#भारत की राजनीति

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
3:23
मोहम्मद गौरी के भारत पर आक्रमण के कारण प्रकृति का प्रणाम का वर्णन कीजिए गजनी के जितने भी बात करें यार विश्वास को केले के मुसलमानों का मेन उद्देश्य यह था कि आपके धन दौलत लूट लिया कीजिए औरतें उठाइए और अपने घंटे चले जाएंगे उन्होंने देखा कि आप पर खाने पीने के लिए भी जो अच्छी चीज है साथ ही साथ या फिर संसाधन है रोजगार है और यहां पर जो है कभी अरबिया का मन करता है आक्रमण किया करते हैं सॉन्ग गोरी गोरी सबसे पहले 1176 में या फिर जिंदगी माध्य मूल तौर पर आक्रमण किया गुजराती कर आक्रमण किया परंतु उसका सामना जाता लहरों वालों ने अनिल वाड़ा के नरेश मुद्रा सोलंकी सेवा जिसमें गोरे जी को पराजित कर दे यानी कि नरेश जी जो देवी जय गौरी मोहम्मद गौरी हार गया तो क्या होता है 11 सितंबर को नहीं बता पाया जाता ओपन कर रहा था और यहां से मोहम्मदपुर 1185 अजी में पुणे पंजाब को रात भर में कौन जीत हासिल कर ली तो जीत हुई प्रथम देखते हैं दोबारा तराइन का युद्ध फोन पर उनकी हत्या कर दी गई ज्योति मुसलमानों के साथ तो पृथ्वीराज रासो यह बोलती है कि मोहम्मद गोरी ने जो अर्चना चौहान दे इनको गजनी लेकर चले गए सर वहां पर सॉरी मैं दीवाना 8:00 बजे सुल्तान पिक्चर में जो भी कल्पना से बताते हैं हमारे विद्वान इत्यादि वरना अधिकतर हमारे विद्वान हैं उन्होंने यही कहा है कि 15 सिर पर केंद्रों के तुरंत बाद में उन्हें देखता मोहम्मद गोरी सब कुछ जानने का प्रयास किया यही कारण था कि यहां रुके भी यहां से महिलाओं को भी लूटा गैरों ने लूटा प्रणाम मेरे दोस्तों की जब से प्रदीप चौहान जो हार गए थे इसके बाद आक्रमण करता देते और प्रणाम यथा कि यहां पर जो मुसलमानों की आबादी
Mohammad gauree ke bhaarat par aakraman ke kaaran prakrti ka pranaam ka varnan keejie gajanee ke jitane bhee baat karen yaar vishvaas ko kele ke musalamaanon ka men uddeshy yah tha ki aapake dhan daulat loot liya keejie auraten uthaie aur apane ghante chale jaenge unhonne dekha ki aap par khaane peene ke lie bhee jo achchhee cheej hai saath hee saath ya phir sansaadhan hai rojagaar hai aur yahaan par jo hai kabhee arabiya ka man karata hai aakraman kiya karate hain song goree goree sabase pahale 1176 mein ya phir jindagee maadhy mool taur par aakraman kiya gujaraatee kar aakraman kiya parantu usaka saamana jaata laharon vaalon ne anil vaada ke naresh mudra solankee seva jisamen gore jee ko paraajit kar de yaanee ki naresh jee jo devee jay gauree mohammad gauree haar gaya to kya hota hai 11 sitambar ko nahin bata paaya jaata opan kar raha tha aur yahaan se mohammadapur 1185 ajee mein pune panjaab ko raat bhar mein kaun jeet haasil kar lee to jeet huee pratham dekhate hain dobaara tarain ka yuddh phon par unakee hatya kar dee gaee jyoti musalamaanon ke saath to prthveeraaj raaso yah bolatee hai ki mohammad goree ne jo archana chauhaan de inako gajanee lekar chale gae sar vahaan par soree main deevaana 8:00 baje sultaan pikchar mein jo bhee kalpana se bataate hain hamaare vidvaan ityaadi varana adhikatar hamaare vidvaan hain unhonne yahee kaha hai ki 15 sir par kendron ke turant baad mein unhen dekhata mohammad goree sab kuchh jaanane ka prayaas kiya yahee kaaran tha ki yahaan ruke bhee yahaan se mahilaon ko bhee loota gairon ne loota pranaam mere doston kee jab se pradeep chauhaan jo haar gae the isake baad aakraman karata dete aur pranaam yatha ki yahaan par jo musalamaanon kee aabaadee

और जवाब सुनें

Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
4:27
सवाल यह है कि मोहम्मद गौरी के भारत पर आक्रमण के कारण प्राकृतिक एवं परिणामों का वर्णन करें संत बानी मंच के मोहम्मद गौरी का भारत पर प्रथम आक्रमण 1175 इतनी में मुल्तान पर हुआ था गोमल दर्रे से होकर डेरा इस्माइल खां होते हुए चंद पहुंचने का मार्ग उस समय का सबसे प्रचलित मार्ग था मोहम्मद गौरी ने इसी मार्ग से चंद पर आक्रमण किया मोहम्मद गौरी से पहले की आखिरी भी इसी मार्ग से हुए मोहम्मद गौरी के आक्रमण के समय मुल्तान पर आकर मोतियों का शासन था मोहम्मद गौरी ने सरलता से उन्हें पराजित कर मुल्तान जीत लिया मुल्तान पर अधिकार करने के बाद उसने कुछ और निचले संघ को भी जीता था मोहम्मद गौरी का भारत पर दूसरा आक्रमण हुआ अनिल बड़ा या नाहर वाला उद्यानों की पाटन में है मोहम्मद गौरी के भारत के साथ रमन में मोहम्मद गौरी की भारत में होली पर आ गई थी मुल्तान और सिंधु को जीतने के बाद मोहम्मद गौरी ने 1178 से 69 ईसवी में गुजरात पर आक्रमण किया उस समय गुजरात में गुजरात पर चालू किया डांस डांस चाहिए थी इसमें सार्थक मूलराज द्वितीय का शासन था मोहम्मद गौरी ने दक्षिण राजपूताना होते हुए अलवाड़ा पर आक्रमण किया था मूलराज द्वितीय का भाई भीम द्वितीय ने अपनी विधवा साहसी मां नायिका देवी के नेतृत्व में आबू पर्वत के निकट का यात्रा नामक स्थान पर मोहम्मद गौरी का सामना किया मोहम्मद गौरी की सेना पूर्ण रूप से पराजित हुई मोहम्मद गौरी किसी प्रकार के गुजरात अपनी परंपरागत देना सहित भाग निकला यह मोहम्मद गौरी की भारत में पहली पर आज आई थी भारतीय नर्सों में मूलराज द्वितीय प्रथम शासक था जिसने सर्वप्रथम मोहम्मद गौरी को पराजित किया मोहम्मद गौरी ने मूलराज से पराजित होने के बाद अपने आक्रमण का मार्ग बदल लिया मोहम्मद गौरी ने पंजाब के मार्ग से भारत में प्रवेश करने का निश्चय लिया 1179 ईस्वी में उसने पेशावर जो पंजाब के शासक के अधीन था उस पर अपना अगला आक्रमण किया और उस पर अधिकार कर लिया 2 वर्ष बाद 1181 से बाइक 82 श्री पर वह लाहौर की ओर आगे उस समय वहां गजनबी वंश का अंतिम शासक को श्रम मलिक का शासन था उस मालिक ने युद्ध के बजाय उसमें बहुमूल्य बेटे और अपने पुत्र को बंधक के रूप में देखकर अपनी रक्षा की 1182 में मोहम्मद गोरी ने आधे बल के विरुद्ध कुछ कुछ किया और समस्त तटवर्ती प्रदेश पर विजय प्राप्त कर ली तुमरा शासकों ने उसकी अधीनता स्वीकार कर ली थी 1184 85 में मोहम्मद गौरी की सेना ने पूर्ण है लाहौर की ओर कूच किया और समस्त प्रदेश नष्ट कर दिया गजनी वापस जाते समय मोहम्मद गौरी ने आसियान कोर्ट के दुर्ग पर अधिकार कर महारक्षक सेना की व्यवस्था करने का आदेश दिया हुसैन बैंक खर मेल को दुर्गा अधिकारी नियुक्त किया गया को श्रॉफ मलिक अपनी राजधानी के निकट बोरियों के इस संगठन को अपने लिए खतरा समझा और उसने कुकर जनजातियों से संधि कर उनकी सहायता से सियालकोट को घेर लिया लेकिन यह गिरा उसके लिए कठिन शब्द हुआ 1186 ईसवी में भारत ने गजनवी सत्ता के अंतिम अभिषेक नष्ट के करने के लिए मोहम्मद गौरी ने लाहौर पर आक्रमण किया जम्मू के शासक ने लाहौर पर आक्रमण करने के लिए मोहम्मद गौरी को प्रोत्साहित किया क्योंकि खुश रहो मलिक और राजा चंद्र देव में शत्रुता थी खुश रख मलिक बना बिना युद्ध किए ही संधि वार्ता करने लगा वह मोहम्मद गौरी से वेट करने के लिए दो अभी से बाहर निकला तो उसे बंदी बनाकर गर्दी स्थान में बाला खान नामक स्थान पर भेज दिया गया जहां कुछ समय पश्चात 1192 इसी में उसकी हत्या कर दी गई इस प्रकार लाहौर पर कार्यों की पूर्ण सत्ता स्थापित हो गई अलीगढ़ में जो मोहम्मद गौरी के सिपहसालार और बलि थे लाहौर में नियुक्त किए गए न्याय का प्रबंध सिराजुद्दीन को सौंपा गया था
Savaal yah hai ki mohammad gauree ke bhaarat par aakraman ke kaaran praakrtik evan parinaamon ka varnan karen sant baanee manch ke mohammad gauree ka bhaarat par pratham aakraman 1175 itanee mein multaan par hua tha gomal darre se hokar dera ismail khaan hote hue chand pahunchane ka maarg us samay ka sabase prachalit maarg tha mohammad gauree ne isee maarg se chand par aakraman kiya mohammad gauree se pahale kee aakhiree bhee isee maarg se hue mohammad gauree ke aakraman ke samay multaan par aakar motiyon ka shaasan tha mohammad gauree ne saralata se unhen paraajit kar multaan jeet liya multaan par adhikaar karane ke baad usane kuchh aur nichale sangh ko bhee jeeta tha mohammad gauree ka bhaarat par doosara aakraman hua anil bada ya naahar vaala udyaanon kee paatan mein hai mohammad gauree ke bhaarat ke saath raman mein mohammad gauree kee bhaarat mein holee par aa gaee thee multaan aur sindhu ko jeetane ke baad mohammad gauree ne 1178 se 69 eesavee mein gujaraat par aakraman kiya us samay gujaraat mein gujaraat par chaaloo kiya daans daans chaahie thee isamen saarthak moolaraaj dviteey ka shaasan tha mohammad gauree ne dakshin raajapootaana hote hue alavaada par aakraman kiya tha moolaraaj dviteey ka bhaee bheem dviteey ne apanee vidhava saahasee maan naayika devee ke netrtv mein aaboo parvat ke nikat ka yaatra naamak sthaan par mohammad gauree ka saamana kiya mohammad gauree kee sena poorn roop se paraajit huee mohammad gauree kisee prakaar ke gujaraat apanee paramparaagat dena sahit bhaag nikala yah mohammad gauree kee bhaarat mein pahalee par aaj aaee thee bhaarateey narson mein moolaraaj dviteey pratham shaasak tha jisane sarvapratham mohammad gauree ko paraajit kiya mohammad gauree ne moolaraaj se paraajit hone ke baad apane aakraman ka maarg badal liya mohammad gauree ne panjaab ke maarg se bhaarat mein pravesh karane ka nishchay liya 1179 eesvee mein usane peshaavar jo panjaab ke shaasak ke adheen tha us par apana agala aakraman kiya aur us par adhikaar kar liya 2 varsh baad 1181 se baik 82 shree par vah laahaur kee or aage us samay vahaan gajanabee vansh ka antim shaasak ko shram malik ka shaasan tha us maalik ne yuddh ke bajaay usamen bahumooly bete aur apane putr ko bandhak ke roop mein dekhakar apanee raksha kee 1182 mein mohammad goree ne aadhe bal ke viruddh kuchh kuchh kiya aur samast tatavartee pradesh par vijay praapt kar lee tumara shaasakon ne usakee adheenata sveekaar kar lee thee 1184 85 mein mohammad gauree kee sena ne poorn hai laahaur kee or kooch kiya aur samast pradesh nasht kar diya gajanee vaapas jaate samay mohammad gauree ne aasiyaan kort ke durg par adhikaar kar mahaarakshak sena kee vyavastha karane ka aadesh diya husain baink khar mel ko durga adhikaaree niyukt kiya gaya ko shroph malik apanee raajadhaanee ke nikat boriyon ke is sangathan ko apane lie khatara samajha aur usane kukar janajaatiyon se sandhi kar unakee sahaayata se siyaalakot ko gher liya lekin yah gira usake lie kathin shabd hua 1186 eesavee mein bhaarat ne gajanavee satta ke antim abhishek nasht ke karane ke lie mohammad gauree ne laahaur par aakraman kiya jammoo ke shaasak ne laahaur par aakraman karane ke lie mohammad gauree ko protsaahit kiya kyonki khush raho malik aur raaja chandr dev mein shatruta thee khush rakh malik bana bina yuddh kie hee sandhi vaarta karane laga vah mohammad gauree se vet karane ke lie do abhee se baahar nikala to use bandee banaakar gardee sthaan mein baala khaan naamak sthaan par bhej diya gaya jahaan kuchh samay pashchaat 1192 isee mein usakee hatya kar dee gaee is prakaar laahaur par kaaryon kee poorn satta sthaapit ho gaee aleegadh mein jo mohammad gauree ke sipahasaalaar aur bali the laahaur mein niyukt kie gae nyaay ka prabandh siraajuddeen ko saumpa gaya tha

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मोहम्मद गोरी का आक्रमण, मोहम्मद गोरी का प्रभाव, मोहम्मद गौरी का इतिहास
URL copied to clipboard