#रिश्ते और संबंध

Kajal jain😇 Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Kajal जी का जवाब
Student Life 😎
2:13
जैसे कि आपका प्रश्न है कि मैं एक बहुत इमोशनल लड़की हूं जब भी कोई मुझसे कुछ बोल देता है वह हमेशा मेरे दिमाग में घूमता रहता है मुझे क्या करना चाहिए ठीक है आपको एक छोटा सा उदाहरण देती मान लीजिए कि आपके अकाउंट में एटी सिक्स थाउजेंड फोर हंड्रेड परसेंट इतना बोला मैंने ₹400 आपके अकाउंट में और बाई चांस ₹10 आपके अकाउंट से निकाल लिया जाए बाय एनी वे तो क्या आप परेशान होकर दुखी होकर बाकी की एटी सिक्स थाउजेंड थ्री हंड्रेड ₹90 जो की बच्ची हुई है उनको निकाल कर जला डालोगे नहीं ना तो आपके पास पूरे दिन में एक ही सीट थाउजेंड फोर हंड्रेड सेटिंग्स होती है उल्टी कोई 10 सेकंड के लिए फिर 20 सेकंड के लिए कोई इंसान आपको कुछ बोल देता है या फिर कोई भी ख्याल आपके मन में आता है जो क्या पूछा नहीं लगती है कि क्या ख्याल है 10 या 20 सेकंड के लिए आया हुआ क्या क्या आपकी पूरे दिन के ऐतिहासिक थाउजेंड थ्री हंड्रेड ईयर 9 सेकंड आप खराब कर दोगे आप इतना एनएफसी कीजिए कि आप किसी इंसान के छोटे से बात के लिए अपने पूरा दिन हम उसके लिए विश कर रही हैं और उस दिन की वजह से हमारी हेल्प कितने फिट पर राय मार्केट कितना सीट पर हमारी फैमिली पिकनिक पर यह सारी चीजें सोचने पर विवश करेंगे जी आप कुछ इस तरीके से सोचते हैं कि आपको यही कहूंगी कि हद से ज्यादा कोई भी चीज इंसान के पास यदि है तो उसे कमजोर बना देती है चाहे वह पैसा हो घमंड हो प्यार हो नफरत हो या फिर कोई भी इमोशनल थिंकिंग क्यों ना हो हर चीज की लिमिट होती एक दायरा होता है तो अपने इमोशंस को भी दायरे में रखे लिमिट भी रखी ऐसा ना हो कि कोई भी इंसान आपको अपनी ऐसी इमोशनल तुम्हारी बातों में उलझा कर आपकी पूरी लाइफ को तहस-नहस ना कर दे खुद पर कंट्रोल रखें खुद को बैलेंस करने की कोशिश करी थी जो इंसान खुद को कंट्रोल कर लेता है वह पूरी दुनिया को कंट्रोल का धन्यवाद
Jaise ki aapaka prashn hai ki main ek bahut imoshanal ladakee hoon jab bhee koee mujhase kuchh bol deta hai vah hamesha mere dimaag mein ghoomata rahata hai mujhe kya karana chaahie theek hai aapako ek chhota sa udaaharan detee maan leejie ki aapake akaunt mein etee siks thaujend phor handred parasent itana bola mainne ₹400 aapake akaunt mein aur baee chaans ₹10 aapake akaunt se nikaal liya jae baay enee ve to kya aap pareshaan hokar dukhee hokar baakee kee etee siks thaujend three handred ₹90 jo kee bachchee huee hai unako nikaal kar jala daaloge nahin na to aapake paas poore din mein ek hee seet thaujend phor handred setings hotee hai ultee koee 10 sekand ke lie phir 20 sekand ke lie koee insaan aapako kuchh bol deta hai ya phir koee bhee khyaal aapake man mein aata hai jo kya poochha nahin lagatee hai ki kya khyaal hai 10 ya 20 sekand ke lie aaya hua kya kya aapakee poore din ke aitihaasik thaujend three handred eeyar 9 sekand aap kharaab kar doge aap itana enephasee keejie ki aap kisee insaan ke chhote se baat ke lie apane poora din ham usake lie vish kar rahee hain aur us din kee vajah se hamaaree help kitane phit par raay maarket kitana seet par hamaaree phaimilee pikanik par yah saaree cheejen sochane par vivash karenge jee aap kuchh is tareeke se sochate hain ki aapako yahee kahoongee ki had se jyaada koee bhee cheej insaan ke paas yadi hai to use kamajor bana detee hai chaahe vah paisa ho ghamand ho pyaar ho napharat ho ya phir koee bhee imoshanal thinking kyon na ho har cheej kee limit hotee ek daayara hota hai to apane imoshans ko bhee daayare mein rakhe limit bhee rakhee aisa na ho ki koee bhee insaan aapako apanee aisee imoshanal tumhaaree baaton mein ulajha kar aapakee pooree laiph ko tahas-nahas na kar de khud par kantrol rakhen khud ko bailens karane kee koshish karee thee jo insaan khud ko kantrol kar leta hai vah pooree duniya ko kantrol ka dhanyavaad

और जवाब सुनें

Jyoti Malik Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Jyoti जी का जवाब
Student
3:14
प्रश्न है मैं बहुत इमोशनल लड़की हूं जब भी मुझे कोई कुछ बोलता है तो वह बात हमेशा दिमाग में घूमती रहती है देखिए आपका बहुत अधिक सोचना भी आपके लिए हानिकारक हो सकता है इमोशंस तुम्हारी भावनाएं हमारी जिंदगी का एक अहम हिस्सा होती है जिससे हम बच नहीं सकते और सबसे ज्यादा जरूरी है कि भावनाओं पर काबू पाना आप में से बहुत ऐसे भी होंगे जो छोटी-छोटी बातों पर भड़क जाते हैं परेशान हो जाते हैं यह कभी कबार बेबस हो जाते हैं तो जो इमोशंस पर नियंत्रण रखना बेहद जरूरी है आपको यह सुनकर थोड़ी बहुत हैरानी होगी कि आपकी बॉडी लैंग्वेज से पता लगाया जा सकता है कि आप कैसा महसूस करते हैं जिस तरह कि आप सोच रखते हैं वह आपके शरीर तक जाता है और आप वैसा ही मुंह करते हैं मान लो आप बहुत खुश है तो आपकी बॉडी लैंग्वेज एकदम रिलैक्स कंफर्टेबल होगी आपके चेहरे पर अलग ही चमक होगी लेकिन जैसे ही आपको कोई भी कुछ कह देता है तो आप बहुत ही ज्यादा डिप्रेस्ड एकदम से हो जाते होंगे जिस समय आप के साथ यह सब हो रहा हो उस समय आप अपने आप से बात करें यह वाला तरीका शायद आपको थोड़ा अजीब सा लगे लेकिन इस तरीके से आप बहुत कुछ हल कर सकते हो बहुत सारे लोगों का यह कहना है कि जब आप कुछ अच्छा महसूस ना कर पा रहे हो या किसी चिंता में हो तो ऐसे समय पर किसी से बात करके आप अपना मन हल्का कर सकते हैं इस बात को तो आप मानते होंगे लेकिन अगर आप के आस पास कोई भी नहीं है बात करने वाला जिससे आप अपनी बात कह सको तो ऐसे समय में आप क्या करोगे तो दोस्तों ऐसे समय पर अपने आप से ही बात करना शुरू करना चाहिए शायद आप इस तरीके को बकवास मान लो लेकिन दोस्तों एक बार करके देखो शायद आपको कुछ फर्क दिखाई देगा दिमागी तरीके से इमोशन से कैसे निकाले कि खुद को जब आए थे इमोशंस में फंस जाते हैं कि आपके दिमाग में कुछ चल रहा है अब तू उन चीजों पर का बुलाना बड़ा मुश्किल होता है हममें से ज्यादातर लोग ऐसे ही करते हैं जब हम इमोशन को काबू में नहीं कर पाते तो हम जल्दी व्यक्त कर बैठते हैं और जल्दबाजी में काम ले लेते हैं आप लोगों को भी पता होगा कि जल्दबाजी में किया हुआ कोई भी काम सही नहीं होता तो आपको रिएक्शन पर काबू पाना सीखना होगा एक लंबी सांस लें और धीरे-धीरे सांस को छोड़ें इससे आपका दिमाग और शरीर सामान्य हो जाएगा तब आप फैसले ले सकते हैं दीक्षित आपको रोजाना सुबह मेडिटेशन योगा करना होगा सुबह जल्दी उठना होगा और अपने दिमाग को एक्टिव रखना होगा और ज्यादा से ज्यादा कार्य करने होंगे यानी कि आप जितना अपने आपको अलग से भरेंगे आपके दिमाग में उतनी ही ज्यादा चीजें घूमती नजर आएंगे और आप उतना ही ओवरथिंकिंग का शिकार हो जाओगे तो इससे अच्छा तो अच्छा आईडी यह है कि अपने आप को एक राह दो एक लक्ष्य दो जिससे कि आपका मन जो है वह भी शांत रहेगा और आपके दिमाग में ज्यादा से ज्यादा चीजें भी नहीं आएंगी धन्यवाद

charu seth Bolkar App
Top Speaker,Level 88
सुनिए charu जी का जवाब
Think and speak
4:11
अपने प्रश्न पूछा है मैं बहुत इमोशनल लड़की हूं जब भी मुझे कोई कुछ बोलता है तो बात मेरे दिमाग में घूमती रहती है मुझे क्या करना चाहिए कि पहले तो मैं आपसे कहूंगा कि आपने जो प्रश्न पूछा है शायद वो गलत है क्योंकि आपने लिखा मैं बहुत इमोशनल लड़की हूं अगर आप इमोशनल है तो उससे आप की भावुकता का पता चलता है कि वह सनवाड़ एक ऐसा वर्ड होता है कि जैसे मालिका आपको कोई कुछ कह देता है या कोई ऐसी घटना कोई आपके सामने सुना रहा होता है क्या ऐसा कोई चलचित्र आपके सामने तो आपकी आंखों के सामने और होता है किसान भावुक हो जाए जो अब बहुत जल्दी मैंने देखा है अक्सर लोग को बहुत जल्दी रोना आ जाता है बिन हम पिक्चर भी देख रहे होते तुम्हारी आंख से टपका आंसू बहने लगते हैं अगर वह सीन कुछ ऐसा है कि मां-बाप से बिछड़ रहा है बेटा यह किसी का खून हो गया या हीरो मर गया तो हम लोगों ने इसे कहते हैं इंसान इमोशनल है आपने लिखा है कि मैं मुझे कोई कुछ बोलता है तो मैं हमेशा वह बाद में दिमाग में घूमती रहती है इतनी सी दुआ स्टैंड पर आप बहुत ज्यादा सेंसिटिव लड़की हैं और आपको जब कोई कुछ बोल देता है तो वह दिमाग आपके दिमाग नहीं जोधपुर तरीके से घर कर लेती है आप तो यह समझ नहीं पाती कि मुझे इसका जवाब देकर अपना दिल हल्का करना चाहिए या फिर मैं अपने अंदर एक बार भर के घर जाना चाहिए अब आपने मुझे क्या करना चाहिए तो देखी मैंने आपके प्रश्न को बहुत अच्छे से समझ के आपको क्या रिप्लाई भी कर दिया है कि यू आर नॉट इमोशनल आप एक्सपेंसिव लड़की है और अगर आपको ऐसा लगता है कि दूसरों की कही हुई बातें आपके दिमाग में बैठ जाती हैं साथ यह सोच लीजिए कि यह दुनिया से बोलती है और सुनने वाले पर डिपेंड करता है वह कितना उसका रिएक्शन देता है उसको उस दुनिया को या बोलने वाले को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि जो सुन रहा है उसके ऊपर क्या बीत रही है तो आप भी क्यों किसी की परवाह करती है क्यों किसी भी बात को सुनकर अपने दिमाग में बिठा लेते हैं हां अगर कोई आपको अच्छी राय देता है तो बिल्कुल उसको अपना ही आपके बड़े अगर आपको कुछ गलत करने से रोकते हैं तो बिल्कुल उसको अपनाई लेकिन अगर कोई बात बात पर आपको प्रिंस कर रहा है अगर आपकी कोई बेइज्जती कर रहा है अगर आपको कोई बार-बार इस तरीके का एहसास दिलाता है कि आप उस लायक नहीं है उस काम को करने के लायक में इग्नोर करिए उसको अपने दिमाग में उन बातों को दिखाना बंद कर दीजिए क्योंकि जब वह कोई बात है मैं दिमाग में बैठा दी ना तो मैं आपको यह भी कह सकती हूं कि आपको रात में नींद भी नहीं आती होगी क्योंकि जब हम रात में सोते हैं तो हमारा मन को शांत होना चाहिए और अगर हमारे दिमाग में किसी तरीके का कोई भी एक वे जो भी घटित हुआ है हमारे उस पूरे दिन में अगर कुछ ऐसा है जिसने जिसको आपने अपने दिमाग में बिठा लिया तो आपके दिमाग में घूमता रहकर आप चाहकर भी नहीं सो पाएंगे तो इसलिए अपने दिमाग से उन बातों को निकालिए कोशिश करिए कि अगर कोई आपको गलत कह रहा है तो उसका जवाब दीजिए और कोशिश करिए कि अगर कोई आपकी बेइज्जती करा है तो तुरंत उसको उसने तो किए क्योंकि देखे गलत सहन गलत किसी का करा हुआ कहना भी एक गलत कर रही जैसा होता है जब तक हम गलत के खिलाफ आवाज नहीं उठाते तब तक सामने वाला गलत करता रहता है और अगर आपको ऐसा लगता है कि मुझे कोई कुछ भी बोलता है तो वह मेरे पास हमेशा दिमाग में बैठ जाती है तो इतनी सही बात है आप के दिमाग में बैठेंगे तो आपको प्रिंस करते हैं आपका दिल दुखाते हैं तो अगर आपको लगता है कि सामने वाले ने मेरे दिल दुखाने वाली बात तुरंत उसको इंडिकेटर के पलट कर जवाब जरूर दीजिए क्योंकि जब हम किसी को पलट कर जवाब दे दे जाते हैं ना तुम्हारे दिल को तसल्ली हो जाती है और हमेशा अपने मन में सोची यस आई कैन डू आई विल गोइंग टू डू जब आप सोच लेना मन में तो आप करेंगे भी जवाब भी देंगे और सामने वाले का मुंह एक न एक दिन जरुर बंद हो जाएगा वह कुछ भी कहने से पहले आपको पहुंचेगा देखे दुनिया में कई तरीके के लोग होते कुछ लोग ऐसे होते हैं कि तुमको कोई कुछ भी बोल कर चला जाता है और सामने वाला जवाब नहीं देते वह लोग इसके पास से ले आते हैं क्योंकि उनको मालूम होता है इंसान जवाब नहीं देगा और कुछ लोग ऐसे होते उनके सामने बोलने से लोग डरते हैं पता होता है कि पलट कर भी 2 मिनट में मेरी बेज्जती कर देगा अगर हमको कुछ कहेंगे तो बिल्कुल ऐसा ही बने कोशिश कीजिए कि आपको कोई कुछ कहे ना और आप दिमाग से तो निकाल दीजिए कि मुझे उसके अंदर भर के बैठना नहीं बिल्कुल नहीं गलत है तो तुरंत उसको टो की और अपने दिमाग से कार्य करते निकाल दीजिए और एक दिन जब कभी भी सोने के लिए जाएं तो अपने पैर धोकर और हाथ धोकर पानी से कभी आप सॉरी आपको बहुत अच्छे से नींद आएगी बिल्कुल पूरे दिन में क्या आपके ऊपर बीता इसके बारे में बिल्कुल ना सोचे हैं बस एक अच्छी नहीं लीजिएगा और अगली सुबह में बिल्कुल यही सोच कर उठेगा कि आज मैं वह बिल्कुल नहीं करूंगी जो मैं 30 आएंगे थैंक यू
Apane prashn poochha hai main bahut imoshanal ladakee hoon jab bhee mujhe koee kuchh bolata hai to baat mere dimaag mein ghoomatee rahatee hai mujhe kya karana chaahie ki pahale to main aapase kahoonga ki aapane jo prashn poochha hai shaayad vo galat hai kyonki aapane likha main bahut imoshanal ladakee hoon agar aap imoshanal hai to usase aap kee bhaavukata ka pata chalata hai ki vah sanavaad ek aisa vard hota hai ki jaise maalika aapako koee kuchh kah deta hai ya koee aisee ghatana koee aapake saamane suna raha hota hai kya aisa koee chalachitr aapake saamane to aapakee aankhon ke saamane aur hota hai kisaan bhaavuk ho jae jo ab bahut jaldee mainne dekha hai aksar log ko bahut jaldee rona aa jaata hai bin ham pikchar bhee dekh rahe hote tumhaaree aankh se tapaka aansoo bahane lagate hain agar vah seen kuchh aisa hai ki maan-baap se bichhad raha hai beta yah kisee ka khoon ho gaya ya heero mar gaya to ham logon ne ise kahate hain insaan imoshanal hai aapane likha hai ki main mujhe koee kuchh bolata hai to main hamesha vah baad mein dimaag mein ghoomatee rahatee hai itanee see dua staind par aap bahut jyaada sensitiv ladakee hain aur aapako jab koee kuchh bol deta hai to vah dimaag aapake dimaag nahin jodhapur tareeke se ghar kar letee hai aap to yah samajh nahin paatee ki mujhe isaka javaab dekar apana dil halka karana chaahie ya phir main apane andar ek baar bhar ke ghar jaana chaahie ab aapane mujhe kya karana chaahie to dekhee mainne aapake prashn ko bahut achchhe se samajh ke aapako kya riplaee bhee kar diya hai ki yoo aar not imoshanal aap eksapensiv ladakee hai aur agar aapako aisa lagata hai ki doosaron kee kahee huee baaten aapake dimaag mein baith jaatee hain saath yah soch leejie ki yah duniya se bolatee hai aur sunane vaale par dipend karata hai vah kitana usaka riekshan deta hai usako us duniya ko ya bolane vaale ko isase koee phark nahin padata ki jo sun raha hai usake oopar kya beet rahee hai to aap bhee kyon kisee kee paravaah karatee hai kyon kisee bhee baat ko sunakar apane dimaag mein bitha lete hain haan agar koee aapako achchhee raay deta hai to bilkul usako apana hee aapake bade agar aapako kuchh galat karane se rokate hain to bilkul usako apanaee lekin agar koee baat baat par aapako prins kar raha hai agar aapakee koee beijjatee kar raha hai agar aapako koee baar-baar is tareeke ka ehasaas dilaata hai ki aap us laayak nahin hai us kaam ko karane ke laayak mein ignor karie usako apane dimaag mein un baaton ko dikhaana band kar deejie kyonki jab vah koee baat hai main dimaag mein baitha dee na to main aapako yah bhee kah sakatee hoon ki aapako raat mein neend bhee nahin aatee hogee kyonki jab ham raat mein sote hain to hamaara man ko shaant hona chaahie aur agar hamaare dimaag mein kisee tareeke ka koee bhee ek ve jo bhee ghatit hua hai hamaare us poore din mein agar kuchh aisa hai jisane jisako aapane apane dimaag mein bitha liya to aapake dimaag mein ghoomata rahakar aap chaahakar bhee nahin so paenge to isalie apane dimaag se un baaton ko nikaalie koshish karie ki agar koee aapako galat kah raha hai to usaka javaab deejie aur koshish karie ki agar koee aapakee beijjatee kara hai to turant usako usane to kie kyonki dekhe galat sahan galat kisee ka kara hua kahana bhee ek galat kar rahee jaisa hota hai jab tak ham galat ke khilaaph aavaaj nahin uthaate tab tak saamane vaala galat karata rahata hai aur agar aapako aisa lagata hai ki mujhe koee kuchh bhee bolata hai to vah mere paas hamesha dimaag mein baith jaatee hai to itanee sahee baat hai aap ke dimaag mein baithenge to aapako prins karate hain aapaka dil dukhaate hain to agar aapako lagata hai ki saamane vaale ne mere dil dukhaane vaalee baat turant usako indiketar ke palat kar javaab jaroor deejie kyonki jab ham kisee ko palat kar javaab de de jaate hain na tumhaare dil ko tasallee ho jaatee hai aur hamesha apane man mein sochee yas aaee kain doo aaee vil going too doo jab aap soch lena man mein to aap karenge bhee javaab bhee denge aur saamane vaale ka munh ek na ek din jarur band ho jaega vah kuchh bhee kahane se pahale aapako pahunchega dekhe duniya mein kaee tareeke ke log hote kuchh log aise hote hain ki tumako koee kuchh bhee bol kar chala jaata hai aur saamane vaala javaab nahin dete vah log isake paas se le aate hain kyonki unako maaloom hota hai insaan javaab nahin dega aur kuchh log aise hote unake saamane bolane se log darate hain pata hota hai ki palat kar bhee 2 minat mein meree bejjatee kar dega agar hamako kuchh kahenge to bilkul aisa hee bane koshish keejie ki aapako koee kuchh kahe na aur aap dimaag se to nikaal deejie ki mujhe usake andar bhar ke baithana nahin bilkul nahin galat hai to turant usako to kee aur apane dimaag se kaary karate nikaal deejie aur ek din jab kabhee bhee sone ke lie jaen to apane pair dhokar aur haath dhokar paanee se kabhee aap soree aapako bahut achchhe se neend aaegee bilkul poore din mein kya aapake oopar beeta isake baare mein bilkul na soche hain bas ek achchhee nahin leejiega aur agalee subah mein bilkul yahee soch kar uthega ki aaj main vah bilkul nahin karoongee jo main 30 aaenge thaink yoo

TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
2:27
नमस्कार दोस्तों किसी योजना को शाम 1:00 बहुत इमोशनल लड़की हूं जब भी मुझे कोई कुछ बोलता है तो वह बात हमेशा मेरे दिमाग में घूमती रहती है मुझे क्या करना चाहिए मैं आपको बताना चाहूंगा कुछ समय पहले कुछ समय मेरे को पहले अभी भी कई बार मेरे को भी इस सेम ही इस समस्या का सामना करना पड़ता क्योंकि मेरे से अगर किसी की बहन सो जाती है या भैंस ने तुझे किसी की कोई मेरे को कोई बात बोल देता है तो वह बात मेरे को चुभती है वह तब तक चलती है जब तक मैं जो है जब समय में रिप्लाई नहीं करता हूं तब तक उसे जब तक मैं उसका रिप्लाई नहीं कर पाता हूं और बाद में सोचता हूं कि मुझ को यह बोलना चाहिए था मुझे मुझे वह बोलना चाहिए था और वह चीज परेशान करती हो और वह परेशानी की वजह से सर दर्द और यह चीजें बहुत फोन आ चुके थे और चिड़चिड़ापन और यह जो जो खुद को ही पूछना शुरू कर देते हैं तो आपको बताना चाहूंगा अगर आपको कोई बोलता है किस तरह के बाद बोलता है अगर वह मतलब की बात है तो आप उसके बाद सिर्फ बोल सकते हैं अगर आपको वह गलत कुछ बोल रहा था तो उसके सामने चीज के बारे में बोलिए जो भी प्रॉब्लम है उस चीज को उसी वक्त क्लियर कीजिए उस चीज को बाहर ले जाकर जब मान लिया ऑफिस में हो आपके सीनियर ने आपको कुछ बोला है उसको वहीं पर छोड़ कर आई हो तो कैसे आप भी परेशान हो गया आपके जो रिलेशंस हैं किसी के भी साथ होगी खत्म होंगे अगर उस इंसान की जो आपके प्रति मतलब आप के प्रति उसकी नीयत ठीक नहीं है नियत कहने का मतलब है कि आपको शायद उनको आप पसंद में नहीं होता उनसे बोलचाल बंद कर दीजिए अगर उनको कोई दिक्कत हमसे कोई डिस्कस कर लिया कर परेशानी है तो चीज को सपोर्ट करिए और थोड़ा इसमें इग्नोर करना करिया करे वह बात सही नहीं है कुछ तो जरूर करना चाहिए और जब भी आपको लगता है कुछ तो मेडिटेशन का सहारा ले कुछ अच्छा खाने की कोशिश करें चॉकलेट या कुछ ऐसी चीजें खाने की कोशिश करें और साथ में एक नॉर्मल जो है म्यूजिक साहब जो है पूरी चीज को जितना करो उतना आपके लिए अच्छा है क्योंकि वह बातें शायद हो सके जिस इंसान ने गुस्से में वह आपको बात हो गई है बाद में उसको भूल जाए लेकिन आपके दिमाग में बात अगर सुधर बना गई है तो आपके लिए परेशान कर रही हो और आप अकेले बैठे इसके बारे में सोच रहे हो विनोद करना सीखिए जब आपको बोलता है अपनी लाइफ है आपको अपनी लाइफ में किसी और से परेशान होने की जरूरत नहीं है पता करता हूं आपको यह बात पसंद आई होगी लाइक और सब्सक्राइब कीजिएगा

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
2:12
सावन में बहुत इमोशनल लड़कियों जब भी मुझे कोई कुछ बोलता है यह बात हमेशा मेरे दिमाग में घूमते रहते मुझे क्या करना चाहिए दोस्तों काफी इमोशनल बड़ी बात हो रही है उचित ऑफिस भी करो जी बहुत अच्छे अच्छे सवालों के जवाब दिए हैं आपके सवाल के ऊपर भी काफी अच्छा जवाब दिया है परंतु कब मेरे से भी नहीं गया पूर्वी जब इमोशनल होता है दोस्तों इमोशनल से निकलना चाहिए जरूरी हो जाता है स्मार्ट बनने की कोशिश करें जिससे आपके चल रही है इसलिए होता है क्योंकि हो सकता है कि आप जो है पहले बारे में सोच रही हो इसी वजह से जो है आपके दिमाग में वह बातें जो बार-बार चलते रहते हैं इससे निकलो अपने आपको स्मार्ट माफ कीजिए और दूसरों से बचकर और 17 कराइए बॉस कैसे हो जाते हैं जब किसी को लेकर किया जाता है तो पता लगता है जिसके दिमाग में घूमती रहती है उसको कहीं ना कहीं उस में कुछ ना कुछ गलत काम नहीं किया होगा गलत काम की वजह से अपना बचाव करते हैं इस वजह से उसके दिमाग में अंदर सारी बातें जो परिवार वाले ही बता देता है तो वह चीज भी जो है तो वह चीज भी यानी कि आपको ऐसा लगता है कि कहीं ना कहीं आप की जो चीज है आपने जो गलत उससे जुड़ी है इसी वजह से

Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:35
सवाल है कि मैं बहुत इमोशनल लड़की हूं जब भी मुझे कोई कुछ बोलता है बात हमेशा मेरे दिमाग में घूमती रहती है मुझे क्या करना चाहिए तो दिखे इमोशनल होना अलग बात होती है और किसी बात को सोचते रहना अलग बात होती है किसी बात के बारे में परिस्थिति के बारे में या व्यक्ति के बारे में सोचेंगे उतनी ही ज्यादा आप खुद को परेशान करेंगे प्रेस में लाएंगे इसलिए बहुत जरूरी है हर एक बात जो आपको ना खुश करती है नेगेटिव थिंकिंग कैलेंडर लाती है ऐसी चीजों को इग्नोर करके लाइफ में आगे बढ़ने की कोशिश करिए खुद को बिजी करने की कोशिश करी जैसे नेगेटिव थॉट्स आपके दिमाग में बिल्कुल भी ना आए आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद

Shivangi Dixit.  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Shivangi जी का जवाब
Unknown
1:34
क्वेश्चन किया गया है मैं बहुत इमोशनल लड़की हूं जब भी मुझे कोई कुछ बोलता है वह बात हमेशा मेरे दिमाग में घूमती रहती है मुझे क्या करना चाहिए तो देखिए इमोशनल सभी इमोशनल होते हैं लेकिन मतलब यह जो है वह आप की क्वालिटी बंद कर मुझे कुछ कुछ बोल देता तो मैं सोचती हूं बिल्कुल भी मत सोचिए क्योंकि दुनिया आपके साथ से नहीं चलेगी और आप दुनिया के सबसे नहीं चल पाएंगे अगर आप ऐसे ही करते रहेंगे तो आप अपने जीवन में कभी खुशी ही नहीं रह पाएंगे क्योंकि हर एक कदम कदम पर लोगों को कुछ भी बोलना होता है यदि आप उनको अपने ऊपर हावी करके चलने वाले हैं तो आप कैसे लाइफ में आगे बढ़ेंगे कैसे आप अपनी लाइफ को है कल करेंगे कैसे जिएंगे तो आपको खुद करनी होगी आपको खुद सोचना होगा अगर आपसे कोई कुछ बोलता है अब तो वही शॉट और कर दीजिए अगर आपसे कोई कुछ कहता है तो वही सुन लीजिए उसका बंद करना चाहिए कुछ सोच समझकर कुछ बोलना सीखें क्योंकि अगर वह पूछे सूट के दिमाग में रखे रहेंगे तो आपकी दिमाग में जो है वही वही चीजें चलती रहेंगी इसलिए आप सुबह सबसे पहले उठकर मेडिटेशन क्यों किया करें एक्सरसाइज करें सबसे पहले क्योंकि यह सब चीजें हैं जो हमारे ऊपर बहुत जल्दी सकारात्मक चीज है हमारे ऊपर हावी होती है तो आप सबसे पहले इन्हें करी जब आपकी सोचने समझने की शक्ति जो एकदम से 14 को क्या सूचना है क्या समझ रहे हैं आप जब एक चीज पर ही बात करेंगे तब आपको चीजें समझ में आएंगे दूसरों का बिल्कुल भी मत सोचिए क्योंकि देखी हमें चलना है हमारी लाइफ कैसी है हमें अपने ऊपर ध्यान देना है दूसरों को बिल्कुल भी अब छोड़ दीजिए क्योंकि वह हमारी कभी काम ही नहीं आने वाले हैं इसलिए हमें खुद को देखना है कुछ कमेंट्री तुम साफ करके चलना है जब आप पसंद है तो लाइक सब्सक्राइब करें बोलकर से जुड़े रहें धन्यवाद

Rakesh Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Rakesh जी का जवाब
👨‍🏫 Teacher.
2:16
सखी आपका प्रश्न है कि यह बहुत ही इमोशनल लड़की है और कोई बोलता है तो हमेशा आपके दिमाग में घूमते रहता है तो देखिए या दुनिया जो है अजीब है यहां पर जन्म से लेकर जो है जब तक हमारे शरीर में जान है तब तक कुछ ना कुछ क्रियाकलाप या कुछ ना कुछ समझते हमारे जिंदगी में अवश्य के प्रभाव है कि कांटा चुभना नहीं छोड़ते तो क्या फूल महकना ही छोड़ देंगे मतलब कि आपको एक ऐसा व्यक्तित्व अपने अंदर विकसित करना है देखा जाता है कि दुनिया में जो है अगर अपना अच्छा काम करते हैं तभी लोग आपके बारे में बात करेंगे बुरा करेंगे तभी लोग आपके बारे में बात करेंगे तो यह दुनिया कहती है इससे आपको नहीं घबराना चाहिए यह सच है कि कुछ चीजें हैं कि लोगों को लगता है कि ऐसा नहीं होना चाहिए लेकिन अगर वह के कहे अनुसार हम चलने लगे तो कोई भी हमारा काम नहीं हो पाएगा आप बिंदास रहिए आप अपने समय पर आपको खुद निर्णय लेना है कि हम जो काम कर रहे हैं या करने वाले हैं क्या हमारे लिए यह हमारे फ्यूचर के लिए सही है या नहीं आप अपने विवेक का इस्तेमाल करें दुनिया बहुत कुछ कहती है इसलिए मैंने भी देखा है कि घर में जो है कई तरह के भाई या पिताजी या भगवान हमें बोलते रहते हैं ताना देते रहते हैं कि यह नहीं करता वह नहीं करता और इस चीजों के लिए मैं सुन तो लेता हूं लेकिन उसके बाद उस चीज को भुला देता हूं और आपने दुनिया में रहता हूं जैसे गाना हुआ लिखना हुआ पढ़ना हुआ तो उससे कोई मतलब नहीं रहता है लेकिन यह बात है कि कुछ और समय हमारे दिमाग में रहता है तो मुझे लगता है कि इस चीजों को आप भी इग्नोर करें हो सकता है कि शुरुआती दौर में आपको इस सारी चीज को जो है प्रैक्टिस में लाना काफी मुश्किल होगा लेकिन देखो जाता है क्योंकि इस तरह के चीज है जो है बहुत हमारे सामने आती रहेंगे अगर सारी चीजों को हम टेंशन अपने जीवन में लेकर चले तो बहुत मुश्किल होगा मुझे लगता है कि इस तरह का प्रयोग कर सकती हैं

अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
2:43
मैं बहुत दिनों से लड़कियों जब भी मुझे कोई बात बोलता है वह बात हमेशा मेरे दिमाग में घूमता रहता मुझे क्या करना चाहिए देखिए अगर आपको कुछ करना है तो ज्यादा है यह देखिए इमोशनल आप रहोगे बहुत से ऐसे आपको अब मैं आपकी बातों में तू क्या आप एक लड़की हो आप ने कहा मैं एक लड़की हूं तो मैं एक दिखी लड़का हूं तो मैं यही बोलूंगा कि बहुत से ऐसे दोस्त यार आपको मिल जाएंगे अच्छे भी मिलेंगे बुरे मुझे मुझे अच्छे दोस्तों अच्छे ही होते हैं बुरे क्या है बुरे भी कभी-कभी ऐसी ऐसी बातें ग्रुप अपना दिखाकर कहीं ना कहीं आप से फायदा उठा लेगा ठीक है आपका दिमाग हमेशा घूमे मोटर नहीं हो रहा कि जीवन में यह सोचना कि हां मुझे अच्छा करना आप लड़की हो बहुत अच्छी चीज है लड़का हो या लड़की कोई भी हो अगर आप इमोशनल हो तो अच्छी चीज है किसी के लिए अच्छा करना चाहता हूं अच्छा करो लेकिन हां किसी के साथ बुरा कभी ना करना दिमाग घूमता रहता हर इंसान का दिमाग घूमता है आप ही नहीं हो हर इंसान का दिमाग घूमता है अगर आपको कुछ करना है आप सकारात्मक सोच हमेशा रखे और यही सोचे कि जीवन में आपको अच्छे भी मिलेंगे बुरे मिलेंगे बस परखना आपको है कि अच्छा कौन है बुरा कौन है रिश्तेदार भी आपको बुरे मिल जाएंगे अच्छे मिल जाएंगे जो हमारे माता-पिता होते हैं हमें अच्छी शिक्षा देते हैं पढ़ाते दिखाते बड़ा करते हैं इमोशनल होने की जरूरत नहीं है आप यह सोचे कि अगर कोई परेशान है तो उसका हल कैसे निकाला जाए ठीक है चेहरे पर सामने वाले की खुशी कैसे लाया जा मैं आपको बता दूं मैं भी बहुत परेशान है तो लेकिन नहीं मेरी परेशानी कुछ नहीं है अच्छे अच्छे लोगों की परेशानी बहुत है उनका दुख दर्द समझ कर देखता हूं कि हर यार इसके तो दिनेश के पैर भी नहीं उसकी आंखें नहीं आखिरी वह कैसे जिंदगी तो वह भी तब भी भी अच्छे से जिंदगी दे तब तब मैं अपने अंदर सोचता हूं यार यह जिंदगी होती तो इमोशनल होने की जरूरत नहीं है आप लड़की हो मानते हैं उसने लड़की हो जाए लड़कियों कोई भी जीवन में बस अपने मन में हमेशा ही रखें कि जीवन में कुछ करना है अच्छा करना है और सुख दर्द आप अगर आप बांटते हो लेकिन सबसे पहले आप आप हम देखें क्या आपके अंदर तो कमियां नहीं अपने अंदर कमियों को सुधारें और अगर कोई ग्रुप में था उनकी बातों को समझे अगर कोई बड़ा कुछ कहना कुछ लेकिन हां हमेशा सोच हमेशा अच्छे रखें कभी किसी के चेहरे पर किसी की आंखो के आंसू ना आने दे बस मेरा यही आपसे कहना है कोई भी हो आप मस्त रहो खुश रहो जीवन का यही एक कड़ी है कि सुख दुख हर इंसान के साथ आएगा बस यही मैं कहूंगा कि लोगों को खुश रखना सीखो खुद भी खुश रहो जब तक खुद नहीं खुश रहोगे तो दूसरों को खुश नहीं रख पाता हां मैं यही कहूंगा कि आपको खुशी जिस इसे मिलती मोचीस करो इमोशनल होने की जरूरत नहीं है आप अपनी खुशी पहले लोगों की वजह से ऑटोमेटिक मिलेगी जय हिंद जय भारत

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:36
हेलो फ्रेंड्स स्वागत है आपका आपका पर्सनल है बहुत इमोशनल लेंगे जब भी मुझे कोई कुछ बोलता है वह बात हमेशा मेरे दिमाग में घूमता रहता है मुझे क्या करना चाहिए तो फ्रेंड आपको अपनी मोशन पर थोड़ा काबू रखना है और आपको कोई भी कुछ बोल रहा है तो आपको ध्यान नहीं देना है आपको अपने काम करना है आप स्टूडेंट है तो आपको अच्छे से पढ़ाई करना है और आपको घर के कामों में भी थोड़ा अपना मन लगाना है और आप अपने काम से मतलब रखिए कोई कुछ भी बोलता है आप उस पर बिल्कुल भी ध्यान मत दीजिए धन्यवाद

Rohit Rathore Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Student
2:17
कम बैक टो थे आप सब काम यह बोल कर एक प्रोफाइल पर और आप सुन रहे रोहित राठौर को तो अगर आप भी इमोशनल ने को इसमें कोई दुख वाली बात नहीं है क्या बुराई नहीं है क्योंकि मैं भी एक समय तो इतना इमोशनल हुआ करता था अगर मुझे किसी ने कुछ बोल दिया तो मैं उसके बारे में ओवरथिंकिंग करता रहता था यार कि मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है हमेशा लोग मुझे ही क्यों हमेशा पूछते हैं मैं तो अच्छी चीजें करता हूं उन्हें क्यों नहीं देखते ही खराब चीज करता हूं उसी पर मुझे सब क्यों कोसते हैं तो पर मैंने धीरे-धीरे बुक्स पड़ना चाहिए कि हम ओवरथिंकिंग से कैसे बाहर निकले पॉजिटिव वे कैसे बनाएं क्योंकि बुक्स में इतनी पावर होती मैं हमेशा से कहता आया हूं बोलकर ऐप कितनी आंसर दे चुका की भी बुक्स में इतनी पावर होती है कि व्यक्ति की लाइफ इंसान की लाइफ चेंज कर सकती हमें बुक रीडिंग करनी ही चाहिए एसएससी बुक्स है दुनिया में जो आपको कोई नहीं सिखाता वह नॉलेज आपको बुक से से मिलेगा कहीं बुक से दिसावर थिंकिंग से बाहर आ सकता है अपनी लाइफ को पॉजिटिव वे में टर्न कर सकते हैं कई फाइनैंशल दुखी कई माइक्रो जिसकी भूखे थे स्ट्रक्चरल नॉलेज के के आध्यात्मिक बुक अपने पढ़े और इन सब चीजों से बाहर निकलें क्योंकि आप उसके बारे में उस चीज को लेकर ओवरथिंकिंग करने लग जाता है जिससे वह आपके दिमाग में सबकॉन्शियस माइंड में बैठ जाती है जिससे आपको वही वही चीजें याद आती रहती हो और आप उसे याद करके और दुखी होते हैं तो इन शब्दों से छुटकारा पाने का एक ही तरीका है कि आप अपने जो पॉजिटिविटी है उसे ही देखिए आप क्योंकि लोग कुछ भी करेंगे दिन में सो थॉट्स आते हैं अब उस थॉट्स के ऊपर हमारा दिन निकलता है क्योंकि बहुत डांटा था अपने अच्छे थॉट्स इनबिल्ट कर अपने माइंड के अंदर जिससे आपका दिन भर पूरा छा जाएगा तीन पूरा अच्छा जाएगा क्योंकि आप पॉजिटिव फिट करेंगे अपने माइंड को सुबह और उन पर आपकी इमेज बनती है दिनभर की रिएक्ट करते हैं आप उनका व्हाट्सएप पर अगर आपको सोसाइटी के थॉट्स पर जाना है तो आप नेगेटिव इमेज ही बनेगी अगर खुद के थॉट्स नए थोड़ी ना ले अपने आपको एक अच्छे इनफॉर्मेंट में कैसे करें अपनी जो भी होगी से उन पर काम करें आप जरूर इमोशनल से बाहर निकलें क्योंकि एक समय था जब मैं भी बहुत ऐसा हुआ था कई बार मुझे पापा करते थे पर आज बाहर रहता हूं तो पापा को खुद कॉल आता है पूछते हैं भाई कैसा है तो बहुत अच्छा लगता है क्योंकि हम खुद अपनी लाइफ से खुद चेंज कर सकते हैं मैं दूसरों से एक्सपेक्टेशन नहीं रखनी चाहिए धन्यवाद मिलते हैं आपसे अगले सवाल है जब तक के लिए टेक केयर
Kam baik to the aap sab kaam yah bol kar ek prophail par aur aap sun rahe rohit raathaur ko to agar aap bhee imoshanal ne ko isamen koee dukh vaalee baat nahin hai kya buraee nahin hai kyonki main bhee ek samay to itana imoshanal hua karata tha agar mujhe kisee ne kuchh bol diya to main usake baare mein ovarathinking karata rahata tha yaar ki mere saath hee aisa kyon hota hai hamesha log mujhe hee kyon hamesha poochhate hain main to achchhee cheejen karata hoon unhen kyon nahin dekhate hee kharaab cheej karata hoon usee par mujhe sab kyon kosate hain to par mainne dheere-dheere buks padana chaahie ki ham ovarathinking se kaise baahar nikale pojitiv ve kaise banaen kyonki buks mein itanee paavar hotee main hamesha se kahata aaya hoon bolakar aip kitanee aansar de chuka kee bhee buks mein itanee paavar hotee hai ki vyakti kee laiph insaan kee laiph chenj kar sakatee hamen buk reeding karanee hee chaahie esesasee buks hai duniya mein jo aapako koee nahin sikhaata vah nolej aapako buk se se milega kaheen buk se disaavar thinking se baahar aa sakata hai apanee laiph ko pojitiv ve mein tarn kar sakate hain kaee phainainshal dukhee kaee maikro jisakee bhookhe the strakcharal nolej ke ke aadhyaatmik buk apane padhe aur in sab cheejon se baahar nikalen kyonki aap usake baare mein us cheej ko lekar ovarathinking karane lag jaata hai jisase vah aapake dimaag mein sabakonshiyas maind mein baith jaatee hai jisase aapako vahee vahee cheejen yaad aatee rahatee ho aur aap use yaad karake aur dukhee hote hain to in shabdon se chhutakaara paane ka ek hee tareeka hai ki aap apane jo pojitivitee hai use hee dekhie aap kyonki log kuchh bhee karenge din mein so thots aate hain ab us thots ke oopar hamaara din nikalata hai kyonki bahut daanta tha apane achchhe thots inabilt kar apane maind ke andar jisase aapaka din bhar poora chha jaega teen poora achchha jaega kyonki aap pojitiv phit karenge apane maind ko subah aur un par aapakee imej banatee hai dinabhar kee riekt karate hain aap unaka vhaatsep par agar aapako sosaitee ke thots par jaana hai to aap negetiv imej hee banegee agar khud ke thots nae thodee na le apane aapako ek achchhe inaphorment mein kaise karen apanee jo bhee hogee se un par kaam karen aap jaroor imoshanal se baahar nikalen kyonki ek samay tha jab main bhee bahut aisa hua tha kaee baar mujhe paapa karate the par aaj baahar rahata hoon to paapa ko khud kol aata hai poochhate hain bhaee kaisa hai to bahut achchha lagata hai kyonki ham khud apanee laiph se khud chenj kar sakate hain main doosaron se eksapekteshan nahin rakhanee chaahie dhanyavaad milate hain aapase agale savaal hai jab tak ke lie tek keyar

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:41
मैं बहुत इमोशनल लड़की हूं जल्दी मुझे कोई बहुत बोलता है वह बात हमेशा मेरे दिमाग में घूमता रहता है मुझे क्या करना देखिए मंडल होना जरूरी है लेकिन कितना है मौसम नहीं कि उस चीज को अपने दिमाग पर बैठकर कोई बोल देता है सबसे पहले तो अपनी जिंदगी को मजबूत बनाने के उपाय पर अपने विचारों को अपनी कार्यशैली को बेहतर करेंगे कोई कहने का किसी को मौका नहीं मिलेगा सिर्फ ₹2 ऑफिस से नहीं होता क्योंकि किसी को मौका देते हैं कहने के लिए तभी तो कोई कहता है बोलता है और कभी-कभी सीखने वाले होते हैं तो निश्चित तौर पर अपने सीनियर का अपने लोगों का लोग आया है बताते हैं दुश्मन बिल्कुल बुरा मान फिर कहने का मतलब है दूसरा है कि सबसे पहले जो कोई कहता है दूसरा परेशान हो उसे अब सोचो क्या यह सही है कि ग्राम दिमाग की तौर पर मजबूत रहेगा देश के अंदर यह संभावनाएं जरूरी है क्या प्यार को बेहतर करना होगा

 Neeraj Kumar  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए जी का जवाब
Unknown
1:41
दोस्तों मैंने यह सवाल है मैं बहुत इमोशनल लड़की हूं जब भी मुझे कोई कुछ बोलता है बाय बाद हमेशा मेरे दिमाग में घूमता रहता है और मुझे क्या करना चाहिए तू कई लोगों का नेचर है ना होता है कि उन्हें हर किसी की बात बुरी लग जाती है अगर मैं अपनी बात करूं तो मुझे सिर्फ अपने परिवार के सदस्य उन्हीं की बातों का ही फर्क पड़ता है और बाकी मोहल्ले वालों या या या बाहर के दोस्तों का कोई फर्क नहीं पड़ता है वह खुशी बोल रहे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता है सिर्फ मुझे असर होता है अगर करवा लिया माता-पिता को मुझे जानते यहां कुछ कह दे तब मुझे बुरा लगता है या असर होता है बाकी चीजों का मुझको कोई असर नहीं होता कोई खुशी बोले तो हमें भी ऐसे ही रहना चाहिए हमें जो भी असर होना चाहिए अपनी दो बातों का सिर्फ घरवालों की ही बातों का असर होना चाहिए अगर हम हर किसी की बातों को महत्व देने लगे और उसके बारे में सोने लगे तो हमारी लाइफ बहुत खराब हो जाएगी और डिस्टर्ब हो जाएगी तू हमें आपको ही करना चाहिए कि आपको बिल्कुल भी ध्यान नहीं देना है किसी की बातों का सिर्फ के लोगों को काम होता है गाना और भोंसले कहते हैं कई लोगों को जलन होती है इसलिए वह आपको इस तरह की बातें कहते हैं कि से आपका जो माइंड डिस्टर्ब रहे और आप उनसे आगे नहीं निकल पाए कई लोग इस तरह से कहते तो इसलिए आपको कोई कुछ भी कहे आपको कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए सिर्फ अगर घरवाले कुछ कहते हैं तभी फर्क पड़ना चाहिए और बाकी दोस्त यार यार मोहल्ले वाले कुछ नहीं तो आपको कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए
Doston mainne yah savaal hai main bahut imoshanal ladakee hoon jab bhee mujhe koee kuchh bolata hai baay baad hamesha mere dimaag mein ghoomata rahata hai aur mujhe kya karana chaahie too kaee logon ka nechar hai na hota hai ki unhen har kisee kee baat buree lag jaatee hai agar main apanee baat karoon to mujhe sirph apane parivaar ke sadasy unheen kee baaton ka hee phark padata hai aur baakee mohalle vaalon ya ya ya baahar ke doston ka koee phark nahin padata hai vah khushee bol rahe mujhe koee phark nahin padata hai sirph mujhe asar hota hai agar karava liya maata-pita ko mujhe jaanate yahaan kuchh kah de tab mujhe bura lagata hai ya asar hota hai baakee cheejon ka mujhako koee asar nahin hota koee khushee bole to hamen bhee aise hee rahana chaahie hamen jo bhee asar hona chaahie apanee do baaton ka sirph gharavaalon kee hee baaton ka asar hona chaahie agar ham har kisee kee baaton ko mahatv dene lage aur usake baare mein sone lage to hamaaree laiph bahut kharaab ho jaegee aur distarb ho jaegee too hamen aapako hee karana chaahie ki aapako bilkul bhee dhyaan nahin dena hai kisee kee baaton ka sirph ke logon ko kaam hota hai gaana aur bhonsale kahate hain kaee logon ko jalan hotee hai isalie vah aapako is tarah kee baaten kahate hain ki se aapaka jo maind distarb rahe aur aap unase aage nahin nikal pae kaee log is tarah se kahate to isalie aapako koee kuchh bhee kahe aapako koee phark nahin padana chaahie sirph agar gharavaale kuchh kahate hain tabhee phark padana chaahie aur baakee dost yaar yaar mohalle vaale kuchh nahin to aapako koee phark nahin padana chaahie

Soumya Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Soumya जी का जवाब
Unknown
2:16

DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
1:09
हमें बहुत इमोशनल जब भी मुझे कोई कुछ बोलते हैं कि मैं हमेशा मेरे दिमाग में चलती रहती है मुझे क्या करना चाहिए एक ही इमोशनल होना एक अच्छी बात है क्योंकि मोचन आदमी अच्छा-अच्छा पवित्र और एक तरफ से रिश्ते को निभाने वाला होता है लेकिन आपने अपनी इमोशनल को अपनी बीमारी बना लिया है जिसके कारण आप संदेश शक है डर कर लो क्लास इन सब ठंड ठंड में फस कर रह जाएंगे इसलिए अपनी इमोशनल को अपनी ताकत नहीं है ना कि अपनी कमजोरी और कोई कुछ भी बोलता है उसको नकार की कुछ कर दिखाइए कुछ अच्छा प्रणाम कर दिखाइए जिससे कि सफलता आपको मिले और भविष्य में एक अच्छा आप किसी के सामने अपने अस्तित्व को विकसित को जो है प्रदर्शित करता है

er. ramphal bind Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए er. जी का जवाब
Private job
2:13
प्रश्न है मैं बहुत इमोशनल लड़कियों को जब भी मुझे कोई कुछ बात बोलता है वह बात हमेशा मेरे दिमाग में घूमता रहता है मुझे क्या करना चाहिए यदि आपको ऐसा होता है हंसकर मेरे लिए पहले ऐसे ही कुछ होते थे कोई कुछ बोल देता तो तुम बात लेकर बहुत चिंतित रहता था लेकिन क्या हुआ कुछ तो मैं नहीं बदला बदला यह कि हम उसको समय ही नहीं देंगे कुछ बोला ठीक है मैं इमोशनल हो गई ठीक है दिमाग में चल रहा है अपने पास इतना समय ही नहीं रखूंगा ही इमोशनल हूं और दिमाग में खो गई तू अपने आपको बिजी रख को यदि आप पढ़ाई करते हो तो पढ़ाई करो पढ़ाई से आपको यह होता है कि अब मन नहीं कर रहा है पढ़ने जा तब कुछ इंटरटेनमेंट की सीसी के लिए खेलकूद करिए बढ़िया कोई विकेट लिए बॉलीवुड की हाकी खेली थी क्या कुछ बगैरा देख लीजिए क्या होता है कि दिमाग घूम रहा था धीरे-धीरे आपकी यह दूर होने लगेगी जो मेरा विचार है हमें भी तो ऐसे ही होता था हमें लगा कि ऐसा करने से अपने आपको बिजी रहती है पढ़ाई करनी है पढ़ाई के लिए या उससे आपको लगता है कि आप पढ़ाई नहीं करनी है लगता है पढ़ाई नहीं करनी तो कुछ अपना अलग कर लीजिए मतलब एंटरनेटमेंट कीजिए मतलब अपने आपको बिजी रख और आपके दिमाग में जो घूमने वाला शब्द बिल्कुल धीरे धीरे घटना शुरू हो जाएगा और यह बहुत ही अच्छा होगा ज्यादा इमोशनल हो ना वह भी बहुत अच्छा नहीं दुश्मन नजदीकी मोशन होना दिमाग में किसी बात को लेकर चिंतित रहना घूमना यह बिल्कुल सही नहीं क्योंकि लाइफ लाइफ में हर बात को लेकर कोई कुछ कह दिया तो बहुत होती है लाइफ का स्त्रीलिंग लाइट को नहीं जी सकते हो रही बिल्कुल नहीं होना चाहिए

NEHAA P MISHRA  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए NEHAA जी का जवाब
Teacher, Soul Healer
5:00
बहुत सो क्यूट अब बहुत इमोशनल के सभी इमोशनल होते हैं कुछ लोग तो कर देते हैं कुछ लोग नहीं शो कर पाते लेकिन एक बात मैं आपसे कहना चाहूंगी कि ईश्वर ने हमें एक्स्ट्रा पावर देख कर भेजा है ठीक है और जितना हम निगेटिव बातें सोचने में या उसने मुझे ऐसा बोल दिया ऐसा क्यों बोल दिया वह सोचने में हम एनर्जी और टाइम मिस करते हैं ना उससे ज्यादा हम यह सोचने में टाइम और एनर्जी लगाए कि हम क्या कर सकते हैं हम कैसे अपने क्वालिटी स्कोर और डेवलप कर सकने गुड क्वालिटीज को तो मुझे लगता है कि यह जो आपका इमोशनल होना है या नहीं सार्थक हो जाएगा अपने इमोशनल सेंटीमेंट्स को आप पॉजिटिव वे मैं यूज करना सीखिए और एक चीज और बता दो हम किसी इंसान को नहीं बदल सकते ना ही कोई इंसान हमें बदल सकता है ठीक है जब कोई इंसान हमें नहीं बदल सकता तो हम उसे कैसे बदल सकते हैं तो यह चीज अगर अंडरस्टूड है तो कोई आप को बुरा भी कहता है तो जाने दीजिए देखिए जाने देना बहुत अच्छी क्वालिटी है कि लोग आपको बुरा बोल रहे तो भी आप इग्नोर कर रहे हो आपको एक छोटी सी कहानी सुनाओ गी काफी इंस्पायरिंग है यह कहानी पर मुझे विश्वास है कि इस कहानी को सुनने के बाद ओ मेरे जवाब को सुनने के बाद जवाब से आपके लिए ढेर सारा लव ऑफ माइंड इस कहानी को सुनने के बाद आप अपने माइंड को थोड़ा सा और फ्री कर लेंगे किसी को कुछ भी कहना है आई डोंट माइंड आई डोंट केयर की कहानी है स्वामी विवेकानंद की एक बार रिक्शा टन के लिए स्वामी विवेकानंद जा रहे थे कुमकुम अभिक्षा लेते जो उनके गुरु जी ने उन्हें कहा था तू तो एक लेडी थी काफी फ्रस्ट्रेटेड थी वह अपने पति से परेशान थी या लड़ाई हुई थी थोड़ी देर पहले या दुखी थी परेशान थी तो क्या हुआ स्वामी जी उसके पास भी खर्चा लेने तुमने पूछा लगा रही थी अपने घर में तो इन्होंने स्वामी जी ने बार बार बोला एग्जाम बी भिक्षम देही तो वह क्या वैसे भी इरिटेटेड थी फ्रस्ट्रेटेड थी तो उसने वह रिक्शा का जो पूछा था वह जो कपड़ा था जिससे वह पोछा लगा रही थी तो उनके ऊपर फेंक दिया यह भी नहीं देखा कि कौन खड़ा है वहां फेंक दिया उसके ऊपर जो विवेकानंद के साथियों ने गुस्सा आया तो वह चिल्लाने के लिए आगे बढ़े तो उन्होंने स्वामी विवेकानंद उनका हाथ पकड़ कर रोक लिया उन्हें ठीक है बाद में जब वह आए घर वापस तो उन्होंने बोला आपने मुझे क्यों रोका और आपने कपड़ा क्यों रख लिया तो उन्होंने उस कपड़े को रखकर उन्होंने उस कपड़े को अच्छा दो या साफ किया और वह जो हम पुराने समय में कैंडल रहती थी मतलब चिमनी जिसे बोलते हैं उसमें जो कपड़ा लगाते थे ना था का जैसा बनाकर फिर उसको जलाते थे तो उस तरह से उन्हें वह उसे क्या नाम है उसका मुझे याद नहीं आ रहा है बट वह बना लिया उन्होंने और बढ़िया कैंडल जला दी तो वह जो साथ में थे स्वामी जी के लगे आपने ऐसा क्यों किया उसने गुस्से में फेंक और आपने इसको बड़े अच्छे से धो लिया और कर लिया तो उन्होंने कहा स्वामी जी ने कि वह औरत पता नहीं किस वजह से परेशान थी हो सकता है उसकी पति से लड़ाई हुई हो पति ने कुछ कह दिया हो कोई और परेशानी हो और अपने दिन भर काम करती है थक जाती है पर उन्हें एप्लीकेशन भी नहीं मिलता है दो बोल प्यार के नहीं बोले जाते तो हो सकता किसी बात पर गुस्सा होगी अब वह बेचारी अगर अपने मन से दुखी है तो फिर मैं उसमें क्या करूं मैं और उसे दुखी क्यों करूं इसीलिए तो वह बोलते हैं अपने कपड़े का ऐसा क्यों बना लिया तो बोले मैं यह उसका दिया हुआ उपहार है मुझे और यह मैंने उसके जीवन में रोशनी लाने के लिए बनाया है कि उसके जीवन में जो भी परेशानी हुई उसके जीवन की परेशानियां दूर करके जिस तरह उस का दिया हुआ कपड़ा आज मेरे घर में रोशनी कर रहा है तथा उसके जीवन में भी रोशनी हो जाए तो आपको समझ में आया कि महान और ग्रेट लोग ना ऐसे रहते हैं वह पता है वह लोगों की बातों का उन पर असर नहीं होता वह सब को माफ करना जानते हैं तो आप भी पॉजिटिव सोचना शुरू कीजिए और नेगेटिव सोचना बंद कीजिए उम्मीद है आपको मेरा जवाब अच्छा

Manish Bhati Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Manish जी का जवाब
Life coach, professional counsellor & Relationship expert. Fitness & Motivational Coach
2:27
नमस्कार जैसे कि आपका फोटो में मैं बहुत इमोशनल लड़की जब भी मुझे कोई बोलता है वह बाधाओं से मेरे दिमाग में घूमती है तो मुझे क्या करना शेयर करना चाहता हूं जज्बाती होना ठीक है वह जज्बात में आना दोनों डिफरेंट है वही आपके पास तीन इमोशनल नहीं हो जाता कंडीशन इन सब में डिपेंड करती है आप बात बात में मौत में होंगे तो कैसे होगा अपने आप को मोटी लीजिए माल आज आपकी छोटी सी बातें कल आप मैरिड या अनमैरिड टाइम मैरिड लाइफ में रोजाना ऐसी कई बातें चलती रहती है क्या करेंगे वहां पर आपको व्यंजनों की बात माननी पड़ेगी सुननी पड़ेगी जब भी आपका जीवन में कभी आप एक स्कूल में है या कोई बिजनेस में तो उस टाइम में अपने बॉस की बात मानना वाली स्कूल में हुआ तो टीचर की बात मानना आदत पार्टी के कारण में बहुत होते हैं ऑफिसों में 10 से 12 बार बोलते हैं आप गलत कह रहे हो यह सा हो गया होगा तू ही सब चीज होती रहती है हाथी मशीनों के क्या कर लेंगे इमोशनल जितना हो सके इमोशनल ना होने की कोशिश कीजिए अपने आप को कुछ ना कुछ बताना जितना हो सके खुश रहने की कोशिश की लेकिन लोगों से सोचिए अपने दिमाग में साइकोलॉजी नहीं मोहम्मद रफी लोग मुझे कहेंगे तो मुझे दुख हुआ क्यों दुख होगा अगर आप कुछ सही कर रहे हो गलत करो जो भी लोग बोलेंगे लोगों का काम है कहना अगर आप पतले हो तो मिलोगे आप मोटे हो तो भी लोगों की फितरत थी हर चीज में ठोकना खुशी किस चीज में भी रुकेगी मेरी राय यही है कि आप ऐसा ना करें और लोगों की चीजों को दिमाग से दिक्कत दिया ना डालें धन्यवाद

mahendra meena Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए mahendra जी का जवाब
Unknown
2:30
नमस्कार आप ने सवाल किया है मैं बहुत इमोशनल लड़की हूं जब भी मुझे कोई कुछ बोलता है वह बात हमेशा मेरे दिमाग में घूमता रहता है मुझे क्या करना चाहिए हां यह बात सच है कि ज्यादातर लड़कियां ने 100 में से 10% से ज्यादा लड़कियां इमोशनल टाइप की होती है और लड़कों को देखा जाए तो 90 परसेंट लोग लोगों को छोड़कर कोई दस पांच परसेंट लव कि आपको इमोशनल मिलेंगे वरना सब अंदर से बहुत मजबूत को टाइट होते हैं जो इमोशनल जहां पर होना चाहिए वहां पर हो नहीं पाती और जहां पर जब इमोशनल होते हैं तो ऑटोमेटिक लिए इमोशनल होते हैं कोई बात कोई गहरी बात कोई अति हो जाती है जब वह इमोशनल हो जाते हैं छोटी मोटी बातों में उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता तो यदि आप इमोशनल लड़की है तो मेरे ख्याल से आप दुख दर्द पेड़ा और समस्याओं को लड़ने की तरीका सीखना चाहिए और उन्हें मन ही मन उनसे बंद करें और ज्यादातर बातों को यदि आपको लगता है कि हमें इस पर इमोशनल हो सकती हूं तो उसे इग्नोर करें सेक्टर होता है जिसको कुछ गलत बोल दिया जाता है तो उसे एक्टिंग करनी पड़ती है नहीं तो खुश रहता है उसे कुछ मेरी खुशी खुशी किंतु फिर भी उसे कहते हैं कि दुखी होने की एक्टिंग करो तो फिर वह दुखी होने की एक्टिंग करता है खुशी खुशी में भी उसी प्रकार आप बेकार की बातें किया करो थैंक यू

Vinod kumar pandey  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Vinod जी का जवाब
Life coach, parenting coach, relationship coach and career counsellor
2:33

ANKUR singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ANKUR जी का जवाब
Motivational speaker
2:51

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:47
नमस्कार प्रश्न है कि मैं बहुत दिनों से लड़कियों को जब भी मुझे कुछ बोलता है तो मैं बात हमेशा मेरे दिमाग में घूमती रहती है मुझे क्या करना चाहिए आपको यही करना चाहिए कि आप लोगों की बातों पर गौर मत कीजिए लोगों का काम कहना है दुनिया है दुनिया देखेगी आप अच्छा करोगे बुरा करोगे इसलिए एक नूर करना सीखें बस अपने आप पर विश्वास रखिए और यह क्या चाहिए कि मैं जो बच्चे हैं लोग क्योंकि सोच अलग-अलग होती है इसलिए इस व्यक्ति ने ऐसा कह दिया होगा इससे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता इस प्रकार अपने मस्तिष्क को समझाइए लगातार जब आप अपने दिमाग में यह बात कहेंगे कि मैं सही हूं लोगों का काम है कहना है मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता तो थोड़े दिनों बाद ही आदत आपको आप छूट जाएगी
Namaskaar prashn hai ki main bahut dinon se ladakiyon ko jab bhee mujhe kuchh bolata hai to main baat hamesha mere dimaag mein ghoomatee rahatee hai mujhe kya karana chaahie aapako yahee karana chaahie ki aap logon kee baaton par gaur mat keejie logon ka kaam kahana hai duniya hai duniya dekhegee aap achchha karoge bura karoge isalie ek noor karana seekhen bas apane aap par vishvaas rakhie aur yah kya chaahie ki main jo bachche hain log kyonki soch alag-alag hotee hai isalie is vyakti ne aisa kah diya hoga isase mujhe koee phark nahin padata is prakaar apane mastishk ko samajhaie lagaataar jab aap apane dimaag mein yah baat kahenge ki main sahee hoon logon ka kaam hai kahana hai mujhe koee phark nahin padata mujhe koee phark nahin padata to thode dinon baad hee aadat aapako aap chhoot jaegee

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • इमोशन लोग कैसे होते हैं, इमोशनल लोग कैसे करते हैं, इमोशनल विचार
URL copied to clipboard