#जीवन शैली

bolkar speaker

जब हम बोर होते हैं तब ऐसा क्यों लगता है कि समय और भी देर से बीत रहा है?

Jab Hum Bor Hote Hai Tab Aisa Kyo Lagta Hai Ki Samay Or Bhi Der Se Beet Raha Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:33
जब हम बोर होते तब ऐसा क्यों लगता है कि और भी देर से बीत रहा है लेकिन ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आपका जो ध्यान होता है उसका नाश होता है और किसी और चीज के ऊपर में यदि ऐसी स्थिति में कोई कार्य करते हैं तो समझ लो वह बहुत जल्दी भेजता है इसके पीछे का कारण यह है क्योंकि आप काम कर रहे हैं उस समय की तरफ नहीं देख रहे हैं क्योंकि आप की एक्टिविटी जो काम के ऊपर है ना कि समय के ऊपर और यदि जब आप अकेले होते हैं बोर होते तो इसका मतलब है कि जो है समय से कट रहा है क्योंकि आप को देख रही है
Jab ham bor hote tab aisa kyon lagata hai ki aur bhee der se beet raha hai lekin aisa isalie hota hai kyonki aapaka jo dhyaan hota hai usaka naash hota hai aur kisee aur cheej ke oopar mein yadi aisee sthiti mein koee kaary karate hain to samajh lo vah bahut jaldee bhejata hai isake peechhe ka kaaran yah hai kyonki aap kaam kar rahe hain us samay kee taraph nahin dekh rahe hain kyonki aap kee ektivitee jo kaam ke oopar hai na ki samay ke oopar aur yadi jab aap akele hote hain bor hote to isaka matalab hai ki jo hai samay se kat raha hai kyonki aap ko dekh rahee hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
जब हम बोर होते हैं तब ऐसा क्यों लगता है कि समय और भी देर से बीत रहा है?Jab Hum Bor Hote Hai Tab Aisa Kyo Lagta Hai Ki Samay Or Bhi Der Se Beet Raha Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:50
जब हम बोर होते हैं तब ऐसा क्यों लगता है कि समय और भी देर से बीत रहा बिल्कुल सही है काम करने की कोई आवश्यकता नहीं रहेगी कोई जुनून नहीं रहेगा तो समय तो लगेगा ही ऐसा लगेगा कि भाई गुस्सा हो रहा है और आदमी वही होता है जो कामचोर होगा तुम काम नहीं करना चाहता अपना जीव है इधर से उधर करता है मनुष्य जीवन है कुछ करते नहीं आप कहीं भी किसी प्रोफेशन से जुड़े हुए हैं एजुकेशन से जुड़े हुए हैं मेडिकल से जुड़ती है मैं अकेला हूं और बोर हो रहा हूं यार समय बीपी नहीं रहा है उसके लिए भी है आज के आपके हाथों में स्मार्टफोन टेक्नोलॉजी कुछ अच्छी चीजें दीजिए कि घर में रखी किताब पढ़ने का तरीका कुछ अच्छी है सर्च कीजिए जो आपका प्रश्न है कि हम बोर होने पर समय मिलता नहीं बिल्कुल है मैं जानता हूं कि जब हमारे दिमाग को काम नहीं रहता है हमारा दिमाग स्थिर हो जाता है तो हमें हमारा समय से लगने पहली और पहाड़ हो गया है अब आगे बढ़ेगा ही नहीं बहुत सारी ऐसी कार्यों को सुचारु करेंगे और अपने ढंग से करेंगे तो कभी बोर नहीं हो और समय आपको बीता हो नजर आएगा और सब काम तो जरूरी है कि कार्य की क्षमता होनी चाहिए अपने कर्तव्यों के प्रति जागरूक होने चाहिए और किसी भी परिस्थिति में अपने माइंड को अलग ढंग से सेट करना चाहिए और किसी भी तरह से इस चीज को हावी नहीं होने देना चाहिए कि हम बोर हो रहे हैं और दूर होने का मतलब है क्या आप सीधे सीधे कामचोर होते चले जाएंगे सही दिशा देते रहे यार समय और कोई जरूरी नहीं आता मैं काम कर रहा हूं बोर हो रहे हैं दिन ट्रेनिंग की थी वह गाना सुनिए गेम के लिए स्टोरी पढ़िए गीता पढ़ी नीचे पपड़ी और जब आप मुस्लिम हो जाएंगे तो देखेंगे समय कहां अभी तो जानते हैं कि खाली दिमाग शैतान का घर पर जवाब के दिमाग में कुछ होगा नहीं है तो शैतान की तरह उल्टी-सीधी भी जा रहे हैं और समय निर्धारित नहीं होगा और विक्की देखा नहीं इसलिए बोर होने से अच्छा है कि समय के साथ चलना सीखो जो समय के साथ चलेगा वही बेहतर यंत्री साबित हुआ और अपने जीवन में वही अच्छा होगा तो बोर मत हो यह समय के साथ चलना खुश रहना आपको जिंदगी में आ जाएगा
Jab ham bor hote hain tab aisa kyon lagata hai ki samay aur bhee der se beet raha bilkul sahee hai kaam karane kee koee aavashyakata nahin rahegee koee junoon nahin rahega to samay to lagega hee aisa lagega ki bhaee gussa ho raha hai aur aadamee vahee hota hai jo kaamachor hoga tum kaam nahin karana chaahata apana jeev hai idhar se udhar karata hai manushy jeevan hai kuchh karate nahin aap kaheen bhee kisee propheshan se jude hue hain ejukeshan se jude hue hain medikal se judatee hai main akela hoon aur bor ho raha hoon yaar samay beepee nahin raha hai usake lie bhee hai aaj ke aapake haathon mein smaartaphon teknolojee kuchh achchhee cheejen deejie ki ghar mein rakhee kitaab padhane ka tareeka kuchh achchhee hai sarch keejie jo aapaka prashn hai ki ham bor hone par samay milata nahin bilkul hai main jaanata hoon ki jab hamaare dimaag ko kaam nahin rahata hai hamaara dimaag sthir ho jaata hai to hamen hamaara samay se lagane pahalee aur pahaad ho gaya hai ab aage badhega hee nahin bahut saaree aisee kaaryon ko suchaaru karenge aur apane dhang se karenge to kabhee bor nahin ho aur samay aapako beeta ho najar aaega aur sab kaam to jarooree hai ki kaary kee kshamata honee chaahie apane kartavyon ke prati jaagarook hone chaahie aur kisee bhee paristhiti mein apane maind ko alag dhang se set karana chaahie aur kisee bhee tarah se is cheej ko haavee nahin hone dena chaahie ki ham bor ho rahe hain aur door hone ka matalab hai kya aap seedhe seedhe kaamachor hote chale jaenge sahee disha dete rahe yaar samay aur koee jarooree nahin aata main kaam kar raha hoon bor ho rahe hain din trening kee thee vah gaana sunie gem ke lie storee padhie geeta padhee neeche papadee aur jab aap muslim ho jaenge to dekhenge samay kahaan abhee to jaanate hain ki khaalee dimaag shaitaan ka ghar par javaab ke dimaag mein kuchh hoga nahin hai to shaitaan kee tarah ultee-seedhee bhee ja rahe hain aur samay nirdhaarit nahin hoga aur vikkee dekha nahin isalie bor hone se achchha hai ki samay ke saath chalana seekho jo samay ke saath chalega vahee behatar yantree saabit hua aur apane jeevan mein vahee achchha hoga to bor mat ho yah samay ke saath chalana khush rahana aapako jindagee mein aa jaega

bolkar speaker
जब हम बोर होते हैं तब ऐसा क्यों लगता है कि समय और भी देर से बीत रहा है?Jab Hum Bor Hote Hai Tab Aisa Kyo Lagta Hai Ki Samay Or Bhi Der Se Beet Raha Hai
सचिन पाठक Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए सचिन जी का जवाब
Unknown
2:16
नमस्कार मित्रों मैं सचिन पाठक फिर से उपस्थित हूं आपके समक्ष एक नए प्रश्न के उत्तर के साथ जैसा कि प्रश्न है कि जब हम बोर होते हैं तब ऐसा क्यों लगता है कि समय और भी दिल से बीत रहा है कि मैं इस प्रश्न के उत्तर में यही कहना चाहता हूं कि जैसा कि आदमी की जो टेंडेंसी होती है सुमन टेंडेंसी प्रेगनेंसी होती है तो उनका सोचने का तरीका होता है यह उसके कारण होता है क्योंकि जैसे कि आपने कभी अपने जीवन में यह चीज महसूस की होगी कि जब वह मनुष्य बहुत ज्यादा खुश होता है या फिर उसके जीवन में चीजें बहुत अच्छी तरीके से चल रही होती है उसके पास करने के लिए काम होता है तो उन चीजों पर इतना ज्यादा बिजी हो जाता है या फिर अगर बहुत खुश है तो वह उस लम्हे को इतनी अच्छी तरीके से जीता है कि वह समय के ऊपर ध्यान नहीं दे पाता और उसकी जो में इतना ज्यादा मुश्किल हो जाता है कि वह समय बहुत ही जल्दी से निकल जाता है लेकिन अगर पूरी तरीके से विपरीत में अगर बात करें जैसे रे जब किसी बुक का समय-समय हो या पर कभी भी आदमी के पास बहुत ज्यादा कहां है करने को काम ना हो तो उस समय बार-बार वह समय के सामने ही देखता है कि कितना समय गुजरा उसके पास कुछ करने को काम नहीं होगा बार-बार उसकी जो पूछा वह समय के साथ ही जाती है वह हमेशा घड़ी देखता है कि देख रहा है कि समय नहीं बीत रहा है घड़ी घड़ी की सुई आगे नहीं बढ़ रही है तू आती है बार-बार उसी चीज के बारे में सोचने लगता है तो इसलिए ऐसा होता है कि दुख के समय और अगर आप जब बोर हो रहे हो तो आपका समय नहीं बीता इसका मेन कारण यही है कि हम उन चीजों में बहुत ज्यादा बिजी नहीं हो पाते हैं उस चीजों को हम बहुत ज्यादा उस मोमेंट को जीते नहीं है लेकिन यही एकदम विपरीत होता है आपकी खुशी काल में कि अगर आप खुशी काल में है तो आप उन चीजों में इतना ज्यादा व्यस्त हो जाते हैं कि आपको पता ही नहीं लगता है कि समय कब बीत गया यह हमारे मानसिक चीजों का अंतर यह सोचने के तरीके में अंतर है क्योंकि हम सब बहुत ज्यादा बिजी हो जाते हैं तो समय साक्ष्य सभी जाता है हमेशा बिक जाता है तो तुरंत ही पता लग जाता है आप किसी भी चीज को काम को बहुत अच्छी तरह ऐसे कर रहे हैं या फिर मन लगा कि कर रहे तो वह समझ जाएगा लेकिन अगर आप बोर हो रहे हैं या फिर कोई दुख का समय बहुत ही आपका कठिन समय कठिन समय चल रहा है तो यह लगता है कि यह हमारा समय बीत ही नहीं रहा है वह और लंबा होता चला जा रहा है यह बस केवल हमारे मन के कारण ही होता है धन्यवाद
Namaskaar mitron main sachin paathak phir se upasthit hoon aapake samaksh ek nae prashn ke uttar ke saath jaisa ki prashn hai ki jab ham bor hote hain tab aisa kyon lagata hai ki samay aur bhee dil se beet raha hai ki main is prashn ke uttar mein yahee kahana chaahata hoon ki jaisa ki aadamee kee jo tendensee hotee hai suman tendensee preganensee hotee hai to unaka sochane ka tareeka hota hai yah usake kaaran hota hai kyonki jaise ki aapane kabhee apane jeevan mein yah cheej mahasoos kee hogee ki jab vah manushy bahut jyaada khush hota hai ya phir usake jeevan mein cheejen bahut achchhee tareeke se chal rahee hotee hai usake paas karane ke lie kaam hota hai to un cheejon par itana jyaada bijee ho jaata hai ya phir agar bahut khush hai to vah us lamhe ko itanee achchhee tareeke se jeeta hai ki vah samay ke oopar dhyaan nahin de paata aur usakee jo mein itana jyaada mushkil ho jaata hai ki vah samay bahut hee jaldee se nikal jaata hai lekin agar pooree tareeke se vipareet mein agar baat karen jaise re jab kisee buk ka samay-samay ho ya par kabhee bhee aadamee ke paas bahut jyaada kahaan hai karane ko kaam na ho to us samay baar-baar vah samay ke saamane hee dekhata hai ki kitana samay gujara usake paas kuchh karane ko kaam nahin hoga baar-baar usakee jo poochha vah samay ke saath hee jaatee hai vah hamesha ghadee dekhata hai ki dekh raha hai ki samay nahin beet raha hai ghadee ghadee kee suee aage nahin badh rahee hai too aatee hai baar-baar usee cheej ke baare mein sochane lagata hai to isalie aisa hota hai ki dukh ke samay aur agar aap jab bor ho rahe ho to aapaka samay nahin beeta isaka men kaaran yahee hai ki ham un cheejon mein bahut jyaada bijee nahin ho paate hain us cheejon ko ham bahut jyaada us moment ko jeete nahin hai lekin yahee ekadam vipareet hota hai aapakee khushee kaal mein ki agar aap khushee kaal mein hai to aap un cheejon mein itana jyaada vyast ho jaate hain ki aapako pata hee nahin lagata hai ki samay kab beet gaya yah hamaare maanasik cheejon ka antar yah sochane ke tareeke mein antar hai kyonki ham sab bahut jyaada bijee ho jaate hain to samay saakshy sabhee jaata hai hamesha bik jaata hai to turant hee pata lag jaata hai aap kisee bhee cheej ko kaam ko bahut achchhee tarah aise kar rahe hain ya phir man laga ki kar rahe to vah samajh jaega lekin agar aap bor ho rahe hain ya phir koee dukh ka samay bahut hee aapaka kathin samay kathin samay chal raha hai to yah lagata hai ki yah hamaara samay beet hee nahin raha hai vah aur lamba hota chala ja raha hai yah bas keval hamaare man ke kaaran hee hota hai dhanyavaad

bolkar speaker
जब हम बोर होते हैं तब ऐसा क्यों लगता है कि समय और भी देर से बीत रहा है?Jab Hum Bor Hote Hai Tab Aisa Kyo Lagta Hai Ki Samay Or Bhi Der Se Beet Raha Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:39
तो आज आप का सवाल है कि जब हम बोर होते हैं तब ऐसा क्यों लगता है कि समय और विदेश से बीत रहा है या फिर अब कोई भी एक्टिविटीज जो भी हम कर रहे हैं बहुत ही अच्छा हमारा मन लगता है बहुत ज्यादा खुश हो रही स्टेज में वक्त गुजरता में एक-एक सेकंड एक-एक मिनट तो नहीं देख रहे हो तो आपको कहीं घूमने ले जाए जा रहा आपके सामने मतलब इतना सारा कुछ खाने की चीजें रख दिया गया तो कैसे खाना एक सेकंड में खत्म हो जाता है वैसे टाइम भी तुरंत खत्म हो जाता जब आप के हिसाब से आपको जो अच्छा लगता है अब कुछ सरप्राइस हो गया है फिर कोई जगह ट्रिप पर जा रहे हैं कोई जाने के लिए अब चार-पांच दिन के लिए जाते यू चार-पांच दिन गुजर जाता है क्योंकि आप उस समय कितना इंजॉय करते थे जो कि आपको एक बज रहा है 5:00 का वज्र आपको पता ही नहीं चलता एक चीज को जब जब करते टाइम को तो हमें पता चलता है कि अभी तो 5 मिनट बस अभी तो 10 मिनट हुआ तो तब जाकर ऐसा महसूस होता लेकिन वह कुछ काम कर रहे होते हैं मम्मी लोगों का पूछिए उनको समय का बिल्कुल भी पता नहीं चलता सुबह उठते ब्रेकफास्ट फिर उसके बाद लांच फिर उसके बाद और जो भी घर का काम होता है फिर उसके बाद डिनर फिर बाहर सब्जी वगैरह लाना तुमको बिल्कुल भी नहीं पता चलता कब सुबह कब दोपहर उनको क्योंकि रात करने का ही टाइम नहीं था ना वह काम में बोलो बिजी रहते हैं तो वैसे ही बिजी रहते इंगेज रहते हैं पूरा उन लोगों को बिल्कुल भी समय का पता ही नहीं चलता जो लोग ऐसे ही चुपचाप बैठे रहते हो उदास रहते उनको एक एक समय पूरा पता चलता है
To aaj aap ka savaal hai ki jab ham bor hote hain tab aisa kyon lagata hai ki samay aur videsh se beet raha hai ya phir ab koee bhee ektiviteej jo bhee ham kar rahe hain bahut hee achchha hamaara man lagata hai bahut jyaada khush ho rahee stej mein vakt gujarata mein ek-ek sekand ek-ek minat to nahin dekh rahe ho to aapako kaheen ghoomane le jae ja raha aapake saamane matalab itana saara kuchh khaane kee cheejen rakh diya gaya to kaise khaana ek sekand mein khatm ho jaata hai vaise taim bhee turant khatm ho jaata jab aap ke hisaab se aapako jo achchha lagata hai ab kuchh saraprais ho gaya hai phir koee jagah trip par ja rahe hain koee jaane ke lie ab chaar-paanch din ke lie jaate yoo chaar-paanch din gujar jaata hai kyonki aap us samay kitana injoy karate the jo ki aapako ek baj raha hai 5:00 ka vajr aapako pata hee nahin chalata ek cheej ko jab jab karate taim ko to hamen pata chalata hai ki abhee to 5 minat bas abhee to 10 minat hua to tab jaakar aisa mahasoos hota lekin vah kuchh kaam kar rahe hote hain mammee logon ka poochhie unako samay ka bilkul bhee pata nahin chalata subah uthate brekaphaast phir usake baad laanch phir usake baad aur jo bhee ghar ka kaam hota hai phir usake baad dinar phir baahar sabjee vagairah laana tumako bilkul bhee nahin pata chalata kab subah kab dopahar unako kyonki raat karane ka hee taim nahin tha na vah kaam mein bolo bijee rahate hain to vaise hee bijee rahate ingej rahate hain poora un logon ko bilkul bhee samay ka pata hee nahin chalata jo log aise hee chupachaap baithe rahate ho udaas rahate unako ek ek samay poora pata chalata hai

bolkar speaker
जब हम बोर होते हैं तब ऐसा क्यों लगता है कि समय और भी देर से बीत रहा है?Jab Hum Bor Hote Hai Tab Aisa Kyo Lagta Hai Ki Samay Or Bhi Der Se Beet Raha Hai
Abhishek Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Abhishek जी का जवाब
Student
0:58
जब हम बोर होते हैं तो ऐसा लगता है कि समय और विदेश में भी ऐसा इसलिए होता है क्योंकि उस वक्त हमारा मस्तिष्क का जो हम उसमें इस विषय पर सोच रहे होते हैं उसे कोई लगाव नहीं होता यदि लगाव रहता तो समय कैसे बीत जाता कब पता भी नहीं चलता यानी कि जब हम बोर होते हैं तो हमारा मस्तिष्क एक विषय पर केंद्रित नहीं हो पाता है वह हमारा नेता हमारा दिमाग की कुछ कोशिश करते रहता है और हमारा दिमाग सारी सूचना को एक साथ नहीं कर सकता इसलिए वह सारी सूचना को धीरे-धीरे प्रोसेस करता है इसलिए समय देर से ज्यादा हुआ लगता है और इन्हें प्रोसेस को करते-करते हमारा दिमाग थक जाता है इसलिए कभी-कभी भोर होने पर नींद भी आने लगता है धन्यवाद
Jab ham bor hote hain to aisa lagata hai ki samay aur videsh mein bhee aisa isalie hota hai kyonki us vakt hamaara mastishk ka jo ham usamen is vishay par soch rahe hote hain use koee lagaav nahin hota yadi lagaav rahata to samay kaise beet jaata kab pata bhee nahin chalata yaanee ki jab ham bor hote hain to hamaara mastishk ek vishay par kendrit nahin ho paata hai vah hamaara neta hamaara dimaag kee kuchh koshish karate rahata hai aur hamaara dimaag saaree soochana ko ek saath nahin kar sakata isalie vah saaree soochana ko dheere-dheere proses karata hai isalie samay der se jyaada hua lagata hai aur inhen proses ko karate-karate hamaara dimaag thak jaata hai isalie kabhee-kabhee bhor hone par neend bhee aane lagata hai dhanyavaad

bolkar speaker
जब हम बोर होते हैं तब ऐसा क्यों लगता है कि समय और भी देर से बीत रहा है?Jab Hum Bor Hote Hai Tab Aisa Kyo Lagta Hai Ki Samay Or Bhi Der Se Beet Raha Hai
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College Student
1:54
इस चीज को शायद सभी ने महसूस किया होगा कि जब हम बोर होते हैं तब ऐसा लगता है कि इस समय और भी देर से बिक रही सही बात है क्योंकि हम एक तरीके से कौन हो जाते हैं कौन से सो जाते हो आप 10 मिनट की कोई वीडियो देखनी चाहिए यूट्यूब पर आप लोग पता चलेगा कब तक निकल गए क्योंकि आपके सामने कुछ चला और आप ज्यादा सोचते नहीं है वह आपके दिमाग में आ रहा है लेकिन अगर आप खाली बैठी आज के समय में यहां पर बहुत कम समय ऐसा मिलता है किसी को भी शांति से खाली बैठने का तो उसमें अगर आप बैठ जाएंगे तो आप ₹10 कौन सी दुनिया में आ गए सब चीजें आप ध्यान देते हैं आप के आस पास क्या है उसको आप थोड़ा ज्यादा ध्यान से देखते हैं और समय को अगर महसूस करेंगे तो वह और धीरे चाहता है आपको 10 मिनट होते हैं जो दिल के 10 मिनट होते हैं वह भी आपको 1 घंटे कराओ पर लगेंगे घड़ी से टाइम देखने की तो आपको दिन काफी छोटा रहेगा लेकिन अगर हम आपको कोई भी किसी कोई व्यक्ति बाहर चला जाए तो पूरे दिन घड़ी ना देखे तो उसे वह दिन काफी बड़ा ज्यादा समिति के अध्यक्ष ने क्या-क्या किया लेकिन जब हम हरहुआ घड़ी ना देखे केवल सूरज को देख कर टाइम नोट करेंगे तो अब साइंटिफिक ऐसा क्यों होता है लेकिन यह नहीं पता लेकिन यह जरूर कहा जा सकता है कि हमें ज्यादा समय का एहसास होगा अगर आप ज्यादा घड़ी को ना देखेंगे नंबर नहीं देखेंगे और केवल नीचे की तरफ देखेंगे सोचेंगे कि अभी क्या टाइम हो रहा है दोपहर हो रही हो रही है तो ऐसे आपको बहुत ज्यादा समय महसूस हो धन्यवाद
Is cheej ko shaayad sabhee ne mahasoos kiya hoga ki jab ham bor hote hain tab aisa lagata hai ki is samay aur bhee der se bik rahee sahee baat hai kyonki ham ek tareeke se kaun ho jaate hain kaun se so jaate ho aap 10 minat kee koee veediyo dekhanee chaahie yootyoob par aap log pata chalega kab tak nikal gae kyonki aapake saamane kuchh chala aur aap jyaada sochate nahin hai vah aapake dimaag mein aa raha hai lekin agar aap khaalee baithee aaj ke samay mein yahaan par bahut kam samay aisa milata hai kisee ko bhee shaanti se khaalee baithane ka to usamen agar aap baith jaenge to aap ₹10 kaun see duniya mein aa gae sab cheejen aap dhyaan dete hain aap ke aas paas kya hai usako aap thoda jyaada dhyaan se dekhate hain aur samay ko agar mahasoos karenge to vah aur dheere chaahata hai aapako 10 minat hote hain jo dil ke 10 minat hote hain vah bhee aapako 1 ghante karao par lagenge ghadee se taim dekhane kee to aapako din kaaphee chhota rahega lekin agar ham aapako koee bhee kisee koee vyakti baahar chala jae to poore din ghadee na dekhe to use vah din kaaphee bada jyaada samiti ke adhyaksh ne kya-kya kiya lekin jab ham harahua ghadee na dekhe keval sooraj ko dekh kar taim not karenge to ab saintiphik aisa kyon hota hai lekin yah nahin pata lekin yah jaroor kaha ja sakata hai ki hamen jyaada samay ka ehasaas hoga agar aap jyaada ghadee ko na dekhenge nambar nahin dekhenge aur keval neeche kee taraph dekhenge sochenge ki abhee kya taim ho raha hai dopahar ho rahee ho rahee hai to aise aapako bahut jyaada samay mahasoos ho dhanyavaad

bolkar speaker
जब हम बोर होते हैं तब ऐसा क्यों लगता है कि समय और भी देर से बीत रहा है?Jab Hum Bor Hote Hai Tab Aisa Kyo Lagta Hai Ki Samay Or Bhi Der Se Beet Raha Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:39
कक्षा 10 में पूछा कि यह प्रश्न मुझे बहुत पसंद आया है कि जब हम दूर होते हैं तो ऐसा क्यों लगता है कि समय और भी तेजी से बीत रहा है कुछ होते हैं जानते थे कि सेकंड पर ध्यान देते इसलिए लगता है इस समय बहुत ही में चल रहा है मन किसी और बात पर नहीं सकते किसी कारण ऐसे लगता है कि बहुत टाइम लग रहा है कि अपने किसी का इंतजार किया होगा तभी आपको लगा होगा तो बहुत टाइम लग रहा है आने में उसको बहुत टाइम हो रहा है उस समय दे रहा है उसमें जल्दी पढ़ नहीं रहा है
Kaksha 10 mein poochha ki yah prashn mujhe bahut pasand aaya hai ki jab ham door hote hain to aisa kyon lagata hai ki samay aur bhee tejee se beet raha hai kuchh hote hain jaanate the ki sekand par dhyaan dete isalie lagata hai is samay bahut hee mein chal raha hai man kisee aur baat par nahin sakate kisee kaaran aise lagata hai ki bahut taim lag raha hai ki apane kisee ka intajaar kiya hoga tabhee aapako laga hoga to bahut taim lag raha hai aane mein usako bahut taim ho raha hai us samay de raha hai usamen jaldee padh nahin raha hai

bolkar speaker
जब हम बोर होते हैं तब ऐसा क्यों लगता है कि समय और भी देर से बीत रहा है?Jab Hum Bor Hote Hai Tab Aisa Kyo Lagta Hai Ki Samay Or Bhi Der Se Beet Raha Hai
umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
0:43
आपका सवाल है कि जब हम बोर होते हैं तब ऐसा क्यों लगता है कि समय और भी देरी से लिख रहा है कि हमारे मानसिक विकार होते हैं समय तो अपने ही पति से चलता रहता है समय में कोई परिवर्तन नहीं होता कि हमारे मानसिक विकार होते हैं कि हमें ऐसा लगता है कि हां समय थोड़ा विलंब हो रहा है ऐसा कुछ नहीं होता समय अपने ही रफ्तार में चलता है और ना आगे चलता है ना पीछे चलता है वह अपनी एक गति से चलता रहता है कि हमारे मानसिक विकार होते हैं जिससे कि हमें लगता है मैं समय बहुत धीमा चल रहा है
Aapaka savaal hai ki jab ham bor hote hain tab aisa kyon lagata hai ki samay aur bhee deree se likh raha hai ki hamaare maanasik vikaar hote hain samay to apane hee pati se chalata rahata hai samay mein koee parivartan nahin hota ki hamaare maanasik vikaar hote hain ki hamen aisa lagata hai ki haan samay thoda vilamb ho raha hai aisa kuchh nahin hota samay apane hee raphtaar mein chalata hai aur na aage chalata hai na peechhe chalata hai vah apanee ek gati se chalata rahata hai ki hamaare maanasik vikaar hote hain jisase ki hamen lagata hai main samay bahut dheema chal raha hai

bolkar speaker
जब हम बोर होते हैं तब ऐसा क्यों लगता है कि समय और भी देर से बीत रहा है?Jab Hum Bor Hote Hai Tab Aisa Kyo Lagta Hai Ki Samay Or Bhi Der Se Beet Raha Hai
Charmi Jain Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Charmi जी का जवाब
Unknown
1:24
दिखे हमें तो अपनी सबसे चलते हैं अपनी गति से भी तेज चलता है और ना कभी देखते भी तो यह मनुष्य के दिमाग में कैसी होती है जिससे हमें कभी लगता है कि समय बहुत देर से जा रहा है यह बहुत समय बहुत ही इंजॉय में क्यों होता है जो मजे में होता है समय पर हमारा ध्यान नहीं रहे थे इससे हमें लगता है कि समय बहुत तेजी से जा रहे हैं कि समिति नहीं चल रहा है एक-एक सेकंड एक-एक मिनट में हम लोग बार-बार घड़ी देखते हैं जैसे कि आप पढ़ाई करने बैठे हैं आप स्कूल में बैठी हूं या आप अपने ऑफिस में काम कर रही हैं तो आपको एक-एक मिनट दो-दो मिनट आपको ऐसे दिखता है कि इस समय मीत कि नहीं रह सकते हैं कि समय बस जा ही नहीं रहा था मैं वह गया है तो इसका कारण सिर्फ यह है कि वह हमारी सोच पर डिपेंड करता है अपनी ही गति का चलता है वह ना तो किसी के लास्ट तक रुका है ना किसी के लिए होती है दुआ है और ना किसी के लिए वह धीरे चला है हम उसी तरह से काम करता है कि वह सब ध्यान रखता है तो उसे एक एक पल का ध्यान रखें और जब वह ध्यान नहीं रहता जब वह इंजॉय कर रहा होता है तुम भी लगता है कि के समय जो है बहुत तेजी से
Dikhe hamen to apanee sabase chalate hain apanee gati se bhee tej chalata hai aur na kabhee dekhate bhee to yah manushy ke dimaag mein kaisee hotee hai jisase hamen kabhee lagata hai ki samay bahut der se ja raha hai yah bahut samay bahut hee injoy mein kyon hota hai jo maje mein hota hai samay par hamaara dhyaan nahin rahe the isase hamen lagata hai ki samay bahut tejee se ja rahe hain ki samiti nahin chal raha hai ek-ek sekand ek-ek minat mein ham log baar-baar ghadee dekhate hain jaise ki aap padhaee karane baithe hain aap skool mein baithee hoon ya aap apane ophis mein kaam kar rahee hain to aapako ek-ek minat do-do minat aapako aise dikhata hai ki is samay meet ki nahin rah sakate hain ki samay bas ja hee nahin raha tha main vah gaya hai to isaka kaaran sirph yah hai ki vah hamaaree soch par dipend karata hai apanee hee gati ka chalata hai vah na to kisee ke laast tak ruka hai na kisee ke lie hotee hai dua hai aur na kisee ke lie vah dheere chala hai ham usee tarah se kaam karata hai ki vah sab dhyaan rakhata hai to use ek ek pal ka dhyaan rakhen aur jab vah dhyaan nahin rahata jab vah injoy kar raha hota hai tum bhee lagata hai ki ke samay jo hai bahut tejee se

bolkar speaker
जब हम बोर होते हैं तब ऐसा क्यों लगता है कि समय और भी देर से बीत रहा है?Jab Hum Bor Hote Hai Tab Aisa Kyo Lagta Hai Ki Samay Or Bhi Der Se Beet Raha Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:36
तारा का प्रश्न है जब हम बोर होते हैं तो हमें ऐसा क्यों लगता है कि समय और भी देर से बीत रहा है तो आपको बता दें कि देखिए जब व्यक्ति बोर होता है तो वहां पर उसका किसी का रे मन नहीं लगता और मन ना लगने के कारण उसे ऐसे नहीं लगता है कि वह यहां पर जो समय है वह कट ही नहीं रहा है क्योंकि उसका किसी कार्य में मन नहीं लग रहा है उसी जगह जब वह किसी कार्य में तल्लीनता से काम करता रहता है तो उसको समय के बारे में पता ही नहीं चलता आपकी क्या राय इस बारे में कमर्शियल चीन अपनी राय जरूर करें मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Taara ka prashn hai jab ham bor hote hain to hamen aisa kyon lagata hai ki samay aur bhee der se beet raha hai to aapako bata den ki dekhie jab vyakti bor hota hai to vahaan par usaka kisee ka re man nahin lagata aur man na lagane ke kaaran use aise nahin lagata hai ki vah yahaan par jo samay hai vah kat hee nahin raha hai kyonki usaka kisee kaary mein man nahin lag raha hai usee jagah jab vah kisee kaary mein talleenata se kaam karata rahata hai to usako samay ke baare mein pata hee nahin chalata aapakee kya raay is baare mein kamarshiyal cheen apanee raay jaroor karen main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • बोर होने की क्या वजह है, इंसान बोर कब होता है, बोर होने से कैसे बचा जा सकता है
URL copied to clipboard