#undefined

bolkar speaker

घमंड हमारे संबंधों को कैसे खराब करता है?

Ghmand Humare Sambandho Ko Kese Kharaab Karta Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:55
हम हमारे संबंधों को कैसे खराब करते हैं दोस्तों हमारे संबंधों को इसीलिए खराब करते हैं क्योंकि हमें मजा आता है बहुत ज्यादा संबंध खराब करने में पर इसका मेन कारण यह है कि हम किसी की सुनते नहीं है हमारे बुजुर्गों के पास नहीं बैठते हैं हम हमारे हम उम्र के लोगों के पास बैठते हैं जहां पर सिर्फ बातें जो हैं या तो अश्लीलता को लेकर के होती है या फिर मुर्गी आवर फ्यूचर के बारे में बिल्कुल भी चिंता नहीं करते हैं हम किसी की परवाह नहीं करते हैं और यही कारण जो दोस्तों हमारे संबंधों को खराब करने की कोशिश करते हैं जो लोग खराब करते हमारे विचार करते हमारे सवाल करता है कोई और दूसरा करने के लिए नहीं आता है हम स्वयं ही करते हैं

और जवाब सुनें

bolkar speaker
घमंड हमारे संबंधों को कैसे खराब करता है?Ghmand Humare Sambandho Ko Kese Kharaab Karta Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
1:41
नमस्कार दोस्तों संयोजन को चाहा वह हम हमारे संबंधों को कैसे खराब कर सकता है यानी कि 1 गए कि हम किसी भी रिलेशनशिप में आते हैं किसी पार्टनरशिप में आते हैं किसी दोस्ती में जब हम रहते हैं तो हमें जो है सबसे बड़ी दिक्कत का सामना करना पड़ता है कि दूसरों को एक शब्द करना दूसरों की गलतियों को समझना और अपनी गलतियों के बारे में मैं अंडरस्टैंड करना उसको समझाना लेकिन जब हम ही को किसी के आगे झुकना जो है पसंद नहीं करते हैं तो वह जो है आपके संबंधों को बहुत जल्दी खराब करता है क्योंकि अगर आप किसी के सामने अपनी गलती करके भी नहीं झुकते हैं अपनी गलती नहीं मानते हैं जो अपने आप का एक्सप्रेस नहीं करते हैं सर्वे में तो दूसरे इंसान दो तीन बार इग्नोर कर सकते लेकिन उसके बाद वह आपके साथ रिलेशनशिप को अच्छे से निभा नहीं पायेगा इसको चाहे कोई भी समझ में आप दोस्ती में बात करें अगर आप दोस्ती में दोस्तों की तरह नहीं रहेगा एक ईगो अपना एटीट्यूड बनाकर रखेंगे तो वह दोस्ती भी किसी काम के नहीं क्योंकि दोस्त और रिलेशनशिप से जो है हमेशा इंसान के काम आते हैं चाहे इमोशनली हो चाहे फिजिकली हो चाहे मेंटली हो यह चीजें आपको बहुत काम आती है तो ईगो जो है बहुत ज्यादा जो है इंसान के लिए खतरनाक हो सकता है क्योंकि हम जो है जब मैं इंसान में आ जाती है तो वह किसी की नहीं सुनता और बाद में कोई उसके काम नहीं आता है लेकिन एक पोस्ट भी गोभी होता है कि हर किसी के आगे बिना बेवजह झुकना जब आपको लगता है मेरी गलती है तो आप उस गलती को स्वीकार कीजिए लेकिन जब आपको लगता है कि मेरी गलती नहीं है तो आपका एक एटीट्यूड होना चाहिए वह भी बहुत जरूरी है आशा करता हूं आपका कोई सवाल का जवाब मिल गया होगा लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद

bolkar speaker
घमंड हमारे संबंधों को कैसे खराब करता है?Ghmand Humare Sambandho Ko Kese Kharaab Karta Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:04
हम हमारे संबंधों को कैसे करें उसका नाम जिसके अंदर भी आएगा आने से पहले होना शुरू हो जाएगा अगर आप अपने आप को समझते हो कि नहीं कहूंगा वहीं बेस्ट है तो निश्चित तौर पर जवाब दूसरों की बातों को सुनोगे नहीं तो लोग आपकी बात को पहुंचाएंगे और अब कहीं नहीं यार चित्र सत्यानाश की तरफ बढ़ता है बिना शुक्र पड़ता अगर ज्यादा बढ़ जाता है जैसे हमें अपने धन दौलत को लेकर किया जाता है और की चीजों को हम को समझ गए लेकिन चलो जो आएंगे फ्री हो हमके भावना हमें विनाश की तरफ ले जाती है

bolkar speaker
घमंड हमारे संबंधों को कैसे खराब करता है?Ghmand Humare Sambandho Ko Kese Kharaab Karta Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:28
अपनाने के हैं हमारे संबंधों को कैसे खराब करता है मैसेज तौर पर अगर आप अपने आप में ही जीते रहेंगे आप कभी भी जोड़ने का प्रयास नहीं करेंगे बल्कि रिश्तो में हमेशा दूसरों को जगाने का प्रयास करेंगे जो चीज हमेशा नहीं पहुंचे मिल होती है एक हद तक ही सामने वाला आपके लिए झुकेगा और आपकी बातों को मानेगा लेकिन हमेशा सामने वाला व्यक्ति ही झुकता है और आप कभी भी उसके लिए आज ना करें ऐसा नहीं होता आपका दिन शुभ रहे थे नहीं बाहर

bolkar speaker
घमंड हमारे संबंधों को कैसे खराब करता है?Ghmand Humare Sambandho Ko Kese Kharaab Karta Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:36
हेलो दोस्तों आपका स्वागत है बोलकर है पर फ्रेंड सामने सवाल पूछा है हम हमारे संबंधों को कैसे खराब करता है तो फ्रेंड है मतलब होता है घमंड तो घमंड हमारे संबंधों को खराब करता है जरूर अगर हम अपने घमंड में रहेंगे अगर मैं कभी गलती भी कर दी है अपने घमंड में रहेंगे किसी से माफी नहीं मांगेंगे तो हम तो हमारे रिश्ते खराब हो जाएंगे अगर आपने कोई गलती की है तो आपको क्षमा मांग लेनी चाहिए घमंड में नहीं रहना चाहिए कमेंट करने से हमेशा रिश्ते खराब हो जाते हैं और बनती बाद भी हमेशा बिगड़ जाती है धन्यवाद

bolkar speaker
घमंड हमारे संबंधों को कैसे खराब करता है?Ghmand Humare Sambandho Ko Kese Kharaab Karta Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:43
नमस्ते प्रश्न है कि हम हमारे संबंधों को कैसे खराब करता है देखिए अहम होता है जो होता है उससे हमारे समझ बिल्कुल खराब होती है बिगो की वजह से हम अपने जो दोस्त है अपनी भाई बहन ने अपने माता-पिता ने अपनी पत्नी है उन को भला-बुरा कह देते हैं उनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं चलते हैं तो जिसकी वजह से हमारे रिश्ते बिगड़ जाते हैं आंसू फिर भी कुछ है लेकिन जो पति पत्नी का रिश्ता अगर उसमें यह गो हो उसमें है वो तो फिर नौबत बहुत आगे तक ले जाती है तो वह एक व्यक्ति के लिए बहुत बुरा समय होता है इसलिए अहम है इसको खराब करता है इसलिए इसका नाम है हम नहीं रखना चाहिए धन्यवाद
Namaste prashn hai ki ham hamaare sambandhon ko kaise kharaab karata hai dekhie aham hota hai jo hota hai usase hamaare samajh bilkul kharaab hotee hai bigo kee vajah se ham apane jo dost hai apanee bhaee bahan ne apane maata-pita ne apanee patnee hai un ko bhala-bura kah dete hain unake saath achchha vyavahaar nahin chalate hain to jisakee vajah se hamaare rishte bigad jaate hain aansoo phir bhee kuchh hai lekin jo pati patnee ka rishta agar usamen yah go ho usamen hai vo to phir naubat bahut aage tak le jaatee hai to vah ek vyakti ke lie bahut bura samay hota hai isalie aham hai isako kharaab karata hai isalie isaka naam hai ham nahin rakhana chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
घमंड हमारे संबंधों को कैसे खराब करता है?Ghmand Humare Sambandho Ko Kese Kharaab Karta Hai
Deepak Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
संस्कृतप्रचारक, संस्कृतभारती जयपुरमहानगर प्रचारप्रमुख और सन्देशप्रमुख
2:13
नमस्कार मित्र आप ने प्रश्न किया है बहन हमारे संबंधों को कैसे खराब करता है मित्र अहम जो है यह सबसे बुरा शब्द है या यूं कहे की सबसे बुरी आदत है लोगों की जब लोगों में अहम बढ़ जाता है तो वह अपने आप को पता नहीं फिर क्या समझते हैं कि तो जो भी है मगर यह विचार लोगों के मन में आ गया है मगर लोगों के मन में आ गया तो वह फिर दूसरों से बात करना ही बंद कर देते हैं जैसे कि यह माता का यह भी देखिए जब कोई व्यक्ति है पहले तो गरीब है अगर इतना अमीर भी नहीं मिली खिला दे फिर उसके बाद धीरे-धीरे अच्छी नौकरी और अच्छा पैसा गाड़ी मकान सब कुछ हो जाता है तो लोग यह मानने लग जाता है अब जब आता है तो वह क्या करेंगे दूसरे वाले को कुछ समझेंगे यह कौन है ऐसे ही है इससे क्या होगा कि सामने वाला देखेगा मेरे यार सुदामा गाना फिर से क्या बातें करें ऐसे ही परिवार में होता है आप मान लीजिए पहले सब से मिलजुल कर के बोलते थे बात करते थे सबका सभी के साथ रहते थे अब जब पैसा आ गया सब कुछ हो गया तो है वह अपने आप ही आएगा अब आने के बाद आप किसी से भी मिल जुल नहीं रहे हैं बातचीत नहीं करते आपसे कोई बात करना चाह रहा है आप कॉल इग्नोर कर रहे हैं इन सब से जो है संबंधों में कड़वापन आने लग जाता है धीरे-धीरे लोग आप से दूरी बनाने लगेंगे पहले आपके सब साथ में थे और जैसे ही आप ने हम दिखाना शुरू किया वैसा ही व्यक्ति से सभी लोग धीरे-धीरे दूर होने लग जाते हैं वह सोचते हैं कि अभी चुनाव आ गया है अभी हमसे क्यों बात करेगा पैसे वाला हो गया है यह हो गया है वह हो गया है कैसे कर करके धीरे-धीरे महल जो है यह व्यक्ति को अकेला कर देता है इसलिए ही कहते हैं कि नहीं अब कभी भी नहीं होना चाहिए आप चाहे के करोड़पति बन जाए कितने लखपति बन जाए पर फिर भी आपके अंदर कभी कसम नहीं आती है हम व्यक्ति को अकेला और बर्बाद कर देता है धन्यवाद
Namaskaar mitr aap ne prashn kiya hai bahan hamaare sambandhon ko kaise kharaab karata hai mitr aham jo hai yah sabase bura shabd hai ya yoon kahe kee sabase buree aadat hai logon kee jab logon mein aham badh jaata hai to vah apane aap ko pata nahin phir kya samajhate hain ki to jo bhee hai magar yah vichaar logon ke man mein aa gaya hai magar logon ke man mein aa gaya to vah phir doosaron se baat karana hee band kar dete hain jaise ki yah maata ka yah bhee dekhie jab koee vyakti hai pahale to gareeb hai agar itana ameer bhee nahin milee khila de phir usake baad dheere-dheere achchhee naukaree aur achchha paisa gaadee makaan sab kuchh ho jaata hai to log yah maanane lag jaata hai ab jab aata hai to vah kya karenge doosare vaale ko kuchh samajhenge yah kaun hai aise hee hai isase kya hoga ki saamane vaala dekhega mere yaar sudaama gaana phir se kya baaten karen aise hee parivaar mein hota hai aap maan leejie pahale sab se milajul kar ke bolate the baat karate the sabaka sabhee ke saath rahate the ab jab paisa aa gaya sab kuchh ho gaya to hai vah apane aap hee aaega ab aane ke baad aap kisee se bhee mil jul nahin rahe hain baatacheet nahin karate aapase koee baat karana chaah raha hai aap kol ignor kar rahe hain in sab se jo hai sambandhon mein kadavaapan aane lag jaata hai dheere-dheere log aap se dooree banaane lagenge pahale aapake sab saath mein the aur jaise hee aap ne ham dikhaana shuroo kiya vaisa hee vyakti se sabhee log dheere-dheere door hone lag jaate hain vah sochate hain ki abhee chunaav aa gaya hai abhee hamase kyon baat karega paise vaala ho gaya hai yah ho gaya hai vah ho gaya hai kaise kar karake dheere-dheere mahal jo hai yah vyakti ko akela kar deta hai isalie hee kahate hain ki nahin ab kabhee bhee nahin hona chaahie aap chaahe ke karodapati ban jae kitane lakhapati ban jae par phir bhee aapake andar kabhee kasam nahin aatee hai ham vyakti ko akela aur barbaad kar deta hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • घमंड विनाश का क्यो कारण बनता है.. घमंड को कैसे कम करें..
URL copied to clipboard