#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

आदत बनाना इतना मुश्किल क्यों होता है?

Aadat Banana Itna Mushkil Kyo Hota Hai
Aditi Nigam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Aditi जी का जवाब
Student
1:11

और जवाब सुनें

bolkar speaker
आदत बनाना इतना मुश्किल क्यों होता है?Aadat Banana Itna Mushkil Kyo Hota Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:02
नमस्कार क्यों होता है उसकी आदत बनाना मुश्किल होता है इसलिए टूटने की आदत शराब पीने की आदत एक बार बन जाती है जो भी जानते हैं जो नशा करना या जो भी झूठ बोलना है लेकिन वहीं से कौन सी अच्छी आते हैं जैसे जल्दी उठना लगती है क्योंकि हमारा शरीर है वह हमेशा क्या है कि ऐसे कामों को करता है जिनमें उनको ऐसा लगता है कि आराम मिले तो और जो जो अच्छे होते हैं होते हैं उनको करने के लिए थोड़ी सी मुश्किलों का सामना करने पर शरीर को कष्ट देना पड़ता है तो इसलिए जो मन है वह शरीर के कंट्रोल में होता है कि शरीर और मन दोनों मिलजुल कर और आदमी को आलसी बना देते हैं इसलिए आज उनसे मिलना मुश्किल होता है धन्यवाद
Namaskaar kyon hota hai usakee aadat banaana mushkil hota hai isalie tootane kee aadat sharaab peene kee aadat ek baar ban jaatee hai jo bhee jaanate hain jo nasha karana ya jo bhee jhooth bolana hai lekin vaheen se kaun see achchhee aate hain jaise jaldee uthana lagatee hai kyonki hamaara shareer hai vah hamesha kya hai ki aise kaamon ko karata hai jinamen unako aisa lagata hai ki aaraam mile to aur jo jo achchhe hote hain hote hain unako karane ke lie thodee see mushkilon ka saamana karane par shareer ko kasht dena padata hai to isalie jo man hai vah shareer ke kantrol mein hota hai ki shareer aur man donon milajul kar aur aadamee ko aalasee bana dete hain isalie aaj unase milana mushkil hota hai dhanyavaad

bolkar speaker
आदत बनाना इतना मुश्किल क्यों होता है?Aadat Banana Itna Mushkil Kyo Hota Hai
Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
3:21
सवाल के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद माधव बनाना इतना मुश्किल क्यों होता है मेरे ख्याल से यह मुश्किल ही नहीं है कि उनकी एक हमारा नारा है एक लाइफ स्टाइल है एक हमारा कंफर्ट जोन है हम उस कंफर्ट जोन से निकलना नहीं चाहते हैं और मुश्किल पाते हैं एक पाटन को ब्रेक करना यह वजह है कि हम अच्छी आदतों को विकसित नहीं कर पाते हैं या विकसित करने में बहुत तकलीफ महसूस करते हैं ज्ञान तो है हमारे पास हम जानते हैं कि किसी भी आदमी को शुमार करना कितना जरूरी है हमारी खुद की ग्रोथ के लिए फिर भी हम नहीं कर पाते हैं और मोस्टली उसका जो एक बड़ा कारण है वह यह है कि हम पूरा का पूरा काम एक साथ करना चाहते हैं और पूरा का पूरा एक ही दिन में या बहुत जल्दी हम रिजल्ट चाहते हैं यह भी एक रीजन है कि जिस वजह से हम उस आदत को सोमवार नहीं कर पाते हैं अपने जीवन के अंदर जीवन शैली के अंदर तो कभी भी करना चाहिए कि हर काम को एक छोटे-छोटे हिस्सों में बांट लेना चाहिए या अब आप कहेंगे कि जल्दी उठने की आदत में डालना चाहता हूं तो मैं उसको छोटे हिस्सों में कैसे बढ़ सकता हूं उठूंगा तुम एक ही बार इसमें सेठ जी क्या रहती है जो मैं अपने अपलाइन को बताती हूं कि जैसे आपका एक निर्धारित या एक डिजायर्ड आउटकम यह है कि आप सुबह 5:00 बजे उठे तो अगर आज आप 9:00 बजे उठ रहे हैं या 10:00 बजे उठ रहे हैं कि 8:00 बजे भी उठ रहे हैं तो 5:00 बजे उठना आपके लिए तकलीफ दे हो सकता है मुश्किल हो सकता है और तुरंत एक ही दिन में या 3 दिन में आपको अपनी लाइफ में नहीं ला सकते हो इसके लिए करनी है कि हमको पहले एक घंटा आधा घंटा जल्दी उठना है और अगर बहुत जितना ज्ञान ज्यादा है देखिए अगर 7:00 बजे उठते हैं और 5:00 बजे उठना है तो आधा घंटे का गैप चुनिए लेकिन अगर 9:00 बजे भी उठ रहे और 5:00 बजे उठना चाहते हैं 6:00 बजे उठना चाहते हैं तो सिर्फ 15 मिनट का क्या प्लीज अभी 15 मिनट पहले उठना शुरू कीजिए 15 मिनट पहले सोना शुरू कीजिए नींद पूरी होनी जरूरी है तो आप जो इस तरह से कुछ दिनों तक कुछ हफ्तों तक 15 मिनट 15 मिनट और बढ़ा दे ऐसे करते करते 1 दिन ऐसा आएगा कुछ महीनों के अंदर आपकी आदत बन जाएगी जल्दी उठने की अपने आप ही आंख खुलेगी अपने आप ही आप जल्दी सो पाएंगे तो यह एक प्रोसेस है जब हिंदुस्तान डिवेलप करते हैं प्रोसेस तुम लोग करते हैं तो वह आदत हमें अच्छे से उसको हम अपने जीवन में ला सकते हैं यह मैंने एक उदाहरण दिया ऐसे ही बहुत सारी आदतें जो छोड़ना चाहते हैं जिनको हम अपने जीवन में हासिल करना चाहते हैं और कुछ ऐसे भी लगते हैं जो हमारी ना दोनों की वजह से हम पा नहीं पा रहे हैं जो हम बिल्कुल बहुत ज्यादा मेहनत भी कर रहे हैं बहुत ज्यादा कर ली अब भी रखते हैं फिर भी हम को जीवन में कुछ नहीं मिल रहा है तो कहीं ना कहीं वह टालमटोल करने का हमारा पाटन बन गया है तो इस पर मैंने एक फ्री प्रोग्राम बनाया है सभी के लिए 5 दिन का है और 40 मिनट का एक फैशन है तो यह फैशन से लाभ ले सकते हैं आप और समझ सकते हैं और हिंदी भाषा में है यह बिल्कुल आपको कोई इसमें मुश्किल शब्दों शब्दावली का इस्तेमाल नहीं किया गया है और यूट्यूब पर है अवेलेबल है फ्री है मैं इसमें लिंक डाल दूंगी आप जरूर देखें और उसे इससे भी आप लाभ ले सकते हैं धन्यवाद
Savaal ke lie bahut-bahut dhanyavaad maadhav banaana itana mushkil kyon hota hai mere khyaal se yah mushkil hee nahin hai ki unakee ek hamaara naara hai ek laiph stail hai ek hamaara kamphart jon hai ham us kamphart jon se nikalana nahin chaahate hain aur mushkil paate hain ek paatan ko brek karana yah vajah hai ki ham achchhee aadaton ko vikasit nahin kar paate hain ya vikasit karane mein bahut takaleeph mahasoos karate hain gyaan to hai hamaare paas ham jaanate hain ki kisee bhee aadamee ko shumaar karana kitana jarooree hai hamaaree khud kee groth ke lie phir bhee ham nahin kar paate hain aur mostalee usaka jo ek bada kaaran hai vah yah hai ki ham poora ka poora kaam ek saath karana chaahate hain aur poora ka poora ek hee din mein ya bahut jaldee ham rijalt chaahate hain yah bhee ek reejan hai ki jis vajah se ham us aadat ko somavaar nahin kar paate hain apane jeevan ke andar jeevan shailee ke andar to kabhee bhee karana chaahie ki har kaam ko ek chhote-chhote hisson mein baant lena chaahie ya ab aap kahenge ki jaldee uthane kee aadat mein daalana chaahata hoon to main usako chhote hisson mein kaise badh sakata hoon uthoonga tum ek hee baar isamen seth jee kya rahatee hai jo main apane apalain ko bataatee hoon ki jaise aapaka ek nirdhaarit ya ek dijaayard aautakam yah hai ki aap subah 5:00 baje uthe to agar aaj aap 9:00 baje uth rahe hain ya 10:00 baje uth rahe hain ki 8:00 baje bhee uth rahe hain to 5:00 baje uthana aapake lie takaleeph de ho sakata hai mushkil ho sakata hai aur turant ek hee din mein ya 3 din mein aapako apanee laiph mein nahin la sakate ho isake lie karanee hai ki hamako pahale ek ghanta aadha ghanta jaldee uthana hai aur agar bahut jitana gyaan jyaada hai dekhie agar 7:00 baje uthate hain aur 5:00 baje uthana hai to aadha ghante ka gaip chunie lekin agar 9:00 baje bhee uth rahe aur 5:00 baje uthana chaahate hain 6:00 baje uthana chaahate hain to sirph 15 minat ka kya pleej abhee 15 minat pahale uthana shuroo keejie 15 minat pahale sona shuroo keejie neend pooree honee jarooree hai to aap jo is tarah se kuchh dinon tak kuchh haphton tak 15 minat 15 minat aur badha de aise karate karate 1 din aisa aaega kuchh maheenon ke andar aapakee aadat ban jaegee jaldee uthane kee apane aap hee aankh khulegee apane aap hee aap jaldee so paenge to yah ek proses hai jab hindustaan divelap karate hain proses tum log karate hain to vah aadat hamen achchhe se usako ham apane jeevan mein la sakate hain yah mainne ek udaaharan diya aise hee bahut saaree aadaten jo chhodana chaahate hain jinako ham apane jeevan mein haasil karana chaahate hain aur kuchh aise bhee lagate hain jo hamaaree na donon kee vajah se ham pa nahin pa rahe hain jo ham bilkul bahut jyaada mehanat bhee kar rahe hain bahut jyaada kar lee ab bhee rakhate hain phir bhee ham ko jeevan mein kuchh nahin mil raha hai to kaheen na kaheen vah taalamatol karane ka hamaara paatan ban gaya hai to is par mainne ek phree prograam banaaya hai sabhee ke lie 5 din ka hai aur 40 minat ka ek phaishan hai to yah phaishan se laabh le sakate hain aap aur samajh sakate hain aur hindee bhaasha mein hai yah bilkul aapako koee isamen mushkil shabdon shabdaavalee ka istemaal nahin kiya gaya hai aur yootyoob par hai avelebal hai phree hai main isamen link daal doongee aap jaroor dekhen aur use isase bhee aap laabh le sakate hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • अध्यान आदत, आदत बनाना इतना मुश्किल क्यों होता है, अच्छी आदतें कैसे बनाएं
URL copied to clipboard