#भारत की राजनीति

bolkar speaker

पेट्रोल के बढ़ते कीमतों का क्या मुख्य कारण है?

Petrol Ke Badhte Kimato Ka Kya Mukhya Karan Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
4:01
सवाल ये है कि पेट्रोल की बढ़ती कीमतों का क्या मुख्य कारण है तो सबसे पहले यह जानते हैं कि पेट्रोल की कीमत तय कैसे होती है दुनिया भर में 160 किस्म के कच्चे तेल का कारोबार होता है उनके घनत्व से लेकर तरलता के स्तर पर निर्भर करता है ज्यादातर कच्चे तेल अपने भौगोलिक नाम जैसे ब्रेंट क्रूड ओमान क्रूज दुबई गुण से पहचाने जाते हैं भारत अपनी जरूरत सासी फ़ीसदी से ज्यादा कच्चा तेल बाहर से आयात करता है और इस आयातित कच्चे तेल का भाव ब्रेंट ओमान दुबई के भाव से तय होता है ऑयल मार्केटिंग कंपनियां रिफाइनरी तेल खरीद कर ले आती है और उसे साफ-सुथरा करके अलग-अलग पेट्रोलियम पदार्थों पेट्रोल डीजल को देशभर में बेचती हैं गौरतलब है कि पेट्रोल के 1 लीटर की कीमत लगभग ₹30 है उस पर एक्साइज ड्यूटी पे कमीशन और वैल्यू एडेड टैक्स जोड़ने के बाद उसकी कीमत 8687 रुपए पहुंच जाती है यानी कि अगर टेक्स्ट कम हो जाए तो पेट्रोल डीजल की कीमतें कम हो सकेंगी देश के भीतर पेट्रोल या डीजल की कीमतों पढ़ते हैं होने के लिए हम दिल्ली का और उदाहरण लेते हैं सबसे पहले पेट्रोल की कीमत में बेस्ट कीमत जुड़ती है जैसे दिल्ली में 1 फरवरी 2021 के हिसाब से 20 की मौत 29.34 रूपए प्रति लीटर थी उसके बाद उसमें भाड़े के कैसेट पैसे और जुड़ गए इसके बाद में ऑयल मार्केटिंग कंपनियां एयरटेल ₹29 71 पैसे की भाव से डिलीट हो गया इसके बाद केंद्र सरकार हर लीटर पेट्रोल पर ₹32 98 पैसे उत्पाद शुल्क लगाती है एक झटके से पेट्रोल की कीमत ₹62 सत्तर पैसे हो जाती है इसके अलावा हर पेट्रोल पंप डीलर लीटर पर ₹3 69 पैसे का कमीशन जोड़ता है जिसके बाद जहां पेट्रोल बेचा जाता है उसकी कीमत कुछ राज्य सरकार की ओर से लगाए गए भाटिया बिक्री कर यानी ₹19 92 पैसा और जुड़ जाता है और कुल मिलाकर अंत में 1 लीटर पेट्रोल के लिए आम आदमी को ₹86 की जो पैसे चुकाने पड़ते हैं और मार्केटिंग कंपनी अंतरराष्ट्रीय कीमतों के आधार पर पेट्रोल डीजल की कीमत में कीमतों में संशोधन करती हैं भारत में कीमतों के इस तरह से तय होने की प्रक्रिया को डायनेमिक प्राइसिंग कहते हैं और यह हर रोज तय होती है सरकार का मूल्य निर्धारण पर कोई नियंत्रण नहीं है इस बाबत पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने सदन में बयान दिया सरकार का कहना है कि पेट्रोल कंपनियां कीमतों को तय करने के लिए स्वतंत्र होती हैं और सरकार इसमें कोई हस्तक्षेप नहीं करती राज्यसभा के एक सवाल के जवाब में पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि पेट्रोलियम पदार्थों की कीमत होता है करने का एक अंतरराष्ट्रीय प्रक्रिया है जो दशकों से चली आ रही है हमारा देश की जरूरत का करीब 85 फ़ीसदी कच्चा तेल बाहर से आयात करता है जब अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत बढ़ रही है तो हमें भी उसी हिसाब से घरेलू कीमत बदलनी होती है जब कीमत कम होती है तो घरेलू बाजार में भी घट जाती है कीमतों को तय करने का यह तरीका भी मार्केटिंग कंपनियों ने मिलकर किया है हमने इसके लिए इन कंपनियों को पूरी आजादी दी है अंतरराष्ट्रीय बाजार में ब्रेंट क्रूड की कीमतें लगातार बढ़ रही है पिछले हफ्ते ब्रेंट क्रूड की कीमत $60 प्रति बैरल पर पहुंच गया था लॉकडाउन खत्म होने और कोरोनावायरस के बाद से कच्चे तेल के बाजार में उछाल जारी है और घरेलू बाजार के में कीमती तकरीबन रोज बढ़ रही हैं लेकिन सवाल ये है कि कच्चे तेल का भाव बढ़ने से घरेलू कीमत बढ़ जाती है लेकिन जब कच्चे तेल कीमत नीचे जाती है तो उसका फायदा हम लोगों को क्यों पूरा नहीं मिल पाता
Savaal ye hai ki petrol kee badhatee keematon ka kya mukhy kaaran hai to sabase pahale yah jaanate hain ki petrol kee keemat tay kaise hotee hai duniya bhar mein 160 kism ke kachche tel ka kaarobaar hota hai unake ghanatv se lekar taralata ke star par nirbhar karata hai jyaadaatar kachche tel apane bhaugolik naam jaise brent krood omaan krooj dubee gun se pahachaane jaate hain bhaarat apanee jaroorat saasee feesadee se jyaada kachcha tel baahar se aayaat karata hai aur is aayaatit kachche tel ka bhaav brent omaan dubee ke bhaav se tay hota hai oyal maarketing kampaniyaan riphainaree tel khareed kar le aatee hai aur use saaph-suthara karake alag-alag petroliyam padaarthon petrol deejal ko deshabhar mein bechatee hain gauratalab hai ki petrol ke 1 leetar kee keemat lagabhag ₹30 hai us par eksaij dyootee pe kameeshan aur vailyoo eded taiks jodane ke baad usakee keemat 8687 rupe pahunch jaatee hai yaanee ki agar tekst kam ho jae to petrol deejal kee keematen kam ho sakengee desh ke bheetar petrol ya deejal kee keematon padhate hain hone ke lie ham dillee ka aur udaaharan lete hain sabase pahale petrol kee keemat mein best keemat judatee hai jaise dillee mein 1 pharavaree 2021 ke hisaab se 20 kee maut 29.34 roope prati leetar thee usake baad usamen bhaade ke kaiset paise aur jud gae isake baad mein oyal maarketing kampaniyaan eyaratel ₹29 71 paise kee bhaav se dileet ho gaya isake baad kendr sarakaar har leetar petrol par ₹32 98 paise utpaad shulk lagaatee hai ek jhatake se petrol kee keemat ₹62 sattar paise ho jaatee hai isake alaava har petrol pamp deelar leetar par ₹3 69 paise ka kameeshan jodata hai jisake baad jahaan petrol becha jaata hai usakee keemat kuchh raajy sarakaar kee or se lagae gae bhaatiya bikree kar yaanee ₹19 92 paisa aur jud jaata hai aur kul milaakar ant mein 1 leetar petrol ke lie aam aadamee ko ₹86 kee jo paise chukaane padate hain aur maarketing kampanee antararaashtreey keematon ke aadhaar par petrol deejal kee keemat mein keematon mein sanshodhan karatee hain bhaarat mein keematon ke is tarah se tay hone kee prakriya ko daayanemik praising kahate hain aur yah har roj tay hotee hai sarakaar ka mooly nirdhaaran par koee niyantran nahin hai is baabat petroliyam mantree dharmendr pradhaan ne sadan mein bayaan diya sarakaar ka kahana hai ki petrol kampaniyaan keematon ko tay karane ke lie svatantr hotee hain aur sarakaar isamen koee hastakshep nahin karatee raajyasabha ke ek savaal ke javaab mein petroliyam mantree dharmendr dharmendr pradhaan ne kaha ki petroliyam padaarthon kee keemat hota hai karane ka ek antararaashtreey prakriya hai jo dashakon se chalee aa rahee hai hamaara desh kee jaroorat ka kareeb 85 feesadee kachcha tel baahar se aayaat karata hai jab antararaashtreey baajaar mein keemat badh rahee hai to hamen bhee usee hisaab se ghareloo keemat badalanee hotee hai jab keemat kam hotee hai to ghareloo baajaar mein bhee ghat jaatee hai keematon ko tay karane ka yah tareeka bhee maarketing kampaniyon ne milakar kiya hai hamane isake lie in kampaniyon ko pooree aajaadee dee hai antararaashtreey baajaar mein brent krood kee keematen lagaataar badh rahee hai pichhale haphte brent krood kee keemat $60 prati bairal par pahunch gaya tha lokadaun khatm hone aur koronaavaayaras ke baad se kachche tel ke baajaar mein uchhaal jaaree hai aur ghareloo baajaar ke mein keematee takareeban roj badh rahee hain lekin savaal ye hai ki kachche tel ka bhaav badhane se ghareloo keemat badh jaatee hai lekin jab kachche tel keemat neeche jaatee hai to usaka phaayada ham logon ko kyon poora nahin mil paata

और जवाब सुनें

bolkar speaker
पेट्रोल के बढ़ते कीमतों का क्या मुख्य कारण है?Petrol Ke Badhte Kimato Ka Kya Mukhya Karan Hai
lokesh pawar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lokesh जी का जवाब
Unknown
0:24

bolkar speaker
पेट्रोल के बढ़ते कीमतों का क्या मुख्य कारण है?Petrol Ke Badhte Kimato Ka Kya Mukhya Karan Hai
Vaishnavi Pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Vaishnavi जी का जवाब
Student / Artist
0:26
नमस्कार आपने लिखा है कि पेट्रोल की बढ़ती कीमतों का मुख्य कारण क्या है तो देखिए देश में पेट्रोल की बढ़ती कीमतों का जो मुख्य कारण है वह यह है कि करुणा वायरस की वजह से जो तेल उत्पादक देश है उन्होंने तेल का उत्पादन जो है वह कम किया है इस वजह से पेट्रोल और डीजल की कीमत जो है वह लगातार बढ़ती जा रही है
Namaskaar aapane likha hai ki petrol kee badhatee keematon ka mukhy kaaran kya hai to dekhie desh mein petrol kee badhatee keematon ka jo mukhy kaaran hai vah yah hai ki karuna vaayaras kee vajah se jo tel utpaadak desh hai unhonne tel ka utpaadan jo hai vah kam kiya hai is vajah se petrol aur deejal kee keemat jo hai vah lagaataar badhatee ja rahee hai

bolkar speaker
पेट्रोल के बढ़ते कीमतों का क्या मुख्य कारण है?Petrol Ke Badhte Kimato Ka Kya Mukhya Karan Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
1:04
राधा का प्रश्न पेट्रोल की बढ़ती कीमतों का क्या मुख्य कारण है तो आपको बता देंगे कि वैसे तो अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमतों में थोड़ा बहुत ज्यादा होता है या गिरावट आती है तो डायरेक्ट इंपैक्ट इंडियन इकनोमिक देखने को मिलता है इंडिया में जो तेल की कीमतें हैं वह बाजार से नियंत्रित की जाती हैं हालांकि से पॉलीटिकल प्रेशर की रहता है अगर इलेक्शन का टाइम होता है तो उस समय कीमतों में बढ़ोतरी है और क्वारी जाती है और बाद में उस घाटे को पूरा किया जाता है आना कि जो पेट्रोल कैप्सूल कीमत है होती है और जो देनी चाहिए किसी व्यक्ति को उससे कई गुना टैक्सी जोड़कर के यहां पर जनता से वसूली की जाती है ताकि सरकार अपने जो खजाने हैं उनको भर सके और फिर जब फर्स्ट सेटलमेंट करने के लिए जो पैसा चाहिए उसको वहां से यूटिलाइजेशन उसका हो सके तो इस तरह से यहां पर कार्य चलता है और छह से बीजेपी गवर्नमेंट जितनी भी सरकारें आती-जाती रहती हैं सब ऐसे ही कार्य करती हैं मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Raadha ka prashn petrol kee badhatee keematon ka kya mukhy kaaran hai to aapako bata denge ki vaise to antararaashtreey baajaar mein tel kee keematon mein thoda bahut jyaada hota hai ya giraavat aatee hai to daayarekt impaikt indiyan ikanomik dekhane ko milata hai indiya mein jo tel kee keematen hain vah baajaar se niyantrit kee jaatee hain haalaanki se poleetikal preshar kee rahata hai agar ilekshan ka taim hota hai to us samay keematon mein badhotaree hai aur kvaaree jaatee hai aur baad mein us ghaate ko poora kiya jaata hai aana ki jo petrol kaipsool keemat hai hotee hai aur jo denee chaahie kisee vyakti ko usase kaee guna taiksee jodakar ke yahaan par janata se vasoolee kee jaatee hai taaki sarakaar apane jo khajaane hain unako bhar sake aur phir jab pharst setalament karane ke lie jo paisa chaahie usako vahaan se yootilaijeshan usaka ho sake to is tarah se yahaan par kaary chalata hai aur chhah se beejepee gavarnament jitanee bhee sarakaaren aatee-jaatee rahatee hain sab aise hee kaary karatee hain main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
पेट्रोल के बढ़ते कीमतों का क्या मुख्य कारण है?Petrol Ke Badhte Kimato Ka Kya Mukhya Karan Hai
Deepak Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
संस्कृतप्रचारक, संस्कृतभारती जयपुरमहानगर प्रचारप्रमुख और सन्देशप्रमुख
2:35
नमस्कार मित्रों आप ने प्रश्न किया है पेट्रोल के बढ़ते केंद्रों का क्या मुख्य कारण है मित्र पेट्रोल के लगातार दाम बढ़ते जा रहे हैं डिनर हुआ पागल हो जो भी दाम बढ़ रहा है उसका देखी कारण है कि सरकार को जिस कीमत में यह मिल रहा है उसके बाद में इसमें बहुत सारे टैक्स लग जाते हैं जिसके कारण यह इसकी जो खेलते हैं वह भाई जाती है जैसे कि सबसे पहले जब यह कच्चा तेल सरकार के पास आया केंद्र सरकार के पास तो वह इससे पक्का करके और पेट्रोल और डीजल उससे आगे भेजेगी तो वहां से इसका मतलब जो भी है वह लगेगा उसके बाद में फ्री जब राज्य में जाएगा तो वहां पर स्टे द्वारा वहां से टैक्स लगेगा जैसे कर करके कंपनी के पास जाएगा तो कंपनी का भी टैक्स लगेगा कंपनी से राज्य में आएगा तो उसका टैक्स लगेगा मतलब केंद्र सरकार राज्य सरकार कंपनी यह सब 349 से सोने के बाद जिसका एक से बढ़ बढ़ कर के जहां पहुंचता है मतलब जिस कीमत में खरीदा गया उसमें यह सब कुछ टाइपिंग करके या मॉम जो है बिल्कुल दिनों दिन बढ़ता ही जा रहा है और यदि आप उनसे पूछेंगे इसका कारण किसी भी सरकार के मंत्री है तो हर कोई इस में विपक्ष को ले करके ही बात करेगा तब यह नहीं देखेंगे कि वर्तमान में जो हमारी सरकार है तो हमें इसमें कुछ करना किए कैसे पकड़ती खेलते कम की जाए इस पर विचार नहीं कर के विपक्ष सही कटाक्ष करते रहते हैं कंपनी का और b351 दौर है जब यह सब कुछ लगता है तब जाकर के पेट्रोल का दाम दिनों दिन बढ़ता जा रहा है और इसके कीमती पढ़ने का सबसे मुख्य कारण ही यही है इसके ऊपर बहुत सारे टैक्स लगते हैं धन्यवाद
Namaskaar mitron aap ne prashn kiya hai petrol ke badhate kendron ka kya mukhy kaaran hai mitr petrol ke lagaataar daam badhate ja rahe hain dinar hua paagal ho jo bhee daam badh raha hai usaka dekhee kaaran hai ki sarakaar ko jis keemat mein yah mil raha hai usake baad mein isamen bahut saare taiks lag jaate hain jisake kaaran yah isakee jo khelate hain vah bhaee jaatee hai jaise ki sabase pahale jab yah kachcha tel sarakaar ke paas aaya kendr sarakaar ke paas to vah isase pakka karake aur petrol aur deejal usase aage bhejegee to vahaan se isaka matalab jo bhee hai vah lagega usake baad mein phree jab raajy mein jaega to vahaan par ste dvaara vahaan se taiks lagega jaise kar karake kampanee ke paas jaega to kampanee ka bhee taiks lagega kampanee se raajy mein aaega to usaka taiks lagega matalab kendr sarakaar raajy sarakaar kampanee yah sab 349 se sone ke baad jisaka ek se badh badh kar ke jahaan pahunchata hai matalab jis keemat mein khareeda gaya usamen yah sab kuchh taiping karake ya mom jo hai bilkul dinon din badhata hee ja raha hai aur yadi aap unase poochhenge isaka kaaran kisee bhee sarakaar ke mantree hai to har koee is mein vipaksh ko le karake hee baat karega tab yah nahin dekhenge ki vartamaan mein jo hamaaree sarakaar hai to hamen isamen kuchh karana kie kaise pakadatee khelate kam kee jae is par vichaar nahin kar ke vipaksh sahee kataaksh karate rahate hain kampanee ka aur b351 daur hai jab yah sab kuchh lagata hai tab jaakar ke petrol ka daam dinon din badhata ja raha hai aur isake keematee padhane ka sabase mukhy kaaran hee yahee hai isake oopar bahut saare taiks lagate hain dhanyavaad

bolkar speaker
पेट्रोल के बढ़ते कीमतों का क्या मुख्य कारण है?Petrol Ke Badhte Kimato Ka Kya Mukhya Karan Hai
Rahul chaudhary Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:13
आपको सवाल है कि पेट्रोल की बढ़ती कीमतों का क्या मुख्य कारण है कि जो मुख्य कारण है वह सरकार का टैक्स और उसके बाद को राज्य सरकार का टैक्स यानी हमारी सरकारें दो प्रकाश टैक्स लगाती तो सेंटर पर एक स्टेट लेवल पर तो जो सेंटर और जो स्टेट लेवल पर टैक्स है ना अगर मान लीजिए पेट्रोल की कीमत ₹95 है तो ₹35 सेंटर का टेक्स्ट ₹30 वैट जिसे राज्य सरकार का टैक्स कहते हैं और बाकी जो बचा 365 बाकी ₹30 बच्चों को प्राइस का जो कि इसकी कीमत है वह उसका मूल्य पेट्रोल का उसके बाद जो यह ₹65 है यह जो सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी लगाती है उसके बाद राज्य सरकार में ड्यूटी लगाती हैं वह मुख्य कारण है तो पेट्रोल की बढ़ती कीमतों पर जो भारत में जो मुख्य कारण वही है और धीरे-धीरे उसकी मांग की बढ़ रही है तो कीमत अवश्य पड़ेगी लेकिन सरकार को इस बारे में सोच विचार नतीजा 2014 के आसपास ₹3 या ₹4 टैक्स था आज वही टैक्स ₹35 हो गया है 800% वृद्धि बड़े आश्चर्य की बात है तो सरकार को सोचना चाहिए धन्यवाद
Aapako savaal hai ki petrol kee badhatee keematon ka kya mukhy kaaran hai ki jo mukhy kaaran hai vah sarakaar ka taiks aur usake baad ko raajy sarakaar ka taiks yaanee hamaaree sarakaaren do prakaash taiks lagaatee to sentar par ek stet leval par to jo sentar aur jo stet leval par taiks hai na agar maan leejie petrol kee keemat ₹95 hai to ₹35 sentar ka tekst ₹30 vait jise raajy sarakaar ka taiks kahate hain aur baakee jo bacha 365 baakee ₹30 bachchon ko prais ka jo ki isakee keemat hai vah usaka mooly petrol ka usake baad jo yah ₹65 hai yah jo sentral eksaij dyootee lagaatee hai usake baad raajy sarakaar mein dyootee lagaatee hain vah mukhy kaaran hai to petrol kee badhatee keematon par jo bhaarat mein jo mukhy kaaran vahee hai aur dheere-dheere usakee maang kee badh rahee hai to keemat avashy padegee lekin sarakaar ko is baare mein soch vichaar nateeja 2014 ke aasapaas ₹3 ya ₹4 taiks tha aaj vahee taiks ₹35 ho gaya hai 800% vrddhi bade aashchary kee baat hai to sarakaar ko sochana chaahie dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • पेट्रोल के दाम कौन निर्धारित करता है, पेट्रोल का दाम, पेट्रोल और डीजल की कीमत क्यों बढ़ रही है
URL copied to clipboard