#जीवन शैली

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
1:35
उसका राकेश ने दर्द होता है जो खुद को ठोकर लगती है वरना दूसरों के तो सिर्फ लोगों की नजर आता है दर्द नहीं इस लाइन से आप क्या समझते हैं कि बिल्कुल सही बात लिखी है कि जब तक इंसान को स्वयं कहीं पर ठोकर नहीं लगती तो कहीं उसको पता ही नहीं चलता कि यह जो कार्य है इसमें कितनी कठिन था है कितना मुश्किल है वह सिर्फ दूसरों को देखकर ही अनुमानित करता लगता है यहां पर यहां पर बात करें मालिक एक छोटा सा स्टंट करना है भाई पर तो देखने वाले की नजर इस अगर आप देख रहे थे ऑडियंस लेकिन आपके इसमें कौन सी बड़ी बात है यह तो बड़े आसान काम है वही जब खुद करने लगे तो पता चलता है कि हां यह कितना मुश्किल खा रहे हैं लोग टीवी पर क्रिकेट मैच देखते हैं और से क्या अपनी कमेंट यीशु करते हैं कि अरे इसको फ्रंट फुट पर खेलना चाहिए था इसको तो लॉन्ग ड्राइव करना चाहिए था इसको यह करना था इसको करना था बैटमैन बेवकूफ है ढंग से खेलना नहीं आता इस तरह के कमेंट से आपको अक्सर आपने सुना ही नहीं होंगी या हो सकता करें भी हो लेकिन अगर उनकी जगह आपको कृष्ण उतार दिया जाए तो शायद आप भी घबरा जाए समझ में नहीं आएगी किस तरह से आप वहां पर प्ले करें तो यह चीज तभी समझ में आती है जब आप दूसरों के जूते में पानी डालते हैं अगर आप यह सोचते नहीं कि दूसरे बड़े कंफर्ट जोन में है तो ऐसा नहीं होता है आपकी क्या राय है इस बारे में कमेंट सेक्शन अपनी राय जरुर व्यक्त करें मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Usaka raakesh ne dard hota hai jo khud ko thokar lagatee hai varana doosaron ke to sirph logon kee najar aata hai dard nahin is lain se aap kya samajhate hain ki bilkul sahee baat likhee hai ki jab tak insaan ko svayan kaheen par thokar nahin lagatee to kaheen usako pata hee nahin chalata ki yah jo kaary hai isamen kitanee kathin tha hai kitana mushkil hai vah sirph doosaron ko dekhakar hee anumaanit karata lagata hai yahaan par yahaan par baat karen maalik ek chhota sa stant karana hai bhaee par to dekhane vaale kee najar is agar aap dekh rahe the odiyans lekin aapake isamen kaun see badee baat hai yah to bade aasaan kaam hai vahee jab khud karane lage to pata chalata hai ki haan yah kitana mushkil kha rahe hain log teevee par kriket maich dekhate hain aur se kya apanee kament yeeshu karate hain ki are isako phrant phut par khelana chaahie tha isako to long draiv karana chaahie tha isako yah karana tha isako karana tha baitamain bevakooph hai dhang se khelana nahin aata is tarah ke kament se aapako aksar aapane suna hee nahin hongee ya ho sakata karen bhee ho lekin agar unakee jagah aapako krshn utaar diya jae to shaayad aap bhee ghabara jae samajh mein nahin aaegee kis tarah se aap vahaan par ple karen to yah cheej tabhee samajh mein aatee hai jab aap doosaron ke joote mein paanee daalate hain agar aap yah sochate nahin ki doosare bade kamphart jon mein hai to aisa nahin hota hai aapakee kya raay hai is baare mein kament sekshan apanee raay jarur vyakt karen meree shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • दर्द क्या होता है, दर्द क्यों होता है, दर्द होने के क्या कारण है
URL copied to clipboard