#undefined

bolkar speaker

क्या अब कोरोना काल के बाद जिंदगी सामान्य हुई है या नहीं?

Kya Ab Corona Kaal Ke Baad Jindagi Samany Hui Hai Ya Nahi
अशोक वशिष्ठ  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए अशोक जी का जवाब
कहानी लेखक, समीक्षक, अनुवादक, रिटायर्ड प्रिंसीपल
4:59
नमस्कार मैं अशोक वशिष्ठ यह प्रश्न मुझे सांवरा जी ने दिया है आशापुरा जी आप ने यह प्रश्न कि क्या अब करुणा काल के बाद जिंदगी सामान्य हुई है या नहीं यह पूछा है इसको मैं अब आयामों में देख रहा हूं एक तो यह सर्व सामान्य प्रश्न हो सकता है और एक इसे मैं अपने निजी जीवन से भी जोड़ सकता हूं इसके उत्तर को क्योंकि मैं आपको रोना से प्रभावित होकर निकला हूं आने की कोरोनावायरस में आए हुए 1 वर्ष का समय पूरा हो चुका है अब फरवरी अपने अंत की तरह है और फरवरी में केस आना शुरू हो गए थे मार्च में भले ही लोग शुरू हुआ वह एक अलग बात है लेकिन फरवरी में कैसा आना शुरू हो गए तौर पर बढ़िया बाप ने अंतिम पर एक साल पूरा हो गया है और हमने इसका भी वक्त जरूर देखा है मैंने मुंबई महानगर के एक पॉश इलाके में रहता हूं नवी मुंबई में नई मुंबई न्यू मुंबई जिसको कहते हैं आप मैंने ऐसा समय भी देखा है कि घर से यानी आस पास केवल चिड़ियों की चहक कुत्तों की भौंकने की आवाज और कभी-कभी आज इसको कहेंगे हम और पुलिस की गाड़ी का सायरन और एंबुलेंस इसकी आ जाओ आवाज होती है वह सुनाई देती थी और कुछ भी नहीं सकता अगर किसी कारण से मेडिकल चोर जाना भी पड़े तो लगता था कि आज दिन में हम जैसे किसी श्मशान भूमि से होकर गुजर ऐसा समय भी देखा और आप यद्यपि लॉकडाउन खोल दिया गया है पूरी तरह से पब्लिक आपका गतिविधियां शुरू हो गई है ट्रांसपोर्टर शुरू हो गया भले ही मुंबई में भी लोकल ट्रेन पूरी तरह से शुरू नहीं हुई है लेकिन बाकी सारी गतिविधियां खास करके व्यावसायिक दृष्टि से गतिविधियां शुरू हो गई हैं अभी तक स्कूल और कॉलेज नहीं खुले और अभी वह स्थिति नहीं है मुंबई खास करके अगर मुंबई की बात करो मैं कभी अपने गांव पश्चिमी उत्तर प्रदेश में फोन करता हूं तो वह कहते हैं तो सब कुछ ठीक-ठाक है या खांसी भी होती है सब कुछ होता है अब उनको मैं कैसे कहूं कि अगर आप क्या करो ना नहीं आया है तो अच्छी बात है ना और ना आपके यहां घर आ जाता तो सोचे गांव में अगर कोरोनावायरस ई के द्वारा तो क्या हालत होगी वहां तो सुविधाएं भी नहीं है तो मुंबई जैसे शहर में अब कैसे फिर से बढ़ने लगे हैं जो 330uf 270 केस प्रति दिन हो गए थे अब वह 700 तक जा पहुंचे हैं फिर से इसका कारण है कि लोकल शुरू हो यह बहुत सारी मात्रा में और भले ही पूरी तरह से नहीं शुरू हुई है और लोगों की गतिविधियां शुरू हुई और लापरवाह हो गए यह सोच कर कि अब तो वैक्सीन आ गई है अरे भैया वैक्सीन भी अभी आपसे बहुत खुश हूं दूर है अभी तो मेडिकल वालों को ही पूरी तरह से भी अच्छी नहीं लग पाई जो फर्स्ट जवा फ्रंटलाइनर से उनको भी नहीं लग पाई है बेबी आप माया तो ले नहीं पा रहे हैं या जो भी करना हो तो अभी मैं नहीं समझता हूं कि जीवन आम हुआ है जीवन आम तब होता है जब आदमी आम जीवन की तरह आम आदमी का बिल्कुल निश्चिंत होकर खुलकर जा सके मैं ठीक है मस्त लगा लगा कर सकते हैं लेकिन अभी मैं नहीं मानता हूं कि मुंबई जैसे शहर में जहां मैं रहता हूं वहां अभी जीवन सामान्य पूरी तरह से नहीं हुआ है मेरे पास लाइब्रेरी से ली हुई पुस्तकें हैं मैं वह देने जन नहीं जा पा रहा हूं और ना लेने जा पा रहा हूं मैं कोई रिश्तेदार आना बंद हो गया था मेरे आस-पास मेरे एक सगे भाई और एक मेरे मौसेरे भाई रहते हैं हम केवल एक दिन एक दूसरे के आ गए हुए कई कोई आता जाता नहीं है अब मैं आता हूं अपने निजी बात पर हमने सारी एहतियात बरती जितनी सावधानियां हो सकती हैं मास्क लगाने से लेकर सैनिटाइज करना और दिन में 10 बार 50 बार हाथ धोना साबुन से और दस्ताने पहनना हैंड ग्रुप पन्ना जितनी सावधानियां रख सकते थे घर में 24 घंटे की हवाई आती थी उसकी छुट्टी हमने मार्च में ही कर दी थी लेकिन फिर भी न जाने कहां से मेरे बेटे को कोरोना वह और उसके द्वारा मुझे और मेरी पत्नी को हम दोनों सीनियर सिटीजन से हमको कोरोनावायरस 10 दिन अस्पताल में रह कर आए हैं एक महीना आज मुझे पूरा हुआ है वहां पर होना को यानी में 19 तारीख को 19 जनवरी को एडमिट हुआ था और आज 19 फरवरी है एक महीना हुआ है मुझे और अभी भी वह शरीर में वह छुट्टी नहीं है वह छुट्टी नहीं है जो होनी चाहिए थी जो अभी आप आप अब एक तरह का डर बैठ गया है मैं बाहर निकलने को मन कम करता है क्योंकि यही कह देना कि जो जिस पर भी जाने तो करो ना आप भयावह है इसमें कोई शक नहीं है लेकिन अभी मुंबई जैसे शहर में स्थिति सामान्य नहीं हुई है आने वाला समय बताएगा कि इसमें इतना कितना समय और लगना है ईश्वर से प्रार्थना है कि अब सब कुछ जल्दी ठीक हूं ताकि आम आदमी अपनी सामान्य जिंदगी जी सकें धन्यवाद
Namaskaar main ashok vashishth yah prashn mujhe saanvara jee ne diya hai aashaapura jee aap ne yah prashn ki kya ab karuna kaal ke baad jindagee saamaany huee hai ya nahin yah poochha hai isako main ab aayaamon mein dekh raha hoon ek to yah sarv saamaany prashn ho sakata hai aur ek ise main apane nijee jeevan se bhee jod sakata hoon isake uttar ko kyonki main aapako rona se prabhaavit hokar nikala hoon aane kee koronaavaayaras mein aae hue 1 varsh ka samay poora ho chuka hai ab pharavaree apane ant kee tarah hai aur pharavaree mein kes aana shuroo ho gae the maarch mein bhale hee log shuroo hua vah ek alag baat hai lekin pharavaree mein kaisa aana shuroo ho gae taur par badhiya baap ne antim par ek saal poora ho gaya hai aur hamane isaka bhee vakt jaroor dekha hai mainne mumbee mahaanagar ke ek posh ilaake mein rahata hoon navee mumbee mein naee mumbee nyoo mumbee jisako kahate hain aap mainne aisa samay bhee dekha hai ki ghar se yaanee aas paas keval chidiyon kee chahak kutton kee bhaunkane kee aavaaj aur kabhee-kabhee aaj isako kahenge ham aur pulis kee gaadee ka saayaran aur embulens isakee aa jao aavaaj hotee hai vah sunaee detee thee aur kuchh bhee nahin sakata agar kisee kaaran se medikal chor jaana bhee pade to lagata tha ki aaj din mein ham jaise kisee shmashaan bhoomi se hokar gujar aisa samay bhee dekha aur aap yadyapi lokadaun khol diya gaya hai pooree tarah se pablik aapaka gatividhiyaan shuroo ho gaee hai traansaportar shuroo ho gaya bhale hee mumbee mein bhee lokal tren pooree tarah se shuroo nahin huee hai lekin baakee saaree gatividhiyaan khaas karake vyaavasaayik drshti se gatividhiyaan shuroo ho gaee hain abhee tak skool aur kolej nahin khule aur abhee vah sthiti nahin hai mumbee khaas karake agar mumbee kee baat karo main kabhee apane gaanv pashchimee uttar pradesh mein phon karata hoon to vah kahate hain to sab kuchh theek-thaak hai ya khaansee bhee hotee hai sab kuchh hota hai ab unako main kaise kahoon ki agar aap kya karo na nahin aaya hai to achchhee baat hai na aur na aapake yahaan ghar aa jaata to soche gaanv mein agar koronaavaayaras ee ke dvaara to kya haalat hogee vahaan to suvidhaen bhee nahin hai to mumbee jaise shahar mein ab kaise phir se badhane lage hain jo 330uf 270 kes prati din ho gae the ab vah 700 tak ja pahunche hain phir se isaka kaaran hai ki lokal shuroo ho yah bahut saaree maatra mein aur bhale hee pooree tarah se nahin shuroo huee hai aur logon kee gatividhiyaan shuroo huee aur laaparavaah ho gae yah soch kar ki ab to vaikseen aa gaee hai are bhaiya vaikseen bhee abhee aapase bahut khush hoon door hai abhee to medikal vaalon ko hee pooree tarah se bhee achchhee nahin lag paee jo pharst java phrantalainar se unako bhee nahin lag paee hai bebee aap maaya to le nahin pa rahe hain ya jo bhee karana ho to abhee main nahin samajhata hoon ki jeevan aam hua hai jeevan aam tab hota hai jab aadamee aam jeevan kee tarah aam aadamee ka bilkul nishchint hokar khulakar ja sake main theek hai mast laga laga kar sakate hain lekin abhee main nahin maanata hoon ki mumbee jaise shahar mein jahaan main rahata hoon vahaan abhee jeevan saamaany pooree tarah se nahin hua hai mere paas laibreree se lee huee pustaken hain main vah dene jan nahin ja pa raha hoon aur na lene ja pa raha hoon main koee rishtedaar aana band ho gaya tha mere aas-paas mere ek sage bhaee aur ek mere mausere bhaee rahate hain ham keval ek din ek doosare ke aa gae hue kaee koee aata jaata nahin hai ab main aata hoon apane nijee baat par hamane saaree ehatiyaat baratee jitanee saavadhaaniyaan ho sakatee hain maask lagaane se lekar sainitaij karana aur din mein 10 baar 50 baar haath dhona saabun se aur dastaane pahanana haind grup panna jitanee saavadhaaniyaan rakh sakate the ghar mein 24 ghante kee havaee aatee thee usakee chhuttee hamane maarch mein hee kar dee thee lekin phir bhee na jaane kahaan se mere bete ko korona vah aur usake dvaara mujhe aur meree patnee ko ham donon seeniyar siteejan se hamako koronaavaayaras 10 din aspataal mein rah kar aae hain ek maheena aaj mujhe poora hua hai vahaan par hona ko yaanee mein 19 taareekh ko 19 janavaree ko edamit hua tha aur aaj 19 pharavaree hai ek maheena hua hai mujhe aur abhee bhee vah shareer mein vah chhuttee nahin hai vah chhuttee nahin hai jo honee chaahie thee jo abhee aap aap ab ek tarah ka dar baith gaya hai main baahar nikalane ko man kam karata hai kyonki yahee kah dena ki jo jis par bhee jaane to karo na aap bhayaavah hai isamen koee shak nahin hai lekin abhee mumbee jaise shahar mein sthiti saamaany nahin huee hai aane vaala samay bataega ki isamen itana kitana samay aur lagana hai eeshvar se praarthana hai ki ab sab kuchh jaldee theek hoon taaki aam aadamee apanee saamaany jindagee jee saken dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कोरोना काल के बाद जिंदगी सामान्य हुई है या नहीं, कोरोना काल के बाद जिंदगी सामान्य हुई है क्या
URL copied to clipboard