap use atend ya to aapako pahale hee bata e jindagee mein kyon neela hona jarooree hai yah mainne kisee bhaiya se se kholela apane kaam ko bana loon ki aap chaahate hain hindee mein kuchh apanee apanee la bana lo agar aap us cheej ko tahe dil se chaaho to saaree kaayanaat use aapase milane lag jaegee isee prakaar ke log chaahate hain ki jaane mein se nahin kar paate bas yahee dikkat hai ki jo log karate hain vah kar hee dete hain aur jo log chaahate hain vah sab chaahate hain use kar kabhee kar nahin paate to aap jo bhee gol sachiv karana chaahate unhen ke oopar kaam karana kabhee se isee vakt se kaam karana chaaloo karen ki ek bada aphasos hai aur chhota staart karen dhanyavaad milate hain use agale saal mein 1 tak ke lie

bolkar speaker
कुछ लोग अपने जिंदगी में करना बहुत चाहते हैं पर कुछ भी नहीं कर पाते ऐसा क्यों?Kuch Log Apne Jindagi Mein Karna Bahut Chahate Hain Par Kuch Bh Nahin Kar Paate Aisa Kyun
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:11
प्रश्न है कि कुछ लोग अपनी जिंदगी में करना बहुत चाहते हैं मैं कुछ भी नहीं कर पाते ऐसा क्यों है दिखे इसके पीछे कारण है कि वह लोग कदम नहीं उठाते शुरुआत नहीं करते सिर्फ सोचते रहते हैं इसलिए सोचने से जीवन नहीं चलता सोचने से सफलता नहीं मिलती शुरुआत करनी पड़ेगी कंसिस्टेंसी रेक्टिव पड़ेगी आप जो भी काम करना चाहते हैं अगर आप लगातार थोड़ा-थोड़ा करो नहीं तो सफल हो जाएंगे एक उदाहरण के तौर पर देखें मान लीजिए आप बोल कर भी जवाब देना चाहते हैं लेकिन आप शुरुआत ही नहीं कर रहे हैं तो आपको बिलीव कैसे आएंगे आपको मैसेजेस आपने रोज दो जवाब भी तो महीने के साथ जवाब हो गए आपने प्रतिदिन तो जवाब भी तो 1 महीने के 30 वा हो जाते हैं और साल में लगभग 36 हो जब आप बोलोगे तो कहने का मतलब है शुरुआत करनी पड़ती है और कल से 22:00 से लिखना पड़ता है धन्यवाद
Prashn hai ki kuchh log apanee jindagee mein karana bahut chaahate hain main kuchh bhee nahin kar paate aisa kyon hai dikhe isake peechhe kaaran hai ki vah log kadam nahin uthaate shuruaat nahin karate sirph sochate rahate hain isalie sochane se jeevan nahin chalata sochane se saphalata nahin milatee shuruaat karanee padegee kansistensee rektiv padegee aap jo bhee kaam karana chaahate hain agar aap lagaataar thoda-thoda karo nahin to saphal ho jaenge ek udaaharan ke taur par dekhen maan leejie aap bol kar bhee javaab dena chaahate hain lekin aap shuruaat hee nahin kar rahe hain to aapako bileev kaise aaenge aapako maisejes aapane roj do javaab bhee to maheene ke saath javaab ho gae aapane pratidin to javaab bhee to 1 maheene ke 30 va ho jaate hain aur saal mein lagabhag 36 ho jab aap bologe to kahane ka matalab hai shuruaat karanee padatee hai aur kal se 22:00 se likhana padata hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • Hum Kuch Nahi Kar Paate Aisa Kyon Hain, कुछ चाहते हैं, लेकिन ज़िंदगी की परिस्थितियों के सामने हम कुछ नहीं कर पाते, ऐसा क्यों हैं
URL copied to clipboard