#जीवन शैली

bolkar speaker

जीवन में समस्या का एहसास होने पर भी हमारा समस्या को हल ना कर पाने का क्या कारण है?

Jeevan Mein Samasya Ka Ehsaas Hone Par Bhe Humara Samasya Ko Hal Na Kar Pane Ka Kya Karan Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
6:57
सवाल ये है कि जीवन में समस्या का एहसास होने पर भी हमारा समस्या को हल ना कर पाने का क्या कारण है अगर आपके जीवन में कोई समस्या है तो हो सकता है कि आप उससे गुजरने का इंतजार कर रही हूं हो सकता है कि लोग आपसे कहते हो अगर आपको समस्या का समाधान नहीं मिल रहा तो जाने दो खुद को उसके हाल पर छोड़ दो छोड़ दो हो सकता है कि आप समस्या को छोड़ दें लेकिन मैं आपको नहीं छोड़े ऐसा अक्सर होता है कि लोग बैंक के कर्ज ले लेते हैं लेकिन वापस नहीं कर पाते वह चाहते हैं कि कल से छोड़ दिया जाए लेकिन बैंक आपको छोड़ने के लिए तैयार नहीं होता जीवन में इसी तरह है अगर आप किसी स्थिति में फंस जाते हैं तो फिर कल यह कर की तरह हो जाता है आपको सर झुकाना ही होता है पैसे के रूप में नहीं जीवन के रूप में अगर आपको सयाने हैं तो आप इसे 1 तरीके से चुकाएंगे वरना आपको इसे दूसरे ढंग से चुकाना पड़ेगा लेकिन आपको चुकाना तो जरूर पड़ेगा हर हर समय क्या आपको इसलिए समस्या नजर आती है क्योंकि आप इससे समस्या कहते हैं दरअसल जीवन में कोई समस्या नहीं होती केवल स्थितियां और परिस्थितियां होती है जीवन में हर एक चीज एक परिस्थिति है अगर आप इसे समस्या कहेंगे तो यह समस्या बन जाएगी अगर आप इतने खूबसूरत तो सही हम मानेंगे तो वह वैसी ही बन जाएगी मान लीजिए फिलहाल अभी कहीं किसी की शादी हो रही है लेकिन शादी नहीं करना चाहता ऐसे में उसे वह शादी एक बड़ी समस्या लगती है अब आप समझ सकते हैं कि इससे उसको कितनी पीड़ा या तकलीफ हो सकती है वहीं दूसरी ओर किसी ऐसे आदमी की भी शादी हो रही है जो यह शादी करना चाहता है अब आप यह भी अंदाजा लगा सकते हैं कि उसके लिए कितना दिन अच्छा और शानदार होगा तो जीवन में सिर्फ हालात होते हैं चाहे वह समस्या बन जाए या समाधान या आपके दृष्टिकोण पर निर्भर करता है इसलिए जो भी हालात सामने हो उसके प्रति ना तो जाने दो वह का भाव रखने की कोशिश करें और ना ही उसे खुद को दूर करें अथवा ना ही उसके प्रति उदासीनता भाव रखें खुद को पूरी तरह से डूब होने की कोशिश कीजिए कोई भी परिस्थिति ऐसी नहीं होती जिस एयरटाइट कहा जाता क्या नींद से बाहर निकलने का कोई रास्ता नहीं हूं परिस्थितियां लगातार बदलती है और विकसित होती रहती है अगर आप किसी परिस्थिति में नहीं रहना यह पढ़ना चाहते तो आप कहीं और होना चाहते हैं गौरतलब है कि आपको इसको गौर से देखना होगा तब आपको कोई ना कोई राह दरवाजा अवश्य मिल जाएगा अगर आप ताजी हवा में सांस लेना चाहते हैं तो बस आप कोई खिड़की खोल नहीं होगी और आपको राहत नजर आने लगेगी अगर आप इसे बाहर निकलना चाहते हैं तो दो आप दरवाजा खोलकर बाहर निकल सकते हैं या आपकी पसंद है अगर आप उस हालात में ठहरते हैं तो उसका एक परिणाम होगा और अगर आप उसे निकलते हैं तो उसका भी कुछ परिणाम होगा अब सवाल यह है कि क्या परिणाम हो या नतीजों का सामना करने के लिए तैयार ज्यादातर लोगों के साथ सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि परिस्थिति में तो पढ़ना चाहते हैं लेकिन उसके लिए जो कीमत देनी होती है उसके लिए मैं तैयार नहीं होते अगर आप कपड़े खरीदना चाहते हैं लेकिन आपको अगर उसकी कीमत नहीं आ रही तो ऐसा एक ही चीज का एक ही तरीका है कि आप चोर बन जाइए अगर आप चोर बन जाते हैं तो आपको हर चीज मुफ्त में मिलेगी लेकिन तब आपको हमेशा ही डर में जीना पड़ेगा कि किसी भी वक्त आप सरकारी मेहमान बन सकते हैं वरना तो आप जीवन में जो भी चाहते हैं उसकी कुछ ना कुछ कीमत होती है इस चीज की कीमत के लायक है या नहीं हनुमान आपको अपने जीवन में लगाना है हो सकता है कि आप ने तय किया हो कि आपको चीज तभी खरीदेंगे जब उसकी कीमत ₹10 होगी सस्ती सिर्फ पैसे से जुड़ी नीतियों की नहीं बल्कि हर स्थिति की कीमत होती है बल्कि आपको तय करना है कि मैं परिस्थिति की जो कीमत है वह देने योग्य भी है या नहीं इसलिए अभी हालात सामने हो उसके प्रति ना दूजा नेताओं का अभाव रखने की कोशिश करें और ना ही उसे खुद से दूर रखें खुद को पूरी तरह उसे ढूंढने की कोशिश कीजिए और अपने जीवन के लिए यह काम सिर्फ आप ही कर सकते हैं हो सकता है कि मैं उसे एक अलग नजरिए से देखें और सोचो कि यह पूरी स्थिति भी बेतुकी है या हाथ से पद है जबकि आपके लिए अभिमान हो सकती है इस बारे में कोई फैसला नहीं कर सकता कि आपको ही तय करना होगा कि कोई भी पर की क्या कीमत मांग रही है और क्या हुआ आप कीमत देने के लिए तैयार हैं अगर एक बार आपने उस कीमत चुकाने का फैसला कर लिया तो आप जरा खुशी खुशी से चुकाई है अगर आप यह कीमत खुशी खुशी नहीं चुकाएंगे तो आपको इसे झेलना होगा और तब आप दुखी हो देंगे एक बार अपने आपने कोई चीज देख कर ली तो फिर उसमें सही या गलत की कोई गुंजाइश नहीं होती हालांकि अच्छा जीवन जैसी कोई चीज नहीं होती लेकिन अगर आपने खुद को किसी की पूरे मन के साथ सौंप दिया तो पूरे दिल से उसमें लग जाए तो यह अपने आप में एक शानदार और महान जीवन होगा अगर आप खुद को किसी चीज में झोंक देते हैं भले ही वह कितनी भी आसान क्यों ना हो तो मैं आपके अनुभवों में महान हो सकती है अगर आपके जीवन का कोई दूसरा दूसरा देखे हो सकता है उसके हिसाब से यह बेकार है बे तू का हो लेकिन अगर यह ऐसा है तो उसके उसकी समस्या है आपके अपने अनुभवों में आपका जीवन शानदार है और असल में यही चीज मायने रखती है अगर आप किसी परिस्थिति का मूल्यांकन करना चाहते हैं तो उसके लिए जिस चीज की जरूरत है वह उससे आप का जोड़ा ना कि जाने दो का भाव अगर आप किसी परिस्थिति के साथ गहराई से जुड़े हैं और उसके बारे में हर एक चीज जानते हैं तो आप उसके बारे में निर्णय कर सकते हैं कोई भी फैसला तभी मूल्यवान होगा अगर यह पूरी जानकारी है समझ बूझ के बाद लिया गया हो अगर आप परिस्थिति में बिना जान ज्यादा जाने मुझे फैसला लेंगे तो उसका अर्थ ही इसलिए जो भी हालात सामने हो उसके प्रति ना तो जाने दो का भाव रखने की कोशिश करें और ना ही उसे खुद को दूर करें अथवा ना ही उसके प्रति उदासीनता का भाव रखें खुद को पूरी तरह से उस में डूबने की कोशिश कीजिए जब आप किसी चीज के साथ पूरी तरह जुड़ जाते हैं तो फिर आप उस परिस्थिति को अच्छे से समझते हैं जब आप हालात तो जानते हैं तो फिर आप देखते हैं कि मैं परिस्थिति आपके जीवन से क्या कीमत चाह रही है अगर आप उस हालात में हैं कि तो उसकी एक कीमत होगी अगर आप उसकी हालत से निकल जाते हैं तो उसकी एक अलग कीमत होगी आपको बस यह देखना है कि आप कौन सी कीमत चुकाना चाहते हैं जीवन में करने के लिए कोई सही काम नहीं होता असली सवाल यह है कि क्या वह काम करना सबसे अधिक उचित है जीवन पर छुट्टियों का एक ना रुकने वाला तो चला है अगर आप विकास के रास्ते पर हैं तो हो सकता है कि आप लगातार ऐसी परिस्थितियों का सामना कर रहे हो जिसे संभालना
)]}' [['wrb.fr','MkEWBc',null,

और जवाब सुनें

bolkar speaker
जीवन में समस्या का एहसास होने पर भी हमारा समस्या को हल ना कर पाने का क्या कारण है?Jeevan Mein Samasya Ka Ehsaas Hone Par Bhe Humara Samasya Ko Hal Na Kar Pane Ka Kya Karan Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:36
यह है कि जीवन में समस्या का एहसास होने पर भी हमारे समस्या को हल ना कर पाने के क्या कारण हैं तुम यह समझ नहीं पाते की समस्या क्यों शुरू हुई तो कहते बल्कि जा सके ना ही हम सब चलता है क्या आज के जमाने में लोग कैसे हो गई फटाफट चाय पी कर हो जाए चाहे वह सही हो या गलत हो इसी कारण किसी भी समस्या का नाम अच्छे से नहीं कर पाते हैं और इसमें 40 किलो गुड़ कैसे कर लेते हो
Yah hai ki jeevan mein samasya ka ehasaas hone par bhee hamaare samasya ko hal na kar paane ke kya kaaran hain tum yah samajh nahin paate kee samasya kyon shuroo huee to kahate balki ja sake na hee ham sab chalata hai kya aaj ke jamaane mein log kaise ho gaee phataaphat chaay pee kar ho jae chaahe vah sahee ho ya galat ho isee kaaran kisee bhee samasya ka naam achchhe se nahin kar paate hain aur isamen 40 kilo gud kaise kar lete ho

bolkar speaker
जीवन में समस्या का एहसास होने पर भी हमारा समस्या को हल ना कर पाने का क्या कारण है?Jeevan Mein Samasya Ka Ehsaas Hone Par Bhe Humara Samasya Ko Hal Na Kar Pane Ka Kya Karan Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:46
कृष्ण के जीवन में समस्या का एहसास होने पर भी हमारा समस्या को हल ना कर पाने का क्या कारण है कारण यही है कि हम समस्या को बहुत बड़ा मान लेते हैं हम समस्या से डर जाते हैं आगे बढ़ने से डर जाते हैं हमें समस्या है वह उतना दुख नहीं पहुंचाते इसलिए हम उसको जानते रहते हैं जाते रहते हैं बाकी हम बात सबको पता है कि समस्या का समाधान कैसे होता है तो बस वही है कि टैलेंटोन की आदत और एक समस्या को छोटा मानते हुए ऐसे जीने की आदत हो जाती है जिसकी वजह से समस्या कल हम नहीं कर पाते हैं लेकिन जब समझ आती है तब अचानक से हम उस पर काम करते हैं और दूर कर देते हैं तो यही है कि समस्या जब तक बहुत ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचा दिया तो हम डालते रहते हैं डालते रहते हैं
Krshn ke jeevan mein samasya ka ehasaas hone par bhee hamaara samasya ko hal na kar paane ka kya kaaran hai kaaran yahee hai ki ham samasya ko bahut bada maan lete hain ham samasya se dar jaate hain aage badhane se dar jaate hain hamen samasya hai vah utana dukh nahin pahunchaate isalie ham usako jaanate rahate hain jaate rahate hain baakee ham baat sabako pata hai ki samasya ka samaadhaan kaise hota hai to bas vahee hai ki tailenton kee aadat aur ek samasya ko chhota maanate hue aise jeene kee aadat ho jaatee hai jisakee vajah se samasya kal ham nahin kar paate hain lekin jab samajh aatee hai tab achaanak se ham us par kaam karate hain aur door kar dete hain to yahee hai ki samasya jab tak bahut jyaada nukasaan nahin pahuncha diya to ham daalate rahate hain daalate rahate hain

bolkar speaker
जीवन में समस्या का एहसास होने पर भी हमारा समस्या को हल ना कर पाने का क्या कारण है?Jeevan Mein Samasya Ka Ehsaas Hone Par Bhe Humara Samasya Ko Hal Na Kar Pane Ka Kya Karan Hai
souramita Deb Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए souramita जी का जवाब
Unknown
0:36
जीवन में समस्या का एहसास होने पर भी हमारा समस्या को हल नाक पर पानी का क्या कारण है देखिए इसके बहुत सारे कारण हो सकते हैं हम जब समझ से आते हैं पहली बात हम घबरा जाते हैं हम डर जाते हैं कि हम ऐसे कैसे भरेंगे हम इस समस्या को कैसे निकलेंगे समस्या से कैसे साफ करेंगे सबसे पहले अगर हम समझते कुछ समझ सिस्टम से ही ना तो अगर समझ सको प्रॉब्लम समझी ना तो इसलिए इस चीज से बाहर निकल सकते हैं हमें कोई प्रॉब्लम ही नहीं होगा किसी भी प्रॉब्लम से मतलब बाहर निकलने में
Jeevan mein samasya ka ehasaas hone par bhee hamaara samasya ko hal naak par paanee ka kya kaaran hai dekhie isake bahut saare kaaran ho sakate hain ham jab samajh se aate hain pahalee baat ham ghabara jaate hain ham dar jaate hain ki ham aise kaise bharenge ham is samasya ko kaise nikalenge samasya se kaise saaph karenge sabase pahale agar ham samajhate kuchh samajh sistam se hee na to agar samajh sako problam samajhee na to isalie is cheej se baahar nikal sakate hain hamen koee problam hee nahin hoga kisee bhee problam se matalab baahar nikalane mein

bolkar speaker
जीवन में समस्या का एहसास होने पर भी हमारा समस्या को हल ना कर पाने का क्या कारण है?Jeevan Mein Samasya Ka Ehsaas Hone Par Bhe Humara Samasya Ko Hal Na Kar Pane Ka Kya Karan Hai
अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
1:10

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • समस्या को हल ना कर पाने का क्या कारण है
URL copied to clipboard