#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

विधवा औरत के लिए समाज एक अभिशाप किस तरह से है?

Vidhva Aurat Ke Lie Samaaj Ek Abhishap Kis Tarah Se Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
3:35
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है विधवा औरतों के लिए सामाजिक अभिशाप इस तरह से हैं दोस्तों विधवा औरत के लिए वास्तव में समाज एक अभिशाप की तरह है क्योंकि दोस्तों विधवा औरत को नियमों के साथ जोड़ देते हैं और उसे कुछ भी करने की स्वतंत्रता नहीं करते हैं दोस्तों जैसे कि विधवा औरत को एक तो सभी अकेली मैसूर अकेला महसूस करने के कारण वह पहले से ही दुखी होती है और दूसरी बात उसे खाने पीने और नहीं पहनने आदि के ऊपर बहुत ज्यादा प्रतिबंध लगा हुआ था बात याद आ गया कि ऐसा होता तो नहीं है करना भी नहीं चाहिए लेकिन ऐसा एक अपने आप में सामान लिया जाता है ऐसा मन में यह दुर्गति पैदा हो जाती है यह जो औरत है वह कितना कुछ कर रही है बेकार में ही चला कि उसके पति तो जीवित है ही नहीं और विधवा होने के बावजूद भी क्या एस उड़ा रही है इसके साथ में तो ऐश की भावना है वह जोड़ देने से उसके साथ और भी ज्यादा जो मानसिक अत्याचार कह सकते हैं वह हो जाता है उर्दू तो फिर उसके बाद में उसके जो जिंदगी है वह एक नीरसता भरी हो जाती है नीरज जिंदगी हो जाती है मैं कोई गीत रात में बहुत ज्यादा भाग ले सकती हो किस देश में भी किया तो कुछ महिलाएं होती ही ऐसी है और कुछ पुरुष भी ऐसे ही होते हैं वह सोचते हैं कि किस पर तो कोई लगाम ही नहीं है तो दोस्तों से बहुत ज्यादा दुख होता है जब लोग ऐसी बातें करते हैं हालांकि ऐसा भी नहीं होना चाहिए क्योंकि दोस्तों अकेला हुआ तो क्या हुआ कुछ तो वह खुश रहने के लिए क्या आप जिंदगी में जैसा होना चाहिए करें ऐसा उस पर प्रतिबंध नहीं होना चाहिए और यदि बहुत ज्यादा सदिया असम लिया तो भी लोग मन में हालांकि कुछ लोग बोल कर तो नहीं कहते हैं उसे लेकिन फिर भी मन में मानसिक रूप से उसे विशेष प्रकार की यह बातें लगती है कि उन्होंने ऐसा क्यों कर लिया बहुत ज्यादा सज धज लेने से ही क्या बनना चाहती है तू तो समाज जो है उसे जीने नहीं देता है कह कर के ना तो मानसिक तौर पर तो उसके प्रति दुर्भावना पैदा कर ही लेती हैं और किसी भी तरह से वह जैसा भी कार्य करती है तो लोगों को अच्छा नहीं लगता है और सब कुछ में कमियां ही ढूंढते फिरते हैं कि यह लोग काम कर रही है वह किस लिए कर रही है क्यों बाहर जा रही है तो एक तरह से ऊपर अभिशाप की तरह पूरा समाज भूल जाता है वह समंदर की स्थिति में पड़ जाती है कि मैं क्या करूं कहां जाऊं कैसे करूं कुछ भी करते हैं तो लोग उनके ऊपर कोई भावना रखते हैं तो भावना से यह दुनिया भर जाती है उसके आस-पड़ोस परिवा वाले सोचते हैं कि ऐसा क्यों करना चाहती है इन्होंने ऐसा काम जो शुरू किया वह क्यों किया है कि क्या बनना चाहती है कोई अच्छा काम भी शुरू कर ले व्यवसाय के लिए तो यह सोचते हैं कि उन्होंने ऐसा क्यों कर लिया इसे क्या चाहिए किसके लिए चाहिए तो इसलिए एक विधवा औरत के लिए पूरा समाज अभिशाप की तरह कार्य करता है हां मैं उसके लिए कि नहीं कहना चाहूंगा कि जो कुछ ऐसे भी होते हैं जो उनके लिए बधाई के लिए सोचते हैं हित के लिए सोचते हैं और कुछ अच्छा करने के लिए और उन्हें आगे बढ़ने की प्रेरणा देते हैं तो सभी तो ऐसे नहीं होती है लेकिन अधिकार से लोग के ऊपर ऐसा समझने वाले होते हैं कि वह ऐसा क्यों कर रही है
Namaskaar doston aapaka prashn hai vidhava auraton ke lie saamaajik abhishaap is tarah se hain doston vidhava aurat ke lie vaastav mein samaaj ek abhishaap kee tarah hai kyonki doston vidhava aurat ko niyamon ke saath jod dete hain aur use kuchh bhee karane kee svatantrata nahin karate hain doston jaise ki vidhava aurat ko ek to sabhee akelee maisoor akela mahasoos karane ke kaaran vah pahale se hee dukhee hotee hai aur doosaree baat use khaane peene aur nahin pahanane aadi ke oopar bahut jyaada pratibandh laga hua tha baat yaad aa gaya ki aisa hota to nahin hai karana bhee nahin chaahie lekin aisa ek apane aap mein saamaan liya jaata hai aisa man mein yah durgati paida ho jaatee hai yah jo aurat hai vah kitana kuchh kar rahee hai bekaar mein hee chala ki usake pati to jeevit hai hee nahin aur vidhava hone ke baavajood bhee kya es uda rahee hai isake saath mein to aish kee bhaavana hai vah jod dene se usake saath aur bhee jyaada jo maanasik atyaachaar kah sakate hain vah ho jaata hai urdoo to phir usake baad mein usake jo jindagee hai vah ek neerasata bharee ho jaatee hai neeraj jindagee ho jaatee hai main koee geet raat mein bahut jyaada bhaag le sakatee ho kis desh mein bhee kiya to kuchh mahilaen hotee hee aisee hai aur kuchh purush bhee aise hee hote hain vah sochate hain ki kis par to koee lagaam hee nahin hai to doston se bahut jyaada dukh hota hai jab log aisee baaten karate hain haalaanki aisa bhee nahin hona chaahie kyonki doston akela hua to kya hua kuchh to vah khush rahane ke lie kya aap jindagee mein jaisa hona chaahie karen aisa us par pratibandh nahin hona chaahie aur yadi bahut jyaada sadiya asam liya to bhee log man mein haalaanki kuchh log bol kar to nahin kahate hain use lekin phir bhee man mein maanasik roop se use vishesh prakaar kee yah baaten lagatee hai ki unhonne aisa kyon kar liya bahut jyaada saj dhaj lene se hee kya banana chaahatee hai too to samaaj jo hai use jeene nahin deta hai kah kar ke na to maanasik taur par to usake prati durbhaavana paida kar hee letee hain aur kisee bhee tarah se vah jaisa bhee kaary karatee hai to logon ko achchha nahin lagata hai aur sab kuchh mein kamiyaan hee dhoondhate phirate hain ki yah log kaam kar rahee hai vah kis lie kar rahee hai kyon baahar ja rahee hai to ek tarah se oopar abhishaap kee tarah poora samaaj bhool jaata hai vah samandar kee sthiti mein pad jaatee hai ki main kya karoon kahaan jaoon kaise karoon kuchh bhee karate hain to log unake oopar koee bhaavana rakhate hain to bhaavana se yah duniya bhar jaatee hai usake aas-pados pariva vaale sochate hain ki aisa kyon karana chaahatee hai inhonne aisa kaam jo shuroo kiya vah kyon kiya hai ki kya banana chaahatee hai koee achchha kaam bhee shuroo kar le vyavasaay ke lie to yah sochate hain ki unhonne aisa kyon kar liya ise kya chaahie kisake lie chaahie to isalie ek vidhava aurat ke lie poora samaaj abhishaap kee tarah kaary karata hai haan main usake lie ki nahin kahana chaahoonga ki jo kuchh aise bhee hote hain jo unake lie badhaee ke lie sochate hain hit ke lie sochate hain aur kuchh achchha karane ke lie aur unhen aage badhane kee prerana dete hain to sabhee to aise nahin hotee hai lekin adhikaar se log ke oopar aisa samajhane vaale hote hain ki vah aisa kyon kar rahee hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
विधवा औरत के लिए समाज एक अभिशाप किस तरह से है?Vidhva Aurat Ke Lie Samaaj Ek Abhishap Kis Tarah Se Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:52
मुझे ऐसा करके आपका आपका प्रश्न विधवा और अन्य समाज की एक अभिशाप किस तरह से तो फ्रेंड जो औरत विधवा हो जाती है तो उसका सब कुछ छीन लिया जाता है उसे रंगीन कर दिया जाता है उसका सुहाग चला जाता है तो वह ना तो रंगीन कपड़े पहन सकती है ना साथ सिंगार कर सकती है मैं ज्यादा किसी से मिलजुल सकती है हंस बोल सकती है लोगों से गलत निगाह से देखने लगते हैं उसका पति नहीं होता है तो किसी से बात करें तो लोग उसे बुरी नजरों से देखने लगते हैं कि औरत गलत है और उसको सामान में तरह तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है बहुत सारी सुहागिन औरतें जहां पर बैठी हूं कोई पूजा पाठ चल रही हो तो विधवा औरत को उसमें शामिल भी नहीं किया जाता है पूजा पाठ में और सुहागिनों की कोई भी व्रत होते हैं तो वह भी विधवा औरत नहीं कर पाती है तो समाज की बहुत सारी परेशानी है जो इस विधवा औरत को झेलनी पड़ती है धन्यवाद
Mujhe aisa karake aapaka aapaka prashn vidhava aur any samaaj kee ek abhishaap kis tarah se to phrend jo aurat vidhava ho jaatee hai to usaka sab kuchh chheen liya jaata hai use rangeen kar diya jaata hai usaka suhaag chala jaata hai to vah na to rangeen kapade pahan sakatee hai na saath singaar kar sakatee hai main jyaada kisee se milajul sakatee hai hans bol sakatee hai logon se galat nigaah se dekhane lagate hain usaka pati nahin hota hai to kisee se baat karen to log use buree najaron se dekhane lagate hain ki aurat galat hai aur usako saamaan mein tarah tarah kee pareshaaniyon ka saamana karana padata hai bahut saaree suhaagin auraten jahaan par baithee hoon koee pooja paath chal rahee ho to vidhava aurat ko usamen shaamil bhee nahin kiya jaata hai pooja paath mein aur suhaaginon kee koee bhee vrat hote hain to vah bhee vidhava aurat nahin kar paatee hai to samaaj kee bahut saaree pareshaanee hai jo is vidhava aurat ko jhelanee padatee hai dhanyavaad

bolkar speaker
विधवा औरत के लिए समाज एक अभिशाप किस तरह से है?Vidhva Aurat Ke Lie Samaaj Ek Abhishap Kis Tarah Se Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:21
दसवीं की विधवा औरतों के लिए सामाजिक अभिशाप किस तरह से विधवा औरतों के साथ जो व्यवहार किया जाता है उनको मांगलिक कार्यों में प्रवेश पर निषेध है उनको है दृष्टि से देखा जाता है उनको दर्शन होने पर हम सोचते हैं कि मेरा काम बिगड़ जाएगा तो इस दृष्टि से तो समाज उनके लिए अभिशाप है
Dasaveen kee vidhava auraton ke lie saamaajik abhishaap kis tarah se vidhava auraton ke saath jo vyavahaar kiya jaata hai unako maangalik kaaryon mein pravesh par nishedh hai unako hai drshti se dekha jaata hai unako darshan hone par ham sochate hain ki mera kaam bigad jaega to is drshti se to samaaj unake lie abhishaap hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • विधवा औरत के लिए समाज एक अभिशाप किस तरह से है, विधवा औरत के लिए समाज एक अभिशाप
URL copied to clipboard