#undefined

bolkar speaker

क्या आंदोलनरत किसानों के साथ बाकी किसान सहयोग नहीं कर रहे हैं?

Kya Andolan Kishano Ke Sath Baki Kishan Sahayog Nahi Kar Rahe Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:31
क्या आंदोलनरत किसानों के साथ बाकी के साथ सहयोग नहीं कर रहे हैं दोस्तों महिमा जतिन को सिविलयन एमएसपी को लेकर भी और अभी कुछ ही दिनों पहले आप चाहिए सौरभ राय जी के यानी कि जो ऑडियो क्लिप और उनमें आपको एक बहुत अच्छा उनका जो जवाब दिया गया था मुझे काफी पसंद है दोस्तों उन्होंने बताया था कि एमएसपीए जो तीन स्टे्टों को जो किसान है उनको बड़ी तादाद में मिलकर पंजाब हरियाणा उत्तर प्रदेश के मुख्य किसान जाए इसके अंदर ज्यादा सक्रिय है बाकी के नहीं है बाकी चुने ना के बराबर मिलती है मिलती नहीं है इसी वजह से यह मन की बात करें तो किसान रहे दोस्तों वह तो हक की लड़ाई लड़ रहे हैं चाहे वह गलत है सही है परंतु अपने हक के लिए कोई भी इंसान जा सकता है कि इसमें कोई अन्य सहयोग तो नहीं करना तो देखिए बहुत ज्यादा जो किसान एमएसपी को लेकर तीन मुद्दे पर मुझे लगा तुम उसकी तारीफ करता हूं क्योंकि उन्होंने समझाया भी था टीम को सहयोग करें हमारे राजस्थान के अंदर भी जिले के सांसद उठ कर रहे हैं और जो आम जनता है वह भी किसानों को सपोर्ट कर रही है
Kya aandolanarat kisaanon ke saath baakee ke saath sahayog nahin kar rahe hain doston mahima jatin ko sivilayan emesapee ko lekar bhee aur abhee kuchh hee dinon pahale aap chaahie saurabh raay jee ke yaanee ki jo odiyo klip aur unamen aapako ek bahut achchha unaka jo javaab diya gaya tha mujhe kaaphee pasand hai doston unhonne bataaya tha ki emesapeee jo teen steton ko jo kisaan hai unako badee taadaad mein milakar panjaab hariyaana uttar pradesh ke mukhy kisaan jae isake andar jyaada sakriy hai baakee ke nahin hai baakee chune na ke baraabar milatee hai milatee nahin hai isee vajah se yah man kee baat karen to kisaan rahe doston vah to hak kee ladaee lad rahe hain chaahe vah galat hai sahee hai parantu apane hak ke lie koee bhee insaan ja sakata hai ki isamen koee any sahayog to nahin karana to dekhie bahut jyaada jo kisaan emesapee ko lekar teen mudde par mujhe laga tum usakee taareeph karata hoon kyonki unhonne samajhaaya bhee tha teem ko sahayog karen hamaare raajasthaan ke andar bhee jile ke saansad uth kar rahe hain aur jo aam janata hai vah bhee kisaanon ko saport kar rahee hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या आंदोलनरत किसानों के साथ बाकी किसान सहयोग नहीं कर रहे हैं?Kya Andolan Kishano Ke Sath Baki Kishan Sahayog Nahi Kar Rahe Hai
Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
2:30
जी देखे जरा पर आंदोलन करने वाले किसानों को देखेंगे तो प्राय यह सारे हमारे पंजाब के किसान हैं अच्छा अब मुद्दा यह है कि क्या यह असली में सारे ही हंड्रेड परसेंट इंसान है या यहां पर इनको आए ना कुछ भड़काया गया है बोला गया है और इसमें से काफी सारी जनता वह है जो किसान नहीं है किसी निजी स्वार्थ के कारण आ रही हैं अभी आप देखेंगे कि और भी बहुत सारे खुलासे हो रहे हैं बहुत सारे अलग-अलग एंगल जा रहे हैं जो किसानों को जनवरी तक आने वाली बात आ रही है उनको प्रभु करने वाली बात आई उकसाने वाली बात आ रही है तो जी यह बात सही नहीं है और यह सारे किसान नहीं है ओके अब यह जो किसान है ऐसा तो है नहीं कि पूरे भारतवर्ष के जितने भी किसान हैं उनके रिप्रेजेंटेटिव यहां पर हैं ऐसा भी नहीं है एक ग्रुप है किसानों का जो इनको रिप्रेजेंट कर रहा है जैसे बीट वगैरा तो आप उस हिसाब से यहां नहीं माना जा सकता सभी लोग इनके साथ हैं लेकिन यह भी नहीं बोला जा सकता कि सभी लोग इनके आगे हो सकता है किसी स्टेट में कहीं पर कोई इनके साथ भी होगा एनॉयर देखा जाए तो यह पंजाब का क्राउड है और पंजाब के किसान भाई इस आंदोलन को लेकर यहां पर आए हैं उनको भरता है क्या या जो भी कहानी है क्या है पता नहीं सरकार ने यह बोल भी दिया है कि भाई ऐसा है अगले 18 महीने तक हम इसको लागू नहीं करते हैं संगीत रखते हैं तो वही बात तो खत्म हो गई लेकिन यह भी उनको स्वीकार नहीं है भाई ऐसा क्यों स्वीकार नहीं भाई आपको कोई ना कोई स्टैंड या कोई ना कोई वह तो लेना पड़ेगा ना बात ऐसे ही बैठे रहोगे आप बोलोगे उस को खारिज कर दो भाई हर पार्टी जब वो पावर में थी कांग्रेस पीछे पावर में थी चाहे वह आपको कांग्रेस को जो भी हो यह सारी पार्टियां चाहती थी कि भाई ऐसे कानून बने ताकि किसान भाइयों को फायदा होगा जब बीजेपी ने बना दिया तो सब लोग गांव पोस्ट करें चाहे वह कांग्रेस पहुंचाया पूछे जो भी हो नहीं तो बात सही नहीं है के साथ नहीं है यह अच्छा से निकली बहुत छोटे आई नो नाम छोटा ग्रुप है और पंजाब से बिलॉन्ग करता है
Jee dekhe jara par aandolan karane vaale kisaanon ko dekhenge to praay yah saare hamaare panjaab ke kisaan hain achchha ab mudda yah hai ki kya yah asalee mein saare hee handred parasent insaan hai ya yahaan par inako aae na kuchh bhadakaaya gaya hai bola gaya hai aur isamen se kaaphee saaree janata vah hai jo kisaan nahin hai kisee nijee svaarth ke kaaran aa rahee hain abhee aap dekhenge ki aur bhee bahut saare khulaase ho rahe hain bahut saare alag-alag engal ja rahe hain jo kisaanon ko janavaree tak aane vaalee baat aa rahee hai unako prabhu karane vaalee baat aaee ukasaane vaalee baat aa rahee hai to jee yah baat sahee nahin hai aur yah saare kisaan nahin hai oke ab yah jo kisaan hai aisa to hai nahin ki poore bhaaratavarsh ke jitane bhee kisaan hain unake riprejentetiv yahaan par hain aisa bhee nahin hai ek grup hai kisaanon ka jo inako riprejent kar raha hai jaise beet vagaira to aap us hisaab se yahaan nahin maana ja sakata sabhee log inake saath hain lekin yah bhee nahin bola ja sakata ki sabhee log inake aage ho sakata hai kisee stet mein kaheen par koee inake saath bhee hoga enoyar dekha jae to yah panjaab ka kraud hai aur panjaab ke kisaan bhaee is aandolan ko lekar yahaan par aae hain unako bharata hai kya ya jo bhee kahaanee hai kya hai pata nahin sarakaar ne yah bol bhee diya hai ki bhaee aisa hai agale 18 maheene tak ham isako laagoo nahin karate hain sangeet rakhate hain to vahee baat to khatm ho gaee lekin yah bhee unako sveekaar nahin hai bhaee aisa kyon sveekaar nahin bhaee aapako koee na koee staind ya koee na koee vah to lena padega na baat aise hee baithe rahoge aap bologe us ko khaarij kar do bhaee har paartee jab vo paavar mein thee kaangres peechhe paavar mein thee chaahe vah aapako kaangres ko jo bhee ho yah saaree paartiyaan chaahatee thee ki bhaee aise kaanoon bane taaki kisaan bhaiyon ko phaayada hoga jab beejepee ne bana diya to sab log gaanv post karen chaahe vah kaangres pahunchaaya poochhe jo bhee ho nahin to baat sahee nahin hai ke saath nahin hai yah achchha se nikalee bahut chhote aaee no naam chhota grup hai aur panjaab se bilong karata hai

bolkar speaker
क्या आंदोलनरत किसानों के साथ बाकी किसान सहयोग नहीं कर रहे हैं?Kya Andolan Kishano Ke Sath Baki Kishan Sahayog Nahi Kar Rahe Hai
umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
0:43
हां आपका सवाल सही है कुछ छोटे मझोले जो किसान है वह किसान ज्योतिष के साथ में आंदोलनरत किसानों के साथ साथ नहीं दे रहे हैं कुछ लोगों की मानसिकता भी अलग होती है और कुछ लोगों को असली में इस बिल का ध्यान नहीं है इस कारण से साथ नहीं दे रहे हैं इसलिए हर इंसान को साथ देना चाहिए भारत में जितने भी लोग कहते हैं सब के ऊपर इसका असर पड़ने वाला है केवल पूंजी पतियों को छोड़कर कीकूची सब आगे बढ़ना चाहिए किसानों का साथ देना चाहिए
Haan aapaka savaal sahee hai kuchh chhote majhole jo kisaan hai vah kisaan jyotish ke saath mein aandolanarat kisaanon ke saath saath nahin de rahe hain kuchh logon kee maanasikata bhee alag hotee hai aur kuchh logon ko asalee mein is bil ka dhyaan nahin hai is kaaran se saath nahin de rahe hain isalie har insaan ko saath dena chaahie bhaarat mein jitane bhee log kahate hain sab ke oopar isaka asar padane vaala hai keval poonjee patiyon ko chhodakar keekoochee sab aage badhana chaahie kisaanon ka saath dena chaahie

bolkar speaker
क्या आंदोलनरत किसानों के साथ बाकी किसान सहयोग नहीं कर रहे हैं?Kya Andolan Kishano Ke Sath Baki Kishan Sahayog Nahi Kar Rahe Hai
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
4:57
आपका प्रश्न है कि क्या आंदोलनरत किसानों के साथ बाकी किसान सहयोग नहीं कर रहे हैं देखिए बात ऐसी है हमारे पुराने लोग कहा करते थे कि जब खेत जब्बार जो है वह खेत को ही खाने लग जाए तो उस बाढ़ का महत्व सकारात्मक नहीं वह चीज नकारात्मक ऊर्जा किसान आंदोलन शुरू हुआ था जिन मुद्दों को लेकर के शुरू हुआ था पहली बात तो वह पहले दिन से ही राजनीतिक आंदोलन था यह कोई किसानों का स्वयं में अपने मित्र हुआ कोई आंदोलन में सर्वप्रथम कृषि बिलों के विरोध में राहुल गांधी जो पता नहीं मैं नहीं जानता कि देश की जनता है प्रबुद्ध जनता है क्यों ऐसे व्यक्ति की बात सुनती है और क्या उस बात उस व्यक्ति की बात की महत्ता है या उस व्यक्ति का ज्ञान है क्या उस व्यक्ति की सोच है मैं तो आज तक नहीं समझ पाया लेकिन चलिए मान लेते हैं लोकतंत्र है एक बार के लिए तो हर व्यक्ति को अपनी बात कहने का हक है तो सबसे पहले राहुल गांधी पंजाब गया वहां पर इसने किसानों को भड़का या फिर पंजाब के अंदर अमरिंदर सिंह ने भी वोट की राजनीति के चलते जो कि पंजाब में कृषि एक बहुत बड़ा मुद्दा है और वोट की राजनीति के चलते किसानों को भड़काया गया शायद आपको इस बात का अंदाजा नहीं हो लेकिन कांग्रेस की सरकार ने प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रूप से करीब एक हजार करोड़ रूपया किसान आंदोलन को इस स्थिति में लाने के लिए खर्च और यह बात मैं नहीं कहता यह बात मैंने पंजाब के जो जो समझदार किसान जो पंजाबी हैं उन लोगों के मुंह से यह बात सुन पूर्णतया राजनीतिक इसमें किसानों के हित की कोई बात है इसमें जुड़ी हुई नहीं थी कि क्रिकेट किसानों के हित की बात तो वास्तव में उसके सिविल में है और जब इस तरह के राजनीतिक आंदोलन में जहां पर कुछ राजनीतिक दल अपनी खोई हुई सत्ता की जमीन को किसानों के कंधे पर बंदूक रखकर के उस जमीन को पुणे से प्राप्त करना चाहते और अनावश्यक रूप से देश के माहौल को खराब करना चाहते हैं अनावश्यक रूप से विरोध करने के लिए केवल विरोध किया जा रहा हूं जो बिल वास्तव में किसानों के जीवन में क्रांतिकारी परिवर्तन लाने वाला बिल है जिससे किसानों को आढ़तियों से और दलालों से मुक्ति मिलने वाला किसानों के जीवन में बदलाव लाने वाला बिल है क्यों ऐसे बिल का विरोध किया जा रहा है लेकिन अपनी राजनीति चमकाने के लिए राहुल गांधी और कुछ लोग जो वामपंथी अपनी जो गैंग है वह अनावश्यक रूप से इस बिल का विरोध कर रही है और जो वास्तविक किसान है जो वास्तविकता में खेती करते हैं जिनकी अपनी कोई राजनीतिक महत्वाकांक्षा नहीं है जो सच्चाई को समझते हैं वह किसान किसान ऐसे आंदोलनकारियों के साथ नहीं है वह समझ चुके हैं इस बार लेकर बाकी किसान सहयोग नहीं कर रहे हैं तो इसीलिए नहीं कर रहे हैं क्योंकि उनको वास्तविकता की समझ है क्योंकि वह जानते हैं कि इस बिल के अंदर क्या हो रहा है क्योंकि बाकी किसान इस बात को समझ चुके हैं कि जिस तरह से ग्रेटर थन बर्गर रही ना कुछ लोग ऐसे नाम हैं जिनका में शायद नाम लेना भी उचित नहीं समझता एसबी विश्व में जो अलगाववादी नाचते हैं वह देश को कमजोर करने के लिए किसान आंदोलन के नाम पर देश में लोगों को भड़काने का काम कर रहे हैं देश के अंदर जो एक वामपंथी गैंग है जो कांग्रेसी गैंग है और कुछ ऐसे जो देश विरोधी गेम है वह किसान आंदोलन का बहाना लेकर के अनावश्यक रूप से देश के माहौल को खराब करना चाहते हैं ऐसे में अगर जो समझदार किसान है जो बात से किसान चंद्र बोस का समर्थन नहीं कर रहे हैं तो यह जायज है और यह अच्छा है और मुझे लगता है कि आने वाले समय में यह इस आंदोलन का कोई महत्व नहीं रह जाएगा जिस तरीके से किसानों को जिस तरीके से दिल्ली पुलिस के साथ मारपीट की गई गणतंत्र दिवस को बदनाम किया गया ऐसे में इस आंदोलन का कोई महत्व नहीं धन्यवाद
Aapaka prashn hai ki kya aandolanarat kisaanon ke saath baakee kisaan sahayog nahin kar rahe hain dekhie baat aisee hai hamaare puraane log kaha karate the ki jab khet jabbaar jo hai vah khet ko hee khaane lag jae to us baadh ka mahatv sakaaraatmak nahin vah cheej nakaaraatmak oorja kisaan aandolan shuroo hua tha jin muddon ko lekar ke shuroo hua tha pahalee baat to vah pahale din se hee raajaneetik aandolan tha yah koee kisaanon ka svayan mein apane mitr hua koee aandolan mein sarvapratham krshi bilon ke virodh mein raahul gaandhee jo pata nahin main nahin jaanata ki desh kee janata hai prabuddh janata hai kyon aise vyakti kee baat sunatee hai aur kya us baat us vyakti kee baat kee mahatta hai ya us vyakti ka gyaan hai kya us vyakti kee soch hai main to aaj tak nahin samajh paaya lekin chalie maan lete hain lokatantr hai ek baar ke lie to har vyakti ko apanee baat kahane ka hak hai to sabase pahale raahul gaandhee panjaab gaya vahaan par isane kisaanon ko bhadaka ya phir panjaab ke andar amarindar sinh ne bhee vot kee raajaneeti ke chalate jo ki panjaab mein krshi ek bahut bada mudda hai aur vot kee raajaneeti ke chalate kisaanon ko bhadakaaya gaya shaayad aapako is baat ka andaaja nahin ho lekin kaangres kee sarakaar ne pratyaksh apratyaksh roop se kareeb ek hajaar karod roopaya kisaan aandolan ko is sthiti mein laane ke lie kharch aur yah baat main nahin kahata yah baat mainne panjaab ke jo jo samajhadaar kisaan jo panjaabee hain un logon ke munh se yah baat sun poornataya raajaneetik isamen kisaanon ke hit kee koee baat hai isamen judee huee nahin thee ki kriket kisaanon ke hit kee baat to vaastav mein usake sivil mein hai aur jab is tarah ke raajaneetik aandolan mein jahaan par kuchh raajaneetik dal apanee khoee huee satta kee jameen ko kisaanon ke kandhe par bandook rakhakar ke us jameen ko pune se praapt karana chaahate aur anaavashyak roop se desh ke maahaul ko kharaab karana chaahate hain anaavashyak roop se virodh karane ke lie keval virodh kiya ja raha hoon jo bil vaastav mein kisaanon ke jeevan mein kraantikaaree parivartan laane vaala bil hai jisase kisaanon ko aadhatiyon se aur dalaalon se mukti milane vaala kisaanon ke jeevan mein badalaav laane vaala bil hai kyon aise bil ka virodh kiya ja raha hai lekin apanee raajaneeti chamakaane ke lie raahul gaandhee aur kuchh log jo vaamapanthee apanee jo gaing hai vah anaavashyak roop se is bil ka virodh kar rahee hai aur jo vaastavik kisaan hai jo vaastavikata mein khetee karate hain jinakee apanee koee raajaneetik mahatvaakaanksha nahin hai jo sachchaee ko samajhate hain vah kisaan kisaan aise aandolanakaariyon ke saath nahin hai vah samajh chuke hain is baar lekar baakee kisaan sahayog nahin kar rahe hain to iseelie nahin kar rahe hain kyonki unako vaastavikata kee samajh hai kyonki vah jaanate hain ki is bil ke andar kya ho raha hai kyonki baakee kisaan is baat ko samajh chuke hain ki jis tarah se gretar than bargar rahee na kuchh log aise naam hain jinaka mein shaayad naam lena bhee uchit nahin samajhata esabee vishv mein jo alagaavavaadee naachate hain vah desh ko kamajor karane ke lie kisaan aandolan ke naam par desh mein logon ko bhadakaane ka kaam kar rahe hain desh ke andar jo ek vaamapanthee gaing hai jo kaangresee gaing hai aur kuchh aise jo desh virodhee gem hai vah kisaan aandolan ka bahaana lekar ke anaavashyak roop se desh ke maahaul ko kharaab karana chaahate hain aise mein agar jo samajhadaar kisaan hai jo baat se kisaan chandr bos ka samarthan nahin kar rahe hain to yah jaayaj hai aur yah achchha hai aur mujhe lagata hai ki aane vaale samay mein yah is aandolan ka koee mahatv nahin rah jaega jis tareeke se kisaanon ko jis tareeke se dillee pulis ke saath maarapeet kee gaee ganatantr divas ko badanaam kiya gaya aise mein is aandolan ka koee mahatv nahin dhanyavaad

bolkar speaker
क्या आंदोलनरत किसानों के साथ बाकी किसान सहयोग नहीं कर रहे हैं?Kya Andolan Kishano Ke Sath Baki Kishan Sahayog Nahi Kar Rahe Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:29
अभी बस वाले के अंतर्गत किसानों के साथ लोकेशन सहयोग नहीं दे रहे हैं अभी ऐसा होने दे रहे हैं कि जो किसानों के चलते हुए अपनी फसल काटने के लिए अपने अपने गांव चले गए हैं आने वाले समय में फंसे हैं उनके जोगा कुछ दिन पहले यह बात हकीकत में कही थी
Abhee bas vaale ke antargat kisaanon ke saath lokeshan sahayog nahin de rahe hain abhee aisa hone de rahe hain ki jo kisaanon ke chalate hue apanee phasal kaatane ke lie apane apane gaanv chale gae hain aane vaale samay mein phanse hain unake joga kuchh din pahale yah baat hakeekat mein kahee thee

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसानों के आंदोलन का क्या हुआ, किसानों आंदोलन कारण,
URL copied to clipboard