#रिश्ते और संबंध

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:49
तारक बस में चढ़ा था तो प्यार से बोलने वाले इंसान को लोग डब्बू क्यों समझते हैं समाज में में रहने का सही तरीका क्या है आपको बता दें देखिए आपको सही तरीके से रह रहे हैं अगर आप किसी से शराफत से बात कर रहे हैं प्यार से बोल रहे हैं आप इसको कोई अगर आपकी कमजोरी समझता है तो यह उसकी प्रॉब्लम है आप की नहीं आपकी फरवरी जितने अच्छे से हुई है आपको इस बार मिले हैं कि आपको गर्व होना चाहिए कि हां आप इस तरह से दूसरों को इज्जत देते हैं सिर्फ इसलिए नहीं कि आप उनसे कुछ डरते हैं या हमसे कोई पिक्चर रखते हैं बल्कि आपके अंदर इतने अच्छे संस्कार है यहां पर आप यह न सोचे लोग आपको डब्बू समझ रहे हैं और अगर कुछ लोग इस तरह से समझते भी हैं तो यह उनकी प्रॉब्लम है मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Taarak bas mein chadha tha to pyaar se bolane vaale insaan ko log dabboo kyon samajhate hain samaaj mein mein rahane ka sahee tareeka kya hai aapako bata den dekhie aapako sahee tareeke se rah rahe hain agar aap kisee se sharaaphat se baat kar rahe hain pyaar se bol rahe hain aap isako koee agar aapakee kamajoree samajhata hai to yah usakee problam hai aap kee nahin aapakee pharavaree jitane achchhe se huee hai aapako is baar mile hain ki aapako garv hona chaahie ki haan aap is tarah se doosaron ko ijjat dete hain sirph isalie nahin ki aap unase kuchh darate hain ya hamase koee pikchar rakhate hain balki aapake andar itane achchhe sanskaar hai yahaan par aap yah na soche log aapako dabboo samajh rahe hain aur agar kuchh log is tarah se samajhate bhee hain to yah unakee problam hai main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

और जवाब सुनें

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:50
हेलो हिमांशु आज आप का सवाल है कि शराफत और प्यार से बोलने वाले इंसान को लोग तब्बू क्यों समझते हैं समाज में रहने का आखिर सही तरीका क्या है तू दिखता नहीं है कि जो लोग शरीफ होते शराफत से पेश आते हैं वह मतलब खराब है डरपोक ऐसा नहीं है अब बहुत सारे लोगों को अपना बचपन से हुआ था सराउंडिंग में रहते जहां पर हां बहुत ही सॉफ्टली बात किया जाता है जो भी जितना बात करना हो तो नहीं करना है कि मैं नहीं सिखाया जाता ही नहीं करते लेकिन समय के साथ लेकर आना चाहिए प्यार से बोलने की हर एक इंसान के अंदर यह क्वालिटी हो तो इंसान अच्छी रिलेशन बना सकता है उसके साथ अच्छे लोग रहेंगे आप उससे दुश्मनी नहीं करेगा लेकिन जगह जहां पर आपकी कोई गलती नहीं है कोई आप पर इल्जाम लगा दे रहा है आपसे कोई जल रहा है तो वहां पर अगर आप उस इंसान को अपनी तरफ ले ले रहे आप अपना वहां पर टाइम नहीं लेते हैं कि हां यह गलती मैंने नहीं किया क्या यह मुझ पर इल्जाम लगा रहा है या फिर सारे अगर आपको होमवर्क दे दिया जा रहा आप अपनी काम नहीं कर पा रहे हैं आप पर इतना शरीफ है लोगों को ना नहीं बोल पा रहे तो आप अपना एग्जाम अपने ही वर्क को खराब कर रहे हैं पर आप अपना ही फ्यूचर अपना ही लाइफ अपनी जिंदगी की हर काम का खराब कर रहे हैं यह समझना चाहिए कि हर इंसान के अंदर क्वालिटी होनी चाहिए कि कब क्या करना है कहां पर टाइम लेना है कितना किसके साथ रहना है किसको कितना बोलना है आजकल के समाज सोसाइटी में यह भी जानना बहुत जरूरी है अगर आप नहीं है तो फिर बोली अपने साइन नहीं लेंगे किसी को मना नहीं कर पाएंगे तो आप अपना ही नुकसान करेंगे तो जो लोग शरीफ होते हैं बहुत अच्छी क्वालिटी है लेकिन मैं उनको यह भी कहूंगी कि अपना लेने के लिए सीखिए
Helo himaanshu aaj aap ka savaal hai ki sharaaphat aur pyaar se bolane vaale insaan ko log tabboo kyon samajhate hain samaaj mein rahane ka aakhir sahee tareeka kya hai too dikhata nahin hai ki jo log shareeph hote sharaaphat se pesh aate hain vah matalab kharaab hai darapok aisa nahin hai ab bahut saare logon ko apana bachapan se hua tha saraunding mein rahate jahaan par haan bahut hee sophtalee baat kiya jaata hai jo bhee jitana baat karana ho to nahin karana hai ki main nahin sikhaaya jaata hee nahin karate lekin samay ke saath lekar aana chaahie pyaar se bolane kee har ek insaan ke andar yah kvaalitee ho to insaan achchhee rileshan bana sakata hai usake saath achchhe log rahenge aap usase dushmanee nahin karega lekin jagah jahaan par aapakee koee galatee nahin hai koee aap par iljaam laga de raha hai aapase koee jal raha hai to vahaan par agar aap us insaan ko apanee taraph le le rahe aap apana vahaan par taim nahin lete hain ki haan yah galatee mainne nahin kiya kya yah mujh par iljaam laga raha hai ya phir saare agar aapako homavark de diya ja raha aap apanee kaam nahin kar pa rahe hain aap par itana shareeph hai logon ko na nahin bol pa rahe to aap apana egjaam apane hee vark ko kharaab kar rahe hain par aap apana hee phyoochar apana hee laiph apanee jindagee kee har kaam ka kharaab kar rahe hain yah samajhana chaahie ki har insaan ke andar kvaalitee honee chaahie ki kab kya karana hai kahaan par taim lena hai kitana kisake saath rahana hai kisako kitana bolana hai aajakal ke samaaj sosaitee mein yah bhee jaanana bahut jarooree hai agar aap nahin hai to phir bolee apane sain nahin lenge kisee ko mana nahin kar paenge to aap apana hee nukasaan karenge to jo log shareeph hote hain bahut achchhee kvaalitee hai lekin main unako yah bhee kahoongee ki apana lene ke lie seekhie

umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
1:05
आपका गाना बहुत सही है शराफत और प्यार से बोलने वाले इंसान को लोग दर्द को समझते हैं समाज में रहने के लिए लोगों को थोड़ा सा अपने आपको एडवांस बनाना पड़ता है एडवांस लोगों की ज्यादा होती है क्योंकि आज का समाज दिखावे का समान हो गया है आज जो जितना ही दिखावा करेगा उसको उतना ही सम्मान मान मिलता है और जो प्यार से अब संगीता है उसको नोकदंगो समझते हैं यह हमारी गलतफहमी है जो शराफत से जीता है प्यार से बोलता है उसको मान सम्मान मिलता है ऐसी बात नहीं है कि हर आदमी को ऐसा नहीं होता किसी किसी के साथ कुछ करना है गाड़ी आती है
Aapaka gaana bahut sahee hai sharaaphat aur pyaar se bolane vaale insaan ko log dard ko samajhate hain samaaj mein rahane ke lie logon ko thoda sa apane aapako edavaans banaana padata hai edavaans logon kee jyaada hotee hai kyonki aaj ka samaaj dikhaave ka samaan ho gaya hai aaj jo jitana hee dikhaava karega usako utana hee sammaan maan milata hai aur jo pyaar se ab sangeeta hai usako nokadango samajhate hain yah hamaaree galataphahamee hai jo sharaaphat se jeeta hai pyaar se bolata hai usako maan sammaan milata hai aisee baat nahin hai ki har aadamee ko aisa nahin hota kisee kisee ke saath kuchh karana hai gaadee aatee hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या जो सामाजिक बदलाव हो रहा वो सही है, समाज में रहने का तरीका,
URL copied to clipboard