#भारत की राजनीति

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:22

और जवाब सुनें

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:25

T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:28

pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:04
देखिए बिल्कुल जो है सरकार ने यहां पर अपने फायदे का काम किया है कि बड़े-बड़े इंडस्ट्री लिस्ट हैं वह अपनी एजेंसी लगाएंगे वह अपने तो लगाएंगे तो लगाएंगे तो उससे सरकार को जीएसटी मिलेगा अगर सरकार को जीएसटी मिलता है तो वह लोग जो है जीएसटी की अमाउंट जो है लोगों के ऊपर डालेंगे और जब लोगों के ऊपर अमाउंट को थोपा जाएगा तो वह जो प्रोडक्ट है वह कोस्टली हो जाएगा और इसके अलावा जो है वह जो लोग जो किसानों से फसल खरीदेंगे वह चेक सपोर्ट करेंगे तो सरकार उनसे एक्सपोर्ट ड्यूटी लेगी एक्सपोर्ट के बाद जो उन लोगों को इनकम आएगा उसका इनकम टैक्स लिया जाएगा तो कहीं ना कहीं जो है दिखाया जा रहा है कि किसानों का फायदा होना है लेकिन यह सरकार का ही फायदा है सरकार का फायदा मतलब है कहीं ना कहीं यह इंडस्ट्री लिस्ट का ही बेनिफिट है सरकार जब कोई पैसे का फायदा होता है तो उसे जरूर जो सरकार है और रैलियों पर खर्च कर देती है
Dekhie bilkul jo hai sarakaar ne yahaan par apane phaayade ka kaam kiya hai ki bade-bade indastree list hain vah apanee ejensee lagaenge vah apane to lagaenge to lagaenge to usase sarakaar ko jeeesatee milega agar sarakaar ko jeeesatee milata hai to vah log jo hai jeeesatee kee amaunt jo hai logon ke oopar daalenge aur jab logon ke oopar amaunt ko thopa jaega to vah jo prodakt hai vah kostalee ho jaega aur isake alaava jo hai vah jo log jo kisaanon se phasal khareedenge vah chek saport karenge to sarakaar unase eksaport dyootee legee eksaport ke baad jo un logon ko inakam aaega usaka inakam taiks liya jaega to kaheen na kaheen jo hai dikhaaya ja raha hai ki kisaanon ka phaayada hona hai lekin yah sarakaar ka hee phaayada hai sarakaar ka phaayada matalab hai kaheen na kaheen yah indastree list ka hee beniphit hai sarakaar jab koee paise ka phaayada hota hai to use jaroor jo sarakaar hai aur railiyon par kharch kar detee hai

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58
क्या आपको नहीं लगता कि जो किसानों के बिल पास हुए हैं वह सब किसानों के फायदे के अलावा सरकार का फायदा कर रहे कुछ चीजों में हो सरकार का फायदा कर भी रहे हैं इस बात के लिए कि सरकार के सामने बहुत बड़े हैं दूसरे इशू है कश्मीर का इशू है 370 कलम वाला एनआईए जो प्रश्न थे उनके वह भी थी और उनके बाद जो आर्थिक हानि हुई है वह सबसे बड़ा महत्वपूर्ण प्रश्न सरकार के सामने हैं उसे बहुत भारी संख्या में बेरोजगारी बढ़ी है और सरकार की तिजोरी में पैसा नहीं है तो ऐसी स्थिति में लोगों को क्या जवाब दिया जाए और कितने भी जवाब दिए तो लोग अभी सुनने को राजी नहीं है और इसमें इसमें बीच में से यह मुद्दा आ गया तो इसकी शिव चर्चा ही कर रहे हैं उसमें समय आगे आगे धकेल रहे हैं ताकि दूसरे जो सवाल है उनसे लोगों की नगर हट जा हट कर इसी सवाल पर आ जाए और बाद में या तो कुछ बदलाव किए जाए या तो रद्द किया जाए या फिर वह लागू किया जाए ऐसी चीजें तीनों की स्थिति आ सकती है और इसके बीच में सरकार को यह मौका मिलता है इस पार्टी को यहां पर धर्म की भी राजनीतिक करने का मौका मिलता है क्योंकि कुछ साल पहले पंजाब के सिखों ने स्वतंत्र खली स्थान के लिए सभी सिखों ने नहीं बहुत सारे राष्ट्रपति थे लेकिन कुछ ऐसा समझते थे कि सिखों का अपना एक देश होगा इसराइल की तरह तो अच्छी तरह से जी पाएंगे और प्रगति करेंगे लेकिन भारत की अखंडता का ये मामला था तो खाली स्थान का आंदोलन जो भारत सरकार ने बाद में खत्म भी किया उसके बाद वहां पर कोई खली स्थान का मोमेंट नहीं रहा था लेकिन कुछ 1218 दूसरा होगा रसिया बीपी सोच रखता होगा तो इस आंदोलन को जाए वह धर्म धार्मिक रंग देने के लिए आवश्यक उनके खिलाफ पूरे भारत के लोगों को खड़ा करने के लिए इसमें खाली स्थान वादियों में कहां थे या उसके इस आंदोलन में घुसे हुए हैं ऐसा सर के साथ सरकार की तरफ से बताया गया वहां पर जो श्रमिकों के आंदोलन करने वाली जो हमेशा कम्युनिस्ट होते हैं तो कम्युनिस्ट लोग और उनकी पार्टी अभी इनमें से इसमें शामिल होना यह कोई उसकी बात नहीं है यार बड़ी बात नहीं है तो उनकी विचारधारा के अनुसार वह उसमें शामिल हो गई लेकिन अगर कम्युनिस्ट का कोई होता है या उसका झंडा सामने आता है तो उनको माओवादी बता कर उनको देशद्रोहियों के सिक्के लगाकर उनको उनका जो आंदोलन है और उनकी जो जायज मांगे होती है उसे नजर हटा कर इसको चाइना से संबंध जोड़ आज जोड़ने का यह राजनीति चलती है क्योंकि मऊ चाइना का था और उसके क्रांति के विचार विचारों से चाइना में क्रांति हो गई क्या और मामू का जो वाउचर है चीन के बाहर भी कई ठिकानों पर जैसे नेपाल प्रभावी है और भारत के बीच कुछ उस विचारधारा को मानने वाले लोग इस तरीके से आंदोलन करने वाले भारत ने भी है तो यह बात भी सरकार के लिए एक अच्छा हथियार सा तो इसमें नक्सलवादियों का हाथ भी सरकार ने बताया और ऐसे ही हर तरीके से जो जो भी इनके साथ किसानों के आंदोलन को सपोर्ट करते थे उनको तीसरे किसी तरह से बदनाम करने के लिए कुछ न कुछ ऐसे अरे तो यह फायदा बीजेपी को हुआ कि ऐसे शब्द जो सामने आती है तो हिंदू हिंदुत्ववादी वोट जो है उनका धर्म होता है वह इकट्ठा जाते हैं तो डैमेज कंट्रोल वीडियो फ्री करने में बीजेपी सफल हुई है अभी तक तुम की धुन 3 राज्यों के अलावा और बाकी सारी राज्य में आंदोलन आंदोलन इतना तीव्र नहीं हो गया और इसके लिए उन्होंने जीजा तेरे प्यार में उसकी है यह फायदा तो बीजेपी को हो गया है और किसानों को अब क्या फायदा होगा या आगे हमें पता चलेगा
Kya aapako nahin lagata ki jo kisaanon ke bil paas hue hain vah sab kisaanon ke phaayade ke alaava sarakaar ka phaayada kar rahe kuchh cheejon mein ho sarakaar ka phaayada kar bhee rahe hain is baat ke lie ki sarakaar ke saamane bahut bade hain doosare ishoo hai kashmeer ka ishoo hai 370 kalam vaala enaeee jo prashn the unake vah bhee thee aur unake baad jo aarthik haani huee hai vah sabase bada mahatvapoorn prashn sarakaar ke saamane hain use bahut bhaaree sankhya mein berojagaaree badhee hai aur sarakaar kee tijoree mein paisa nahin hai to aisee sthiti mein logon ko kya javaab diya jae aur kitane bhee javaab die to log abhee sunane ko raajee nahin hai aur isamen isamen beech mein se yah mudda aa gaya to isakee shiv charcha hee kar rahe hain usamen samay aage aage dhakel rahe hain taaki doosare jo savaal hai unase logon kee nagar hat ja hat kar isee savaal par aa jae aur baad mein ya to kuchh badalaav kie jae ya to radd kiya jae ya phir vah laagoo kiya jae aisee cheejen teenon kee sthiti aa sakatee hai aur isake beech mein sarakaar ko yah mauka milata hai is paartee ko yahaan par dharm kee bhee raajaneetik karane ka mauka milata hai kyonki kuchh saal pahale panjaab ke sikhon ne svatantr khalee sthaan ke lie sabhee sikhon ne nahin bahut saare raashtrapati the lekin kuchh aisa samajhate the ki sikhon ka apana ek desh hoga isarail kee tarah to achchhee tarah se jee paenge aur pragati karenge lekin bhaarat kee akhandata ka ye maamala tha to khaalee sthaan ka aandolan jo bhaarat sarakaar ne baad mein khatm bhee kiya usake baad vahaan par koee khalee sthaan ka moment nahin raha tha lekin kuchh 1218 doosara hoga rasiya beepee soch rakhata hoga to is aandolan ko jae vah dharm dhaarmik rang dene ke lie aavashyak unake khilaaph poore bhaarat ke logon ko khada karane ke lie isamen khaalee sthaan vaadiyon mein kahaan the ya usake is aandolan mein ghuse hue hain aisa sar ke saath sarakaar kee taraph se bataaya gaya vahaan par jo shramikon ke aandolan karane vaalee jo hamesha kamyunist hote hain to kamyunist log aur unakee paartee abhee inamen se isamen shaamil hona yah koee usakee baat nahin hai yaar badee baat nahin hai to unakee vichaaradhaara ke anusaar vah usamen shaamil ho gaee lekin agar kamyunist ka koee hota hai ya usaka jhanda saamane aata hai to unako maovaadee bata kar unako deshadrohiyon ke sikke lagaakar unako unaka jo aandolan hai aur unakee jo jaayaj maange hotee hai use najar hata kar isako chaina se sambandh jod aaj jodane ka yah raajaneeti chalatee hai kyonki maoo chaina ka tha aur usake kraanti ke vichaar vichaaron se chaina mein kraanti ho gaee kya aur maamoo ka jo vauchar hai cheen ke baahar bhee kaee thikaanon par jaise nepaal prabhaavee hai aur bhaarat ke beech kuchh us vichaaradhaara ko maanane vaale log is tareeke se aandolan karane vaale bhaarat ne bhee hai to yah baat bhee sarakaar ke lie ek achchha hathiyaar sa to isamen naksalavaadiyon ka haath bhee sarakaar ne bataaya aur aise hee har tareeke se jo jo bhee inake saath kisaanon ke aandolan ko saport karate the unako teesare kisee tarah se badanaam karane ke lie kuchh na kuchh aise are to yah phaayada beejepee ko hua ki aise shabd jo saamane aatee hai to hindoo hindutvavaadee vot jo hai unaka dharm hota hai vah ikattha jaate hain to daimej kantrol veediyo phree karane mein beejepee saphal huee hai abhee tak tum kee dhun 3 raajyon ke alaava aur baakee saaree raajy mein aandolan aandolan itana teevr nahin ho gaya aur isake lie unhonne jeeja tere pyaar mein usakee hai yah phaayada to beejepee ko ho gaya hai aur kisaanon ko ab kya phaayada hoga ya aage hamen pata chalega

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:41

umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
0:32
हाल-चाल बिल्कुल सही है एक दिल के पास हुआ है किसानों के लिए किसानों के हित में नहीं बल्कि वह सरकार के हित में है उससे सरकार को बहुत बड़ा फायदा होने वाला है इसलिए सरकार किसानों की आवाज को सुन नहीं रही है किसान रोड पर खड़े चिल्लाता रहा जाता है सरकार के कान में जूं तक मिलेगी इसका साफ मतलब है कि सरकार को किसानों से ज्यादा फायदा है
Haal-chaal bilkul sahee hai ek dil ke paas hua hai kisaanon ke lie kisaanon ke hit mein nahin balki vah sarakaar ke hit mein hai usase sarakaar ko bahut bada phaayada hone vaala hai isalie sarakaar kisaanon kee aavaaj ko sun nahin rahee hai kisaan rod par khade chillaata raha jaata hai sarakaar ke kaan mein joon tak milegee isaka saaph matalab hai ki sarakaar ko kisaanon se jyaada phaayada hai

Sanjeev Pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sanjeev जी का जवाब
Financial consultant and Ex banker
1:06
आपका प्रश्न क्या आपको नहीं लगता है जो किसानों के लिए बिल पास हुआ वह सबके सामने ज्यादा सरकार का फायदा दे रही है मैं आपका बात का भरपूर समर्थन करता हूं क्योंकि इस दिल में सबसे ज्यादा फायदा प्राइवेट सेक्टर के पियर को होगा क्योंकि इस बिल में जो बताया गया है कि प्राइवेट क्लियर किसान से बिना एमएसपीकेएस हम उनके जो भी पैदावार खरीद सकते हैं तो इसमें प्राइवेट प्लेयर तोबा किनिंग करके किसान से है उनका सब बना ले लेगा और उसको ऑनलाइन है कृपया अपने स्टोर पर उचित दाम पर बेचा या के किसानों के हित में तो दिल नहीं लग रही है लेकिन अब सरकार एमएसपी वाली बात को अपनी बिल्डिंग कूट कर ले और कांट्रैक्ट फार्मिंग को हटा दें तो यह बिल किसानों के लिए भी फायदेमंद होगा अतः मैं यह सुझाव दूंगा एक इंसान को अपने जो मत है वह सरकार से बनवाना चाहिए और बिल में गुड करना चाहिए और सरकार को भी किसानों के बाद को मानना चाहिए तब इस बिल को फाइट करना चाहिए ताकि एक किसान और सरकार दोनों के लिए फायदेमंद है
Aapaka prashn kya aapako nahin lagata hai jo kisaanon ke lie bil paas hua vah sabake saamane jyaada sarakaar ka phaayada de rahee hai main aapaka baat ka bharapoor samarthan karata hoon kyonki is dil mein sabase jyaada phaayada praivet sektar ke piyar ko hoga kyonki is bil mein jo bataaya gaya hai ki praivet kliyar kisaan se bina emesapeekees ham unake jo bhee paidaavaar khareed sakate hain to isamen praivet pleyar toba kining karake kisaan se hai unaka sab bana le lega aur usako onalain hai krpaya apane stor par uchit daam par becha ya ke kisaanon ke hit mein to dil nahin lag rahee hai lekin ab sarakaar emesapee vaalee baat ko apanee bilding koot kar le aur kaantraikt phaarming ko hata den to yah bil kisaanon ke lie bhee phaayademand hoga atah main yah sujhaav doonga ek insaan ko apane jo mat hai vah sarakaar se banavaana chaahie aur bil mein gud karana chaahie aur sarakaar ko bhee kisaanon ke baad ko maanana chaahie tab is bil ko phait karana chaahie taaki ek kisaan aur sarakaar donon ke lie phaayademand hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसानों के लिए नया बिल,किसान बिल में क्या है,किसान बिल
URL copied to clipboard