#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

व्यापार इमानदारी से नहीं जानता है क्या यह कहना उचित है?

Vyapar Imaandari Se Nahin Janta Hai Kya Yah Kehna Uchit Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:02
हरी बाबू आज आपका सवाल है कि व्यापार इमानदारी से नहीं जलता है क्या यह कहना उचित है तो सच में यह कह सकते क्योंकि जब आप बिजनेस करते तो अगर कोई भी सामान अगर आप ₹500 में लेकर आए हैं आप ग्राहक को और कस्टमर को ₹10 ही बोलते हैं मैं भी वह बारगेनिंग करके ₹8 तक आता था कि सब को ₹500 में खरीदारी की आपको ₹3 का तो प्रॉफिट होता है यहां पर कोई ग्राहक नहीं मेरे पास इतना पैसा नहीं है झूठ बोल रही है तुम सच बताओ कि तुम कितने का लाए हैं वह मुझे उतने ही पे करना है तो वहां पर ठीक है मैं ₹5 में ही लाया हूं तो वहां पर अगर आप ₹5 में दे देंगे तो आपको क्या मतलब प्रॉफिट होगा जिसने में आपने खरीदा उसमें आपने भेजा तो ऐसे बिजनेस नहीं चलता है ना आप तो मेरे यहां पर इमानदारी दिखाएंगे आदि के ग्राहक जो है वह पूछते हैं कि सही सही दाम बताओ तो जो दुकान वाला है वह भी देखे बोलता दिखी सही बोल रहा हूं इतना में ही दिया गया इतना में ही मेरा है मुझे भूखा कहा कुछ भी प्रॉफिट नहीं हो रहा इतना में मेरा क्या ही होगा आपको सच में ऐसा लगता है कि उनको कुछ भी प्रॉफिट वहां पर नहीं हो रहा है सिम बेच रहे हैं वह मतलब जैसा भी फेस बनाकर बोले आपको सच में लगता है कि ऐसा होता है तो यह सब तेरा क्या मतलब आप पर कह सकती सब एक तरह का भी ऑफ कम्युनिकेशन है किस तरह से बात करें इस तरह से पहले तो आप रोज करेगी कैसे कोई ग्राहक हमारे दुकान तक आखिर कैसे कन्वेंस करे उसे कि वह यह जिंदगी ने मुझे कुछ भी प्रॉफिट नहीं होगा इतना मैं तो मेरा कुछ भी नहीं होगा नहीं मैं नहीं दे सकता लेकिन अब कहीं ना कहीं वह झूठी बोलते क्योंकि यहां पर सही भी अगर आप बोल देंगे सच कहा मैंने 3 में खरीदा इतने तो आपको कोई भी प्रॉफिट बिजनेस में जाएगा और 1 दिन बंद हो जाएगा आपको कहीं ना कहीं यह चीज बोलना पड़ता है उतना मैंने ज्यादा में खरीदा था कि बार करके भी आए जहां तक रेंज नाटक मत करो
Haree baaboo aaj aapaka savaal hai ki vyaapaar imaanadaaree se nahin jalata hai kya yah kahana uchit hai to sach mein yah kah sakate kyonki jab aap bijanes karate to agar koee bhee saamaan agar aap ₹500 mein lekar aae hain aap graahak ko aur kastamar ko ₹10 hee bolate hain main bhee vah baaragening karake ₹8 tak aata tha ki sab ko ₹500 mein khareedaaree kee aapako ₹3 ka to prophit hota hai yahaan par koee graahak nahin mere paas itana paisa nahin hai jhooth bol rahee hai tum sach batao ki tum kitane ka lae hain vah mujhe utane hee pe karana hai to vahaan par theek hai main ₹5 mein hee laaya hoon to vahaan par agar aap ₹5 mein de denge to aapako kya matalab prophit hoga jisane mein aapane khareeda usamen aapane bheja to aise bijanes nahin chalata hai na aap to mere yahaan par imaanadaaree dikhaenge aadi ke graahak jo hai vah poochhate hain ki sahee sahee daam batao to jo dukaan vaala hai vah bhee dekhe bolata dikhee sahee bol raha hoon itana mein hee diya gaya itana mein hee mera hai mujhe bhookha kaha kuchh bhee prophit nahin ho raha itana mein mera kya hee hoga aapako sach mein aisa lagata hai ki unako kuchh bhee prophit vahaan par nahin ho raha hai sim bech rahe hain vah matalab jaisa bhee phes banaakar bole aapako sach mein lagata hai ki aisa hota hai to yah sab tera kya matalab aap par kah sakatee sab ek tarah ka bhee oph kamyunikeshan hai kis tarah se baat karen is tarah se pahale to aap roj karegee kaise koee graahak hamaare dukaan tak aakhir kaise kanvens kare use ki vah yah jindagee ne mujhe kuchh bhee prophit nahin hoga itana main to mera kuchh bhee nahin hoga nahin main nahin de sakata lekin ab kaheen na kaheen vah jhoothee bolate kyonki yahaan par sahee bhee agar aap bol denge sach kaha mainne 3 mein khareeda itane to aapako koee bhee prophit bijanes mein jaega aur 1 din band ho jaega aapako kaheen na kaheen yah cheej bolana padata hai utana mainne jyaada mein khareeda tha ki baar karake bhee aae jahaan tak renj naatak mat karo

और जवाब सुनें

bolkar speaker
व्यापार इमानदारी से नहीं जानता है क्या यह कहना उचित है?Vyapar Imaandari Se Nahin Janta Hai Kya Yah Kehna Uchit Hai
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:24
क्या दोस्तों प्रश्न है कि व्यापार इमानदारी से नहीं जानता है तो मेरा अनुमान है कि यह चलता है होना चाहिए क्या कहना उचित है दोस्तों व्यापार में जब व्यापारी आता है तो बहुत सारे लोग अपने ईमानदारी का परिचय देते हैं उनके वसूल है लेकिन बहुत सारे लोग जब इस क्षेत्र में आते हैं तो जल्दी तरक्की करना चाहते हैं और धोखाधड़ी झूठ उस में व्याप्त हो जाता है वह करना कई लोग नहीं चाहते लेकिन उसको ग्राहक समझा देते हैं उसको डिस्ट्रीब्यूटर समझा देते सिखा देते हैं कि झूठ बोलना पड़ेगा क्योंकि वह इतना झूठ बोलते हैं वह भी आधी हो जाता है लेकिन बहुत सारे बड़े बिजनेस पर चलते हैं तो ऐसा कुछ नहीं है हो गई जल्दी बढ़ने के लिए लोग धोखाधड़ी करने लग जाते हैं असली माल की जगह स्टिकर लगाकर नकली माल बेचने लग जाते हैं तो इस कथन में कोई गलत चीज नहीं है कि व्यापारी जब व्यापार करने लग जाता है तो निश्चित रूप से वह अपनी ईमानदारी का त्याग कर देता है धन्यवाद
Kya doston prashn hai ki vyaapaar imaanadaaree se nahin jaanata hai to mera anumaan hai ki yah chalata hai hona chaahie kya kahana uchit hai doston vyaapaar mein jab vyaapaaree aata hai to bahut saare log apane eemaanadaaree ka parichay dete hain unake vasool hai lekin bahut saare log jab is kshetr mein aate hain to jaldee tarakkee karana chaahate hain aur dhokhaadhadee jhooth us mein vyaapt ho jaata hai vah karana kaee log nahin chaahate lekin usako graahak samajha dete hain usako distreebyootar samajha dete sikha dete hain ki jhooth bolana padega kyonki vah itana jhooth bolate hain vah bhee aadhee ho jaata hai lekin bahut saare bade bijanes par chalate hain to aisa kuchh nahin hai ho gaee jaldee badhane ke lie log dhokhaadhadee karane lag jaate hain asalee maal kee jagah stikar lagaakar nakalee maal bechane lag jaate hain to is kathan mein koee galat cheej nahin hai ki vyaapaaree jab vyaapaar karane lag jaata hai to nishchit roop se vah apanee eemaanadaaree ka tyaag kar deta hai dhanyavaad

bolkar speaker
व्यापार इमानदारी से नहीं जानता है क्या यह कहना उचित है?Vyapar Imaandari Se Nahin Janta Hai Kya Yah Kehna Uchit Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:14
व्यापारी इमानदारी से नहीं जानता क्या यह कहना उचित होगा देखिए दोस्त व्यापार व्यापार इमानदारी से नहीं करोगे तो चलेगा ही नहीं आपका मेरा कहने का मतलब है कि अगर आप व्यापार कर रहे हो और अपना मार्जिन निर्धारित रखोगे प्रोडक्ट की क्वालिटी बेहतर रखोगे डिस्ट्रीब्यूशन बेहतर रहेगा क्वालिटी के लिए आप कंप्रोमाइज कर ले रहे हैं तो कौन देखेगा माल ही मैं आपको छोटा सा एग्जांपल लूंगा चाय समोसे और इस की टिक्की बनाने की दुकान खोल लेते हो पहले तो खूब मसाला लगा खूब भेजा खूब ग्राहक आ गए और बाद में उसका प्रोडक्ट क्वालिटी आपने डिलीट कर दिया आपका नाम खराब होना शुरू हो जाएगा भी ठप पड़ जाए तो भाई अगर बिजनेस में ईमानदारी करते हैं मार्जिन का व्यवस्था क्वालिटी अच्छी है मार्जिन अच्छा है आप कहोगी वही कोई हमारी मार्केट चल गई और हम पचास परसेंट के माध्यम रख ले तो जब वह लालच आ जाएगा तब नष्ट हो जाए तो कभी भी हमारे व्यापार में ईमानदारी रहेगी तो बिजनेस आपने कभी देखा नहीं है कुछ लोग उन प्रांतों पर विश्वास करते हैं और उसी ब्रांड दे देना भाई यह तो मुझे क्योंकि वह अपने क्वालिटी को मेंटेन करते हैं और उसमें एक ग्राहक को आप देख लीजिए क्लेश आफ क्लांस करता है ऐसे के अंदर 10 से 20,000 में मिल जाता है इंडिया में आकर वह 70 से 80 हजार मिलता लेकिन इंडिया में भी यूएसए से ज्यादा कस्टमर है कारण इस प्रोडक्ट को जानते हैं पहचानते हैं और उस तरह से उसको करते हैं तो यह है कि अगर वह ईमानदारी से अपना भी नहीं करता तो इंडिया में कौन उसको पूछता उसे मूवीस ईमानदार अगर बिजनेस बनाओगे तभी सड़क से जुड़े अदर वाइज हमेशा पहले और होने का डर ज्ञान और होने के चांसेस हंड्रेड परसेंट
Vyaapaaree imaanadaaree se nahin jaanata kya yah kahana uchit hoga dekhie dost vyaapaar vyaapaar imaanadaaree se nahin karoge to chalega hee nahin aapaka mera kahane ka matalab hai ki agar aap vyaapaar kar rahe ho aur apana maarjin nirdhaarit rakhoge prodakt kee kvaalitee behatar rakhoge distreebyooshan behatar rahega kvaalitee ke lie aap kampromaij kar le rahe hain to kaun dekhega maal hee main aapako chhota sa egjaampal loonga chaay samose aur is kee tikkee banaane kee dukaan khol lete ho pahale to khoob masaala laga khoob bheja khoob graahak aa gae aur baad mein usaka prodakt kvaalitee aapane dileet kar diya aapaka naam kharaab hona shuroo ho jaega bhee thap pad jae to bhaee agar bijanes mein eemaanadaaree karate hain maarjin ka vyavastha kvaalitee achchhee hai maarjin achchha hai aap kahogee vahee koee hamaaree maarket chal gaee aur ham pachaas parasent ke maadhyam rakh le to jab vah laalach aa jaega tab nasht ho jae to kabhee bhee hamaare vyaapaar mein eemaanadaaree rahegee to bijanes aapane kabhee dekha nahin hai kuchh log un praanton par vishvaas karate hain aur usee braand de dena bhaee yah to mujhe kyonki vah apane kvaalitee ko menten karate hain aur usamen ek graahak ko aap dekh leejie klesh aaph klaans karata hai aise ke andar 10 se 20,000 mein mil jaata hai indiya mein aakar vah 70 se 80 hajaar milata lekin indiya mein bhee yooese se jyaada kastamar hai kaaran is prodakt ko jaanate hain pahachaanate hain aur us tarah se usako karate hain to yah hai ki agar vah eemaanadaaree se apana bhee nahin karata to indiya mein kaun usako poochhata use moovees eemaanadaar agar bijanes banaoge tabhee sadak se jude adar vaij hamesha pahale aur hone ka dar gyaan aur hone ke chaanses handred parasent

bolkar speaker
व्यापार इमानदारी से नहीं जानता है क्या यह कहना उचित है?Vyapar Imaandari Se Nahin Janta Hai Kya Yah Kehna Uchit Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:11
ईमानदारी से नहीं जानता है क्या यह कहना उचित है जो मुनाफा कमाने के लिए व्यापार करते हैं आपने कोई प्रोडक्ट भेजता है उसमें जनता को देता है और ठीक-ठाक मंत्री के साथ बात करनी का मुनाफा कमाते प्रोडक्ट जनता को उल्लू बना रहे हैं कौन सा व्यापार चाहिए तो 70 परसेंट व्यापार है हमारी से हो रहे हैं यही कारण है कि यह जो चीजें हम लोग इस्तेमाल करते हैं दुष्प्रभाव देखने को मिल जाता है
Eemaanadaaree se nahin jaanata hai kya yah kahana uchit hai jo munaapha kamaane ke lie vyaapaar karate hain aapane koee prodakt bhejata hai usamen janata ko deta hai aur theek-thaak mantree ke saath baat karanee ka munaapha kamaate prodakt janata ko ulloo bana rahe hain kaun sa vyaapaar chaahie to 70 parasent vyaapaar hai hamaaree se ho rahe hain yahee kaaran hai ki yah jo cheejen ham log istemaal karate hain dushprabhaav dekhane ko mil jaata hai

bolkar speaker
व्यापार इमानदारी से नहीं जानता है क्या यह कहना उचित है?Vyapar Imaandari Se Nahin Janta Hai Kya Yah Kehna Uchit Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:36
प्रश्न यही कि व्यापार इमानदारी से नहीं चलता है यह कहना उचित है तो मेरे सबसे ऐसा होता है वह सीजीपीए आज भी चल रहा है कि व्यापार इमानदारी से नहीं होता अपने किस करेंगे दिया क्या बोली भी नहीं चाहते हैं थोक दुकानों से खुली दुकानों से उसमें मिलावट मिलती है आप बोलेंगे तो बहुत कुछ चीजें रेत मिट्टी मिलेगी मिलेगी इन सब चीजों के कारण उन शब्दों का भार पड़ जाता है इसलिए हमको तो प्रॉफिट हो जाता है पर भी अपना प्रॉफिट ही देखते इसी कारण ही इमानदारी से कुछ नहीं चलता है
Prashn yahee ki vyaapaar imaanadaaree se nahin chalata hai yah kahana uchit hai to mere sabase aisa hota hai vah seejeepeee aaj bhee chal raha hai ki vyaapaar imaanadaaree se nahin hota apane kis karenge diya kya bolee bhee nahin chaahate hain thok dukaanon se khulee dukaanon se usamen milaavat milatee hai aap bolenge to bahut kuchh cheejen ret mittee milegee milegee in sab cheejon ke kaaran un shabdon ka bhaar pad jaata hai isalie hamako to prophit ho jaata hai par bhee apana prophit hee dekhate isee kaaran hee imaanadaaree se kuchh nahin chalata hai

bolkar speaker
व्यापार इमानदारी से नहीं जानता है क्या यह कहना उचित है?Vyapar Imaandari Se Nahin Janta Hai Kya Yah Kehna Uchit Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
2:37
बट आपका प्रश्न व्यापार ईमानदारी से नहीं जानता है क्या यह कहना उचित है देखिए एक सीमा तक व्यापार में भी इमानदारी चलती है समझे अपना क्योंकि पैसे का लेनदेन जो है वह आज के समय में सबसे संकट का काम है तो एक व्यापारी जो है अगर ईमानदारी के साथ नहीं चलेगा तो उसके अपने लोग भी उससे दूर हो जाएंगे लेकिन हां यह भी सत्य है कि व्यापार को आगे बढ़ाने के लिए कभी-कभी दौड़ तथा का धोखेबाजी का भी सहारा लिया जाता है वह अपने पाम्प्रिंट शो की यह दुनिया है एक बार आप प्रचार करते हैं ना तो प्रचार करने से लोग आपकी तरफ आकर्षित होते जैसे यह ध्यान रखें कि आजकल व्यापार में क्या हो रहा है कि ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं किसी दुकान दुकान पर शॉपिंग करते हैं कोई कंपनी है वह माली की कोई चीज ₹500 की है मांग बढ़ती है अचानक उसको क्या करते हैं कुछ 600 की देते हैं 600 की करके उस पर वह 20 परसेंट की छूट दे देते हैं या 15 परसेंट की छूट दे देते हैं तो लोग जाट उसकी तरफ आकर्षित हो जाते हैं तेरे साथ देखो इसमें 15 परसेंटेज 20 परसेंट की छूट मिलेगी है तो एक प्रकार से यह इमानदारी तो नहीं यह बेईमानी है आप लग रहे हैं लोगों को या कोई ₹100 की चीज है उसको आपने 120 भेजा और उसके साथ 20 ₹25 की कोई चीज और जोड़ दीजिए सेतु ट्रस्ट के साथ आपने गलत जोड़ दिया सबसे आपने या कुछ ऐसा कर दिया चाय की पत्ती है उसमें 10% बढ़ा दिया या पारले बिस्कुट या किसी कंपनी का बिस्कुट है 16 दिस कोर्ट का फैसला अपने बीच बिस्किट का पैक कर दिया कभी-कभी ऐसी छूट भी लोग दे देते हैं तो लोग उसे उसके प्रति आकर्षित होते हैं जबकि झुकता ही होती है कि यह सेल को बढ़ाने का एक तरीका है यहां कभी तो कुछ कंपनियां ऐसी भी होती है उसी डेट में सामान देती हैं 10% या 5% एक्स्ट्रा दे देती है लेकिन मित्र आपको जो 10 परसेंटेज पर मिलता हूं उनका खर्च 10 परसेंट एक्स्ट्रा का नहीं होता है उसमें पैकिंग का चार्ज वही होगा आने जाए चार्ज हो ही होगा मात्र अपना सामान 10 परसेंट बढ़ाया जाए उनकी लागत से 7823 जब कई गुना बढ़ जाती है तो उनका वह डैमेज है नुकसान है वह पूरा हो जाता थैंक यू
Bat aapaka prashn vyaapaar eemaanadaaree se nahin jaanata hai kya yah kahana uchit hai dekhie ek seema tak vyaapaar mein bhee imaanadaaree chalatee hai samajhe apana kyonki paise ka lenaden jo hai vah aaj ke samay mein sabase sankat ka kaam hai to ek vyaapaaree jo hai agar eemaanadaaree ke saath nahin chalega to usake apane log bhee usase door ho jaenge lekin haan yah bhee saty hai ki vyaapaar ko aage badhaane ke lie kabhee-kabhee daud tatha ka dhokhebaajee ka bhee sahaara liya jaata hai vah apane paamprint sho kee yah duniya hai ek baar aap prachaar karate hain na to prachaar karane se log aapakee taraph aakarshit hote jaise yah dhyaan rakhen ki aajakal vyaapaar mein kya ho raha hai ki onalain shoping karate hain kisee dukaan dukaan par shoping karate hain koee kampanee hai vah maalee kee koee cheej ₹500 kee hai maang badhatee hai achaanak usako kya karate hain kuchh 600 kee dete hain 600 kee karake us par vah 20 parasent kee chhoot de dete hain ya 15 parasent kee chhoot de dete hain to log jaat usakee taraph aakarshit ho jaate hain tere saath dekho isamen 15 parasentej 20 parasent kee chhoot milegee hai to ek prakaar se yah imaanadaaree to nahin yah beeemaanee hai aap lag rahe hain logon ko ya koee ₹100 kee cheej hai usako aapane 120 bheja aur usake saath 20 ₹25 kee koee cheej aur jod deejie setu trast ke saath aapane galat jod diya sabase aapane ya kuchh aisa kar diya chaay kee pattee hai usamen 10% badha diya ya paarale biskut ya kisee kampanee ka biskut hai 16 dis kort ka phaisala apane beech biskit ka paik kar diya kabhee-kabhee aisee chhoot bhee log de dete hain to log use usake prati aakarshit hote hain jabaki jhukata hee hotee hai ki yah sel ko badhaane ka ek tareeka hai yahaan kabhee to kuchh kampaniyaan aisee bhee hotee hai usee det mein saamaan detee hain 10% ya 5% ekstra de detee hai lekin mitr aapako jo 10 parasentej par milata hoon unaka kharch 10 parasent ekstra ka nahin hota hai usamen paiking ka chaarj vahee hoga aane jae chaarj ho hee hoga maatr apana saamaan 10 parasent badhaaya jae unakee laagat se 7823 jab kaee guna badh jaatee hai to unaka vah daimej hai nukasaan hai vah poora ho jaata thaink yoo

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • व्यापार इमानदारी से नहीं जानता है क्या यह कहना उचित है,व्यापार इमानदारी से नहीं जानता है
URL copied to clipboard