#रिश्ते और संबंध

umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
0:53
आपका सवाल है मनुष्य अपने आप मीटिंग में क्यों चला जाता है कि अतीत में जाना सही है इससे मिलता क्या है मेरे भाई मैं बता दो मनुष्य को अपने अतीत को देखकर ही चलना चाहिए उसने क्या गलत किया क्या सही किया उसे अल्लाह उसको अतिथि जाने के लिए बिना अनुभव की आप कोई भी कार्य करेंगे और सफल रहे थे तो आपको आशीष में झांक कर के देख लेना चाहिए कि कहां है आपने गलत किया कहां से आई पिया क्या किया तो किसका उसका परिणाम क्या मिला क्या नहीं दिया तो उसका परिणाम क्या मिला यह सबसे ज्यादा इतने साथ में से ही मिलती है अतीत में झांकना बहुत ही अच्छा बात है कल शाम को अपने अतीत को भूलना नहीं चाहिए
Aapaka savaal hai manushy apane aap meeting mein kyon chala jaata hai ki ateet mein jaana sahee hai isase milata kya hai mere bhaee main bata do manushy ko apane ateet ko dekhakar hee chalana chaahie usane kya galat kiya kya sahee kiya use allaah usako atithi jaane ke lie bina anubhav kee aap koee bhee kaary karenge aur saphal rahe the to aapako aasheesh mein jhaank kar ke dekh lena chaahie ki kahaan hai aapane galat kiya kahaan se aaee piya kya kiya to kisaka usaka parinaam kya mila kya nahin diya to usaka parinaam kya mila yah sabase jyaada itane saath mein se hee milatee hai ateet mein jhaankana bahut hee achchha baat hai kal shaam ko apane ateet ko bhoolana nahin chaahie

और जवाब सुनें

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
1:48
मैं क्यों जाना चाहता है क्या अधिक अधिक तुम्हें जाना अतीत में जाना आई थिंग आप कहना चाहते हैं इस से क्या मिलता है यह सही है क्या नहीं है और इससे कुछ मिलता नहीं है लेकिन हम क्यों जाते हैं क्योंकि हम मजबूर हैं हम आदत बन चुकी है हमारी अतीत में जाने की और कई लोग मजा लेते हैं गिनती में रहने का बहुत ग्लानि जो है या रिग्रेट जो है लाइफ में कि मैंने यह क्यों नहीं किया वैसा क्यों नहीं किया ऐसा हो जाता काशी होता काश वह होता है वह समय अच्छा था यह समय खराब है तो अच्छी चीज है बुरी चीज़ दोनों चीजों को हम अपने मन में दोहराते रहते हैं और दोहराने की आदत हो जाती है कि फिर कुछ चीजें जो उसके साथ जुड़ी हुई है जैसे कि कोई जगह कोई इंसान को ही वाक्य जैसे ही वह फिर याद आता है तो वह याद भी याद आ जाती है तो मजबूरी हो जाती है याद करने की आदत सी बन जाती है स्पार्टन बन जाता है मगर तोड़ना कैसे बाहर कैसे आना है किसका लिंक ब्रेक करने सबसे पहले एक साइकिल शुरू होता है जैसे कि आप एक रेस्टोरेंट में गए अब आपको याद इतने में किसी के साथ यहां आया था ठीक है कुछ घटना घटी थी कुछ अच्छा हुआ था या कुछ बुरा हुआ था या वह इंसान की याद आने लगी किस जगह पर जाना आउट्रिगर से पूरी श्रृंखला विचारों की शुरू हुई और वह श्रृंखला को कहीं विराम नहीं मिला तो अगर साइकिल को हमने थोड़ा तो हम पाएंगे कि हम उस से मुक्त हुए उससे बाहर है और यह साइकिल ब्रेक करना बिल्कुल भी मुश्किल नहीं है कभी-कभी हमें कुछ देर बाद याद आएगा लेकिन ब्रेक करें नहीं तो कई घंटे निकल जाते हैं सोचते सोचते पुरानी बातों को पता ही नहीं चलता है धीरे-धीरे हम अपनी जागरूकता बनाएंगे तो हम देखेंगे कि यह जल्दी से हम उससे बाहर आने लगी है फिर एक टाइम ऐसा आएगा कि यादें भी धुंधली हो जाएंगी और हम इनको भूल जाएंगे बहुत-बहुत शुभकामनाएं धन्यवाद
Main kyon jaana chaahata hai kya adhik adhik tumhen jaana ateet mein jaana aaee thing aap kahana chaahate hain is se kya milata hai yah sahee hai kya nahin hai aur isase kuchh milata nahin hai lekin ham kyon jaate hain kyonki ham majaboor hain ham aadat ban chukee hai hamaaree ateet mein jaane kee aur kaee log maja lete hain ginatee mein rahane ka bahut glaani jo hai ya rigret jo hai laiph mein ki mainne yah kyon nahin kiya vaisa kyon nahin kiya aisa ho jaata kaashee hota kaash vah hota hai vah samay achchha tha yah samay kharaab hai to achchhee cheej hai buree cheez donon cheejon ko ham apane man mein doharaate rahate hain aur doharaane kee aadat ho jaatee hai ki phir kuchh cheejen jo usake saath judee huee hai jaise ki koee jagah koee insaan ko hee vaaky jaise hee vah phir yaad aata hai to vah yaad bhee yaad aa jaatee hai to majabooree ho jaatee hai yaad karane kee aadat see ban jaatee hai spaartan ban jaata hai magar todana kaise baahar kaise aana hai kisaka link brek karane sabase pahale ek saikil shuroo hota hai jaise ki aap ek restorent mein gae ab aapako yaad itane mein kisee ke saath yahaan aaya tha theek hai kuchh ghatana ghatee thee kuchh achchha hua tha ya kuchh bura hua tha ya vah insaan kee yaad aane lagee kis jagah par jaana aautrigar se pooree shrrnkhala vichaaron kee shuroo huee aur vah shrrnkhala ko kaheen viraam nahin mila to agar saikil ko hamane thoda to ham paenge ki ham us se mukt hue usase baahar hai aur yah saikil brek karana bilkul bhee mushkil nahin hai kabhee-kabhee hamen kuchh der baad yaad aaega lekin brek karen nahin to kaee ghante nikal jaate hain sochate sochate puraanee baaton ko pata hee nahin chalata hai dheere-dheere ham apanee jaagarookata banaenge to ham dekhenge ki yah jaldee se ham usase baahar aane lagee hai phir ek taim aisa aaega ki yaaden bhee dhundhalee ho jaengee aur ham inako bhool jaenge bahut-bahut shubhakaamanaen dhanyavaad

Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:50
लेकिन मनुष्य अपने अतीत में क्यों चला जाता है क्या अतीत में जाना सही है सुनील का क्या है तो हमें शादी में जाना अच्छी बात नहीं होती क्योंकि अतीत अंत में दुख लेकर जाता था उस वक्त उल्लागल्लू लास्ट में आप उदास हो जाएगी जैसे कि आप स्कूल में बहुत अच्छे से खेलते घूमते थे बहुत सारे फ्रेंड थी पर अब यंग हो गए हैं जॉब करते हो आपको भी फ्रेंड कहीं दिखे तो थोड़ी देर के लिए अच्छा लगेगा उसको दुखी हो जाती है या फिर आप की नहीं किसी ग्रुप को देखते हैं कॉलेज में रोड पर स्कूल ग्रुप के बच्चों को तो आपको थोड़ी देर के लिए अच्छा लगता है फिर आप अपने ओल्ड इस याद करते हैं आप दुखी हो जाते हैं कुछ समय के लिए अच्छा लगता है लेकिन उस समय बहुत बलवान होता है उसी तरह चला जाता है
Lekin manushy apane ateet mein kyon chala jaata hai kya ateet mein jaana sahee hai suneel ka kya hai to hamen shaadee mein jaana achchhee baat nahin hotee kyonki ateet ant mein dukh lekar jaata tha us vakt ullaagalloo laast mein aap udaas ho jaegee jaise ki aap skool mein bahut achchhe se khelate ghoomate the bahut saare phrend thee par ab yang ho gae hain job karate ho aapako bhee phrend kaheen dikhe to thodee der ke lie achchha lagega usako dukhee ho jaatee hai ya phir aap kee nahin kisee grup ko dekhate hain kolej mein rod par skool grup ke bachchon ko to aapako thodee der ke lie achchha lagata hai phir aap apane old is yaad karate hain aap dukhee ho jaate hain kuchh samay ke lie achchha lagata hai lekin us samay bahut balavaan hota hai usee tarah chala jaata hai

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:41
मस्कारा का प्रश्न मनुष्य अपने अतीत में क्यों चला जाता है क्या अतीत में जाना सही है इससे मिलता क्या है तो आपको बता दें कि देखिए व्यक्ति अगर अपने अतीत में जाता है तो इसलिए जाता है क्योंकि उसके अतीत में या तो एक सुखद आती तो मिलता है उसको या फिर एक दुखद अंत मिल रहा है सुखद अतीत की अनुभूति करने के लिए उसको अच्छा महसूस होता है अगर वह उसकी करता है और राजा धोखा देती है तो उसका रहा है तो वह उस को मजबूती प्रदान करता है कि किस तरह से उसको अपने जीवन में आप आगे बढ़ना होगा तो इसलिए व्यक्ति अपने अतीत में जाता है मैं तो काम ने आपके साथ हैं धन्यवाद
Maskaara ka prashn manushy apane ateet mein kyon chala jaata hai kya ateet mein jaana sahee hai isase milata kya hai to aapako bata den ki dekhie vyakti agar apane ateet mein jaata hai to isalie jaata hai kyonki usake ateet mein ya to ek sukhad aatee to milata hai usako ya phir ek dukhad ant mil raha hai sukhad ateet kee anubhooti karane ke lie usako achchha mahasoos hota hai agar vah usakee karata hai aur raaja dhokha detee hai to usaka raha hai to vah us ko majabootee pradaan karata hai ki kis tarah se usako apane jeevan mein aap aage badhana hoga to isalie vyakti apane ateet mein jaata hai main to kaam ne aapake saath hain dhanyavaad

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:35
तेरी उम्र विशिष्ट पता है बालक होता है बचपन के बस्ता होती है किशोर अवस्था होती है तब तक तो से खेलने खाने से फुर्सत नहीं होती है जैसे ही वह युवा होता है तो उसे इंद्रियों का सुखदेव लेता है और रूप रस गंध स्पर्श में इतना मगन हो जाता है कि उसे कुछ सोचने को अक्सर ही नहीं मिलता है भुताचा किसके आनंद में विवो जाता है कभी आकर्षण ने कभी कृष्ण में निरंतर युवा घिरा रहता है लेकिन जैसे ही वह 50 को क्रॉस करने लगता है 50 प्लस होने लगता है तो उसे वृद्धावस्था खेलने लगती है उसे अपने अतीत के दिन याद आते रहते हैं वृद्धावस्था में तुमने देखा होगा अक्सर लोग अपनी पिछली बातों को बारे में चर्चा करते रहते हैं हम ऐसे थे हमेशा करते थे हमेशा करते थे तुम बहुत सारी क्योंकि उनकी वह स्मृतियां हैं उनको जीवन सजे हुए हैं उनको यादें चलाती रहती हैं उन्हीं के आधार पर देश चंदा है क्योंकि अब टिप टिप ब्लास्ट हो जाने के पश्चात में उनकी इंद्रियां तो एकदम दिल हो जाती हैं धीरे-धीरे उनके विचार भी चिकन होने लगते हैं मैं मोदी भी कम होने लगती है तब वह पिछली बातों को याद करके ही अपने समय गुजारते हैं
Teree umr vishisht pata hai baalak hota hai bachapan ke basta hotee hai kishor avastha hotee hai tab tak to se khelane khaane se phursat nahin hotee hai jaise hee vah yuva hota hai to use indriyon ka sukhadev leta hai aur roop ras gandh sparsh mein itana magan ho jaata hai ki use kuchh sochane ko aksar hee nahin milata hai bhutaacha kisake aanand mein vivo jaata hai kabhee aakarshan ne kabhee krshn mein nirantar yuva ghira rahata hai lekin jaise hee vah 50 ko kros karane lagata hai 50 plas hone lagata hai to use vrddhaavastha khelane lagatee hai use apane ateet ke din yaad aate rahate hain vrddhaavastha mein tumane dekha hoga aksar log apanee pichhalee baaton ko baare mein charcha karate rahate hain ham aise the hamesha karate the hamesha karate the tum bahut saaree kyonki unakee vah smrtiyaan hain unako jeevan saje hue hain unako yaaden chalaatee rahatee hain unheen ke aadhaar par desh chanda hai kyonki ab tip tip blaast ho jaane ke pashchaat mein unakee indriyaan to ekadam dil ho jaatee hain dheere-dheere unake vichaar bhee chikan hone lagate hain main modee bhee kam hone lagatee hai tab vah pichhalee baaton ko yaad karake hee apane samay gujaarate hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मनुष्य अपने अतीत में क्यों चला जाता है ,क्या अतीत में जाना सही है इससे मिलता क्या है
  • मनुष्य अपने अतीत में क्यों चला जाता है, क्या अतीत में जाना सही है
  • मनुष्य अपने अतीत में क्यों चला जाता है, क्या अतीत में जाना सही है
URL copied to clipboard