#जीवन शैली

bolkar speaker

कुछ लोगों को आजकल माफी मांगने में भी शर्म महसूस होता है इस बात पर आपके क्या विचार है?

Kuch Logon Ko Aajkal Mafi Maangne Mein Bhe Sharm Mehsus Hota Hai Is Baat Par Aapke Kya Vichar Hai
Rakesh Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Rakesh जी का जवाब
👨‍🏫 Teacher.
2:27
नैतिकता तो यही है कि अगर आप से गलती हो जाती है तो उसमें माफी मांगी लेना चाहिए और इसमें किसी प्रकार का शर्म नहीं होना चाहिए कई बार देखा गया है कि आदमी के अंदर आकर फोन या जो प्राउडनेस होता है कहीं ना कहीं और टूट जाता है मैंने देखा कि एक हमारे कुछ करीबी थे एक ठेकेदारी है कि काम करते थे और उनका हार्ट था कि एक राजनीतिक के व्यक्ति से पंगा लेना कि हम यह टेंडर जो यह मिलेंगे इसके लिए चाहे जो कुछ भी हो और वह व्यक्ति एक विधायक था उसके पास राजनीतिक के चीजों का दबदबा खाए हैं उसके बाद जो है बातें बातें में जो है वह दूसरे से उनको मरवा दिया गया तो कहीं ना कहीं वह हट जो है वह घमंड पान या वह जो सौभाग है कहीं ना कहीं व्यक्ति को अपने दिखाना पड़ता है तो इस स्थिति में अगर वह व्यक्ति जो है जो भी ठेकेदारी के लिए अटेंडर के लिए जो भी अनसुनी बातें हुई वहां समझौता कर लेना चाहिए कभी-कभी व्यक्ति को जो है प्रकृति के अनुसार ढालना सीखना चाहिए अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो उसका खामियाजा को कहीं ना कहीं भुगतना होता है कई बार ऐसा देखा गया है कि यह लोग माफी नहीं मानते हैं या झुका नहीं करते हैं उनको लगता है कि यह हमारे शर्म की बात है या हमारे लिए अच्छा नहीं है तो कहीं ना कहीं उसका खामियाजा भुगतना पड़ता है क्योंकि हर कोई इस तरह समाज में समान या नहीं होता है कुछ लोग ऐसे दबंग टाइप के होते हैं कि अपना सब कुछ जो है आप को बर्बाद करने में और सब कुछ लगा देंगे तो कई चीजें होती है कि हमें बहुत सारी चीजों को इग्नोर करके चलना चाहिए अगर आपको ऐसा लगता है तो माफी मांगने में मुझे नहीं लगता है कि कोई शर्म होना चाहिए क्योंकि आपको अगर जीना है अगर दुनिया में और भी अपने परिवार के लिए कुछ करना है तो इस पर आपको अमल करना ही होगा यह तो इस पर और भी बात किया जा सकता है कि अगर आप गलती नहीं किए हैं फिर भी अगर दूसरे को लगता है कि यह माफी मांगने से आपकी समस्या दूर हो जाएगी या जो खड़ापन है आपके अंदर या उनके अंदर वह दूर हो जाएगी फिर भी हम ऐसा कर सकते हैं
Naitikata to yahee hai ki agar aap se galatee ho jaatee hai to usamen maaphee maangee lena chaahie aur isamen kisee prakaar ka sharm nahin hona chaahie kaee baar dekha gaya hai ki aadamee ke andar aakar phon ya jo praudanes hota hai kaheen na kaheen aur toot jaata hai mainne dekha ki ek hamaare kuchh kareebee the ek thekedaaree hai ki kaam karate the aur unaka haart tha ki ek raajaneetik ke vyakti se panga lena ki ham yah tendar jo yah milenge isake lie chaahe jo kuchh bhee ho aur vah vyakti ek vidhaayak tha usake paas raajaneetik ke cheejon ka dabadaba khae hain usake baad jo hai baaten baaten mein jo hai vah doosare se unako marava diya gaya to kaheen na kaheen vah hat jo hai vah ghamand paan ya vah jo saubhaag hai kaheen na kaheen vyakti ko apane dikhaana padata hai to is sthiti mein agar vah vyakti jo hai jo bhee thekedaaree ke lie atendar ke lie jo bhee anasunee baaten huee vahaan samajhauta kar lena chaahie kabhee-kabhee vyakti ko jo hai prakrti ke anusaar dhaalana seekhana chaahie agar aap aisa nahin karate hain to usaka khaamiyaaja ko kaheen na kaheen bhugatana hota hai kaee baar aisa dekha gaya hai ki yah log maaphee nahin maanate hain ya jhuka nahin karate hain unako lagata hai ki yah hamaare sharm kee baat hai ya hamaare lie achchha nahin hai to kaheen na kaheen usaka khaamiyaaja bhugatana padata hai kyonki har koee is tarah samaaj mein samaan ya nahin hota hai kuchh log aise dabang taip ke hote hain ki apana sab kuchh jo hai aap ko barbaad karane mein aur sab kuchh laga denge to kaee cheejen hotee hai ki hamen bahut saaree cheejon ko ignor karake chalana chaahie agar aapako aisa lagata hai to maaphee maangane mein mujhe nahin lagata hai ki koee sharm hona chaahie kyonki aapako agar jeena hai agar duniya mein aur bhee apane parivaar ke lie kuchh karana hai to is par aapako amal karana hee hoga yah to is par aur bhee baat kiya ja sakata hai ki agar aap galatee nahin kie hain phir bhee agar doosare ko lagata hai ki yah maaphee maangane se aapakee samasya door ho jaegee ya jo khadaapan hai aapake andar ya unake andar vah door ho jaegee phir bhee ham aisa kar sakate hain

और जवाब सुनें

bolkar speaker
कुछ लोगों को आजकल माफी मांगने में भी शर्म महसूस होता है इस बात पर आपके क्या विचार है?Kuch Logon Ko Aajkal Mafi Maangne Mein Bhe Sharm Mehsus Hota Hai Is Baat Par Aapke Kya Vichar Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:40
देखी कुछ लोगों को आजकल माफी मांगने में भी शर्म महसूस होती है इस बात पर आपके क्या विचार है कुछ टाइम ऐसा लगता है क्या सॉरी बोल रहे थे फिर भी एक बार मिलती फील्ड ऑफिसर में लग रही है उसे कम करना ही होता है अपनी इज्जत कम करने के लिए एक अच्छी पहल है जिसके द्वारा आप अपने रिश्ते को जिंदगी भर बनाए रखेंगे सोचने की सरवन की चीजें तो आप उस इंसान से रिश्ते जिंदगी भर के लिए खोल देंगे खून से बैठे-बैठे माफी मांगे
Dekhee kuchh logon ko aajakal maaphee maangane mein bhee sharm mahasoos hotee hai is baat par aapake kya vichaar hai kuchh taim aisa lagata hai kya soree bol rahe the phir bhee ek baar milatee pheeld ophisar mein lag rahee hai use kam karana hee hota hai apanee ijjat kam karane ke lie ek achchhee pahal hai jisake dvaara aap apane rishte ko jindagee bhar banae rakhenge sochane kee saravan kee cheejen to aap us insaan se rishte jindagee bhar ke lie khol denge khoon se baithe-baithe maaphee maange

bolkar speaker
कुछ लोगों को आजकल माफी मांगने में भी शर्म महसूस होता है इस बात पर आपके क्या विचार है?Kuch Logon Ko Aajkal Mafi Maangne Mein Bhe Sharm Mehsus Hota Hai Is Baat Par Aapke Kya Vichar Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:12
हेलो आज आपके बारे में कि कुछ लोगों से माफी मांगने में शर्म महसूस होता है पर आपकी क्या विचार है बहुत सारे लोग हैं ना कि यह सोचते हैं कि नहीं वह कभी गलत कर ही नहीं सकते मुझसे कभी गलती भी नहीं सकती पूरी तरह से पर्फेक्ट है पूरी तरह से मतलब अच्छी है कभी भी कोई भी को नहीं कर सकते हैं बहुत सारे लोग सोचते हैं कि जिंदगी में इतने सारे लोगों से मिलना है जिंदगी में जिंदगी है तो कभी हमसे कोई गलती हो सकती है उनको ऐसा सोचते सोचते हैं कि मांग लेंगे हो जाएंगे या फिर जाएंगे उनको लगेगा कि नहीं वह नहीं थी मतलब हो गया गिर गया है अब उसकी इज्जत नहीं है भाई लेनी है वह छोटे हो जा रहे हैं और सोचते हैं कि उसे कभी बोलती ही नहीं सारे लोग सोचते हैं कि हमसे कुछ गलती नहीं हो सकता वह पूरी तरह से परफेक्ट है जानी हो या अनजाने में हमेशा हर जगह सही है कभी किसी की एडवाइज या फिर कभी अगर कोई बताता है कि तुम यहां पर गया तो सही करो तो नहीं मानते तो वैसे भी लाइफ में कभी भी आगे नहीं बढ़ पाते ना ही उनके कोई भी तरह के किसी भी तरह की रिलेशन अच्छे रहते हैं क्योंकि जब आप अपनी गलती को मानते हैं क्योंकि ऐसा कोई भी इंसान नहीं है दिल से कभी कोई गलती नहीं होती है चाहे वो जाने अनजाने में छोटी बड़ी कोई भी गलती हो हर एक इंसान से होती है अगर गलती को मान मेरी लाइफ में आगे बढ़ना तभी जाकर हम करेक्ट कर पाएंगे और फिर आगे लाइफ में बढ़ पाएंगे टीचर्स बैरन हमें हर जगह गाइड क्यों करते क्यों क्यों नहीं पता हम कहीं ना कहीं गलत को ही सकते हर एक इंसान हर एक इंसान को सॉल्यूशन निकालता है ऐसा तो नहीं होते तो आपको छोड़ दिया जाता है तो लाइफ में कभी हमसे कोई गलती हुई है या फिर कोई सेक्स करना चाहिए बंद करके सब कर लेना चाहती नहीं है फिर भी
Helo aaj aapake baare mein ki kuchh logon se maaphee maangane mein sharm mahasoos hota hai par aapakee kya vichaar hai bahut saare log hain na ki yah sochate hain ki nahin vah kabhee galat kar hee nahin sakate mujhase kabhee galatee bhee nahin sakatee pooree tarah se parphekt hai pooree tarah se matalab achchhee hai kabhee bhee koee bhee ko nahin kar sakate hain bahut saare log sochate hain ki jindagee mein itane saare logon se milana hai jindagee mein jindagee hai to kabhee hamase koee galatee ho sakatee hai unako aisa sochate sochate hain ki maang lenge ho jaenge ya phir jaenge unako lagega ki nahin vah nahin thee matalab ho gaya gir gaya hai ab usakee ijjat nahin hai bhaee lenee hai vah chhote ho ja rahe hain aur sochate hain ki use kabhee bolatee hee nahin saare log sochate hain ki hamase kuchh galatee nahin ho sakata vah pooree tarah se paraphekt hai jaanee ho ya anajaane mein hamesha har jagah sahee hai kabhee kisee kee edavaij ya phir kabhee agar koee bataata hai ki tum yahaan par gaya to sahee karo to nahin maanate to vaise bhee laiph mein kabhee bhee aage nahin badh paate na hee unake koee bhee tarah ke kisee bhee tarah kee rileshan achchhe rahate hain kyonki jab aap apanee galatee ko maanate hain kyonki aisa koee bhee insaan nahin hai dil se kabhee koee galatee nahin hotee hai chaahe vo jaane anajaane mein chhotee badee koee bhee galatee ho har ek insaan se hotee hai agar galatee ko maan meree laiph mein aage badhana tabhee jaakar ham karekt kar paenge aur phir aage laiph mein badh paenge teechars bairan hamen har jagah gaid kyon karate kyon kyon nahin pata ham kaheen na kaheen galat ko hee sakate har ek insaan har ek insaan ko solyooshan nikaalata hai aisa to nahin hote to aapako chhod diya jaata hai to laiph mein kabhee hamase koee galatee huee hai ya phir koee seks karana chaahie band karake sab kar lena chaahatee nahin hai phir bhee

bolkar speaker
कुछ लोगों को आजकल माफी मांगने में भी शर्म महसूस होता है इस बात पर आपके क्या विचार है?Kuch Logon Ko Aajkal Mafi Maangne Mein Bhe Sharm Mehsus Hota Hai Is Baat Par Aapke Kya Vichar Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:34
हेलो दोस्तों स्वागत है आपका आपका प्रश्न है कुछ लोगों को ऑन कर माफी मांगने में भी शर्म महसूस होती है इस बात पर आपका क्या विचार है तो सेंड से यह बात सही है कई कई लोगों को माफी मांगने में शर्म लगती है बल्कि ऐसा नहीं होना चाहिए अगर आप से कोई गलती हो गई है तो आपको माफी जरूर मांग लेनी चाहिए माफी मांगने में कभी भी शर्म नहीं करनी चाहिए हमारे मन से बहुत बड़ा बहुत उतर जाता है जब हम माफी मांग लेते हैं और हमें अपनी गलती सुधारने का भी मौका मिल जाता है इसलिए माफी जरूर मांग लेनी चाहिए माफी मांगने में कभी भी शर्म नहीं करनी चाहिए धन्यवाद
Helo doston svaagat hai aapaka aapaka prashn hai kuchh logon ko on kar maaphee maangane mein bhee sharm mahasoos hotee hai is baat par aapaka kya vichaar hai to send se yah baat sahee hai kaee kaee logon ko maaphee maangane mein sharm lagatee hai balki aisa nahin hona chaahie agar aap se koee galatee ho gaee hai to aapako maaphee jaroor maang lenee chaahie maaphee maangane mein kabhee bhee sharm nahin karanee chaahie hamaare man se bahut bada bahut utar jaata hai jab ham maaphee maang lete hain aur hamen apanee galatee sudhaarane ka bhee mauka mil jaata hai isalie maaphee jaroor maang lenee chaahie maaphee maangane mein kabhee bhee sharm nahin karanee chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
कुछ लोगों को आजकल माफी मांगने में भी शर्म महसूस होता है इस बात पर आपके क्या विचार है?Kuch Logon Ko Aajkal Mafi Maangne Mein Bhe Sharm Mehsus Hota Hai Is Baat Par Aapke Kya Vichar Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:31
कुछ लोगों खासकर माफी मांगने गई थी शर्म महसूस होती इस बार मन में क्या विचार मेरे विचार यह है कि नहीं कि माफी मांगने में कोई शर्म महसूस नहीं होनी चाहिए माफी मांगने वाला हमेशा क्या है बड़ा होता है यानी सामने वाले का काम है शमा करना लेकिन माफी मांगने के लिए हिम्मत चाहिए आपने अगर गलती की है तो बिल्कुल निसंकोच होकर माफी मांगी मुक्त कंठ से मांगी थी मैंने गलती की मुझे तुमसे कोई कितना भी भेजते हो आप को माफ कर देना
Kuchh logon khaasakar maaphee maangane gaee thee sharm mahasoos hotee is baar man mein kya vichaar mere vichaar yah hai ki nahin ki maaphee maangane mein koee sharm mahasoos nahin honee chaahie maaphee maangane vaala hamesha kya hai bada hota hai yaanee saamane vaale ka kaam hai shama karana lekin maaphee maangane ke lie himmat chaahie aapane agar galatee kee hai to bilkul nisankoch hokar maaphee maangee mukt kanth se maangee thee mainne galatee kee mujhe tumase koee kitana bhee bhejate ho aap ko maaph kar dena

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कुछ लोगों को आजकल माफी मांगने में भी शर्म महसूस होता है इस बात पर आपके क्या विचार है
URL copied to clipboard