#undefined

bolkar speaker

मानसिक स्वास्थ्य और सामाजिक संबंधों का क्या तालमेल है?

Mansik Svasthy Aur Samajik Sambandhon Ka Kya Talmel Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:15
प्रश्न की मानसिक स्वास्थ्य और सामाजिक संबंधों का क्या तालमेल है देखिए समाज और मानसिक स्वास्थ्य का बहुत नजदीकी संबंध है मैंने कल कल पड़ा था एक अखबार में या फिर आज आया था मोबाइल में पड़ा था कि महाराष्ट्र में एक डॉक्टर ने आत्महत्या कर ली इसलिए कि उसके बेटे को सुनाई नहीं देता था जिसकी वजह से समाज के लोग उसके साथ बुरा व्यवहार करते थे उसे ताने देते थे उसने अपने पूरे परिवार को समाप्त कर लिया तो यह सोचने वाला विषय है कि समाज ने क्यों उसको ताने दिए क्यों उसके बच्चे की प्रति हीन भावना रखी एक डॉक्टर होते हुए उस व्यक्ति को यह कदम उठाना पड़ा तो इससे साफ जाहिर होता है कि लोगों का मानसिक स्वास्थ्य समाज की वजह से खराब हो रहा है अब समाज में कोई एक व्यक्ति नहीं है समाज में बहुत सारे व्यक्ति मिलकर समाज बनते हैं और वह अलग अलग तरीके से लोगों को टॉर्चर करते हैं कहने का मतलब यह है कि हमारा एक एक शब्द दूसरे के जीवन को बर्बाद कर सकता है और बना सकता है इसलिए कभी भी किसी से बोलो कुछ भी बोलो सोच समझकर बोलिएगा धन्यवाद
Prashn kee maanasik svaasthy aur saamaajik sambandhon ka kya taalamel hai dekhie samaaj aur maanasik svaasthy ka bahut najadeekee sambandh hai mainne kal kal pada tha ek akhabaar mein ya phir aaj aaya tha mobail mein pada tha ki mahaaraashtr mein ek doktar ne aatmahatya kar lee isalie ki usake bete ko sunaee nahin deta tha jisakee vajah se samaaj ke log usake saath bura vyavahaar karate the use taane dete the usane apane poore parivaar ko samaapt kar liya to yah sochane vaala vishay hai ki samaaj ne kyon usako taane die kyon usake bachche kee prati heen bhaavana rakhee ek doktar hote hue us vyakti ko yah kadam uthaana pada to isase saaph jaahir hota hai ki logon ka maanasik svaasthy samaaj kee vajah se kharaab ho raha hai ab samaaj mein koee ek vyakti nahin hai samaaj mein bahut saare vyakti milakar samaaj banate hain aur vah alag alag tareeke se logon ko torchar karate hain kahane ka matalab yah hai ki hamaara ek ek shabd doosare ke jeevan ko barbaad kar sakata hai aur bana sakata hai isalie kabhee bhee kisee se bolo kuchh bhee bolo soch samajhakar boliega dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मानसिक स्वास्थ्य और सामाजिक संबंधों का क्या तालमेल है, मानसिक स्वास्थ्य और सामाजिक संबंधों का संबंध
URL copied to clipboard