#भारत की राजनीति

bolkar speaker

केंद्र में बीजेपी समर्थक कौन सी पार्टियां किसान आंदोलन का समर्थन कर रही है?

Kendra Mein Bjp Samarthak Kaun See Partiya Kisaan Aandolan Ka Samarthan Kar Rahi Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:46

और जवाब सुनें

bolkar speaker
केंद्र में बीजेपी समर्थक कौन सी पार्टियां किसान आंदोलन का समर्थन कर रही है?Kendra Mein Bjp Samarthak Kaun See Partiya Kisaan Aandolan Ka Samarthan Kar Rahi Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:01

bolkar speaker
केंद्र में बीजेपी समर्थक कौन सी पार्टियां किसान आंदोलन का समर्थन कर रही है?Kendra Mein Bjp Samarthak Kaun See Partiya Kisaan Aandolan Ka Samarthan Kar Rahi Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:27

bolkar speaker
केंद्र में बीजेपी समर्थक कौन सी पार्टियां किसान आंदोलन का समर्थन कर रही है?Kendra Mein Bjp Samarthak Kaun See Partiya Kisaan Aandolan Ka Samarthan Kar Rahi Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:31

bolkar speaker
केंद्र में बीजेपी समर्थक कौन सी पार्टियां किसान आंदोलन का समर्थन कर रही है?Kendra Mein Bjp Samarthak Kaun See Partiya Kisaan Aandolan Ka Samarthan Kar Rahi Hai
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:15
केंद्र में बीजेपी समर्थक कांग्रेस पार्टी किसान आंदोलन अन्नदाता अन्नदाता ओं का समर्थन कर रही है

bolkar speaker
केंद्र में बीजेपी समर्थक कौन सी पार्टियां किसान आंदोलन का समर्थन कर रही है?Kendra Mein Bjp Samarthak Kaun See Partiya Kisaan Aandolan Ka Samarthan Kar Rahi Hai
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:04
देखिए केंद्र में जो बीजेपी समर्थक बहुत सी ऐसी पार्टियां हैं जो किसानों के समर्थन में है लेकिन वह बैक टू से समर्थन करने और इसके अलावा जैसे एक राष्ट्रीय जनतंत्र पार्टी जो एक राजस्थान की लोकल लोकल पार्टी है जो एनडीए का हिस्सा हुआ करती थी उसने अपना समर्थन वापस लिया है इससे कुछ दिन पहले अकाली दल जो पंजाब से बहुत लंबे समय तक जो हेंडी का हिस्सा हुआ करता था जो केंद्र में बीजेपी का जगह है कि गठबंधन का हिस्सा हुआ करता था उन्होंने भी अपना जो का समर्थन है वह सरकार से वापस लिया है और किसानों के समर्थन में है इसके अलावा काफी ऐसे सांसद और लोग हैं जो किसानों के समर्थन में है और यही कहूंगा कि समर्थन में आना चाहिए अगर देश को बचाना है तो क्योंकि एक गेहूं किसान चौक खरीदने जाओगे तो वही आपको ₹22 केजी मिल जाएगा लेकिन अगर आप किसी स्टोर में या किसी जगह जाओगे तो वही आपको ₹100 सॉरी ₹45 किलो मिलेगा तो इससे बचने के लिए आप सपोर्ट कीजिए थैंक यू

bolkar speaker
केंद्र में बीजेपी समर्थक कौन सी पार्टियां किसान आंदोलन का समर्थन कर रही है?Kendra Mein Bjp Samarthak Kaun See Partiya Kisaan Aandolan Ka Samarthan Kar Rahi Hai
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
3:47
जैकी दोस्तों कृषि कानूनों पर केंद्र सरकार अपने सहयोगी अकाली दल को भी नहीं मना पाए इस वजह से अकाली दल ने एनडीए से बाहर होने का फैसला कर लिया है इसके बाद एनडीए के दूसरे घटक दल राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी ने भी किसान आंदोलन के बीच केंद्र सरकार को धमकी दे डाली राजस्थान से राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के सांसद हनुमान बेनीवाल ने एनडीए छोड़ने की धमकी देते हुए कहा है आरएलपी एनडीए का एक घटक दल है लेकिन इसकी ताकत किसान और सैनिक है अगर मोदी सरकार कोई त्वरित कार्रवाई नहीं करती है तो मुझे एनडीए के सहयोगी होने पर विचार करना पड़ सकता है इस बीच खबर है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े दो बड़े संगठन भारतीय किसान संघ और स्वदेशी जागरण मंच वी नए कृषि कानूनों से पूरी तरह संतुष्ट नहीं है स्वदेशी जागरण मंच की सुधार की मांग इन दोनों संगठनों को भी नए कृषि कानूनों में कुछ कमियां नजर आ रही है और उन्हें लगता है कि इसमें सुधार किया जाना चाहिए किसान आंदोलन का कैसे होगा समाधान इस विषय पर बीबीसी ने मंगलवार को वेबीनार के जरिए चर्चा का आयोजन किया था चर्चा में स्वदेशी जागरण मंच के राष्ट्रीय संयोजक अश्विनी महाजन ने भी हिस्सा लिया उन्होंने नए कृषि कानूनों पर कहा यह कानून किसानों के हित में है लेकिन कोई भी नया कानून आए तो उसमें सुधार की गुंजाइश रहती है कानून में सुधार की वैकेंसी गुंजाइश बची है इस संबंध में चार सुधार के नाते नंबर 1 अगर सरकार किसान को अनाज मंडी से विमुख कर रही है तो नए प्राइवेट व्यापारी जो किसानों की उपज खरीदेंगे वह अपना काटना बना लें इसको रोकने के लिए कानून व्यवस्था होनी चाहिए दूसरा सुधार भारत की खाद सुरक्षा को सुनिश्चित करना है तो सरकार को किसान को भी सुरक्षित करना होगा इसलिए किसान को अपनी उपज की लागत से 20 से 30 फीट ऊंची कीमत मिले यह सरकार को सुनिश्चित करना चाहिए यह व्यवस्था कानून के जरिए सुनिश्चित हो केंद्र सरकार को इसके लिए फ्लोर प्राइस तय करना चाहिए तीसरा सुधार है नए कृति कानूनों में कॉन्ट्रैक्ट फार्मर की व्यवस्था की गई है किसान किसी भी विवाद की सूरत में मामले को एसडीएम के पास ले जा सकते हैं लेकिन अश्विनी महाजन की राय में कांट्रैक्ट फार्मिंग में अगर कोई विवाद होता है तो एसडीएम के पास जाने के बजाय अलग से किसान कोर्ट की व्यवस्था की जाना चाहिए इसके पीछे वह बजे बताते हैं कि उनके मुताबिक आम किसान की एसडीएम तक पहुंच नहीं होती चौथे सुधार कांट्रैक्ट फार्मिंग में किसान को अपनी फसल की लागत तब मिलती है जब फसल की कटाई पूरी हो जाती है केंद्र सरकार को ऐसी व्यवस्था करना चाहिए कि कुछ समय के अंतराल पर किस्तों में कुल कीमत का भुगतान किसानों को उतारा है ऐसा इसलिए कि एक बार जब किसान और प्राइवेट पार्टी के बीच कांट्रैक्ट हो जाता है तो बीज बोने कीटनाशक के छिड़काव से और सच्चाई तक में किसान को बहुत पैसा खर्च करना पड़ता है साथ ही नहीं व्यवस्था में आप बिचौलिए बच्चे नहीं जिन्हें खुद बीजेपी नेता किसानों का एटीएम कहते आए हैं तो अब सरकार को उनके लिए नए एटीएम व्यवस्था तय करनी चाहिए धन्यवाद
Jaikee doston krshi kaanoonon par kendr sarakaar apane sahayogee akaalee dal ko bhee nahin mana pae is vajah se akaalee dal ne enadeee se baahar hone ka phaisala kar liya hai isake baad enadeee ke doosare ghatak dal raashtreey lokataantrik paartee ne bhee kisaan aandolan ke beech kendr sarakaar ko dhamakee de daalee raajasthaan se raashtreey lokataantrik paartee ke saansad hanumaan beneevaal ne enadeee chhodane kee dhamakee dete hue kaha hai aarelapee enadeee ka ek ghatak dal hai lekin isakee taakat kisaan aur sainik hai agar modee sarakaar koee tvarit kaarravaee nahin karatee hai to mujhe enadeee ke sahayogee hone par vichaar karana pad sakata hai is beech khabar hai ki raashtreey svayansevak sangh se jude do bade sangathan bhaarateey kisaan sangh aur svadeshee jaagaran manch vee nae krshi kaanoonon se pooree tarah santusht nahin hai svadeshee jaagaran manch kee sudhaar kee maang in donon sangathanon ko bhee nae krshi kaanoonon mein kuchh kamiyaan najar aa rahee hai aur unhen lagata hai ki isamen sudhaar kiya jaana chaahie kisaan aandolan ka kaise hoga samaadhaan is vishay par beebeesee ne mangalavaar ko vebeenaar ke jarie charcha ka aayojan kiya tha charcha mein svadeshee jaagaran manch ke raashtreey sanyojak ashvinee mahaajan ne bhee hissa liya unhonne nae krshi kaanoonon par kaha yah kaanoon kisaanon ke hit mein hai lekin koee bhee naya kaanoon aae to usamen sudhaar kee gunjaish rahatee hai kaanoon mein sudhaar kee vaikensee gunjaish bachee hai is sambandh mein chaar sudhaar ke naate nambar 1 agar sarakaar kisaan ko anaaj mandee se vimukh kar rahee hai to nae praivet vyaapaaree jo kisaanon kee upaj khareedenge vah apana kaatana bana len isako rokane ke lie kaanoon vyavastha honee chaahie doosara sudhaar bhaarat kee khaad suraksha ko sunishchit karana hai to sarakaar ko kisaan ko bhee surakshit karana hoga isalie kisaan ko apanee upaj kee laagat se 20 se 30 pheet oonchee keemat mile yah sarakaar ko sunishchit karana chaahie yah vyavastha kaanoon ke jarie sunishchit ho kendr sarakaar ko isake lie phlor prais tay karana chaahie teesara sudhaar hai nae krti kaanoonon mein kontraikt phaarmar kee vyavastha kee gaee hai kisaan kisee bhee vivaad kee soorat mein maamale ko esadeeem ke paas le ja sakate hain lekin ashvinee mahaajan kee raay mein kaantraikt phaarming mein agar koee vivaad hota hai to esadeeem ke paas jaane ke bajaay alag se kisaan kort kee vyavastha kee jaana chaahie isake peechhe vah baje bataate hain ki unake mutaabik aam kisaan kee esadeeem tak pahunch nahin hotee chauthe sudhaar kaantraikt phaarming mein kisaan ko apanee phasal kee laagat tab milatee hai jab phasal kee kataee pooree ho jaatee hai kendr sarakaar ko aisee vyavastha karana chaahie ki kuchh samay ke antaraal par kiston mein kul keemat ka bhugataan kisaanon ko utaara hai aisa isalie ki ek baar jab kisaan aur praivet paartee ke beech kaantraikt ho jaata hai to beej bone keetanaashak ke chhidakaav se aur sachchaee tak mein kisaan ko bahut paisa kharch karana padata hai saath hee nahin vyavastha mein aap bichaulie bachche nahin jinhen khud beejepee neta kisaanon ka eteeem kahate aae hain to ab sarakaar ko unake lie nae eteeem vyavastha tay karanee chaahie dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • केंद्र में बीजेपी समर्थक कौन सी पार्टियां किसान आंदोलन का समर्थन कर रही है
URL copied to clipboard