#भारत की राजनीति

bolkar speaker

किस विचारधारा के लोग दूसरे लोगों को अपने से अधिक दुखी समझते हैं?

Kis Vichardhara Ke Log Dusare Logo Ko Apne Se Adhik Dukhi Samajhate Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:54
मामला न्यू आपका सवाल किस विचारधारा के लोग दूसरे लोगों को अपने से अधिक दुखी समझते हैं तो दोस्तों भाग के सवाल का उत्तर इस प्रकार से है भारत एक विविधता वाला देश है जो भारत में अमीर भी है और गरीब भी हैं सुखी दुखी भी है इसलिए हमेशा हर परिवार में दुख और सुख ई हमेशा आते रहते हैं क्योंकि वह पैसे के लिए दुखी है कोई औलाद के लिए दुखी है कोई हर चीज के लिए कोई न कोई दुखी है इसलिए इस संसार में कोई सुखी नहीं है क्योंकि किसी के ने किसी कोई भी परेशानी है किसी की औलाद की किसी को पैसे की किसी को मान सम्मान की किसी को इज्जत की इसलिए इस दुनिया में सभी लोग ही दुखी भी हैं और सुखी भी हैं इसलिए इसमें विचारधारा नकारात्मक भी हो सकती है और सकारात्मक विचारधारा भी हो सकती है क्योंकि हमें अपने आप को सुखी महसूस करते हैं और दूसरे को दुखी समझते हैं ऐसा नहीं हो सकता क्योंकि संसार में सभी सुखी हैं और सभी दुखी हैं क्योंकि यह समय के अनुसार बदलते रहते हैं हमारे जीवन में कभी सुख आता है तो कभी दुख ही आता है इसलिए हर यह प्रकृति का नियम है यह चलता रहता है कभी जिंदगी में उतार-चढ़ाव हमेशा ही आते रहते हैं धन्यवाद साथियों खुश रहो
Maamala nyoo aapaka savaal kis vichaaradhaara ke log doosare logon ko apane se adhik dukhee samajhate hain to doston bhaag ke savaal ka uttar is prakaar se hai bhaarat ek vividhata vaala desh hai jo bhaarat mein ameer bhee hai aur gareeb bhee hain sukhee dukhee bhee hai isalie hamesha har parivaar mein dukh aur sukh ee hamesha aate rahate hain kyonki vah paise ke lie dukhee hai koee aulaad ke lie dukhee hai koee har cheej ke lie koee na koee dukhee hai isalie is sansaar mein koee sukhee nahin hai kyonki kisee ke ne kisee koee bhee pareshaanee hai kisee kee aulaad kee kisee ko paise kee kisee ko maan sammaan kee kisee ko ijjat kee isalie is duniya mein sabhee log hee dukhee bhee hain aur sukhee bhee hain isalie isamen vichaaradhaara nakaaraatmak bhee ho sakatee hai aur sakaaraatmak vichaaradhaara bhee ho sakatee hai kyonki hamen apane aap ko sukhee mahasoos karate hain aur doosare ko dukhee samajhate hain aisa nahin ho sakata kyonki sansaar mein sabhee sukhee hain aur sabhee dukhee hain kyonki yah samay ke anusaar badalate rahate hain hamaare jeevan mein kabhee sukh aata hai to kabhee dukh hee aata hai isalie har yah prakrti ka niyam hai yah chalata rahata hai kabhee jindagee mein utaar-chadhaav hamesha hee aate rahate hain dhanyavaad saathiyon khush raho

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किस विचारधारा के लोग दुखी होते है, किस विचारधारा के लोग दूसरों को दुखी करते है
URL copied to clipboard