#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker

किसी भी संख्या को 0 से भाग देने पर वह अपरिभाषित क्यों हो जाता है?

Kisi Bhe Sankhya Ko 0 Se Bhaag Dene Par Vah Aparibhashit Kyun Ho Jata Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:54
आपका प्रश्न है कि किसी भी संख्या को 0 से भाग देने पर वह अपरिभाषित क्यों हो जाता है सिंपल सा है कि जब हम जैसे हम गुणाकर गुडा में क्या होता है 2 * 42 को चार बार जोड़ेंगे ट्यूशन के आ जाएगी जिसे 4 गुना के आठ होता है लेकिन वही हम दो-चार बार जोड़ते हैं तो 2 प्लस 2 प्लस 2 प्लस 2 बराबर क्या होता है आठ होता जिसे हम अगली संख्या की 15 गुर्दे 515 को 5 बार जोड़ेंगे तो हमें क्या मिलता है कि 15 प्लस 15 प्लस 15 प्लस 15 प्लस 15 हमारा क्या हो जाता है कि 75 मिलता है 15 से 75 सिम उसी तरह होता है कि जब हम किसी भी संख्या को 0 से विभाजित करते हैं तो क्या होती है कि अपरिभाषित इसलिए होती है कि अब देखिए जैसे एक बटा जीरो जीरो को आई एम जोड़ते हैं 0 प्लस 0 प्लस 0 0 करते हैं लेकिन फिर भी हमें कभी भी नहीं एक मिलता है क्योंकि हम जब जीरो को जोड़ते हैं जितनी बार जोड़ते हैं हमें क्या मिलता है हमेशा ही जीरो ही वैल्यू मिलती है एक कारण होता है कि अनंत मिलता है मतलब हम कितना हूं अनंत बाहर जाएं और मिलने का कारण क्या है कि हमें जीरो ही मिलता है हमें एक नहीं मिलता है अजब एक नहीं मिलेगा तो हम उसको डिवाइड नहीं कर पाएंगे उसे बराबर नहीं कर पाएंगे इसी वजह से क्या होता है कि अनडिफाइंड आए होता है इसलिए हम क्या करते हैं कि एक कभी हम पहुंच नहीं पाएंगे और एक को हम जीरो से विभाजित नहीं कर पाएंगे इसीलिए क्या होता है वह एकदम हमारा अनंत मिलता है और यही कारण है कि वह अपरिभाषित हो जाता है
Aapaka prashn hai ki kisee bhee sankhya ko 0 se bhaag dene par vah aparibhaashit kyon ho jaata hai simpal sa hai ki jab ham jaise ham gunaakar guda mein kya hota hai 2 * 42 ko chaar baar jodenge tyooshan ke aa jaegee jise 4 guna ke aath hota hai lekin vahee ham do-chaar baar jodate hain to 2 plas 2 plas 2 plas 2 baraabar kya hota hai aath hota jise ham agalee sankhya kee 15 gurde 515 ko 5 baar jodenge to hamen kya milata hai ki 15 plas 15 plas 15 plas 15 plas 15 hamaara kya ho jaata hai ki 75 milata hai 15 se 75 sim usee tarah hota hai ki jab ham kisee bhee sankhya ko 0 se vibhaajit karate hain to kya hotee hai ki aparibhaashit isalie hotee hai ki ab dekhie jaise ek bata jeero jeero ko aaee em jodate hain 0 plas 0 plas 0 0 karate hain lekin phir bhee hamen kabhee bhee nahin ek milata hai kyonki ham jab jeero ko jodate hain jitanee baar jodate hain hamen kya milata hai hamesha hee jeero hee vailyoo milatee hai ek kaaran hota hai ki anant milata hai matalab ham kitana hoon anant baahar jaen aur milane ka kaaran kya hai ki hamen jeero hee milata hai hamen ek nahin milata hai ajab ek nahin milega to ham usako divaid nahin kar paenge use baraabar nahin kar paenge isee vajah se kya hota hai ki anadiphaind aae hota hai isalie ham kya karate hain ki ek kabhee ham pahunch nahin paenge aur ek ko ham jeero se vibhaajit nahin kar paenge iseelie kya hota hai vah ekadam hamaara anant milata hai aur yahee kaaran hai ki vah aparibhaashit ho jaata hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
किसी भी संख्या को 0 से भाग देने पर वह अपरिभाषित क्यों हो जाता है?Kisi Bhe Sankhya Ko 0 Se Bhaag Dene Par Vah Aparibhashit Kyun Ho Jata Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:44
अमन जी आप का सवाल है किसी भी संख्या को 0 से भाग देने पर वह अपरिभाषित क्यों हो जाता है तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार है हमारी साधारण गणित में हर व्यक्ति का कोई अर्थ नहीं है और क्योंकि कोई संख्या नहीं है जब जीरो से गुणा किया जाता है या देता है इसीलिए चुने द्वारा विभाजन अपरिभाषित है क्योंकि किसी भी संख्या को सुनने से गुणा करना सुनने हर व्यक्ति या भाग देना जीरो अपरिभाषित है जब एक्जिमा का रूप है यह निश्चित रूप है धन्यवाद साथियों खुश रहो
Aman jee aap ka savaal hai kisee bhee sankhya ko 0 se bhaag dene par vah aparibhaashit kyon ho jaata hai to doston aapake savaal ka uttar is prakaar hai hamaaree saadhaaran ganit mein har vyakti ka koee arth nahin hai aur kyonki koee sankhya nahin hai jab jeero se guna kiya jaata hai ya deta hai iseelie chune dvaara vibhaajan aparibhaashit hai kyonki kisee bhee sankhya ko sunane se guna karana sunane har vyakti ya bhaag dena jeero aparibhaashit hai jab ekjima ka roop hai yah nishchit roop hai dhanyavaad saathiyon khush raho

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसी भी संख्या को 0 से भाग देने पर वह अपरिभाषित क्यों हो जाता है
URL copied to clipboard